Sunday, 16 June 2024

 

 

खास खबरें पंजाबी लड़कियों ने छुई बुलंदियां- दो बेटियाँ भारतीय हवाई फ़ौज में अधिकारी बनी डबल इंजन सरकार गरीब के साथ-साथ हर वर्ग के उत्थान के लिए कर रही कामः सीएम नायब सिंह भारत की 30 मिलियन वयस्क आबादी या तो अधिक वजन वाली या मोटापे से ग्रस्त: डॉ. अमित गर्ग प्रदेश विश्वविद्यालय में एससीए चुनाव करवाने के लिए संभावनाएं तलाशेगी सरकार पंजाब के महाराजा रणजीत सिंह प्रिपरेटरी इंस्टीट्यूट के दो कैडिटों ने छूआ आसमान सीआईआई जालंधर जोन ने एलपीयू में एआई और चैटजीपीटी पर कार्यशाला आयोजित की स्वैच्छिक रक्तदान के लिए ज्यादा से ज्यादा संख्या में आगे आएं युवा : राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय तकनीक और कौशल देश के विकास के लिए जरूरी - राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय मुख्यमंत्री नायब सिंह ने पद्मश्री अवार्डियों को किया सम्मानित बाल संरक्षण आयोग बच्चों के अधिकारों की रक्षा करने और उनके सपनों को उड़ान भरवाने का कर रहा कार्य - असीम गोयल अगामी मानसून से पहले पूरे किए जाएं बाढ़ रोकथाम के कार्य : डॉ अभय सिंह यादव हरियाणा सरकार का फ़िल्म प्रोमोशन पर विशेष फोकस, सब्सिडी के लिए 17 फिल्मों की स्क्रीनिंग हुई केन्द्र में हरियाणा से तीन मंत्री बनने से हरियाणा के विकास को मिलेगी तेजी -केन्द्रीय मंत्री मनोहर लाल हरियाणा 1 जुलाई से नए आपराधिक कानून लागू करने को तैयार : टी.वी.एस.एन. प्रसाद संभावित बाढ़ से निपटने के लिए जिला प्रशासन पूरी तरह से तैयार : कोमल मित्तल मुख्य सचिव अनुराग वर्मा का राजस्व बढ़ाने और व्यय के प्रभावी प्रबंधन पर जोर जीएमएसएच-16 की उत्साहपूर्ण भागीदारी और 101 रक्तदान के साथ 20वां विश्व रक्तदाता दिवस मनाया ज़मीन के इंतकाल के लिए 3000 रुपए की रिश्वत लेता पटवारी विजीलैंस ब्यूरो द्वारा रंगे हाथों काबू सांसद बनने के बाद एक्शन में सांसद गुरजीत सिंह औजला प्रदेश के सभी जिलों में 85 स्थलों पर मेगा मॉकड्रिल का आयोजन पुलिस के ख़िलाफ़ लग रहे आरोपों पर बोले नेता प्रतिपक्ष जयराम ठाकुर

 

एलपीयू द्वारा एयरोस्पेस इंजीनियरिंग में प्रगति पर दो दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन आयोजित

“एयरोस्पेस इंजीनियरिंग बहुविषयक है; इसे पूरी तरह से समझने के लिए जो कुछ भी सीख सकते हैं उसे सीखें”: एलपीयू में इसरो के दिग्गजों ने विद्यार्थियों से कहा

Lovely Professional University, Jalandhar, Phagwara, LPU, LPU Campus, Ashok Mittal, Rashmi Mittal
Listen to this article

Web Admin

Web Admin

5 Dariya News

जालंधर , 03 May 2024

लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी (एलपीयू) के स्कूल ऑफ मैकेनिकल इंजीनियरिंग ने 'एयरोस्पेस इंजीनियरिंग में प्रगति पर अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन- आईसीएएई-2024' का आयोजन किया। सम्मेलन के दो दिनों ने एयरोस्पेस इनोवेशन के लिए गहन चर्चाओं और सहयोग को नई ऊंचाइयों तक पहुंचाया।

सम्मेलन में इसरो (भारतीय अंतरिक्ष एवं अनुसंधान संगठन) के पूर्व निदेशक डॉ. एस. रंगराजन ; पूर्व समूह निदेशक डॉ. आर. पांडियन; परियोजना निदेशक ए.एम. नागलक्ष्मी; कार्यक्रम निदेशक जसविंदर सिंह खोरल; और पीईसी, चंडीगढ़ के प्रोफेसर डॉ. तेजिंदर कुमार जिंदल सहित अन्य दिग्गजों की विशिष्ट उपस्थिति रही।

एलपीयू के विद्यार्थियों ने संबंधित क्षेत्र में अपनी निपुणता को दर्शाने के लिए परिसर में विशेष रूप से आयोजित 'एयर-शो' के दौरान अपने रचनात्मक विमानों और ड्रोनों का प्रदर्शन किया। उन्होंने अपने स्व-संरचित हल्के वजन, उच्च गति, शोर रहित और सटीक  तरह से निर्मित अंतरिक्ष संबंधी उपकरणों का प्रदर्शन भी किया और इसरो के दिग्गजों से अत्यधिक आश्चर्य और सराहना अर्जित की।

एलपीयू परिसर में एयरोस्पेस इंजीनियरिंग के लिए अध्ययन के माहौल की सराहना करते हुए, विशिष्ट इसरो आगंतुकों ने कामना की कि एलपीयू के स्टूडेंट्स अपने अंतरिक्ष कौशल में उत्कृष्टता प्राप्त करें और दुनिया भर में नंबर एक के रूप में जाने जाएं। इंटरनेट कनेक्शन के बिना शिक्षा वितरण के लिए दुनिया के पहले उपग्रह-सक्षम टैबलेट के निर्माता, डॉ. एस. रंगराजन ने रिसर्च  के माध्यम से सीखने की गुणवत्ता और उपयोगिता को बढ़ाकर समाज में परिवर्तन लाने के लिए अपना दृष्टिकोण साझा किया।

एलपीयू के विद्यार्थियों को हॉल ही में मिले शीर्ष 'कैनसैट' पुरस्कार को याद करते हुए, डॉ. आर. पांडियन ने एलपीयू सम्मेलन का हिस्सा बनने पर अपनी खुशी व्यक्त की औरस्टूडेंट्स  को सफल होने के लिए परिसर में सर्वोत्तम सुविधाओं का लाभ उठाने की सलाह दी। निश्चित सफलता के लिए कड़ी मेहनत करें और अपने आप को उस कार्य के प्रति समर्पित कर दें। परियोजना निदेशक नागलक्ष्मी चाहती थीं कि स्टूडेंट्स जो कुछ भी सीख सकते हैं, उसे सीखकर बहु-विषयक बनें।

 एलपीयू के अंतरिक्ष इंजीनियरों के प्रोत्साहन के लिए कांफ्रेंस में यह भी साझा किया गया कि चंद्रयान -3 मिशन के लिए भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) मुख्यालय का दौरा करने पर, नासा के वैज्ञानिक भारतीय अंतरिक्ष वैज्ञानिकों द्वारा कम लागत पर विकसित की गई तकनीकों से अत्यंत प्रभावित हुए। तब प्रतिनिधिमंडल ने इन प्रौद्योगिकियों को खरीदने में रुचि भी व्यक्त की थी ।

LPU organized two-day International Conference on Advancements in Aerospace Engineering

“Aerospace Engineering is multidisciplinary; learn whatever one can to grasp it fully”: ISRO stalwarts at LPU

Jalandhar

The School of Mechanical Engineering at Lovely Professional University (LPU) organized ‘International Conference on Advancements in Aerospace Engineering- ICAAE-2024’. The two days of the conference propelled insightful discussions and collaborations for aerospace innovation to new heights.

The conference was graced by the distinguished presence of the stalwarts of ISRO (Indian Space & Research Organization) including its Former Director Dr. S. Rangarajan; Former Group Director Dr. R. Pandiyan; Project Director A.M. Nagalakshmi; Programme Director Jasvinder Singh Khoral; and Prof Dr. Tejinder Kumar Jindal of PEC, Chandigarh.

LPU students showcased their creative aircrafts and drones during specially organized ‘Air-Show’ at the campus to illustrate their deftness in the related field. They demonstrated their self-structured light weight, high-speed, noiseless and well-built space related devices, and earned immense amazement and appreciation from all of the ISRO proponents.  

Appreciating the study environment for aerospace engineering at LPU campus, the elite ISRO visitors wished LPU students to excel in their space skills to be known number one globe over. Creator of the world's first satellite-enabled tablet for education delivery without an Internet connection, Dr. S. Rangarajan shared his vision to bring about a transformation in the society by enhancing the quality and utility of learning through research.

Recalling the top ‘CANSat’ award to LPU students, Dr. R. Pandiyan revealed his happiness on being a part of LPU conference and advised students to avail the best facilities at the campus to ever succeed. Work hard and dedicate yourself to the cause undertaken for sure success. Project Director Nagalakshmi wanted students to be multidisciplinary by learning whatever they can.

It was also shared for the encouragement of LPU space engineers that on visiting the Indian Space Research Organisation (ISRO) headquarters for the Chandrayaan-3 mission, NASA scientists were impressed by the sophisticated technologies developed by Indian space scientists at a low cost. Then the delegation expressed interest in purchasing these technologies.

ਐਲਪੀਯੂ ਵੱਲੋਂ ਏਰੋਸਪੇਸ ਇੰਜਨੀਅਰਿੰਗ 'ਚ ਐਡਵਾਂਸਮੈਂਟਸ 'ਤੇ ਦੋ ਦਿਨਾਂ ਅੰਤਰਰਾਸ਼ਟਰੀ ਕਾਨਫਰੰਸ ਦਾ ਆਯੋਜਨ

"ਏਰੋਸਪੇਸ ਇੰਜੀਨੀਅਰਿੰਗ ਬਹੁ-ਅਨੁਸ਼ਾਸਨੀ ਹੈ; ਇਸ ਨੂੰ ਪੂਰੀ ਤਰ੍ਹਾਂ ਸਮਝਣ ਲਈ ਜੋ ਕੁੱਜ ਵੀ ਕੋਈ ਸਿੱਖ ਸਕਦਾ ਹੈ ਉਸ ਨੂੰ ਸਿੱਖੋ”: ਐਲਪੀਯੂ ਵਿਖੇ ਇਸਰੋ ਦੇ ਪ੍ਰਮੁੱਖਾਂ  ਨੇ ਕਿਹਾ ਵਿਦਿਆਰਥੀਆਂ ਨੂੰ

ਜਲੰਧਰ

ਲਵਲੀ ਪ੍ਰੋਫੈਸ਼ਨਲ ਯੂਨੀਵਰਸਿਟੀ (ਐੱਲ. ਪੀ. ਯੂ.) ਦੇ ਸਕੂਲ ਆਫ ਮਕੈਨੀਕਲ ਇੰਜੀਨੀਅਰਿੰਗ ਨੇ 'ਐਰੋਸਪੇਸ ਇੰਜੀਨੀਅਰਿੰਗ 'ਚ ਐਡਵਾਂਸਮੈਂਟਸ 'ਤੇ ਇੰਟਰਨੈਸ਼ਨਲ ਕਾਨਫਰੰਸ- ICAAE-2024' ਦਾ ਆਯੋਜਨ ਕੀਤਾ। ਕਾਨਫਰੰਸ ਦੇ ਦੋ ਦਿਨਾਂ ਨੇ ਏਰੋਸਪੇਸ ਇਨੋਵੇਸ਼ਨ ਨੂੰ ਨਵੀਆਂ ਉਚਾਈਆਂ ਤੱਕ ਪਹੁੰਚਾਉਣ ਲਈ  ਵਿਚਾਰ ਵਟਾਂਦਰੇ ਅਤੇ ਸਹਿਯੋਗ ਨੂੰ ਅੱਗੇ ਵਧਾਇਆ।

ਕਾਨਫਰੰਸ ਨੂੰ ਇਸਰੋ (ਭਾਰਤੀ ਪੁਲਾੜ ਅਤੇ ਖੋਜ ਸੰਗਠਨ) ਦੇ ਸਾਬਕਾ ਡਾਇਰੈਕਟਰ ਡਾ. ਐਸ. ਰੰਗਰਾਜਨ ਸਮੇਤ ਇਸਰੋ (ਇੰਡੀਅਨ ਸਪੇਸ ਐਂਡ ਰਿਸਰਚ ਆਰਗੇਨਾਈਜ਼ੇਸ਼ਨ) ਦੇ ਦਿੱਗਜਾਂ ਦੀ ਵਿਸ਼ੇਸ਼ ਮੌਜੂਦਗੀ ਦੁਆਰਾ ਸੁਸ਼ੋਭਿਤ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਜਿਸ ਵਿਚ ਆਰ ਪਾਂਡੀਅਨ ਦੇ ਸਾਬਕਾ ਗਰੁੱਪ ਡਾਇਰੈਕਟਰ ਡਾ. ਪ੍ਰੋਜੈਕਟ ਡਾਇਰੈਕਟਰ ਏ.ਐਮ. ਨਾਗਲਕਸ਼ਮੀ; ਪ੍ਰੋਗਰਾਮ ਦੇ ਡਾਇਰੈਕਟਰ ਜਸਵਿੰਦਰ ਸਿੰਘ ਖੋਰਲ; ਅਤੇ ਪੀ.ਈ.ਸੀ., ਚੰਡੀਗੜ੍ਹ ਦੇ ਪ੍ਰੋਫੈਸਰ ਡਾ. ਤੇਜਿੰਦਰ ਕੁਮਾਰ ਜਿੰਦਲ ਵੀ ਸ਼ਾਮਿਲ ਰਹੇ।

ਐਲਪੀਯੂ ਦੇ ਵਿਦਿਆਰਥੀਆਂ ਨੇ ਸਬੰਧਤ ਖੇਤਰ ਵਿੱਚ ਆਪਣੀ ਨਿਪੁੰਨਤਾ ਨੂੰ ਦਰਸਾਉਣ ਲਈ ਕੈਂਪਸ ਵਿੱਚ ਵਿਸ਼ੇਸ਼ ਤੌਰ 'ਤੇ ਆਯੋਜਿਤ 'ਏਅਰ-ਸ਼ੋਅ' ਦੌਰਾਨ ਆਪਣੇ ਰਚਨਾਤਮਕ ਹਵਾਈ ਜਹਾਜ਼ਾਂ ਅਤੇ ਡਰੋਨਾਂ ਦਾ ਪ੍ਰਦਰਸ਼ਨ ਕੀਤਾ। ਉਨ੍ਹਾਂ ਨੇ ਆਪਣੇ ਸਵੈ-ਸੰਰਚਨਾ ਵਾਲੇ ਹਲਕੇ ਭਾਰ, ਉੱਚ-ਗਤੀ, ਸ਼ੋਰ-ਰਹਿਤ ਅਤੇ ਚੰਗੀ ਤਰ੍ਹਾਂ ਬਣਾਏ ਸਪੇਸ ਨਾਲ ਸਬੰਧਤ ਯੰਤਰਾਂ ਦਾ ਪ੍ਰਦਰਸ਼ਨ ਕੀਤਾ, ਅਤੇ ਇਸਰੋ ਦੇ ਸਮਰਥਕਾਂ ਤੋਂ ਬਹੁਤ ਪ੍ਰਸ਼ੰਸਾ ਪ੍ਰਾਪਤ ਕੀਤੀ।

ਐਲਪੀਯੂ ਕੈਂਪਸ ਵਿੱਚ ਏਰੋਸਪੇਸ ਇੰਜਨੀਅਰਿੰਗ ਲਈ ਅਧਿਐਨ ਦੇ ਮਾਹੌਲ ਦੀ ਸ਼ਲਾਘਾ ਕਰਦੇ ਹੋਏ, ਇਸਰੋ ਦੇ ਕੁਲੀਨ ਵਿਜ਼ਟਰਾਂ ਨੇ ਐਲਪੀਯੂ ਦੇ ਵਿਦਿਆਰਥੀਆਂ ਨੂੰ ਆਪਣੇ ਸਪੇਸ ਹੁਨਰ ਵਿੱਚ ਉੱਤਮਤਾ ਪ੍ਰਾਪਤ ਕਰਨ ਲਈ ਵਿਸ਼ਵ ਭਰ ਵਿੱਚ ਨੰਬਰ ਇੱਕ ਵਜੋਂ ਜਾਣੇ ਜਾਣ ਦੀ ਕਾਮਨਾ ਕੀਤੀ। ਬਿਨਾਂ ਇੰਟਰਨੈਟ ਕਨੈਕਸ਼ਨ ਦੇ ਸਿੱਖਿਆ ਪ੍ਰਦਾਨ ਕਰਨ ਲਈ ਦੁਨੀਆ ਦੇ ਪਹਿਲੇ ਸੈਟੇਲਾਈਟ-ਸਮਰੱਥ ਟੈਬਲੇਟ ਦੇ ਨਿਰਮਾਤਾ, ਡਾ. ਐਸ. ਰੰਗਰਾਜਨ ਨੇ ਖੋਜ ਦੁਆਰਾ ਸਿੱਖਣ ਦੀ ਗੁਣਵੱਤਾ ਅਤੇ ਉਪਯੋਗਤਾ ਨੂੰ ਵਧਾ ਕੇ ਸਮਾਜ ਵਿੱਚ ਇੱਕ ਤਬਦੀਲੀ ਲਿਆਉਣ ਲਈ ਆਪਣੇ ਦ੍ਰਿਸ਼ਟੀਕੋਣ ਨੂੰ ਸਾਂਝਾ ਕੀਤਾ।

ਐਲਪੀਯੂ ਦੇ ਵਿਦਿਆਰਥੀਆਂ ਨੂੰ ਮਿਲੇ ਚੋਟੀ ਦੇ ਨੈਸ਼ਨਲ  'CANSat' ਪੁਰਸਕਾਰ ਨੂੰ ਯਾਦ ਕਰਦੇ ਹੋਏ, ਡਾ. ਆਰ. ਪਾਂਡਿਆਨ ਨੇ ਐਲਪੀਯੂ ਕਾਨਫਰੰਸ ਦਾ ਹਿੱਸਾ ਬਣਨ 'ਤੇ ਆਪਣੀ ਖੁਸ਼ੀ ਪ੍ਰਗਟ ਕੀਤੀ ਅਤੇ ਵਿਦਿਆਰਥੀਆਂ ਨੂੰ ਹਮੇਸ਼ਾ ਸਫਲ ਹੋਣ ਲਈ ਕੈਂਪਸ ਵਿੱਚ ਸਭ ਤੋਂ ਵਧੀਆ ਸਹੂਲਤਾਂ ਦਾ ਲਾਭ ਲੈਣ ਦੀ ਸਲਾਹ ਦਿੱਤੀ। ਸਖ਼ਤ ਮਿਹਨਤ ਕਰੋ ਅਤੇ ਆਪਣੇ ਆਪ ਨੂੰ ਯਕੀਨੀ ਸਫਲਤਾ ਲਈ ਕੀਤੇ ਗਏ ਉਦੇਸ਼ ਲਈ ਸਮਰਪਿਤ ਕਰੋ। ਪ੍ਰੋਜੈਕਟ ਡਾਇਰੈਕਟਰ ਨਾਗਲਕਸ਼ਮੀ ਚਾਹੁੰਦੀ  ਹਨ  ਕਿ ਵਿਦਿਆਰਥੀ ਜੋ ਵੀ ਕਰ ਸਕਦੇ ਹਨ ਸਿੱਖਣ ਅਤੇ  ਬਹੁ-ਅਨੁਸ਼ਾਸਨੀ ਬਣਨ।

ਐਲਪੀਯੂ ਦੇ ਭਾਵੀ  ਪੁਲਾੜ ਇੰਜੀਨੀਅਰਾਂ ਦੇ ਹੌਸਲੇ ਲਈ ਇਹ ਵੀ ਸਾਂਝਾ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਸੀ ਕਿ ਚੰਦਰਯਾਨ-3 ਮਿਸ਼ਨ ਲਈ ਭਾਰਤੀ ਪੁਲਾੜ ਖੋਜ ਸੰਗਠਨ (ਇਸਰੋ) ਦੇ ਹੈੱਡਕੁਆਰਟਰ ਦਾ ਦੌਰਾ ਕਰਨ 'ਤੇ, ਨਾਸਾ ਦੇ ਵਿਗਿਆਨੀ ਭਾਰਤੀ ਪੁਲਾੜ ਵਿਗਿਆਨੀਆਂ ਦੁਆਰਾ ਘੱਟ ਕੀਮਤ 'ਤੇ ਵਿਕਸਿਤ ਕੀਤੀਆਂ ਗਈਆਂ ਆਧੁਨਿਕ ਤਕਨੀਕਾਂ ਤੋਂ ਬੇਹੱਦ ਪ੍ਰਭਾਵਿਤ ਹੋਏ ਸਨ ਅਤੇ  ਫਿਰ ਵਫ਼ਦ ਨੇ ਇਨ੍ਹਾਂ ਤਕਨੀਕਾਂ ਨੂੰ ਖਰੀਦਣ ਵਿੱਚ ਦਿਲਚਸਪੀ ਵੀ ਪ੍ਰਗਟਾਈ ਸੀ ।

 

Tags: Lovely Professional University , Jalandhar , Phagwara , LPU , LPU Campus , Ashok Mittal , Rashmi Mittal

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD