Thursday, 22 February 2024

 

 

खास खबरें ऑनलाइन जॉब फ्रॉड रैकेट: पंजाब पुलिस की साईबर क्राइम डिवीजऩ ने असम से चार साईबर धोखेबाज़ों को किया गिरफ़्तार एलपीयू, आईआईटी और अन्य विश्वविद्यालयों को पछाड़ते हुए भारत में अग्रणी पेटेंट फाइलर के रूप में उभरा मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने ‘अध्यापकों के अंतर्राष्ट्रीय भ्रमण’ कार्यक्रम का शुभारंभ किया शुभकरन के कातिलों को मिसाली सज़ा दिलाई जायेगी - मुख्यमंत्री का ऐलान पारदर्शिता ही ‘घर- घर मुफ़्त राशन’ योजना की मुख्य विशेषता: लाल चंद कटारूचक्क सनी लियोन की स्प्लिट्सविला फाइव के होस्ट के रूप में वापसी सालो बाद, एलिगेंट सिमी गरेवाल ज़ोया के लिए आयी एक खूबसूरत रील में नजर सफाई कर्मचारियों के हितों पर ध्यान देकर मनोहर सरकार ने दिखा दिया है कि भाजपा ही अनुसूचित जाति की सच्ची हितैषी है : सत्य प्रकाश जरवाता जिला में विभिन्न जगहों पर आईटीएमएस स्थापित करना जरूरी: डी सी हेमराज बैरवा स्ट्रोक भारत में नई महामारी के रूप में उभर रहा है: डॉ. यानिश भनोट 35 करोड़ रुपये की लागत से 66 केवी से 220 केवी बनेगा अजनाला बिजली घर : हरभजन सिंह ईटीओ पंजाब इंजीनियरिंग कॉलेज ने भारतीय विद्युत क्षेत्र पर तीन दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया अब बेरिएट्रिक सर्जरी के बिना स्वैलेबल पिल से घटेगा वजन संदेशखाली की घटना भाजपा की सोची समझी साजिश - आप प्रवक्ता नील गर्ग बंगाल में सरदार आईपीएस अधिकारी को खलिस्तानी बोले जाने की घटना की आम आदमी पार्टी ने की सख्त निंदा, कहा - भाजपा ने सिख धर्म का अपमान किया है बेला फार्मेसी कॉलेज में मां बोली दिवस मनाया गया कांगड़ा जिला में 03 मार्च को पिलाई जाएगी पोलियो की खुराक: डी सी डा हेमराज बैरवा राज्यपाल शिव प्रताप शुक्ल को विश्वभर में श्री राम पर जारी स्मारक डाक टिकट की पुस्तिका भेंट की प्रतिष्ठित पीईसी के पूर्व छात्र डॉ. रूप लाल महाजन ने पीईसी का दौरा किया विख्यात फिल्म निर्माता एवं निर्देशक विवेक अग्निहोत्री बने मानव मन्दिर के ब्रांड एम्बेसेडर 10,000 रुपये रिश्वत लेते हुए ए.एस.आई को विजीलैंस ने किया काबू

 

प्रेम, शांति एवं मानवता के दिव्य संदेश के साथ 75वें वार्षिक निरंकारी संत समागम का समापन

संसार में शांति एवं प्रेम फैलाते जायें : सत्गुरु माता सुदीक्षा जी महाराज

 Nirankari, Satguru Mata Sudiksha ji Maharaj, Sant Nirankari charitable Foundation, Sant Nirankari Mission, 75th Nirankari Sant Samagam, Samalkha, Haryana
Listen to this article

Web Admin

Web Admin

5 Dariya News

समालखा (हरियाणा) , 21 Nov 2022

‘‘स्वयं को शांति एवं प्रेम का स्वरूप बनाते हुए पूरे संसार में इन दिव्य भावों को फैलाते जायें।’’ ये उद्गार निरंकारी सत्गुरु माता सुदीक्षा जी महाराज ने 75वें वार्षिक निरंकारी संत समागम के समापन सत्र में देश विदेशों से लाखों की संख्या में सम्मिलित हुए विशाल मानव परिवार को सम्बोधित करते हुए व्यक्त किए।

सत्गुरु माता सुदीक्षा जी महाराज के आशीर्वचनों द्वारा प्रेम, शांति एवं मानवता का दिव्य संदेश प्रसारित करने वाले इस पंचदिवसीय समागम का आज सफलतापूर्वक समापन हुआ। समागम के मध्य संत निरंकारी आध्यात्मिक स्थल का प्रांगण श्रद्धा, भक्ति, प्रेम के प्रकाशपुंज से दीप्तिमान हो रहा था। अध्यात्म के इस पावन और सुंदर उत्सव पर निश्चय ही हर भक्त का हृदय आनंदविभोर हो रहा था। समागम में शामिल हुए श्रद्धालुओं के चेहरों पर शांति, सन्तुष्टि एवं खुशी का नूर झलक रहा था।

शांति एवं अमन के संदेश की महत्ता को समझाते हुए सत्गुरु माता जी ने कहा कि यह संदेश दूसरों को देने सेे पहले हमें स्वयं अपने जीवन में धारण करना होगा। किसी के प्रति मन में वैर, ईर्ष्या का भाव न रखते हुए सबके प्रति सहनशीलता एवं नम्रता जैसे गुणों को अपनाते हुए सभी के लिए प्रेरणा का स्रोत बनना होगा।

गांधी ग्लोबल फैमिली द्वारा दिये गए विश्व शांतिदूत सम्मान के प्रति अपने भाव प्रकट करते हुए सत्गुरु माता जी ने कहा कि यह उपलब्धि इन संतों की ही देन है जो इस एक प्रभु को जानकर एकत्व के सूत्र में बंध गए हैं। जब तक हम इस परमात्मा की पहचान से अनभिज्ञ थें तब तक हम सभी एक दूसरे से अलग अलग थे। किन्तु ब्रह्मज्ञान के द्वारा जब हमें यह बोध हुआ कि हम सभी इस परमपिता की ही सन्तान है, इसी का ही अंश है, तब हमारे हृदय में परोपकार के दिव्य गुणों का समावेश हो गया। संसार में मिशन की शांति एवं एकत्व की पावन छवि बनी हुई है इसमें मिशन के हर एक संत का बहुमूल्य योगदान है।

इसके पूर्व समागम समिति के समन्वयक एवं सन्त निरंकारी मण्डल के सचिव श्री जोगिंदर सुखीजा जी ने सत्गुरु माता सुदीक्षा जी महाराज एवं निरंकारी राजपिता रमित जी का हृदय से आभार प्रकट किया जिनकी असीम कृपा से समागम सफलतापूर्वक संपन्न हुआ। इसके साथ ही सभी सरकारी विभागों एवं प्रशासन का हार्दिक धन्यवाद किया जिन्होंने समागम को सफल बनाने में अपना भरपूर योगदान दिया।

समागम के इतिहास को प्रदर्शित करने वाली दृकश्राव्य डॉक्युमेंटरी समागम के अवसर पर तीन भागों में श्रद्धालुूओं को दिखाई गई। इस डॉक्युमेंटरी द्वारा समागम के 75 वर्षों के गौरवपूर्ण इतिहास पर प्रकाश डाला गया और यह दर्शाया गया कि समागमों का प्रारूप प्रारंभ में कैसा था और वर्तमान में इसका विस्तारण किस प्रकार हुआ है। साथ ही मिशन के पूर्व गुरुओं एवं सन्तों ने जो अमूल्य योगदान दिया है उसे भी इस डॉक्युमेंटरी के माध्यम से दर्शाया गया जिसे देखकर वहां उपस्थित सभी श्रद्धालु भक्त अत्यधिक प्रभावित हुए।

यह समागम 600 एकड़ क्षेत्र में फैले संत निरंकारी आध्यात्मिक स्थल के विशाल मैदानों में आयोजित किया गया। समागम से सम्बधित विभिन्न सेवाओं को निभाने हेतु मंडल से अनेक विभागों के सेवादारों के अतिरिक्त करीब 1,50,000 सेवादल के भाई-बहन समागम स्थल पर सेवाओं में अपना योगदान दे रहे थे।

 स्वास्थ्य सेवाओं के अंतर्गत समागम स्थल पर 5 एलोपैथिक और 4 होम्योपैथिक डिस्पेन्सरियां थी। इसके अतिरिक्त 14 प्राथमिक चिकित्सा केंद्र, 1 कायरोप्रैक्टिक चिकित्सा पद्धति शिविर तथा 4 एक्युप्रैशर/फिजियोथेरेपी सुविधा केन्द्र बनाये गए। समागम स्थल पर मंडल की ओर से 12 एवं हरियाणा सरकार की ओर से 20 एम्बुलैन्स की व्यवस्था की गई थी।

समागम में सुरक्षा व्यवस्था हेतु हरियाणा सरकार के सहयोग से 50 चैक पोस्ट बनाये गए थे। साथ ही साथ मिशन के सेवादार दिन-रात ट्रैफिक कंट्रोल की सेवा में कार्यरत थे। समागम मे यातायात प्रबंधन के लिए प्रशासन एवं भारतीय रेलवे ने नियमित आवागमन की यात्रा हेतु दिल्ली के आनंद विहार, हजरत निजामुद्दीन व पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन पर भक्तों को उचित सुविधाएं उपलब्ध करवाई। समागम स्थल के निकट भोड़वाल माजरी रेलवे स्टेशन पर आम दिनों में न रुकने वाली ट्रेनों को भी समागम के दिनों में रुकवाने की व्यवस्था रेलवे प्रशासन द्वारा की गई थी।

समागम में आये हुए सभी श्रद्धालु भक्तों के लिए समागम के चारों मैदानों में लंगर की उचित व्यवस्था की गई थी। इसके अतिरिक्त समागम स्थल पर 22 कैन्टीनों का प्रबंध किया गया था जिसमें रियायती दरों पर चाय, कॉफी, शीतपेय एवं अन्य खाद्य सामग्री उपलब्ध करवाई गई थी।

समागम स्थल पर स्वच्छता का विशेष रूप से ध्यान दिया गया जिसमें लंगर को केवल स्टील की थालियों में ही परोसा गया न कि प्लास्टिक में ताकि वातावरण की शुद्धता एवं स्वच्छता को किसी प्रकार की कोई क्षति न पहुंचे और समागम का सुंदर स्वरूप बना रहे।

 

Tags: Nirankari , Satguru Mata Sudiksha ji Maharaj , Sant Nirankari charitable Foundation , Sant Nirankari Mission , 75th Nirankari Sant Samagam , Samalkha , Haryana

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD