Thursday, 20 June 2024

 

 

खास खबरें मुख्यमंत्री ने इंदिरा गांधी प्यारी बहना सुख सम्मान निधि योजना के तहत ऊना जिला की 7,280 महिलाओं को 3.27 करोड़ रुपए जारी किए चेतन सिंह जौड़ामाजरा द्वारा शाहपुर कंडी डैम का निरीक्षण 120 करोड़ की लागत से होगा तुंग ढाब नाले का जीर्णोद्धार - कुलदीप सिंह धालीवाल प्रदेशभर के श्रमिकों को मुख्यमंत्री ने दी बड़ी सौगात, 18 योजनाओं के तहत 1 लाख से अधिक निर्माण श्रमिकों को वितरित की लगभग 80 करोड़ रुपये की राशि मुख्यमंत्री नायब सिंह ने जींद से मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा योजना के तहत बस को हरी झंडी दिखाकर किया रवाना मुख्यमंत्री ने चौ. रणबीर सिंह विश्वविद्यालय परिसर में किया 19.20 करोड़ रुपए की लागत से बने इंटरनेशनल गेस्ट हाऊस का उद्घाटन ब्रम शंकर जिम्पा ने नहरी पानी योजनाओं को समय पर पूरा करने के सख़्त निर्देश किए जारी ख़ुराक, सिविल स्पलाई एंव खपतकार मामले मंत्री लाल चंद कटारूचक्क ने रबी मंडीकरण सीजन को निर्विघ्न और सफ़लापूर्वक पूरा करवाने के विभाग की प्रशंसा की अजनाला के गांवों में जायजा लेने पहुंचे गुरजीत सिंह औजला ग्रीष्मोत्सव की आखिरी सांस्कृतिक संध्या में मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने बतौर मुख्यतिथि की शिरकत 18,000 रुपए रिश्वत मांगने वाला सहायक सब इंस्पेक्टर विजीलैंस ब्यूरो ने किया काबू नीट में घोटाले के खिलाफ आप ने चंडीगढ़ में किया प्रदर्शन एलपीयू के 1100 से अधिक छात्रों को ₹10 लाख से ₹64 लाख तक का पैकेज मिला; शीर्ष छात्रों का औसत ₹12.3 लाख रहा बिकने के बाद भाजपा के गुलाम हुए तीनों निर्दलीय पूर्व विधायक : मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू सुखविंदर सिंह बिंद्रा ने केंद्रीय राज्य वित मंत्री पंकज चौधरी से की मुलाकात पीजीआईएमएस रोहतक में शुरू होगा स्टेट ट्रांसप्लांट सेंटर : नायब सिंह पीएम मोदी ने किसानों को किया सशक्त : नायब सिंह मुख्य मंत्री भगवंत सिंह मान ने घग्गर नदी के साथ इलाकों में चल रहे बाढ़ रोकथाम कार्यों का लिया जायज़ा शहर वासियों की समस्याओं का प्राथमिकता से हो समाधान : ब्रम शंकर किपा अब गीला व सूखा कचरा सीधे शहर से बाहर जायेगा : ब्रम शंकर जिम्पा डिप्टी कमिश्नर कोमल मित्तल द्वारा तहसीलों एवं सब रजिस्ट्रार कार्यालयों का औचक निरीक्षण

 

झारखंड में 5 साल में 462 लोगों की मौत के बाद उठी हाथी कॉरिडोर की मांग

Khas Khabar, Jharkhand, Elephant, Elephants, Elephants Death, Elephants Tuskers
Listen to this article

5 Dariya News

5 Dariya News

5 Dariya News

झारखंड , 19 Mar 2023

गजराज यानी हाथी झारखंड का राजकीय पशु है, लेकिन इनका गुस्सा राज्य के लिए गंभीर चिंता का विषय बना हुआ है। ऐसा कोई हफ्ता नहीं गुजरता जब राज्य के किसी न किसी इलाके से हाथियों के हमले की खबर न आती हो। पर्यावरण मंत्रालय के आंकड़े भी इसकी तस्दीक करते हैं।

मंत्रालय ने हाल में एक आरटीआई आवेदन के जवाब में बताया था कि झारखंड में 2017 से पांच वर्षों में हाथियों के हमले में 462 लोग मारे गए हैं। लेकिन यह संघर्ष एकतरफा नहीं है। इस दौरान तकरीबन 50 हाथियों की भी अलग-अलग वजहों से मौत हुई है। 

वन विभाग के आंकड़े के मुताबिक पांच साल में सिर्फ बिजली के करंट की चपेट में आने से 20 हाथी मारे गए। रेलवे ट्रैक पर ट्रेनों की चपेट में आने और तस्करों की वजह से भी हाथियों की मौत की घटनाएं हुई हैं। फरवरी के दूसरे-तीसरे हफ्ते में मात्र 12 दिनों के अंदर हाथी के हमले में 16 लोगों की जान चली गई। 

वन विभाग ने इसके लिए झुंड से बिछड़े एक हाथी को जिम्मेदार माना। यह गुस्साया गजराज पांच जिलों हजारीबाग, रामगढ़, लोहरदगा, चतरा और रांची में घूम-घूम कर तबाही मचाता रहा। इसने फसलें रौंदी, एक दर्जन जगहों पर दीवारें गिराईं और कई पेड़ उखाड़ डाले।

इस दौरान रास्ते में आए कम से कम 20 लोगों को रौंद डाला, जिनमें से 16 लोगों की मौत हो गई। आलम यह कि इसके खौफ से रांची के एसडीओ को इटकी प्रखंड और आसपास के इलाकों में धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लागू करनी पड़ी।

राज्य के प्रधान मुख्य वन संरक्षक (वन्य जीव) शशिकर सामंता ने बताया कि वन संरक्षक की अध्यक्षता में चार मंडलों में वन अधिकारियों की एक समिति बनाई गई है, जो इस बात की जांच कर रही है कि झुंड से बिछड़ा एक हाथी अचानक इतना उग्र क्यों हो गया?

दरअसल हाथियों के गुस्से की वजहें जानने के लिए पिछले तीन-चार दशकों में कई अध्ययन और शोध हुए हैं और इन सभी के निष्कर्ष में यह बात समान रूप से सामने आई है कि मानवीय गतिविधियों ने हाथियों के प्राकृतिक अधिवास और उनके आने-जाने के परंपरागत रास्तों यानी कॉरिडोर को लगातार डिस्टर्ब किया है।

वाइल्ड लाइफ ट्रस्ट ऑफ इंडिया (डब्ल्यूटीआई) ने साल 2017 में एक रिपोर्ट पेश की थी, जिसमें बताया गया था कि झारखंड, ओडिशा, छत्तीसगढ़ और दक्षिण पश्चिम बंगाल का 21 हजार वर्ग किलोमीटर इलाका हाथियों का आवास है। मानव-हाथी संघर्ष के चलते देशभर में जितने लोगों की जान जाती है उनमें से 45 फीसदी इसी इलाके से हैं।

आधिकारिक आंकड़े के मुताबिक देश के जंगली हाथियों की कुल संख्या का 11 प्रतिशत हाथी झारखंड में हैं। हालांकि चिंता की बात यह है कि यहां हाथियों की संख्या में लगातार कमी दर्ज हो रही है। राज्य में आखिरी बार 2017 में हाथियों की गिनती हुई थी और इनकी संख्या 555 बताई गई थी, जबकि इसके पांच साल पहले हुई गणना में इनकी संख्या 688 थी।

दूसरी तरफ हाथियों के हमले में होने वाली मौतों का सिलसिला भी नहीं थम रहा। 22-23 में अब तक हाथियों के हमले में 100 से ज्यादा लोग मारे गए हैं। 21-22 में राज्य में 133 लोगों की जान गई थी, तो वर्ष 20-21 में 84 लोग मारे गए थे। जाहिर है, हाथी-मानव संघर्ष में नुकसान दोतरफा हो रहा है।

वन्य एवं पर्यावरण विशेषज्ञ मानते हैं कि एक जंगल से दूसरे जंगल हाथियों के सुरक्षित आने-जाने के लिए कॉरिडोर विकसित किए जाने चाहिए। कॉरिडोर ऐसे हों, जहां मानवीय गतिविधियां न्यूनतम हों। देश के 22 राज्यों में 27 हाथी कॉरिडोर अधिसूचित हैं। 

इनमें से झारखंड में एक भी हाथी कॉरिडोर नहीं है। एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत में हाथियों के 108 कॉरिडोर चिह्न्ति हैं। इनमें 14 झारखंड में हैं, लेकिन एक भी अधिसूचित नहीं है। ऐसे में हाथियों के कॉरिडोर वाले इलाकों में भी बगैर सोचे-समझे निर्माण या खनन कार्य कराए जा रहे हैं।

प्रोजेक्ट एलीफेंट के लिए भारत सरकार की संचालन समिति के पूर्व सदस्य डीएस श्रीवास्तव ने पिछले दिनों बताया था कि अनियोजित विकास कार्य, खनन गतिविधियों, अनियमित चराई, जंगल की आग और माओवादियों और सुरक्षा बलों के बीच मुठभेड़ों ने जानवरों के रहवासों को बड़ा नुकसान पहुंचाया है। 

हाथियों को बांस और घास की छतरी के पतले होने के कारण भोजन की कमी का सामना करना पड़ रहा है। झारखंड में सारंडा जंगलों से ओड़ीशा में सुंदरगढ़ तक के हाथी कॉरिडोर खनन के कारण नष्ट हो गए। इंडियन फॉरेस्ट सर्विस के 1979 बैच के सेवानिवृत्त अफसर नरेंद्र मिश्रा की मानें तो झारखंड में जंगलों के आसपास उत्खनन, जंगल विस्फोट, नक्सल गतिविधियां, उनके खिलाफ चलाए जाने वाले अभियान और वन तस्करों की करतूतों के कारण हाथियों का प्राकृतिक निवास लगातार प्रभावित हुआ है। 

मसलन, राज्य के कोल्हान प्रमंडल के जंगल हाथियों के प्राकृतिक आवास के लिए काफी मशहूर थे, लेकिन पिछले तीन दशक में उनकी आश्रयस्थली को काफी क्षति पहुंची है। खनन में बढ़ोतरी हुई। सड़क एवं रेलवे लाइन का विस्तार हुआ। आबादी भी बढ़ी। लेकिन इन सारी गतिविधियों के दौरान हाथियों के कॉरिडोर का ध्यान नहीं रखा गया। 

नतीजा यह कि हाथी जब जंगल से बाहर निकलते हैं तो स्वाभाविक तौर पर उनका गुस्सा भड़क उठता है। उनके खाने के साधन जंगल में कम होते जा रहे हैं। जंगल भी सिकुड़ते जा रहे हैं, लोग भी हाथी को देखते उसके साथ छेड़छाड़ पर उतर आते हैं।

झारखंड विधानसभा के बीते साल के बजट सत्र में वन विभाग के प्रभारी मंत्री चंपई सोरेन ने हाथियों के उत्पात से जुड़े एक सवाल के जवाब में बताया था कि वर्ष 2021-22 में हाथियों द्वारा राज्य में जानमाल को नुकसान पहुंचाये जाने से जुड़े मामलों में वन विभाग ने एक करोड़ 19 लाख रुपये के मुआवजे का भुगतान किया है।

उन्होंने अपने जवाब में कहा था कि हाथियों और इंसानों के बीच द्वंद्व बढ़ने के कई कारण हैं। जनसंख्या बढ़ने के कारण वन्यजीव का प्रवास क्षेत्र प्रभावित हुआ है। गांवों में मादक पेय पदार्थ बनाए जाते हैं, जिसकी महक हाथियों को आकर्षित करती है। इस कारण भी हाथियों की आदतों और भ्रमण के मार्ग में बदलाव आया है। 

हाथी-मानव संघर्ष को रोकने के लिए वन विभाग ने क्विक रिस्पांस टीम का गठन किया है। यह टीम लोगों को जागरूक करती है और वैज्ञानिक और पारंपरिक तरीके से हाथियों को वापस जंगल की ओर भेजने का प्रयास करती है। लेकिन, इन सबके बावजूद सच यही है कि झारखंड में हाथियों और मानवों के संघर्ष की घटनाओं में कोई कमी दर्ज नहीं की जा रही है।

 

Tags: Khas Khabar , Jharkhand , Elephant , Elephants , Elephants Death , Elephants Tuskers

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD