Wednesday, 19 June 2024

 

 

खास खबरें मुख्य मंत्री भगवंत सिंह मान ने घग्गर नदी के साथ इलाकों में चल रहे बाढ़ रोकथाम कार्यों का लिया जायज़ा शहर वासियों की समस्याओं का प्राथमिकता से हो समाधान : ब्रम शंकर किपा अब गीला व सूखा कचरा सीधे शहर से बाहर जायेगा : ब्रम शंकर जिम्पा डिप्टी कमिश्नर कोमल मित्तल द्वारा तहसीलों एवं सब रजिस्ट्रार कार्यालयों का औचक निरीक्षण मुख्यमंत्री भगवंत सिंह मान ने शहीद नायक सुरिन्दर सिंह के परिवार को वित्तीय सहायता के तौर पर एक करोड़ रुपए का चैक सौंपा पंजाब पुलिस ने एस. बी. एस. नगर में नशों विरुद्ध साइकिल रैली निकाली तलाशी अभियान - तीसरा दिन : पंजाब पुलिस द्वारा राज्य भर में वाहनों की चैकिंग सलाहकार श्री. राजीव वर्मा ने बाढ़ और जलभराव को रोकने के लिए मानसून तैयारियों की समीक्षा की प्रधानमंत्री ने आज वाराणसी से पीएम-किसान के तहत लगभग 20,000 करोड़ रुपये की 17वीं किस्त जारी की प्रधानमंत्री ने वाराणसी, उत्तर प्रदेश में किसान सम्मान सम्मेलन को संबोधित किया सीडीएस जनरल अनिल चौहान ने साइबरस्पेस संचालन के लिए ‘ज्‍वाइंट डॉक्ट्रिन’ जारी किया जॉर्ज कुरियन ने आज कोच्चि में सिफनेट का दौरा किया और विभिन्न गतिविधियों की समीक्षा की पीएम किसान योजना मोदी के दृढ़ विश्वास, प्रतिबद्धता की निरंतरता का प्रतीक है : डॉ. जितेंद्र सिंह जयंत चौधरी ने डीजीटी के संचालन की व्यापक समीक्षा की प्रतापराव जाधव ने अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के इस वर्ष के विषय 'स्वयं और समाज के लिए योग' पर बल दिया प्रधानमंत्री ने उत्तर प्रदेश के वाराणसी में दशाश्वमेध घाट पर गंगा पूजन किया उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ ने सूचना को विनियमित करने की आवश्यकता पर जोर दिया भूपति राजू श्रीनिवास वर्मा ने भारी उद्योग मंत्रालय में राज्य मंत्री का पदभार ग्रहण किया हिमाचल प्रदेश मंत्रिमण्डल के निर्णय पर्यावरण को बचाने के लिए अधिक से अधिक पेड़ लगाने की जरूरत : ब्रम शंकर जिम्पा मुख्य मंत्री भगवंत सिंह मान ने पुलिस अधिकारियों को दिया आदेश; नशा तस्करों की गिरफ़्तारी के एक हफ्ते में जायदाद ज़ब्त करने के आदेश

 

दादासाहेब फाल्के पुरस्कार विजेता आशा पारेख ने 53वें इफ्फी में ‘इन-कन्वर्सेशन’ सत्र में भाग लिया

Bollywood, IFFI Table Talks, 53rd International Film Festival of India, Panaji, Goa, #IFFIWood, 53rd IFFI, Asha Parekh, Cine and Television Artists Association, CINTAA
Listen to this article

Web Admin

Web Admin

5 Dariya News

पणजी, गोवा , 27 Nov 2022

वर्ष 2020 के दादासाहेब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित होने के अपने अनुभव को साझा करते हुए, दिग्गज अभिनेत्री सुश्री आशा पारेख ने कहा कि एक लंबे समय के बाद एक महिला को इस पुरस्कार से सम्मानित किया गया। इस पुरस्कार को पाने पर अपने आश्चर्य और खुशी को व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा, “मैं यह पुरस्कार पाने वाली पहली गुजराती भी हूं। 

तो यह मेरे लिए एक बहुत बड़ी बात थी, लेकिन इसे दिमाग में अंकित होने में दो दिन लग गए। मैं सबसे पहले ईश्वरकी आभारी थी क्योंकि यह मेरे लिए बहुत बड़ी अप्रत्याशित घटना थी।” सुश्री आशा पारेख आज गोवा में 53वें भारतीय अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में ‘इन-कन्वर्सेशन’ सत्र में बोल रही थीं।

वर्ष 2020 का दादा साहब फाल्के पुरस्कार सुश्री आशा पारेख को भारतीय सिनेमा में उनके अविस्मरणीय के योगदान के लिए प्रदान किया गया था। राष्ट्रपति श्रीमती द्रौपदी मुर्मु द्वारा 30 सितंबर, 2022 को नई दिल्ली में आयोजित 68वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार समारोह में उन्हें सिनेमा के क्षेत्र में भारत के इस सर्वोच्च पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

वार्तालाप सत्र के दौरान सुश्री आशा पारेख ने कटी पतंग, तीसरी मंजिल, दो बदन, मैं तुलसी तेरे आंगन की, बहारों के सपने जैसी विभिन्न फिल्मों में काम करने के अपने व्‍यापक अनुभव के बारे में बताया। प्रसिद्ध अभिनेत्री सुश्री आशा पारेख ने यह भी बताया कि किस तरह से उन्होंने अभिनय के अलावा टीवी निर्देशन और प्रोडक्शन में भी अपना करियर बनाया। 

उन्होंने कहा कि गुजराती धारावाहिक (सीरियल) ‘ज्योति’,  जो काफी सफल रहा, ने उनमें आत्मविश्वास जगाया। इस टीवी सीरियल ने उन्हें और भी अधिक टीवी धारावाहिक पेश करने के लिए प्रेरित किया। सुश्री आशा पारेख को उनके टीवी सीरियल ‘कोरा कागज’ के लिए सबसे अधिक याद किया जाता है। 

आशा पारेख द्वारा छोटे पर्दे पर प्रस्‍तुत किए गए अन्य टीवी धारावाहिकों में बाजे पायल, दाल में काला, और कुछ पल साथ तुम्हारा शामिल हैं।53वें आईएफएफआई, गोवा के “इन-कन्वर्सेशन” सत्र में अभिनेत्री सुश्री आशा पारेख और कार्यक्रम-संचालिका सुश्री भावना सोमायासुश्री आशा पारेख ने फिल्म उद्योग से संबंधित विभिन्न संगठनों और संघों के साथ अपने जुड़ाव के बारे में बात की। 

वे 1994 से 2000 तक सिने आर्टिस्ट्स एसोसिएशन की अध्यक्ष रहीं। वे भारत के केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड (सेंसर बोर्ड) की पहली महिला चेयरपर्सन भी थीं, जिन्होंने 1998- 2001 तक मानद पद संभाला था। उन्होंने सिने और टेलीविज़न आर्टिस्ट एसोसिएशन (सीआईएनटीएए) के कोषाध्यक्ष के रूप में कार्य किया था।        

सुश्री आशा पारेख एक प्रसिद्ध फिल्म अभिनेत्री, निर्देशक, निर्माता और एक निपुण भारतीय शास्त्रीय नृत्यांगना हैं। एक बाल कलाकार के रूप में अपने करियर की शुरुआत करते हुए उन्होंने ‘दिल देके देखो’ में पहली बार मुख्य नायिका की भूमिका निभायी और 95 से अधिक फिल्मों में अभिनय किया। उन्होंने कटी पतंग, तीसरी मंजिल, लव इन टोक्यो, आया सावन झूम के, आन मिलो सजना, मेरा गांव मेरा देश जैसी प्रसिद्ध फिल्मों में अभिनय किया है।

 

 

Tags: Bollywood , IFFI Table Talks , 53rd International Film Festival of India , Panaji , Goa , #IFFIWood , 53rd IFFI , Asha Parekh , Cine and Television Artists Association , CINTAA

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD