Friday, 01 March 2024

 

 

खास खबरें सीजीसी के बायोटेक्नोलॉजी डिपार्टमेंट ने एफडीपी का आयोजन किया एलपीयू ने खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स की ओवरऑल फर्स्ट रनर अप ट्रॉफी जीती PEC के फैकल्टी मेंबर को बॉम्बे आर्ट सोसाइटी द्वारा किया गया सम्मानित डा. बी. आर. अम्बेडकर स्टेट इंस्टीट्यूट आफ मैडीकल सायंसज़ मोहाली को जल्द मिलेगा 6 बैडों वाला आई. सी. यू. मुख्यमंत्री ने कसौली विधानसभा क्षेत्र में 88.78 करोड़ रुपये की 13 विकास परियोजनाओं के लोकार्पण एवं शिलान्यास किए सांसद संजीव अरोड़ा ने डीसी के साथ लुधियाना के विकास कार्यों पर की चर्चा राज्यपाल का भाषण रोकने का यत्न करके कांग्रेस ने पवित्र सदन का अपमान किया : हरपाल सिंह चीमा 8 हजार रुपए रिश्वत लेता ए.एस.आई. विजीलैंस ब्यूरो ने किया गिरफ्तार हिमाचल प्रदेश मंत्रिमण्डल के निर्णय कांग्रेस की सरकार खो चुकी है बहुमत, अपने कर्मों से हुई है उसकी यह स्थिति : जयराम ठाकुर सरूप रानी महिला महाविधालय मे करवाया जिला स्तरीय पड़ोस युवा संसद कार्यक्रम का आयोजन खेल से होता है बच्चों का मानसिक एवं शारीरिक विकास : हरचंद सिंह बरसट संजीव अरोड़ा ने हरचंद सिंह बरसट, डॉ. गोसल और अन्य के साथ मातृभाषा पंजाबी पर प्रकाश डालते हुए महत्वपूर्ण कार्य किये शुरू डिप्टी स्पीकर जय कृष्ण सिंह रौढ़ी ने 11.79 करोड़ रुपए की लागत से माहिलपुर में पानी व सीवरेज के प्रोजैक्ट की करवाई शुरुआत ‘आप दी सरकार आप दे दुआर’- कैबिनेट मंत्री ब्रम शंकर जिंपा ने गांव शेरगढ़ में लगे कैंप का लिया जायजा अतिरिक्त मुख्य चुनाव अधिकारी पंजाब ने लोक सभा चुनाव 2024 की तैयारियों का लिया जायजा अकाली और कांग्रेसी सरकारों ने सोची-समझी साजिश के अंतर्गत पंजाब की सरकारी संस्थाएं तबाह की : भगवंत सिंह मान बादल परिवार ने अपने निजी लाभों के लिए पंजाब के लोगों के करोड़ों रुपए लूटे : भगवंत सिंह मान स्वास्थ्य सेवा में क्रांतिकारी बदलाव लाई है आम आदमी क्लीनिकः ब्रम शंकर जिंपा एलपीयू ने खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स की ओवरऑल फर्स्ट रनर अप ट्रॉफी जीती फ़र्ज़ी विजीलैंस अधिकारी बन कर किसान के साथ धोखाधड़ी करने के मामले में भगौड़ा मुलजिम पिन्दर सोढी विजीलैंस ब्यूरो द्वारा गिरफ़्तार

 

गुजरात दंगे पूर्व नियोजित नहीं, अधिकारियों की निष्क्रियता आपराधिक साजिश नहीं हो सकती : सुप्रीम कोर्ट

Supreme Court, The Supreme Court Of India, New Delhi
Listen to this article

Web Admin

Web Admin

5 Dariya News

नई दिल्ली , 24 Jun 2022

सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को कहा कि यह साबित करने के लिए कोई आधार (नो टाइटल ऑफ मैटेरियल) नहीं है कि 2002 के गुजरात दंगे पूर्व नियोजित थे और राज्य के कुछ अधिकारियों की निष्क्रियता इसे अल्पसंख्यक समुदाय के खिलाफ राज्य प्रायोजित अपराध के रूप में घोषित करने का आधार नहीं हो सकती। 

न्यायमूर्ति ए.एम. खानविलकर और न्यायमूर्ति दिनेश माहेश्वरी और न्यायमूर्ति सी.टी. रविकुमार ने कहा: "यह देखने के लिए पर्याप्त है कि अपीलकर्ता की याचिका का समर्थन करने के लिए सामग्री का कोई शीर्षक नहीं है, बहुत कम मूर्त सामग्री है कि गोधरा की घटना 27 फरवरी, 2002 को राज्य में उच्चतम स्तर पर रची गई आपराधिक साजिश के कारण सामने आई थी और इसके बाद की घटनाएं एक पूर्व नियोजित घटना थी।

"यह नोट किया गया कि राज्य प्रशासन के एक वर्ग के कुछ अधिकारियों की निष्क्रियता या विफलता राज्य सरकार के अधिकारियों द्वारा पूर्व नियोजित आपराधिक साजिश का अनुमान लगाने या इसे अल्पसंख्यक के खिलाफ राज्य प्रायोजित अपराध (हिंसा) के रूप में परिभाषित करने का आधार नहीं हो सकता है। 

2002 के दंगों में गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी और 63 अन्य को एसआईटी की क्लीन चिट को बरकरार रखते हुए, पीठ ने कहा कि कानून-व्यवस्था की स्थिति के राज्य प्रायोजित भंग होने के बारे में विश्वसनीय सबूत होना चाहिए, न कि स्वत:स्फूर्त या अलग-अलग उदाहरणों या विफलता की घटनाओं की ओर से इसे पेश किया जाना चाहिए। 

शीर्ष अदालत ने कहा कि मारे गए कांग्रेस नेता एहसान जाफरी की पत्नी जाकिया जाफरी ने सुझाव दिया था कि उच्चतम अधिकारियों द्वारा रची गई पूर्व-नियोजित साजिश के तहत ट्रेन की दो बोगियों में आग लगा दी गई थी। 

यह केवल कल्पना है, बेतुका और एसआईटी द्वारा एकत्र की गई सामग्री से गोधरा घटना से संबंधित जांच सहित कठोर तथ्यों की अवहेलना है। उस मामले की सुनवाई पूरी हो चुकी है। उक्त घटना के लिए दोषी ठहराए गए आरोपी की संलिप्तता को स्थापित किया गया और उसकी अपील इस अदालत में लंबित है।"

 

Tags: Supreme Court , The Supreme Court Of India , New Delhi

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD