Thursday, 25 July 2024

 

 

खास खबरें यह आम बजट विकसित भारत के निर्माण में एक नया अध्याय लिखेगा : नायब सिंह सैनी कावड़ यात्रा के दौरान श्रद्धालुओं की सुरक्षा के लिए किए गए पुख्ता इंतजाम, चप्पे चप्पे पर पुलिस की कड़ी नजर मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में हुई एचपीपीसी और एचपीडब्ल्यूपीसी की बैठक रसिका दुगल और गुलशन देवैया की 'लिटिल थॉमस' का IFFM 2024 में वर्ल्ड प्रीमियर होगा विजिलेंस ब्यूरो ने पी.एस.आई.ई.सी. प्लॉट आवंटन घोटाले में शामिल उप-मंडल इंजीनियर को किया गिरफ्तार मुख्यमंत्री सुखविंद्र सिंह सुक्खू ने केंद्रीय बजट को निराशाजनक और किसान विरोधी बताया गरीब कल्याण को समर्पित बजट से अर्थव्यवस्था को मिलेगी नई रफ्तार : संजय टंडन ‘सरकार बचाओ-महंगाई बढ़ाओ’ वाला है मोदी सरकार का बजट- आप मुख्यमंत्री सुखविंद्र सिंह सुक्खू ने विद्यार्थियों की कम संख्या वाले स्कूलों के विलय की संभावनाएं तलाशने के निर्देश दिए राज्य एकल खिड़की स्वीकृति एवं अनुश्रवण प्राधिकरण की 29वीं बैठक में 2216.93 करोड़ रुपये के प्रस्तावित निवेश एवं 25 परियोजना प्रस्तावों को स्वीकृति प्रदान सी जी सी झंजेड़ी कैंपस में नए सत्र की शुरुआत के दौरान विद्यार्थियों के लिए एक सप्ताह का इंडक्शन प्रोग्राम आयोजित किया गया हरचंद सिंह बरसट ने पौधे लगाकर किया मिनी जंगल का उद्घाटन 'खतरों के खिलाड़ी' की कड़ी तैयारी के तहत निमृत कौर अहलूवालिया ने MMA, किक बॉक्सिंग की शुरुआत की धारकंडी क्षेत्र के विकास के लिए तत्परता से किया जाएगा कार्य : केवल सिंह पठानिया बेहतर भविष्य के लिए युवा नेता: लुधियाना के छात्र ‘यंग चैंपियंस फॉर क्लीन एयर प्रोग्राम’ के माध्यम से वायु गुणवत्ता वकालत में निभाएंगे अग्रणी भूमिका डेढ़ साल में 25 हज़ार करोड़ क़र्ज़ लेने वाले मुख्यमंत्री बताएं कहां खर्च किया पैसा : जयराम ठाकुर मलविंदर कंग ने पूर्व हॉकी खिलाड़ी बलबीर सिंह सीनियर को भारत रत्न देने की मांग की डिप्टी कमिश्नर कोमल मित्तल ने मासिक बैठक में अलग-अलग विभागों के कार्यो की समीक्षा की प्रदेश में स्वास्थ्य सुविधाएं बढ़ाने के लिए सरकार प्रतिबद्ध : मुख्यमंत्री सुखविंद्र सिंह सुक्खू डॉ. एसएस आहलूवालिया ने पटियाला क्षेत्र के अंतर्गत चल रहे विकास कार्यों की समीक्षा की विकास कार्यों को जल्द पूरा करने के अधिकारियों को दिए निर्देश कैबिनेट मंत्री ब्रम शंकर जिंपा ने नंद किशोर महामंत्र संकीर्तन मंडल को दिया 3 लाख रुपए का चैक

 

उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने एकता, शांति और सामाजिक सद्भाव के भारतीय सभ्यतागत मूल्यों के संवर्धन के लिए 'आध्यात्मिक पुनर्जागरण' की अपील की

अध्यात्म हमारी सबसे बड़ी शक्ति है; यह हमारे राष्‍ट्र की अंतरात्मा है : एम. वेंकैया नायडू

Venkaiah Naidu, Muppavarapu Venkaiah Naidu, M Venkaiah Naidu, Vice President of India, BJP, Bharatiya Janata Party, International Society for Krishna Consciousness, ISKCON, Swami Prabhupada
Listen to this article

Web Admin

Web Admin

5 Dariya News

नई दिल्ली , 24 Jul 2022

उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने आज कहा कि भारतीय सभ्यता एकता, शांति और सामाजिक सद्भाव के सार्वभौमिक मूल्यों की प्रतीक है और उन्‍होंने इन सदियों पुराने मूल्यों को संरक्षित और प्रचारित करने के लिए 'आध्यात्मिक पुनर्जागरण' की अपील की। उप-राष्ट्रपति निवास में आज " सिंग, डांस एंड प्रे - श्रीला प्रभुपाद की प्रेरणादायक कहानी" पुस्तक का विमोचन करने के बाद उपस्थित जनसमूह को संबोधित करते हुए उपराष्ट्रपति ने युवाओं से स्वामी प्रभुपाद जैसे महान संतों और आध्यात्मिक गुरुओं से प्रेरणा लेने और बेहतर इंसान बनने के लिए अनुशासन, कड़ी मेहनत, धैर्य और सहानुभूति जैसे गुणों को आत्मसात करने के लिए कहा। 

उन्होंने कहा  कि आपको हमेशा जाति, लिंग, धर्म और क्षेत्र के संकीर्ण विचारों से ऊपर उठकर समाज में एकता, सद्भाव और शांति लाने के लिए कार्य करना चाहिए। डॉ. हिंडोल सेनगुप्ता द्वारा लिखित यह पुस्तक इस्कॉन के संस्थापक श्रीला प्रभुपाद की जीवनी है। उपराष्ट्रपति ने श्रीला प्रभुपाद को भगवद गीता के संदेश को दुनिया भर में लोकप्रिय बनाने का श्रेय देते हुए उन्हें आधुनिक युग में भारत की सांस्कृतिक विरासत के सबसे महान राजदूतों में से एक कहा। अध्यात्म को हमारी सबसे बड़ी शक्ति बताते हुए उन्होंने कहा कि आध्यात्मिकता हमारे राष्ट्र की आत्मा रही है और प्राचीन काल से ही हमारी सभ्यता की आधारशिला रही है। 

हमारे प्राचीन धर्मग्रंथों की उनके दिव्य आध्यात्मिक मूल्य के लिए प्रशंसा करते हुए श्री नायडू ने कहा कि सहस्राब्दियों से, वे लोगों को नैतिकता और मूल्यों के आधार पर एक आदर्श जीवन जीने का संदेश देते रहे हैं। उन्‍होंने कहा कि हमारा धर्मग्रंथ भगवद गीता मानव अस्तित्व की सभी समस्याओं का अंतरदृष्टिपूर्ण समाधान प्रदान करता है, जिसमें दृष्टिकोण से लेकर पीड़ा से मुक्ति, आत्म-प्राप्ति और मोक्ष या मोक्ष प्राप्त करने, धर्म की प्रकृति और महत्व से लेकर कर्म, भक्ति का और अन्य दार्शनिक प्रश्नों की एक विस्तृत श्रृंखला का अत्यधिक महत्व है।

भारत को भक्ति की भूमि बताते हुए श्री नायडू ने कहा कि भक्ति भारतीयों की रगो में दौड़ती है और भारत की सामूहिक सभ्यतागत चेतना की जीवन रेखा है। श्री नायडू ने बताया कि भारत में कई ऋषियों, मुनियों और आचार्यों ने गैर-सांप्रदायिक, सार्वभौमिक पूजा पद्धति के माध्यम से जनता का उत्थान किया है, और उन्‍होंने "वसुधैव कुटुम्बकम" के संदेश का प्रचार करने के लिए श्रीला प्रभुपाद की सराहना की।

श्रीला प्रभुपाद को समतामूलक विचारों का पथ-प्रदर्शक बताते हुए उपराष्ट्रपति ने कहा कि उन्होंने समाज द्वारा त्यागे गए लोगों को गले लगाया और उनके जीवन में खुशी और तृप्ति लाए। वैदिक ज्ञान और संस्कृति के प्रचार के माध्यम से सार्वभौमिक शांति और सद्भाव की दिशा में श्रीला प्रभुपाद के अथक प्रयासों की प्रशंसा करते हुए  श्री नायडू ने कहा, "उन्होंने जिस एकमात्र मानदंड पर जोर दिया, वह था भक्ति, या ईश्वर का प्रेम।" उपराष्ट्रपति ने अपने गुरु के मिशन को आगे बढ़ाने में इस्कॉन, बैंगलोर के अध्यक्ष श्री मधु पंडित दास के प्रयासों की भी सराहना की।

स्वामी प्रभुपाद की इच्छा को स्‍मण करते हुए कि कृष्ण मंदिर के दस मील के दायरे में कोई भी भूखा न रहे। उपराष्ट्रपति ने सेवा की अद्भुत भावना के लिए इस्कॉन की प्रशंसा की। सेवा की इस भावना और भारतीय मूल्य प्रणाली के मूल के रूप में 'शेयर एंड केयर' का उल्लेख करते हुए  श्री नायडू ने इच्‍छा जताई कि युवा इन मूल्यों को आत्‍मसात करें और इस उद्देश्य से  उन्‍होंने स्कूलों और कॉलेजों में सामुदायिक सेवा को अनिवार्य बनाने का सुझाव दिया। 

उपराष्ट्रपति ने वंचित बच्चों और समुदायों को अमूल्य सेवा प्रदान करने के लिए इस्कॉन के अक्षय पात्र फाउंडेशन - विश्‍व के सबसे बड़े एनजीओ द्वारा संचालित स्कूल लंच कार्यक्रम -  की भी सराहना की। लेखक डॉ. हिंडोल सेनगुप्ता और इस्कॉन बैंगलोर को सिंग, डांस, एंड प्रे पुस्तक प्रकाशित करने के लिए बधाई देते हुए उपराष्ट्रपति ने इसे श्रीला प्रभुपाद को उनकी 125वीं जयंती पर एक उपयुक्त श्रद्धांजलि दी। उन्होंने आशा व्यक्त की कि यह जीवनी पाठकों को इस सिद्धांत को अपने दैनिक जीवन में उतारने के लिए प्रेरित करेगी। 

उन्होंने लेखक और प्रकाशकों को इस पुस्तक का विभिन्न भारतीय भाषाओं में अनुवाद करवाने के लिए भी प्रोत्साहित किया। इस्कॉन बैंगलोर के अध्यक्ष और अक्षय पात्र के चेयरमैन श्री मधु पंडित दास, उपाध्यक्ष श्री चंचलपति दास, पुस्तक के लेखक और इतिहासकार डॉ हिंडोल सेनगुप्ता, इस्कॉन के भक्त और अन्य व्‍यक्ति भी पुस्तक के विमोचन समारोह के दौरान उपस्थित थे।

 

Tags: Venkaiah Naidu , Muppavarapu Venkaiah Naidu , M Venkaiah Naidu , Vice President of India , BJP , Bharatiya Janata Party , International Society for Krishna Consciousness , ISKCON , Swami Prabhupada

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD