Monday, 20 May 2024

 

 

LATEST NEWS Deepshikha Deshmukh urges Young Women to vote: A message of Empowerment Governor Shiv Pratap Shukla flags off Drug Free India campaign Cool And Bawaal Working On Namacool With Hina Khan Says Sakshi Mhadolkar Lt Governor Manoj Sinha interacts with members of Apex Committee on Agriculture Development DC Jammu Sachin Kumar Vaishya reviews functioning of Revenue Department Election teams reach all polling stations of Kupwara DEO Bandipora Shakeel-ul-Rehman Rather Flags off Poll Parties; Urges all eligible voters of Bandipora to exercise their right on poll day Governor Shiv Pratap Shukla inaugurates Art Exhibition at Gaiety Theatre Multiple competitions, events under SVEEP organised across Kupwara Distt Admin Bandipora organizes mega Event under SVEEP at picturesque Chittarnar Mega SVEEP program held at Altaf Memorial GDC Kilam General, Police & Expenditure Observers for Anantnag-Rajouri PC visit Shopian, review election preparedness DC Samba Abhishek Sharma discusses arrangements for Shri Amarnath Ji Yatra-2024 International Museum Day- Culture Department organises seminar, exhibition on Paintings, Photographs Reject Delhi based parties who were bent on dividing people- Sukhbir Singh Badal tells Punjabis Just 40 days from now, poor to get double free ration; Rs 8500 every month : Amarinder Singh Raja Warring Amarinder Singh Raja Warring Exposes CM Mann’s False Promise On NOC For Property Registration Congress Leader Gurinder Singh Dhillon Advocates Legal Guarantee of MSP for Farmers Election rallies in Favor of Gurjit Singh Aujla in Southern Assembly constituency Gurjeet Singh Aujla met people in Rajasansi and Attari assembly constituencies Gurjeet Singh Aujla praised the migrants

 

World University of Design Confers First-ever Srijan Shakti Awards to Six Women Designers

Commercial, World University of Design, Hyderabad, International Women’s Day, Srijan Shakti Awards, Dr. Sanjay Gupta
Listen to this article

Web Admin

Web Admin

5 Dariya News

Hyderabad , 08 Mar 2024

To commemorate International Women’s Day, Sonipat-based World University of Design has conferred first-ever Srijan Shakti Awards to six women designers to honor their contributions in the creative domain. The winners include Shambhavi Gupta from Incedo, an engineering services company; Sonal Tuli from Within, a multi-disciplinary studio; Jaya Kanwar, Founder Director at Anhad and Senior Manager at Accenture; Preksha Baid, founder of design studio Y-walls Design; Aditi Vitasta Dhar, Founder Director at Vitasta lifestyle and accessory design; and Anushka Das, Founder, Kalpavriksh Design.

Talking about the reasons for instituting India’s first-ever awards for women in design, Dr. Sanjay Gupta, Vice Chancellor, World University of Design, said: “We have instituted the Srijan Shakti Awards to honor and recognize women who have been practicing in the creative domain & doing pioneering work, whose story need to be told for their inspiring potential.

These Women of Design demonstrate qualities like innovative excellence, impactful leadership, diversity and inclusivity, social impact, consistent excellence, cross-disciplinary collaboration, mentorship and advocacy, preservation of culture and heritage, adaptability to change or innovative use of technology in design.

The word Srijan is interpreted as creativity & innovation, while Shakti represents power of the feminine. SrijanShakti thus alludes to the powerful relationship between creativity and the woman. A jury of prominent professionals in the creative domain assessed the nominations to choose the most inspiring ones. I extend my heartiest congratulations to all the winners.”

On the occasion, a dialogue by prominent thought leaders was held on the past, present, and future roles of women in the design industry. The six panelists explored the challenges, opportunities, and responsibilities associated with gender-biased design practices, and discussed how the design industry can better address the needs of women in and through these practices.

The speakers included Amit Krishn Gulati, Executive Director Incubis; Sandhya Raman, Founder, Desmania Design; Anuradha Kumra, Ex-President – Apparel, FabIndia Overseas; Anthony Lopez, Founder, Lopez Design; Lolita Dutta, Independent Design Consultant; and Aishwarya Tipnis, Founder, Aishwarya Tipnis Architects.

Said Dr. Sanjay Gupta, Vice Chancellor, World University of Design “Women in design often encounter stereotypes and biases that undermine their skills and capabilities. There may be preconceived notions about the type of work women can excel in, leading to limited opportunities and recognition for them.

Women are also often underrepresented in design professions, particularly in leadership roles. A gender wage gap persists in many industries, including design. Women designers may earn less than their male counterparts for similar roles.

They may also face challenges in receiving the same level of recognition and acknowledgment for their work as their male counterparts. Design themes and concepts may sometimes reinforce traditional gender stereotypes.

WUD decided to raise this issue as gender sensitivity in a design university goes beyond mere recognition of gender diversity. It is crucial for creating an inclusive and supportive learning environment. It involves understanding, respecting, and accommodating the unique needs and perspectives of individuals across the gender spectrum. Challenging these stereotypes is crucial for promoting inclusivity.”

Said Anthony Lopez, Founder and Chief Creative Director, Lopez Design: “The subject of women in design and creating inclusive spaces goes beyond the binaries. There is still much to be done, as we are just scratching the surface.

It all starts with the family, where we must intervene to foster inclusivity from an early age. By addressing gender expectations and nurturing an environment where both girls and boys are encouraged equally, we lay the foundation for a more inclusive society. From there, societal norms will naturally evolve.”

Added Amit Krishn Gulati, Executive Director Incubis: “The topic of equity and balance in the workplace, particularly within the design field, is very important. Women bring invaluable empathy, talent, multitasking abilities, and creativity essential for design.

It's imperative to create environments that not only acknowledge their skills but also support their performance, especially considering the additional challenges they may face outside of work. We must strive for inclusivity, considering all genders and categories, to ensure our profession reflects the diverse world we live in."

Said Anuradha Kumra, Ex-President – Apparel, FabIndia Overseas: "It is essential to embrace inclusion across creative industries. Making 'she' and non-binary individuals visible is a catalyst for amplifying impact in India's journey towards becoming a developed nation."

वर्ल्ड यूनिवर्सिटी ऑफ़ डिज़ाइन ने छह महिला डिज़ाइनरों को पहले सृजन शक्ति पुरस्कार से सम्मानित किया

हैदराबाद

विश्व महिला दिवस के पहले, सोनीपत के वर्ल्ड यूनिवर्सिटी ऑफ़ डिज़ाइन ने रचनात्मक क्षेत्र से जुड़ी छह महिला डिज़ाइनरों को उनके योगदान के लिए सम्मानित करते हुए पहला सृजन शक्ति पुरस्कार प्रदान किया है। पुरस्कार जीतने वाली इन महिलाओं में इंजीनियरिंग सर्विस कंपनी, इनसेडो की शांभवी गुप्ता; बहु-उपयोगी स्टूडियो, विदइन की सोनल तुली; अनहद की फाउंडर डायरेक्टर और एक्सेंचर की सीनियर मैनेजर, जया कंवर; डिज़ाइन स्टूडियो वाई-वॉल्स डिज़ाइन की संस्थापक, प्रेक्षा बैद; वितस्ता लाइफस्टाइल और एक्सेसरी डिज़ाइन की फाउंडर डायरेक्टर, अदिति वितस्ता धर; तथा कल्पवृक्ष डिज़ाइन की फाउंडर, अनुष्का दास शामिल हैं।

वर्ल्ड यूनिवर्सिटी ऑफ़ डिज़ाइन के वाइस-चांसलर, डॉ. संजय गुप्ता ने डिज़ाइन के क्षेत्र में महिलाओं के लिए भारत के पहले पुरस्कारों की शुरुआत के पीछे की वजह बताते हुए कहा: “हमने रचनात्मक क्षेत्र में काम करने वाली और आगे बढ़कर योगदान देने वाली महिलाओं को सम्मानित करने और उन्हें गौरव प्रदान करने के लिए सृजन शक्ति पुरस्कारों की शुरुआत की है, जिनकी प्रेरणादायक कहानी को दुनिया के सामने लाया जाना चाहिए।

डिज़ाइन के क्षेत्र से जुड़ी इन महिलाओं ने इनोवेशन में उत्कृष्टता, बेहद प्रभावशाली लीडरशिप, विविधता और सभी को साथ लेकर चलने की काबिलियत, सामाजिक प्रभाव, लगातार अव्वल दर्जे के प्रदर्शन, विभिन्न क्षेत्रों के साथ सहयोग, मार्गदर्शन एवं पक्ष-समर्थन, संस्कृति एवं विरासत की हिफाजत, बदलाव के अनुरूप ढलने की क्षमता, या डिजाइन में टेक्नोलॉजी के इनोवेटिव तरीके से उपयोग जैसी खूबियों का प्रदर्शन किया है।

सृजन शब्द का मतलब रचनात्मकता और इनोवेशन है, जबकि शक्ति ‘नारी शक्ति’ को दर्शाती है। इस तरह, सृजनशक्ति रचनात्मकता और महिला के बीच के मजबूत नाते का प्रतीक है। ज्यूरी के सदस्यों में रचनात्मक क्षेत्र के जाने-माने प्रोफेशनल शामिल थे, जिन्होंने नामांकित महिलाओं की सूची में से मूल्यांकन करने के बाद सबसे बेहतर नामांकनों को चुना। मैं सभी विजेताओं को तहे दिल से शुभकामनाएँ देता हूँ।”

इस अवसर पर, प्रमुख विचारकों की ओर से डिज़ाइन इंडस्ट्री में अतीत, वर्तमान और भविष्य में महिलाओं की भूमिकाओं के विषय पर एक संवाद आयोजित किया गया। पैनल के छह सदस्यों ने डिज़ाइन के काम-काज में लैंगिक आधार पर भेदभाव से जुड़ी चुनौतियों, अवसरों और जिम्मेदारियों को जानने का प्रयास किया, और इस बात पर चर्चा की कि डिज़ाइन इंडस्ट्री इस तरह की परिपाटी के बीच किस प्रकार से महिलाओं की जरूरतों को बेहतर ढंग से पूरा कर सकती है।

कार्यक्रम में उपस्थित वक्ताओं में अमित कृष्ण गुलाटी, एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर, इनक्यूबिस; संध्या रमन, संस्थापक, डेस्मैनिया डिज़ाइन; अनुराधा कुमरा, पूर्व-अध्यक्ष–अपैरल्स, फैबइंडिया ओवरसीज; एंथोनी लोपेज़, फाउंडर, लोपेज़ डिज़ाइन; लोलिता दत्ता, स्वतंत्र डिज़ाइन सलाहकार; तथा ऐश्वर्या टिपनिस, फाउंडर, ऐश्वर्या टिपनिस आर्किटेक्ट्स, शामिल थे।

वर्ल्ड यूनिवर्सिटी ऑफ़ डिज़ाइन के वाइस-चांसलर, डॉ. संजय गुप्ता ने कहा, “अक्सर डिज़ाइन के क्षेत्र में महिलाओं को घिसी-पिटी सोच और भेदभाव का सामना करना पड़ता है, जो उनके हुनर और उनकी काबिलियत को कमजोर करते हैं। लोग पहले से ही यह सोच लेते हैं कि महिलाएँ किस तरह के काम में उत्कृष्टता प्राप्त कर सकती हैं, जिसकी वजह से महिलाओं के लिए अवसर सीमित हो जाते हैं और उन्हें पहचान भी नहीं मिल पाती है।

डिज़ाइन से जुड़े बिजनेस में, खास तौर पर लीडरशिप की भूमिकाओं में महिलाओं का प्रतिनिधित्व काफी कम है। डिज़ाइन के अलावा कई इंडस्ट्री में लैंगिक आधार पर वेतन में अंतर बना हुआ है। किसी महिला का वेतन, उसी पद पर काम करने वाले पुरुष की तुलना में कम हो सकता है। उन्हें अपने बराबर के पद पर काम करने वाले पुरुषों की तुलना में समान स्तर की मान्यता और सम्मान हासिल करने में भी चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है।

कभी-कभी डिज़ाइन की थीम और कॉन्सेप्ट भी लैंगिक आधार पर सदियों पुरानी घिसी-पिटी सोच को मजबूती दे सकती हैं। WUD ने इस मुद्दे को उठाने का फैसला किया, क्योंकि एक डिज़ाइन यूनिवर्सिटी में लैंगिक संवेदनशीलता का विषय सिर्फ लैंगिक आधार पर विविधता को स्वीकार करने से कहीं बढ़कर है।

यह शिक्षण में सभी को शामिल करने वाले और सहयोगी माहौल तैयार करने के लिए बेहद महत्वपूर्ण है। इसमें लैंगिक आधार पर भेदभाव के बिना हर व्यक्ति की विशेष जरूरतों और उनके नज़रिये को समझना, उनका सम्मान करना और सामंजस्य बिठाना शामिल है। सभी को शामिल करने की सोच को बढ़ावा देने के लिए इस तरह की घिसी-पिटी परंपरा को चुनौती देना सबसे ज्यादा मायने रखता है।”

लोपेज़ डिज़ाइन के फाउंडर एवं चीफ क्रिएटिव डायरेक्टर, एंथनी लोपेज़ ने कहा: “डिज़ाइन के क्षेत्र में महिलाओं की भागीदारी और काम-काज के माहौल को समावेशी बनाने का विषय लैंगिक आधार पर सभी को शामिल करने से कहीं बढ़कर है। अभी भी बहुत कुछ किया जाना बाकी है, क्योंकि हम केवल सतही तौर पर काम कर रहे हैं।

इन सब की शुरुआत परिवार से होती है, जहाँ हमें बचपन से ही सभी को साथ लेकर चलने की सोच को बढ़ावा देना होगा। लैंगिक आधार पर भेदभाव के बिना सभी के अरमानों को पूरा करने में मदद करके और लड़की एवं लड़कियों के लिए एक-समान नज़रिये वाले माहौल को बढ़ावा देकर, हम एक अधिक समावेशी समाज की बुनियाद रखते हैं। यहीं से समाज की नई परिपाटी सहज रूप से विकसित होगी।”

चर्चा को आगे बढ़ते हुए इनक्यूबिस के एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर, अमित कृष्ण गुलाटी ने कहा, “काम-काज के परिवेश में, खास तौर पर डिज़ाइन के क्षेत्र में सभी को बराबरी का दर्जा देना और संतुलन बनाना बेहद महत्वपूर्ण है। महिलाओं में हर किसी के लिए अनमोल सहानुभूति की भावना, हुनर, एक साथ बहुत से काम करने की काबिलियत और रचनात्मक होती है, जो डिज़ाइन के क्षेत्र के लिए आवश्यक है।

लिहाजा इस तरह का माहौल तैयार करना बेहद ज़रूरी है, जो उनके हुनर को स्वीकार करने के साथ-साथ उनके प्रदर्शन में भी सहायता करे, साथ ही काम-काज के दायरे के बाहर उनके सामने आने वाली चुनौतियों को भी ध्यान में रखा जाना चाहिए। हमें पुरुषों और महिलाओं के साथ-साथ हर तबके के लोगों को बराबरी का दर्जा देते हुए सभी को साथ लेकर चलने का प्रयास करना चाहिए, ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि हमारा पेशा उस विविध दुनिया को दर्शाता करता है, जिसमें हम रहते हैं।"

अनुराधा कुमरा, पूर्व-अध्यक्ष – अपैरल्स, फैबइंडिया ओवरसीज़ ने कहा: "क्रिएटिव इंडस्ट्री में सभी को साथ लेकर चलने की सोच को अपनाना बेहद जरूरी है। 'नारी' के साथ-साथ पुरुष व महिला के अलावा अन्य लैंगिक पहचान वाले लोगों को दुनिया के सामने लाना, सही मायने में एक विकसित राष्ट्र बनने की दिशा में भारत के सफर को और ज्यादा प्रभावी बनाने में बेहद मददगार है।"

 

Tags: Commercial , World University of Design , Hyderabad , International Women’s Day , Srijan Shakti Awards , Dr. Sanjay Gupta

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD