Tuesday, 23 April 2024

 

 

खास खबरें राज्यपाल शिव प्रताप शुक्ल ने परवाणु में जल जनित रोगों की रोकथाम एवं नियंत्रण संबंधी उपायों की समीक्षा की एलपीयू के इंजीनियरिंग के विद्यार्थियों को इसरो समर्थित राष्ट्रीय प्रतियोगिता में टॉप स्पेस इन्नोवेटरज़ के रूप में चुना भारी मतों के अंतर से जीतेंगे एन.के.शर्मा:जोनी कोहली मानव को एकत्व के सूत्र में बांधता - मानव एकता दिवस शास्त्री मार्केट में कारोबारियों से मिलने पहुंचे गुरजीत सिंह औजला 'आप' समर्थकों ने IPL मैच में किया अनोखा प्रदर्शन, अरविंद केजरीवाल की फोटो वाली टी-शर्ट पहन लगाए नारे, मैं भी केजरीवाल फरीदकोट और खडूर साहिब में 'आप' को मिली मज़बूती, अकाली दल, कांग्रेस और भाजपा को लगा बड़ा झटका! बासरके भैणी से अकाली दल को झटका सरकार उठाएगी पीड़ित बिटिया के इलाज का पूरा खर्च : मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू लोकतंत्र के महापर्व में बढ़चढ़ कर मतदान करे युवा - मुख्य निर्वाचन अधिकारी अनुराग अग्रवाल समय पर सेवा न देने पर जूनियर इंजीनियर पर 20 हजार रूपए का लगाया जुर्माना ''इंजीनियरिंग जल्द ही क्वांटम होने जा रही है'' : प्रो. अरविंद, वीसी, पंजाबी यूनिवर्सिटी, पटियाला दीपक बांसल डकाला अपने साथियों के साथ भारतीय जनता पार्टी में शामिल इनेलो ने लोकसभा चुनावों के लिए फरीदाबाद, सोनीपत और सिरसा के उम्मीदवार किए घोषित शैमराक स्कूल में अवार्ड सैरेमनी का आयोजन श्री राम मंदिर अज्ज सरोवर विकास समिति की ऑफिसियल वेबसाइट भी लांच की गई दिगांगना सूर्यवंशी 'कृष्णा फ्रॉम बृंदावनम' के लिए तैयार प्रधानमंत्री ने महावीर जयंती के अवसर पर 2550वें भगवान महावीर निर्वाण महोत्सव का उद्घाटन किया परवीन डबास ने किया तमिलनाडु स्टेट आर्मरेसलिंग चैंपियनशिप 2024 में टेबल का उद्घाटन निष्पक्ष एवं पारदर्शी चुनाव करवाना ही चुनाव आयोग की है प्राथमिकता - अनुराग अग्रवाल मोबाईल ऐप पर मतदाता घर बैठे पा सकते हैं चुनाव संबंधित नवीनतम जानकारी

 

मुख्य सचिव डॉ. अरुण कुमार मेहता ने आईटी विभाग की चल रही पहलों के कार्यान्वयन की समीक्षा हेतु बैठक की अध्यक्षता की

न्यूनतम नागरिक संपर्क के साथ सक्रिय सेवा वितरण प्रदान करने हेतु व्यक्ति पहचान की अवधारणा के कार्यान्वयन पर चर्चा

Arun Kumar Mehta, Dr. Arun Kumar Mehta, Kashmir, Jammu And Kashmir, Jammu & Kashmir, Chief Secretary Kashmir
Listen to this article

Web Admin

Web Admin

5 Dariya News

श्रीनगर , 04 Oct 2023

आईटी विभाग की विभिन्न चल रही पहलों के कार्यान्वयन की स्थिति की समीक्षा हेतु मुख्य सचिव डॉ. अरुण कुमार मेहता ने आईटी विभाग की एक विस्तृत समीक्षा बैठक की अध्यक्षता की, जिसमें आयुक्त सचिव आईटी विभाग प्रेरणा पुरी, सीईओ जेकेईजीए, राज्य सूचना विज्ञान अधिकारी, एनआईसी के अतिरिक्त आईटी विभाग के अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित थे। समीक्षा के दौरान बताया गया कि वर्तमान में 1054 ई-सेवाएँ नागरिकों के लिए उपलब्ध हैं, 20 और ई-सेवाएँ निर्माणाधीन हैं।

मुख्य सचिव ने आम नागरिक के जीवन को बदलने और ‘‘भ्रष्टाचार मुक्त जम्मू-कश्मीर‘‘ की उपलब्धि के लिए ई-सेवाओं के महत्व को दोहराया, और 1500 ई-सेवाओं के लक्ष्य को प्राप्त करने की आवश्यकता पर फिर से जोर दिया ताकि किसी भी सरकारी लाभ हेतु एक आम नागरिक को किसी कार्यालय का दरवाजा खटखटाने की आवश्यकता लगभग समाप्त हो सके। इस संबंध में, आईटी विभाग को जम्मू-कश्मीर में ई-सेवाओं के और विस्तार के लिए विभागों और उपायुक्तों के साथ विचार-मंथन सत्र आयोजित करने का निर्देश दिया गया।

समीक्षा के दौरान बताया गया कि आय प्रमाण पत्र, जाति प्रमाण पत्र सहित राजस्व विभाग की 07 सबसे अधिक उपयोग की जाने वाली सेवाओं और जन्म प्रमाण पत्र, मृत्यु प्रमाण पत्र सहित आवास विभाग की 08 सेवाओं में आवेदन जमा करने पर आवेदक को भेजे गए एसएमएस में पीएसजीए समयसीमा शामिल की गई है। डॉ. मेहता ने आईटी विभाग से प्रयास जारी रखने और नागरिकों को समय सीमा के ज्ञान के साथ सशक्त बनाने के लिए सभी प्रासंगिक ई-सेवाओं में पीएसजीए समयसीमा को शामिल करने का आग्रह किया, जिसके भीतर उन्हें संबंधित विभाग द्वारा एक विशेष सेवा प्रदान किए जाने की उम्मीद है।

ई-सेवाओं की नागरिक प्रतिक्रिया के विषय पर, मुख्य सचिव ने फीडबैक के महत्व को उजागर किया और सभी यूटी ई-सेवाओं को आरएएस फीडबैक पोर्टल के साथ एकीकृत करने का निर्देश दिया। ई-सेवाओं की गुणवत्ता मूल्यांकन रिपोर्ट की चर्चा पर, आईटी विभाग को उन सभी विभागों के लिए विशेष कार्यशाला आयोजित करने की सलाह दी गई जिनकी सेवाओं को मूल्यांकन में तुरंत सुधार हेतु खराब स्थान दिया गया है। बैठक के दौरान आपदा रिकवरी साइट, वर्चुअल टूर, एनईएसडीए मूल्यांकन, शहरी निगरानी के संबंध में प्रगति की स्थिति की भी समीक्षा की गई और चर्चा की गई।

आईटी विभाग के आयुक्त सचिव ने बताया कि विभाग अधिकारियों की दक्षता बढ़ाने के लिए पायलट आधार पर जम्मू-कश्मीर के ई-ऑफिस उदाहरण के साथ वॉयस टू टेक्स्ट और टेक्स्ट टू वॉयस रूपांतरण के लिए भारत सरकार के भाषिनी टूल को एकीकृत करने की प्रक्रिया में है। यह अवगत कराया गया कि डिजिटल जीवन प्रमाण पत्र जारी करने के लिए जीवन प्रमाण के तहत प्रगति पिछले वर्ष की तुलना में लगभग दोगुनी हो गई है। 

‘‘व्यक्ति पहचान‘‘ की अवधारणा पर विस्तार से बताते हुए, डॉ. मेहता ने इस बात पर जोर दिया कि ई-सेवाओं का अगला विकासवादी कदम एक नागरिक द्वारा शुरू किए गए अनुरोध आधारित सेवा वितरण मॉडल को प्रो-एक्टिव में परिवर्तन के लिए सरकार के पास उपलब्ध डेटा के आधार पर संभावित लाभार्थियों की सक्रिय ऑटो पहचान है।

मुख्य सचिव ने आईटी विभाग को ‘‘व्यक्ति पहचान‘‘ की अवधारणा को साकार करने के लिए गंभीर, समर्पित प्रयास करने के निर्देश दिये। मुख्य सचिव ने नागरिकों को निर्धारित सार्वजनिक घंटों के दौरान ई-मोड के माध्यम से सरकारी अधिकारी से मिलने के लिए विभाग द्वारा विकसित की जा रही वर्चुअल टूर प्रणाली में ई-मुलाकात के प्रावधान को शामिल करने के भी निर्देश दिए, जिससे नागरिक और अधिकारी दोनों के समय की बचत होगी।

 

Tags: Arun Kumar Mehta , Dr. Arun Kumar Mehta , Kashmir , Jammu And Kashmir , Jammu & Kashmir , Chief Secretary Kashmir

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD