Tuesday, 16 April 2024

 

 

खास खबरें डिप्टी कमिश्नर कोमल मित्तल ने जिला बाल सुरक्षा यूनिट व बाल कल्याण कमेटी के कामकाज की समीक्षा की ज्ञान ज्योति द्वारा हस्टा ला विस्टा बैनर तले फ्रेशर्स एवं फेयरवेल पार्टी का आयोजन किया गया 50,000 मजबूत पंजाब कांग्रेस कैडर भाजपा को खत्म कर देगा: अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग पंजाब राजभवन में मनाया गया हिमाचल प्रदेश स्थापना दिवस 17 अप्रैल को श्री राम नवमी के उस्तव पर सुबह 5 वजे विशाल प्रभात फेरी निकली जाएगी प्रदेश में उत्साह व हर्षाल्लास के साथ मनाया गया हिमाचल दिवस बंगाल में मतदाताओं की सुरक्षा को लेकर चुनाव आयोग से मिला भाजपा शिष्ट मंडल 22 गांवों के लोगों ने जिस विश्वास से सिर पर पगड़ी रखी,उसका सम्मान रखूंगा- संजय टंडन अम्बाला छावनी में भाजपा की कर्मठ फौज जिसकी हुंकार सारे हिंदुस्तान में जाती है : पूर्व गृह मंत्री अनिल विज 'आप' पंजाब सरकार के मुख्यमंत्री भगवंत मान साहब लोकसभा चुनाव में प्रचार के लिए गुजरात पहुंचे डीजे फ्लो ने साझा किया अपना नया गीत "लाइफ" वास्तविकता दिखा रहे हैं वेब सीरीज़ और डिजिटल प्लेटफ़ॉर्म-अलंकृता सहाय बेला फार्मेसी कॉलेज ने नेटवर्क फार्माकोलॉजी पर राष्ट्रीय कार्यशाला का आयोजन संजय टंडन ने शहर में रामनवमी पर आयोजित शोभायात्रा को हरी झंडी दिखा कर की शुरुआत Reconnaissance-2024'' एक उच्च नोट पर समाप्त हुआ पंजाब इंजीनियरिंग कॉलेज चंडीगढ़ में भव्य समारोह के साथ स्पेक्ट्रम 2.0 का उद्घाटन किया गया विजीलैंस ब्यूरो ने पटवारी को 5,000 रुपये की रिश्वत लेते हुए पकड़ा चंडीगढ़ में इंडिया अलायंस की होगी ऐतिहासिक जीत: डॉ. एस.एस आहलूवालिया सांसद बलबीर सिंह सीचेवाल के नेतृत्व में संत समाज ने पंजाब की राजनैतिक पार्टियों के सामने रखा पर्यावरण का एजेंडा टाइगर श्रॉफ ने एक्शन और स्वैग संग फिल्म "बड़े मियां छोटे मियां" में लगाया है कॉमेडी का तड़का, एक्टर का नया साइड देख दर्शकों में मच गई है खलबली जेल में केजरीवाल से मिल भावुक हुए भगवंत मान, बोले- मुख्यमंत्री के साथ हो रहा आतंकवादियों जैसा सलूक

 

राष्ट्र ने 24वें कारगिल विजय दिवस पर 1999 के कारगिल युद्ध के नायकों को श्रद्धांजलि दी

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने द्रास में कारगिल युद्ध स्मारक पर वीर सैनिकों को श्रद्धांजलि अर्पित की

Rajnath Singh, Union Defence Minister, Defence Minister of India, BJP, Bharatiya Janata Party
Listen to this article

Web Admin

Web Admin

5 Dariya News

लद्दाख , 26 Jul 2023

राष्ट्र ने भारत की ऐतिहासिक जीत की 24वीं वर्षगांठ,जिसे हर साल 26 जुलाई को 'कारगिल विजय दिवस' के रूप में मनाया जाता है,पर 1999 के कारगिल युद्ध के वीर सैनिकों को भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की । इस दिन को चिह्नित करने के लिए, रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह ने आज लद्दाख के द्रास में कारगिल युद्ध स्मारक का दौरा किया, पुष्पांजलि अर्पित की और उन वीर सैनिकों को श्रद्धांजलि दी जिन्होंने 'ऑपरेशन विजय' के दौरान असाधारण वीरता का प्रदर्शन किया था।

द्रास के समारोह में युद्ध नायकों, वीर नारियों और शहीद नायकों के परिवारों की उपस्थिति भी देखी गई। श्री राजनाथ सिंह ने उनसे परस्पर बातचीत की और राष्ट्र की सेवा में सर्वोच्च बलिदान देने वाले सभी लोगों का स्मरण करते हुए हार्दिक आभार व्यक्त किया। उन्होंने उन्हें आश्वासन दिया कि इन वीरों का बलिदान कभी नहीं भुलाया जाएगा।

रक्षा मंत्री ने उपस्थित जनसमूह को संबोधित करते हुए सशस्त्र बलों की वीरता और प्रतिबद्धता की सराहना की, जिन्होंने समय-समय पर देश को संकट के समय मजबूती से खड़े रहने में मदद की है। उन्होंने कहा, आज का भारत सैनिकों के बलिदान की नींव पर टिका है। श्री राजनाथ सिंह ने 'ऑपरेशन विजय' को एक ऐसी घटना के रूप में वर्णित किया, जिसने प्रतिकूल परिस्थितियों के बावजूद भारत के साहस और दृढ़ संकल्प को प्रदर्शित किया। 

उन्होंने इस विजय को एक लॉन्च पैड भी करार दिया, जिसने देश को सफलता की ऊंचाइयों को छूने के लिए प्रेरित किया। श्री राजनाथ सिंह ने कहा “हमारी महानता कभी न गिरने में नहीं है, बल्कि हर बार गिरकर उठने में है। युद्ध के दौरान प्रतिद्वंद्वी के पास सामरिक सैन्य लाभ होने के बावजूद, हमारी सेनाओं ने उन्हें पीछे धकेलने और हमारी भूमि को पुनः प्राप्त करने के लिए असाधारण वीरता और कौशल का प्रदर्शन किया। 

इस विजय के साथ, भारत ने पाकिस्तान और विश्व को संदेश दिया कि अगर देश के हितों को नुकसान पहुंचाया गया तो हमारी सेना किसी भी कीमत पर पीछे नहीं हटेगी।”रक्षा मंत्री ने सभी को आश्वस्त किया कि सरकार राष्ट्रीय हितों की रक्षा के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध है, चाहे कोई भी चुनौती क्यों न हो। उन्होंने कहा “देश की संप्रभुता, एकता और अखंडता की रक्षा में कोई समझौता नहीं किया जाएगा। 

हमने देश के शत्रुओं को खत्म करने के लिए सशस्त्र बलों को खुली छूट दे रखी है। भारत एक शांतिप्रिय राष्ट्र है जो अपने सदियों पुराने मूल्यों में विश्वास करता है और अंतरराष्ट्रीय कानूनों के प्रति प्रतिबद्ध है, लेकिन अपने हितों की रक्षा के लिए हम नियंत्रण रेखा पार करने में संकोच नहीं करेंगे। पहले देश और सशस्त्र बलों में राजनीतिक इच्छाशक्ति की कमी थी, लेकिन अब प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली हमारी सरकार ने इस कमी को दूर कर दिया है। 

हम अपनी सेनाओं के साथ मजबूती से खड़े हैं। लोगों और संसद को हमारे सैनिकों पर पूरा भरोसा है।”श्री राजनाथ सिंह ने कारगिल युद्ध के कई बहादुर सैनिकों के वीरतापूर्ण कार्यों को याद किया, जिनमें परमवीर चक्र (पीवीसी) पुरस्कार विजेता कैप्टन विक्रम बत्रा और कैप्टन मनोज पांडे तथा वीर चक्र (वीआरसी) पुरस्कार विजेता लेफ्टिनेंट कर्नल आर विश्वनाथन, कैप्टन जिंटू गोगोई, कैप्टन विजयंत थापर और नायब सूबेदार मंगेज सिंह शामिल थे,जो आने वाली पीढ़ियों के लिए प्रेरणा का स्रोत हैं और हमेशा स्मरण किये जायेंगे।

रक्षा मंत्री ने फ्लाइट लेफ्टिनेंट गुंजन सक्सेना और श्रीविद्या राजन का विशेष उल्लेख किया, जिन्होंने युद्ध के दौरान असाधारण साहस दिखाया और यह संदेश दिया कि जब देश की सीमाओं की सुरक्षा की बात आती है तो भारतीय महिलाएं अपने पुरुष समकक्षों से कम नहीं हैं। उन्होंने रेखांकित किया कि ये सभी सैनिक भारत के विभिन्न क्षेत्रों से थे, लेकिन देश और उसके लोगों के हितों की रक्षा के लिए एक होकर लड़े।

श्री राजनाथ सिंह ने कहा कि युद्ध केवल अस्त्रों और बमों से नहीं लड़े और जीते जाते हैं; वीरता और अदम्य भावना भी समान रूप से महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। उन्होंने कहा, यह इच्छा शक्ति और राष्ट्रीय गौरव की भावना ही भारतीय सैनिकों को दूसरे सैनिकों से अलग करती है। उन्होंने कहा कि "हमारी सेनाएं देश, इसकी सभ्यता और संस्कृति की रक्षा के लिए देशभक्ति की भावना से ओत-प्रोत हैं।"

रक्षा मंत्री ने रूस-यूक्रेन युद्ध का उदाहरण देते हुए कहा कि यह युद्ध, जो पिछले एक वर्ष के अधिक समय से जारी है, आज के समय में संघर्षों की अप्रत्याशित प्रकृति को दर्शाता है। उन्होंने कहा कि यह युद्ध लंबा खिंच गया है क्योंकि लोग अपने प्रयोजन के लिए लड़ने के लिए प्रशिक्षण ले रहे हैं और अपनी सेना में शामिल हो रहे हैं।

श्री राजनाथ सिंह ने लोगों से अपील की कि आवश्यकता पड़ने पर वे न केवल परोक्ष रूप से बल्कि प्रत्यक्ष रूप से भी युद्ध में भाग लेने के लिए तैयार रहें । उन्होंने कहा,“लोगों को मानसिक रूप से तैयार रहना चाहिए, ताकि जब भी देश को उनकी आवश्यकता हो, वे सशस्त्र बलों की मदद के लिए तैयार रहें। जैसे हर सैनिक भारतीय है; उसी तरह, हर भारतीय को एक सैनिक की भूमिका निभाने के लिए तैयार रहना चाहिए।”

इस समारोह में लद्दाख के उपराज्यपाल ब्रिगेडियर (डॉ.) बीडी मिश्रा (सेवानिवृत्त), चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल अनिल चौहान, थल सेना प्रमुख जनरल मनोज पांडे, नौसेना स्टाफ प्रमुख एडमिरल आर हरि कुमार, वायु सेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल वीआर चौधरी, पूर्व सेना प्रमुख जनरल वीपी मलिक (सेवानिवृत्त), उत्तरी कमान के जनरल ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ लेफ्टिनेंट जनरल उपेन्द्र द्विवेदी, जनरल ऑफिसर कमांडिंग, 14 कोर लेफ्टिनेंट जनरल रशिम बाली, लेफ्टिनेंट जनरल वाईके जोशी (सेवानिवृत्त) और लेफ्टिनेंट जनरल अमरनाथ औल (सेवानिवृत्त) ने भाग लिया।

साहस और दृढ़ संकल्प के सच्चे उदाहरण और पीवीसी प्राप्तकर्ता सूबेदार मेजर संजय कुमार और महावीर चक्र विजेता हवलदार दिगेंद्र कुमार की उपस्थिति ने सभा को प्रेरित किया। कैप्टन मनोज पांडे, पीवीसी के भाई श्री मनमोहन पांडे और कैप्टन विक्रम बत्रा, पीवीसी के भाई श्री विशाल बत्रा भी इस अवसर पर उपस्थित थे। द्रास में आयोजित कार्यक्रम एकता, कृतज्ञता और गर्व का क्षण था, क्योंकि राष्ट्र उस वीरता को सम्मानित करने के लिए एकजुट हुआ था जो 'भारत की भावना' को परिभाषित करती है।

राष्ट्रीय राजधानी में, रक्षा राज्य मंत्री श्री अजय भट्ट, रक्षा सचिव श्री गिरिधर अरमाने, चीफ ऑफ स्टाफ कमेटी (सीआईएससी) के इंटीग्रेटेड डिफेंस स्टाफ के चीफ लेफ्टिनेंट जनरल जेपी मैथ्यू और तीनों सेनाओं के वाइस चीफ ने राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पर पुष्पांजलि अर्पित की और शहीद नायकों को श्रद्धांजलि दी।

 

Tags: Rajnath Singh , Union Defence Minister , Defence Minister of India , BJP , Bharatiya Janata Party

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD