Saturday, 13 July 2024

 

 

खास खबरें मंत्रिमंडलीय उप-समिति ने हिमाचल प्रदेश होमस्टे नियम-2024 के प्रारूप की समीक्षा की खेलों को प्रोत्साहित कर पंजाब सरकार ने प्रदेश के नौजवानों को दी है नई दिशाः ब्रम शंकर जिंपा सीएसई, पीईसी द्वारा आयोजित एआई पर एक सप्ताह का एसटीसी उच्च स्तर पर समाप्त हुआ मुख्यमंत्री सुखविंद्र सिंह सुक्खू ने डीडीयू के समीप भू-स्खलन प्रभावित क्षेत्र का निरीक्षण किया नवनिर्मित हो रहा चहुं मार्गी हाईवे फाजिल्का की प्रगति को देगा नई गति स्वतंत्रता दिवस-2024 समारोह की व्यवस्थाओं की समीक्षा के लिए बैठक आयोजित पंजाब विश्वविद्यालय के आउटसोर्स कर्मियों ने की संजय टंडन से मुलाकात एलपीयू के छात्रों को एलपीयू में डिग्री शुरू करने और यूएसए, कनाडा में खत्म करने का मौका मिलता है हरचंद सिंह बरसट ने किसान भवन में झेलम हॉल का किया उद्घाटन स्वास्थ्य एवं मेडिकल एजुकेशन से जुड़े मुद्दों पर चर्चा: सांसद अरोड़ा ने स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण कैबिनेट मंत्री जेपी नड्डा से की मुलाकात मुख्यमंत्री सुखविंद्र सिंह सुक्खू ने अत्याधुनिक मत्स्य पालन प्रशिक्षण केन्द्र दियोली और भंजाल में 5 मेगावाट सौर ऊर्जा परियोजना की आधारशिला रखी खाद्य प्रसंस्करण क्षेत्र में हिमाचल सर्वश्रेष्ठ राज्य पुरस्कार से सम्मानित : हर्षवर्धन चौहान स्वास्थ्य मंत्री डॉ. (कर्नल) धनी राम शांडिल ने चिकित्सा मशीनरी और उपकरण खरीद प्रक्रिया में तेजी लाने के निर्देश दिए राजेश धर्माणी ने नवोन्मेषी प्रयासों के साथ प्रतिस्पर्धात्मक कार्य प्रणाली अपनाने पर बल दिया भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण द्वारा आधार पर कार्यशाला आयोजित विक्रमादित्य सिंह ने क्षतिग्रस्त एनएच की शीघ्र मुरम्मत के निर्देश दिए भारत में होंगे हृदय रोग के सबसे ज्यादा मामले : डॉ. पंकज गोयल चेक प्रतिनिधिमंडल और यूटी चंडीगढ़ के बीच उच्च स्तरीय बैठक में वास्तुकला सहयोग और सिस्टर-सिटी समझौते पर चर्चा की गई इंडियन ऑयल पंजाब सब जूनियर बैडमिंटन रैंकिंग टूर्नामेंट संपन्न आज से आप किराएदार नहीं अपनी सम्पत्तियों के बने मालिक : नायब सिंह कांग्रेस के पास बताने को कुछ नहीं, हमारे पास अनगिनत उपलब्धियां: सीएम नायब सिंह सैनी

 

पीएम किसान योजना मोदी के दृढ़ विश्वास, प्रतिबद्धता की निरंतरता का प्रतीक है : डॉ. जितेंद्र सिंह

Dr Jitendra Singh, Dr. Jitendra Singh, Bharatiya Janata Party, BJP, Jammu, Kashmir, Jammu And Kashmir, Jammu & Kashmir, PM Kisan Samman Nidhi scheme
Listen to this article

Web Admin

Web Admin

5 Dariya News

जम्मू , 18 Jun 2024

केंद्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार), पृथ्वी विज्ञान राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार), पीएमओ, परमाणु ऊर्जा विभाग, अंतरिक्ष विभाग, कार्मिक, लोक शिकायत और पेंशन राज्य मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने आज जम्मू में कहा, “पीएम किसान सम्मान निधि योजना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दृढ़ विश्वास और प्रतिबद्धता की निरंतरता का प्रतीक है”।

पीएम नरेन्द्र मोदी द्वारा पीएम किसान सम्मान निधि की नई किस्त की वर्चुअल ग्रांट का प्रसारण करने के लिए यहां जम्मू में शेर-ए-कश्मीर कृषि विज्ञान और प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय  (SKUAST) में आयोजित एक कार्यक्रम में अपने संबोधन में, डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा, “प्रधानमंत्री मोदी के साथ गहरी प्रतिबद्धता और दृढ़ विश्वास के साथ निरंतरता का एक निश्चित पैटर्न है। उनकी हर पहल का अनुसरण करता हूं।”

पीएम किसान सम्मान निधि योजना को एक ऐसा विशिष्ट उदाहरण बताते हुए, डॉ. जितेंद्र सिंह ने याद दिलाया कि इस योजना को पीएम मोदी ने अपने पहले कार्यकाल यानी 2 फरवरी 2019 को मोदी सरकार 1.0 में लॉन्च किया था। तब से, उन्होंने कहा, इसी तरह के नियमित कार्यक्रम जरूरतमंद किसानों को किस्तों के समय पर अनुदान के लिए आयोजित किया गया था। 

यह प्रक्रिया पीएम मोदी के दूसरे कार्यकाल यानी मोदी सरकार 2.0 के दौरान भी जारी रही और अब इसे मोदी सरकार 3.0 के तीसरे कार्यकाल में भी देखा जा रहा है। यह प्रधानमंत्री मोदी के तीसरे कार्यकाल के लिए सरकार के शपथ ग्रहण समारोह के बाद पहला समारोह है जो केवल एक महीने के भीतर हो रहा है। 

डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा, जैसा कि नाम से पता चलता है, जरूरतमंद किसानों के खातों में हस्तांतरित की गई राशि न केवल वित्तीय सहायता प्रदान करने का एक साधन है, बल्कि यह समाज के सम्मान और किसान को "अन्नदाता" के रूप में स्वीकार करने की अभिव्यक्ति भी है और इसलिए इस योजना को उचित रूप से किसान "सम्मान" निधि योजना नाम दिया गया है।डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा, यह समाज और राजनीति में एक नई कार्य संस्कृति पेश करने के प्रधानमंत्री मोदी के सचेत प्रयास को भी दर्शाता है, जो जाति, पंथ या धर्म के विभाजन से ऊपर है।

उन्होंने पीएम मोदी के हालिया बयान का जिक्र किया जहां उन्होंने कहा था कि वह इस देश में केवल चार वर्गों या जातियों को जानते हैं, अर्थात् किसान (किसान), महिला (महिला), युवा (युवा) और गरीब (गरीब)। उन्होंने कहा, इन चार वर्गों की सेवा करने से सभी जातियों और धर्मों का समाधान हो जाता है क्योंकि इन वर्गों में हिंदू के साथ-साथ मुस्लिम और हिंदू की हर जाति शामिल है।

उसी भावना के अनुरूप आज के कार्यक्रम का उल्लेख करते हुए डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा, आज की ग्रांट के माध्यम से जहां एक ओर किसान वर्ग को संबोधित किया जा रहा है, वहीं दूसरी ओर  "कृषि-सखी'' महिला किसानों के स्वयं सहायता समूहों को आज के कार्यक्रम में इस पहल के माध्यम से महिलाओं को भी संबोधित किया जा रहा है और लाभ मिलने वाला है।

डॉ. जितेंद्र सिंह ने पीएम किसान सम्मान योजना सहित सभी मोदी योजनाओं में प्रौद्योगिकी के उपयोग को भी रेखांकित किया, जहां पांच लाख से अधिक सामान्य सेवा केंद्र खोले गए हैं और यहां तक ​​कि किसान ई-मित्र नामक एआई चैटबॉट के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का उपयोग किया गया है। यह ग्यारह भारतीय भाषाओं में उपलब्ध है और जल्द ही यह डोगरी और कश्मीरी में भी उपलब्ध होगा।

डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा, राय बनाने वालों के लिए यह जागरूकता पैदा करना महत्वपूर्ण है कि आज का किसान बीते जमाने का किसान नहीं है, बल्कि वह एक कृषि उद्यमी या कृषि-तकनीक स्टार्ट-अप है और इसका सबसे अच्छा उदाहरण सामने आया है जम्मू और कश्मीर से, जिसने अरोमा मिशन को जन्म दिया और लैवेंडर की खेती के माध्यम से हजारों कृषि-श्रमिकों को आजीविका और स्टार्ट-अप के अवसर प्रदान किए, जो भद्रवाह के छोटे से शहर से शुरू हुई। 

अब इसे कर्तव्य पथ पर गणतंत्र दिवस की झांकी प्रदर्शन के दौरान दुनिया भर में उद्धृत किया जा रहा है। तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने के लिए भारत की अर्थव्यवस्था के भविष्य के महत्वपूर्ण घटक के रूप में कृषि क्षेत्र का उल्लेख करते हुए, डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा, "यह एक ऐसा क्षेत्र है जिस पर पूरी तरह से शोध नहीं हुआ है और जम्मू-कश्मीर एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाने जा रहा है।"

PM Kisan scheme marks continuity of Modi’s conviction, commitment: Dr. Jitendra Singh

Jammu

Union Minister of State (Independent Charge) for Science and Technology, Minister of State (Independent Charge) for Earth Sciences, MoS PMO, Department of Atomic Energy, Department of Space, Personnel, Public Grievances and Pensions, Dr. Jitendra Singh said, “PM Kisan Samman Nidhi scheme marks the continuity of Prime Minister Narendra Modi’s conviction and commitment,” today in Jammu.

In his address at a programme held at SKUAST here to telecast PM Narendra Modi’s virtual grant of fresh instalment of PM Kisan Samman Nidhi, Dr. Jitendra Singh said, “There is a certain pattern of continuity with deep commitment and conviction with which Prime Minister Modi follows each of his initiatives.”

Describing PM Kisan Samman Nidhi scheme as one such distinct example, Dr. Jitendra Singh recalled that the scheme was launched by PM Modi in his first term i.e. Modi Govt 1.0 on 2nd of February 2019. 

Since then, he said, regular programmes of similar nature were held for timely grant of the instalments to the needy farmers and the process continued over the second term of PM Modi i.e. Modi Govt 2.0 and is now also seen in third term of Modi Govt 3.0 with the first function happening within just one month of the swearing in of the government for the third term.

Dr. Jitendra Singh said, as the name indicates, the amount transferred to the accounts of the needy farmers is not only a means of providing financial support but it is also an expression of the society’s respect and acknowledgement of farmer as “Annadata’ and therefore the scheme has been appropriately named as Kisan “Samman” Nidhi scheme.

This also reflects, said Dr. Jitendra Singh, Prime Minister Modi’s conscious attempt to introduce in the society and in the polity, a new work culture which is above the divisions of caste, creed or religion.

He referred to PM Modi’s recent statement where he had said that he knew only of four classes or castes in this country, namely Kisan(farmer), Mahila(women), Yuva(youth) and Garib(poor). By serving the cause of these four classes all the castes and religions get addressed because these classes include Hindus as well as Muslims and every caste of Hindu as well, he said.

Referring to today’s programme in the light of the same spirit, Dr. Jitendra Singh said, through today’s grants while on the one hand the farmers' class is being addressed, on the other hand the women are also being addressed through the initiative of “Krishi-Sakhi” Self-Help Groups of women farmers who are also going to get the benefit in today's programme.

Dr. Jitendra Singh also underlined the use of technology in all the Modi schemes including the PM Kisan Samman scheme where more than five lakh common service centres have been opened and even the Artificial Intelligence has been used to produce AI chatbot called Kisan e-mitra which is available in eleven Indian languages and soon it will be available in Dogri and Kashmiri as well.

Dr. Jitendra Singh said, it is important for the opinion makers to create this awareness that today’s farmers is not the farmer of the yesteryears but he is an agriculture entrepreneur or agri-tech start-up and one of the best examples of this has come from Jammu & Kashmir which gave birth to Aroma Mission and offered livelihood and Start-up opportunities to thousands of agri-workers through lavender cultivation which began from the small town of Bhaderwah and is now being cited all over the world including in the display during the Republic Day tableau at Kartavya Path.

Referring to the agriculture sector as an important future component of India's economy as it rises to become the third largest economy, Dr. Jitendra Singh said “This is one sector which had not remained fully explored and Jammu & Kashmir is going to play an important part.”

 

Tags: Dr Jitendra Singh , Dr. Jitendra Singh , Bharatiya Janata Party , BJP , Jammu , Kashmir , Jammu And Kashmir , Jammu & Kashmir , PM Kisan Samman Nidhi scheme

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD