Saturday, 25 May 2024

 

 

LATEST NEWS Joint Secretary of Chandigarh Territorial Congress Committee, Ravinder Singh Tyagi Joins BJP Sanjay Tandon receives support from the deaf & mute people Chaos & confusion hall mark of Tewari’s poll campaign: Ravinder Pathania Bhagwant Mann campaigned for AAP candidate Laljit Bhullar in Khadoor Sahib Golden Temple will be made a global center : Rahul Gandhi Crime Out of Control in Punjab, a Matter of Grave Concern : Vijay Inder Singla Vijay Inder Singla releases manifesto, promises a lot for Constituency Amarinder Singh Raja Warring Intensifies Campaign in Ludhiana, Criticizes PM and CM for Neglecting Key Issues Amarinder Singh Raja Warring ‘feels bad’ for ‘friend’, Bittu over being ‘discarded, disowned’ by BJP CM Bhagwant Mann campaigned for Kuldeep Dhaliwal in Raja Sansi, Ajnala and Majitha, the people of Amritsar promised Mann a huge victory for AAP “Omjee’s Cine World and Sartaaj Films Unveil New Film, “Apna Arastu”: A Leap Forward for Punjabi Cinema” Salient Points of speech of Hon’ble Union Home Minister & Minister of Cooperation Shri Amit Shah while addressing public rallies in Hamirpur and Kangra, Himachal Pradesh Excellent results of new sports policy are showing, Punjabi players will shine in Paris Olympics: Meet Hayer Aam Aadmi Party gained significant strength in many Lok Sabha constituencies of Punjab, more than half a dozen big leaders of opposition parties joined AAP AAP- Cong and BJP polarizing people on caste and communal lines respectively – Sukhbir Singh Badal AAP's free electricity scheme failed, and people are suffering due to power cuts: Preneet Kaur MP Sanjeev Arora visits house of Dr Surjit Patar, expresses sympathies with aggrieved family People like Amritpal and Simranjit Singh Mann are a threat to Punjab: Dr. Subhash Sharma Punjab Voters Can Check Queues At Polling Booth From Home: Sibin C Young Mountaineers call on Governor Shiv Pratap Shukla LPU conducted Online Freshmen Induction Programs for thousands of its Distance and Online Students

 

Khelo India Rising Talent Identification will take sports to the doorstep of aspiring champions: Anurag Singh Thakur

Aimed at scouting talent among school-goers between 9 and 18, Union Minister for Youth Affairs and Sports inaugurated KIRTI in Chandigarh

Anurag Thakur, Anurag Singh Thakur, BJP, Bharatiya Janata Party, Kirron Kher, Khelo India Rising Talent Identification, KIRTI
Listen to this article

Web Admin

Web Admin

5 Dariya News

Chandigarh , 12 Mar 2024

Union Minister for Youth Affairs and Sports, Shri Anurag Singh Thakur inaugurated the unique Khelo India Rising Talent Identification (KIRTI) programme amidst much enthusiasm at the Sector 7 sports complex, in Chandigarh, on Tuesday. 

Aimed at school children between nine and 18 years, the nation-wide scheme will have two main objectives: to hunt talent from every nook and corner of the country and to use sports as a tool to curb addiction towards drugs and other gadgetry distractions.

On a bright and sunny day, Shri Thakur emphasized that KIRTI was a dream of Prime Minister Shri Narendra Modi to build a culture of sports and also create a cradle of talent that can win India medals at global competitions like the Olympics and Asian Games.

KIRTI made a solid launch across 50 centres in India. Fifty thousand applicants are being assessed in the first phase across 10 sports, including athletics, boxing, wrestling, hockey, football and wrestling. KIRTI aims to conduct 20 lakh assessments across the country throughout the year to identify talent through notified Talent Assessment Centres.

A scouting and training programme of this scale is a first in India and comes at a time when the nation wants to “become a top 10 sports nation in the world by 2036 and among the top five by 2047,” said Shri Thakur.Shri Thakur emphasized that youth were the building blocks of the nation and to achieve results in sports, one must start early. 

Saying an athlete needed at least 10 years of preparation to win an Olympic medal, the minister said, “KIRTI wants to reach out to every block in the country and connect with those kids who want to play a sport but don’t know how. 

We know every child playing sport won’t win a medal but at least we want to use sports to keep the young away from drugs and other addictions. I urge every child to register through the MyBharat portal and the onus will be on us to go to them and provide the opportunity through KIRTI.”

KIRTI’s athlete-centric programme is conspicuous by its transparent selection methodology based on Information Technology. Data analytics based on Artificial Intelligence are being used to predict the sporting acumen in an aspiring athlete. 

Shri Thakur added that a talent scouting system of this magnitude will need tactical collaboration with the National Sports Federations and the state governments. He added that the government has already spent Rs 3000 Crore on infrastructure and have more than 1000 Khelo India Centres across the country.

Present on this occasion, among others, were Member of Parliament from Chandigarh, Shrimati Kirron Kher, Shri Rajiv Verma, the advisor to the Chandigarh Administration, and Hangzhou Asian Games Silver Medalist and rising javelin star and a Paris Olympics medal contender, Kishore Kumar Jena.

Shrimati Kher lauded the KIRTI programme and said Chandigarh has given celebrity sportspersons like Kapil Dev, Yuvraj Singh and Abhinav Bindra and this scheme has come as a big boost to those playing a game.

“Every parent wants their child to achieve something in life. But many time dreams and reality don’t meet. At least in sports, KIRTI will help bridge that gap. Now every child wanting to play and excel in a sport will have a pathway,” said Shrimati Kher.

Several young boys and girls turned up for the selection process at the Sector 7 sports complex in Chandigarh. For 14-year-old sprinter Aman Sharma and 17-year-old walker Jaskaran Singh, KIRTI has opened a big window of opportunity. “We now know where to go and train. KIRTI is really motivating us,” said Jaskaran, waiting for his turn for a photo-op with Paris-bound Jena.

Jena was feted by Shri Thakur and the man who challenged Neeraj Chopra at the Asian Games and the world athletics meet in Budapest last year said: “I have highlighted before that sportspersons do not receive enough support at the grassroots level. 

When they start winning medals they receive financial and moral support, which should not be the case. KIRTI is a great scheme and is engaging kids of the right age. They are full of energy and this is the time to groom or nurture them after identifying their talent.” Shri Thakur once again reiterated India’s intention to host the Youth Olympics in 2030 and the Summer Olympics in 2036.

“If we have to become a global superpower, we have to showcase and capitalize the soft power of sports. Music, films and sports are vehicles to ride and we are good at all of them. KIRTI will only help strengthen that. From the government side, we only have to smoothen the ease of business and that’s a priority,” said Shri Thakur, who is also the Union Minister for Information and Broadcasting.

ABOUT KHELO INDIA MISSION

The Khelo India Scheme is the flagship Central Sector Scheme of the Ministry of Youth Affairs & Sports. A brainchild of Prime Minister Shri Narendra Modi, the Khelo India Mission aims at infusing sports culture and achieving sporting excellence in the country thus allowing the populace to harness the power of sports through its cross-cutting influence. 

Under the “Sports Competitions and Talent Development” vertical of the Khelo India Scheme, the “Talent Identification and Development” component is dedicated to working towards the identification and development of athletes at the grassroots and elite levels to develop the sports ecosystem in the country.

खेलो इंडिया उभरती प्रतिभाओं की पहचान कार्यक्रम, खेलों को आकांक्षी चैंपियनों के घरों तक ले जाएगा: अनुराग सिंह ठाकुर

9 से 18 वर्ष की आयु-वर्ग के स्कूल जाने वाले बच्चों के बीच प्रतिभा की खोज करने के उद्देश्य से, केंद्रीय युवा कार्यक्रम एवं खेल मंत्री ने चंडीगढ़ में कीर्ति कार्यक्रम का उद्घाटन किया

चंडीगढ़

केंद्रीय युवा कार्यक्रम एवं खेल मंत्री श्री अनुराग सिंह ठाकुर ने मंगलवार को चंडीगढ़ के सेक्टर 7 स्थित खेल परिसर में उत्साहपूर्ण वातावरण के बीच अद्वितीय खेलो इंडिया उभरती प्रतिभाओं की पहचान (कीर्ति) कार्यक्रम का उद्घाटन किया। 9 से 18 वर्ष की आयु-वर्ग के स्कूली बच्चों के लिए शुरू की गयी इस राष्ट्रव्यापी योजना के दो मुख्य उद्देश्य हैं: देश के हर कोने से प्रतिभा की खोज करना तथा मादक पदार्थों और इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों की लत को रोकने के लिए खेल को एक प्रभावी उपाय के रूप में प्रयोग करना।

खिली हुई धूप के बीच, श्री ठाकुर ने इस बात पर जोर दिया कि ‘कीर्ति’, प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी का सपना था कि खेल संस्कृति का निर्माण और प्रतिभाओं का एक समूह तैयार किया जाना चाहिए, जो ओलंपिक और एशियाई खेल जैसी वैश्विक प्रतियोगिताओं में भारत को पदक दिला सकें। ‘कीर्ति’ ने भारत के 50 केंद्रों में ठोस शुरुआत की है। 

पहले चरण में, एथलेटिक्स, मुक्केबाजी, कुश्ती, हॉकी, फुटबॉल समेत 10 खेलों के लिए पचास हजार आवेदकों का मूल्यांकन किया जा रहा है। कीर्ति का लक्ष्य अधिसूचित प्रतिभा मूल्यांकन केंद्रों के माध्यम से प्रतिभा की पहचान करने के लिए पूरे वर्ष के दौरान देश भर में 20 लाख आवेदकों का मूल्यांकन करना है।श्री ठाकुर ने कहा, “इस पैमाने का पर्यवेक्षण और प्रशिक्षण कार्यक्रम भारत में पहली बार शुरू किया गया है और यह ऐसे समय में आया है, जब देश "2036 तक दुनिया के शीर्ष 10 खेल राष्ट्रों में और 2047 तक शीर्ष पांच राष्ट्रों में शामिल होना चाहता है।“   

श्री ठाकुर ने इस बात पर जोर दिया कि युवा इस राष्ट्र के मूलभूत अंग हैं और खेलों में सकारात्मक परिणाम पाने के लिए एक व्यक्ति को बहुत ही जल्दी शुरुआत करनी होगी। यह बताते हुए कि एक एथलीट को एक ओलंपिक पदक जीतने के लिए कम से कम 10 वर्षों की तैयारी की आवश्यकता होती है, केन्द्रीय मंत्री ने कहा, “कीर्ति देश के हर प्रखंड तक पहुंचना चाहती है और उन बच्चों से जुड़ना चाहती है जो खिलाड़ी बनना तो चाहते हैं लेकिन यह नहीं जानते कि शुरुआत कैसे हो। 

हम यह जानते हैं कि खिलाड़ी बनने वाला हर बच्चा पदक नहीं जीतेगा, लेकिन हम कम से कम युवाओं को मादक पदार्थों तथा अन्य व्यसनों से दूर रखने के लिए खेलों का उपयोग करना चाहते हैं। मैं प्रत्येक बच्चे से मायभारत पोर्टल के माध्यम से पंजीकरण करने का आग्रह करता हूं और उनके पास पहुंचने एवं कीर्ति के माध्यम से उन्हें अवसर प्रदान करने की जिम्मेदारी हमारी होगी।”

कीर्ति का यह एथलीट-केंद्रित कार्यक्रम सूचना प्रौद्योगिकी पर आधारित अपनी पारदर्शी चयन पद्धति के कारण विशिष्ट है। एक उभरते एथलीट में खेल कौशल का अनुमान लगाने के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर आधारित डेटा एनालिटिक्स का उपयोग किया जा रहा है। श्री ठाकुर ने कहा कि इस पैमाने की प्रतिभा खोज प्रणाली को राष्ट्रीय खेल महासंघों और राज्य सरकारों के रणनीतिक सहयोग की आवश्यकता होगी। 

उन्होंने कहा कि सरकार पहले ही बुनियादी ढांचे पर 3000 करोड़ रुपये खर्च कर चुकी है और देश भर में 1000 से अधिक खेलो इंडिया केंद्र उपलब्ध हैं। इस अवसर पर अन्य गणमान्य लोगों के अलावा, चंडीगढ़ की सांसद श्रीमती किरण खेर, चंडीगढ़ प्रशासन के सलाहकार श्री राजीव वर्मा और हांगझोऊ एशियाई खेलों के रजत पदक विजेता एवं उभरते भाला फेंक खिलाड़ी तथा पेरिस ओलंपिक में पदक के दावेदार किशोर कुमार जेना उपस्थित थे।

श्रीमती खेर ने कीर्ति कार्यक्रम की सराहना की और कहा कि चंडीगढ़ ने कपिल देव, युवराज सिंह और अभिनव बिंद्रा जैसे प्रसिद्ध खिलाड़ी दिए हैं और यह योजना खिलाड़ियों के लिए एक बड़ा प्रोत्साहन बनकर सामने आई है। श्रीमती खेर ने कहा, “हर माता-पिता चाहते हैं कि उनका बच्चा जीवन में कुछ हासिल करे। लेकिन कई बार सपने और हकीकत के बीच मेल नहीं हो पाता। लेकिन कम से कम खेलों में, ‘कीर्ति’ उस अंतर को पाटने में मदद करेगी। अब खिलाड़ी बनने और खेल में उत्कृष्टता हासिल करने की इच्छा रखने वाले हर बच्चे के लिए एक रास्ता उपलब्ध होगा।”

चंडीगढ़ के सेक्टर 7 खेल परिसर में चयन प्रक्रिया के लिए कई युवा लड़के और लड़कियां पहुंचे। 14 वर्षीय धावक अमन शर्मा और 17 वर्षीय वॉकर जसकरण सिंह के लिए, ‘कीर्ति’ ने अवसर का एक बड़ा द्वार खोला है। पेरिस जाने वाले जेना के साथ फोटो-ऑप के लिए अपनी बारी का इंतजार करते हुए जसकरन ने कहा, “अब हम जानते हैं कि कहां जाना है और प्रशिक्षण लेना है। ‘कीर्ति’ वास्तव में हमें प्रेरित कर रही है।''

श्री ठाकुर ने जेना का स्वागत किया, जिन्होंने पिछले वर्ष एशियाई खेलों में और बुडापेस्ट में आयोजित होने वाली विश्व एथलेटिक्स प्रतियोगिता में नीरज चोपड़ा को चुनौती दी थी। जेना ने कहा, “मैंने पहले यह कहा था कि खिलाड़ियों को जमीनी स्तर पर पर्याप्त समर्थन नहीं मिलता है। जब वे पदक जीतना शुरू करते हैं, तो उन्हें वित्तीय और नैतिक समर्थन मिलता है, जो नहीं होना चाहिए। ‘कीर्ति’ एक बेहतरीन योजना है और इसमें सही आयु के बच्चों को शामिल किया जा रहा है। वे ऊर्जा से भरपूर हैं और यह समय उनकी प्रतिभा को पहचानकर उन्हें निखारने का है।''

श्री ठाकुर ने एक बार फिर 2030 में युवा ओलंपिक और 2036 में ग्रीष्मकालीन ओलंपिक की मेजबानी करने के भारत के मंतव्य को दोहराया। केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री श्री ठाकुर ने कहा, “अगर हमें एक वैश्विक महाशक्ति बनना है, तो हमें खेल के सॉफ्ट-पावर को दर्शाना और उससे लाभ उठाना होगा। संगीत, फ़िल्में और खेल आगे बढ़ने के माध्यम हैं, और हम इन सभी में अच्छे हैं। ‘कीर्ति’ केवल उसे मजबूत करने में मदद करेगी। सरकार की ओर से, हमें केवल कामकाज को सुगम बनाना है और यही प्राथमिकता है।”

खेलो इंडिया मिशन के बारे में

खेलो इंडिया योजना युवा कार्यक्रम और खेल मंत्रालय की प्रमुख केंद्रीय योजना है। माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की परिकल्पना खेलो इंडिया मिशन का उद्देश्य देश में खेल संस्कृति को बढ़ावा देना और खेल उत्कृष्टता प्राप्त करना है, जिससे जनता को खेल-शक्ति का उपयोग करने की सुविधा मिल सके। खेलो इंडिया योजना के "खेल प्रतियोगिताओं और प्रतिभा विकास" के तहत देश में खेल इको-सिस्टम को विकसित करने के लिए जमीनी स्तर और विशिष्ट स्तर पर एथलीटों की पहचान और विकास की दिशा में काम करने के लिए समर्पित है।

 

Tags: Anurag Thakur , Anurag Singh Thakur , BJP , Bharatiya Janata Party , Kirron Kher , Khelo India Rising Talent Identification , KIRTI

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD