Tuesday, 16 July 2024

 

 

खास खबरें "बीबी रजनी" की टीम ने गुरुद्वारे में "विश्वास दा बूटा" लॉन्च किया प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दिल में हरियाणा देश में सबसे ऊपर - अमित शाह कैबिनेट मंत्री ब्रम शंकर जिंपा ने फूड स्ट्रीट में वन महोत्सव के दौरान वितरित किए निःशुल्क पौधे कैबिनेट मंत्री ब्रम शंकर जिंपा विकास सेवा समिति गली नंबर 5 गौतम नगर को दिया एक लाख रुपए का चैक कैबिनेट मंत्री ब्रम शंकर जिंपा ने पी.एम श्री स्कूल जवाहर नवोदय विद्यालय को दिया 2 लाख रुपए का चैक मुख्यमंत्री सुखविंद्र सिंह सुक्खू ने केंद्रीय विद्युत एवं ऊर्जा मंत्री मनोहर लाल खट्टर से भेंट की मुख्यमंत्री सुखविंद्र सिंह सुक्खू ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से उदार वित्तीय सहायता का किया आग्रह सुखविंद्र सिंह बिंद्रा ने कोटक महिंद्रा बैंक की फोकल प्वाइंट शाखा का किया उद्घाटन हिमाचल प्रदेश राज्य स्कूल शिक्षा पुरस्कार से सम्मानित होंगे उत्कृष्ट शिक्षक सान्या मल्होत्रा की फिल्म "मिसेज" का इंडियन फिल्म फेस्टिवल ऑफ मेलबर्न 2024 में ऑस्ट्रेलियाई प्रीमियर होगा, सान्या प्रीमियर के लिए आस्ट्रेलिया जायेंगी सांसद संजीव अरोड़ा ने विधायक दलजीत सिंह ग्रेवाल भोला के साथ लुधियाना ईस्ट में यातायात समस्याओं का किया अध्ययन सलाहकार राजीव वर्मा ने सचिवालय में चंडीगढ़ मास्टर प्लान 2031 पर बैठक की अध्यक्षता की जिले में लगाए जाएंगे 38 लाख पौधेः ब्रम शंकर जिंपा वेलफेयर सोसायटियों को प्रोत्साहित करने में पंजाब सरकार नहीं छोड़ रही कोई कमीः ब्रम शंकर जिंपा एलपीयू के 15 सदस्यों ने रूस की टॉप यूनिवर्सिटी का दौरा किया सांसद गुरजीत सिंह औजला ने की अधिकारियों संग बैठक वातावरण बचाने के लिए सांसद गुरजीत सिंह औजला ने बनाए हरियावल दस्ते बाबू सिंह मान, हंस राज हंस और हरप्रीत सेखों का शिरोमणि गायक सुरिंदर छिंदा को समर्पित गाना " किथे तूर गया यारा" का पोस्टर रिलीज नगर पंचायत शाहपुर में स्वच्छ पेयजल की मिलेगी सुविधा : केवल सिंह पठानिया सीजीसी लांडरां ने फ्रेशर्स के लिए ओरिएंटेशन सेरेमनी का आयोजन किया अम्बाला एयरपोर्ट से 15 अगस्त से शुरू हो जाएगी उड़ान : नागरिक उड्डयन मंत्री डॉ कमल गुप्ता

 

53वें भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में भोटिया जनजाति पर केन्द्रित गैर-फीचर फिल्म पाताल-ती प्रदर्शित की गई

पाताल-ती मनुष्य बनाम प्रकृति की कहानी है: मुकुंद नारायण, निर्माता और निर्देशक

 Bollywood, IFFI Table Talks, 53rd International Film Festival of India, Panaji, Goa, #IFFIWood, 53rd IFFI, Mukund Narayan
Listen to this article

Web Admin

Web Admin

5 Dariya News

पणजी, गोवा , 27 Nov 2022

फिल्म पाताल-ती के निर्माता और निर्देशक मुकुंद नारायण ने गोवा में 53वें भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव के ‘इफ्फी टेबल टॉक्स’ सत्र को संबोधित किया। श्री मुकुंद नारायण ने कहा, "पाताल-ती मनुष्य बनाम प्रकृति और पर्यावरण से जुड़े संकट की कहानी है जो प्रकृति को नष्ट कर रहे हैं।" 

उन्होंने कहा कि यह फिल्म लोक-कथाओं की समृद्ध विरासत के इर्द-गिर्द घूमती है, जो हमारे देश में पीढ़ी-दर-पीढ़ी मौखिक तौर पर बताई जाती है और यह एक बच्चे के आने वाले भविष्य की कहानी है।श्री मुकुंद नारायण ने कहा कि पाताल-ती भोटिया जैसी स्वदेशी भाषाओं की चुनौतियों पर भी प्रकाश डालती है जो विभिन्न सामाजिक दबावों के कारण लुप्तप्राय और गायब होती जा रही है।

फिल्म पर आगे बात करते हुए, सह-निर्देशक संतोष सिंह ने कहा कि फिल्म भोटिया जनजातियों पर आधारित है। निदेशक ने कहा, "हमने पर्यावरण संबंधी बातचीत के लिए पानी का एक रूपक के रूप में उपयोग किया है।" श्री संतोष सिंह ने कहा कि एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी को मौखिक रूप से सुनाई जाने वाली लोक-कथाएं बाल नायक को पवित्र जल की खोज के दौरान जीवन, मृत्यु और इसके अन्य संदर्भों को समझने में मदद करती हैं। 

उन्होंने लोक कथाओं को समाज का विचार-विमर्श बताते हुए उनकी महत्ता पर बल देते हुए कहा कि वे हमारी संस्कृति की जड़ों की जानकारी प्रदान करती हैं।निर्माण प्रक्रिया के बारे में मुकुंद नारायण ने कहा, “हम स्वतंत्र निर्माताओं के लिए बजट की समस्या होने के बावजूद पाताल-ती के माध्यम से भोटिया जनजातियों की कहानी बताना चाहते थे। रेसुल पुकुट्टी सहित बॉलीवुड के कई लोगों ने पोस्ट प्रोडक्शन में हमारी मदद की। हम उन सभी के आभारी हैं।"

सह-निर्देशक संतोष सिंह भारतीय भाषाओं की फिल्मों के भविष्य पर बोलते हुए, यह भी कहा कि हम एक ऐसे युग में प्रवेश कर रहे हैं जहां 'क्षेत्रीय' 'नया वैश्विक' बन गया है। “आज भारत की क्षेत्रीय फिल्में दुनिया में छा रही हैं, चाहे वह कांतारा हो या वाग्रो या फ्रेम। क्षेत्रीय फिल्म अब नई वैश्विक फिल्म बन गई है क्योंकि लोग पात्रों से जुड़ पा रहे हैं।"

फिल्म के बारे में

निर्देशक: मुकुंद नारायण और संतोष सिंह

निर्माता: मुकुंद नारायण और संतोष सिंह

पटकथा: मुकुंद नारायण और संतोष सिंह

सिनेमेटोग्राफर: बिट्टू रावत

संपादक: पूजा पिल्लई, संयुक्ता काज़ा

कलाकार: आयुष रावत, कमला देवी कुंवर, दमयंती देवी, धन सिंह राणा, भगत सिंह बुरफल

2021 | भोटिया | रंगीन | 24 मिनट

सारांश:

तेरह वर्षीय फग्नू अपने दादा के बिना इस संसार की कल्पना नहीं कर सकता। फग्नू अपने दादा के बीमार होने के बाद अपनी दादी की चेतावनियों के बावजूद उस कथित 'पवित्र जल', जिसके बारे में बताया जाता है कि यह मिथक और वास्तविकता के बीच एक हिमालयी भावना द्वारा संरक्षित स्थान पर मिलता है, की कठिन खोज में निकल पड़ता है।

निर्देशक और निर्माता:

मुकुंद नारायण और संतोष सिंह ऐसे कहानीकार हैं, जो सिनेमा को सबसे सुलभ माध्यम मानते हैं। वे ग्रामीण पृष्ठभूमि से आते हैं। उन्होंने फिल्म निर्माण में कोई औपचारिक प्रशिक्षण प्राप्त नहीं किया है। दोनों अपरिचित (जिसके बारे में जानकारी नहीं है) भारत में मिथकों के विभिन्न दृष्टिकोणों का पता लगाने के लिए व्याकुल हैं। पाताल-ती उनकी पहली फिल्म है।

 

Tags: Bollywood , IFFI Table Talks , 53rd International Film Festival of India , Panaji , Goa , #IFFIWood , 53rd IFFI , Mukund Narayan

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD