Tuesday, 18 June 2024

 

 

खास खबरें मुख्यमंत्री ने तीर्थ यात्रा योजना के अंतर्गत रामलला के दर्शन के लिए बस को हरी झंडी दिखाकर किया रवाना सी जी सी झंजेड़ी कैंपस में विद्यार्थियों को सड़की नियमों के पालन के लिए जागरूक करने के लिए लिए साप्ताहिक वर्कशाप का समापन लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी की महिला सॉफ्टबॉल टीम ने एआईयू सॉफ्टबॉल महिला टूर्नामेंट में जीत हासिल की जालंधर पश्चिम विधानसभा उपचुनाव के लिए आम आदमी पार्टी ने मोहिंदर भगत को बनाया उम्मीदवार डॉ. एस.पी. सिंह ओबरॉय के प्रयासों से फांसी से बचा युवक सुखवीर रिहाई के बाद अपने वतन लौटा औद्योगिक क्षेत्र में सभी मूलभूत सुविधाएं बेहतर की जाए : नायब सिंह पंजाब के राज्यपाल बनवारी लाल पुरोहित गुरुद्वारा पौंटा साहिब में हुए नतमस्तक पिंजौर में 15 जुलाई से शुरू होगी सेब मंडी : नायब सिंह मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने मिल्कफेड की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता की मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने ‘इंदिराज हिमाचल-टूवर्ड्ज़ न्यू फ्रंटियर्ज’ प्रदर्शनी का शुभारम्भ किया मण्डी मध्यस्थता योजना के तहत सभी लंबित देनदारियों के निपटारे के लिए 153 करोड़ रुपये जारी : सुखविंदर सिंह सुक्खू वन-मित्रों की भर्ती की जाएगी : नायब सिंह पंजाब पुलिस द्वारा नशों के विरुद्ध विशेष जागरूकता मुहिम की शुरुआत राज्यपाल शिव प्रताप शुक्ल ने किया चार दिवसीय अंतरराष्ट्रीय शिमला ग्रीष्मोत्सव का शुभारम्भ हिमाचल में हमले के शिकार हुए एनआरआई परिवार से अमृतसर के अस्पताल में मिलने पहुंचे मंत्री कुलदीप धालीवाल ड्रग्स मुद्दे पर सुनील जाखड़ के ट्वीट पर आप की प्रतिक्रिया पंजाब में भाजपा की जीरो सीट के लिए सुनील जाखड़ जिम्मेदार : नील गर्ग सुखविंदर सिंह सुक्खू ने ‘इंदिराज हिमाचल-टूवर्ड्ज़ न्यू फ्रंटियर्ज’ प्रदर्शनी का शुभारम्भ किया कृषि उत्पादकता बढ़ाने के लिए नवाचार अपनाएं अधिकारी : प्रो.चन्द्र कुमार 18वीं लोकसभा आम चुनाव में हरियाणा में भाजपा को कांग्रेस से 3.17 लाख वोट अधिक प्राप्त हुए - एडवोकेट हेमंत कुमार अमित शाह ने जम्मू और कश्मीर में सुरक्षा परिदृश्य की समीक्षा के लिए एक उच्चस्तरीय बैठक की अध्यक्षता की

 

यूटी के लिए कांग्रेस-आप के घोषणा पत्र ने दोनों पार्टियों के पंजाब विरोधी चेहरे को बेनकाब कर दिया: सुखबीर सिंह बादल

कहा कि पंजाब के हित केवल क्षेत्रीय पार्टी के हाथों में ही सुरक्षित हो सकते हैं

Sukhbir Singh Badal, Shiromani Akali Dal, SAD, Akali Dal, Lok Sabha Elections 2024, General Elections 2024, Lok Sabha Election, Lok Sabha 2024
Listen to this article

5 Dariya News

5 Dariya News

5 Dariya News

चंडीगढ़ , 20 May 2024

शिरोमणी अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल ने आज कहा है कि केंद्र शासित प्रदेश के लिए कांग्रेस-आम आदमी पार्टी (आप) के संयुक्त घोषणा पत्र ने दोनों पार्टियों के पंजाब विरोधी चेहरे को बेनकाब कर दिया है, क्योंकि उन्होने यूटी के लिए राज्य अधिकारों की मांग करके चंडीगढ़ पर पंजाब के अधिकार को छोड़ दिया है।इसे दोनों पार्टियों द्वारा दिया गया अब तक का सबसे बड़ा धोखा करार देते हुए अकाली दल अध्यक्ष ने कहा,‘‘कांग्रेस-आप के संयुक्त उम्मीदवार मनीष तिवारी क्षरा जारी न्याय पत्र ने यह स्पष्ट कर दिया है कि भारत गठबंधन चंडीगढ़ को दिल्ली की तरह एक अलग राज्य बनाने के लिए खड़ा है।’’

इस कदम को इस बात का निर्णायक सबूत बताते हुए कि राष्ट्रीय पार्टियां कभी भी पंजाब के अधिकारों की रक्षा नही कर सकती है,सरदार बादल ने कहा,‘‘ इन दोनों पार्टियों ने चंडीगढ़ पर पंजाब के अधिकारों को कमजोर कर दिया है। यह रूख नेहरू-गांधी परिवार के साथ-साथ आप पार्टी कें संयोजक अरविंद केजरीवाल और पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान द्वारा लगातार उठाए गए पंजाब विरोधी रूख के अनुरूप भी है।

उन्होने विस्तार से बताया कि कैसे इंदिरा गांधी ने इस कदम को पंाच साल के लिए इस दलील के साथ टालकर पंजाब को राजधानी से वंचित कर दिया था कि हरियाणा को इस समय अपनी राजधानी बनाने की आवश्यकता है। उन्होने यह भी खुलासा किया कि कैसे राजीव गांधी 26 जनवरी 1986 को राजीव-लोंगोंवाल समझौते में सहमति के अनुसार चंडीगढ़ को पंजाब सौंपने के अपने वादे से मुकर गए थे।

आम आदमी पार्टी द्वारा हाल ही में किए गए विश्वासघात के बारे में बोलते हुए सरदार बादल ने कहा कि मुख्यमंत्री भगवंत मान अपने बाॅस अरविंद केजरीवाल के आदेशों के अनुसार चंडीगढ़ पर पंजाब के दावे को कमजोर करने की पूरी कोशिश कर रहे हैं। ‘‘चाहे वह सरकारी नौकरियों में पंजाब के आरक्षण की  रक्षा का हो यां केंद्र शासित प्रदेश में हरियाणा के लिए एक अलग विधानसभा के निर्माण का विरोध  न करके यां पंजाबी को आधिकारिक भाषा के रूप में बनाए रखने की आवश्यकता हो, आप सरकार ने चंडीगढ़ पर पंजाब के अधिकारों को कमजोर कर दिया है।’’

पंजाबियों से कांग्रेस और आप दोनों को करारा सबक सिखाने का आग्रह करते हुए सरदार बादल ने कहा कि पंजाब के अधिकार केवल एक क्षेत्रीय पार्टी के हाथों में ही सुरक्षित रह सकते हैं। उन्होने यह भी कहा कि अकाली दल चंडीगढ़ को पंजाब में स्थानांतरित करने के लिए लड़ने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होने कहा,‘‘ इस मकसद को हासिल करने के लिए जरूरत पड़ने पर हम संघर्ष शुरू करेंगें।’’

ਚੰਡੀਗੜ੍ਹ ਲਈ ਕਾਂਗਰਸ-ਆਪ ਚੋਣ ਮਨੋਰਥ ਪੱਤਰ ਨੇ ਦੋਵਾਂ ਪਾਰਟੀਆਂ ਦਾ ਪੰਜਾਬ ਵਿਰੋਧੀ ਚੇਹਰਾ ਬੇਨਕਾਬ ਕੀਤਾ: ਸੁਖਬੀਰ ਸਿੰਘ ਬਾਦਲ

ਕਿਹਾ ਕਿ ਪੰਜਾਬ ਦੇ ਹਿੱਤ ਸਿਰਫ ਇਕ ਖੇਤਰੀ ਪਾਰਟੀ ਦੇ ਹੱਥ ਵਿਚ ਹੀ ਸੁਰੱਖਿਅਤ

ਚੰਡੀਗੜ੍ਹ

ਸ਼੍ਰੋਮਣੀ ਅਕਾਲੀ ਦਲ ਦੇ ਪ੍ਰਧਾਨ ਸਰਦਾਰ ਸੁਖਬੀਰ ਸਿੰਘ ਬਾਦਲ ਨੇ ਅੱਜ ਕਿਹਾ ਕਿ ਕਾਂਗਰਸ ਤੇ ਆਮ ਆਦਮੀ ਪਾਰਟੀ (ਆਪ) ਦੇ ਚੰਡੀਗੜ੍ਹ ਬਾਰੇ ਸਾਂਝੇ ਚੋਣ ਮਨੋਰਥ ਪੱਤਰ ਨੇ ਦੋਵਾਂ ਪਾਰਟੀਆਂ ਦਾ ਪੰਜਾਬ ਵਿਰੋਧੀ ਚੇਹਰਾ ਬੇਨਕਾਬ ਕਰ ਦਿੱਤਾ ਹੈ ਕਿਉਂਕਿ ਉਹਨਾਂ ਨੇ ਯੂ ਟੀ ਲਈ ਸੂਬੇ ਦੇ ਅਧਿਕਾਰ ਮੰਗ ਕੇ ਚੰਡੀਗੜ੍ਹ ’ਤੇ ਪੰਜਾਬ ਦੇ ਦਾਅਵੇ ਨੂੰ ਸਰੰਡਰ ਕਰ ਦਿੱਤਾ ਹੈ।

ਇਸਨੂੰ ਦੋਵਾਂ ਪਾਰਟੀਆਂ ਦੀ ਹੁਣ ਤੱਕ ਦੀ ਸਭ ਤੋਂ ਵੱਡੀ ਗੱਦਾਰੀ ਕਰਾਰ ਦਿੰਦਿਆਂ ਅਕਾਲੀ ਦਲ ਦੇ ਪ੍ਰਧਾਨ ਨੇ ਕਿਹਾ ਕਿ ਕਾਂਗਰਸ-ਆਪ ਦੇ ਸਾਂਝੇ ਉਮੀਦਵਾਰ ਵੱਲੋਂ ਜਾਰੀ ਨਿਆਏ ਪੱਤਰ ਨੇ ਸਪਸ਼ਟ ਕਰ ਦਿੱਤਾ ਹੈ ਕਿ ਇੰਡੀਆ ਗਠਜੋੜ ਚੰਡੀਗੜ੍ਹ ਨੂੰ ਦਿੱਲੀ ਵਾਂਗੂ ਵੱਖਰਾ ਰਾਜ ਬਣਾਉਣਾ ਚਾਹੁੰਦਾ ਹੈ।

ਉਹਨਾਂ ਕਿਹਾ ਕਿ ਇਹ ਕਦਮ ਇਸ ਗੱਲ ਦਾ ਪ੍ਰਤੱਖ ਸਬੂਤ ਹੈ ਕਿ ਕੌਮੀ ਪਾਰਟੀਆਂ ਕਦੇ ਵੀ ਪੰਜਾਬ ਦੇ ਹਿੱਤਾਂ ਦੀ ਰਾਖੀ ਨਹੀਂ ਕਰ ਸਕਦੀਆਂ। ਉਹਨਾਂ ਕਿਹਾ ਕਿ ਦੋਵਾਂ ਪਾਰਟੀਆਂ ਨੇ ਚੰਡੀਗੜ੍ਹ ’ਤੇ ਪੰਜਾਬ ਦੇ ਦਾਅਵੇ ਨੂੰ ਖੋਰਾ ਲਗਾਇਆ ਹੈ। ਉਹਨਾਂ ਕਿਹਾ  ਕਿ ਇਹ ਸਟੈਂਡ ਨਹਿਰੂ-ਗਾਂਧੀ ਪਰਿਵਾਰ ਦੇ ਨਾਲ-ਨਾਲ ਆਪ ਦੇ ਕਨਵੀਨਰ ਅਰਵਿੰਦ ਕੇਜਰੀਵਾਲ ਤੇ ਪੰਜਾਬ ਦੇ ਮੁੱਖ ਮੰਤਰੀ ਭਗਵੰਤ ਮਾਨ ਵੱਲੋਂ ਲਏ ਪੰਜਾਬ ਵਿਰੋਧੀ ਸਟੈਂਡ ਮੁਤਾਬਕ ਹੈ।

ਉਹਨਾਂ ਦੱਸਿਆਕਿ  ਕਿਵੇਂ ਇੰਦਰਾ ਗਾਂਧੀ ਨੇ ਪੰਜਾਬ ਨੂੰ ਉਸਦੀ ਰਾਜਧਾਨੀ ਦੇਣ ਤੋਂ ਇਹ ਕਹਿੰਦਿਆਂ ਪੰਜ ਸਾਲ ਲਈ ਟਾਲ ਦਿੱਤਾ ਸੀ ਕਿ ਹਰਿਆਣਾ ਨੂੰ ਆਪਣੀ ਰਾਜਧਾਨੀ ਬਣਾਉਣ ਵਾਸਤੇ ਸਮਾਂ ਲੱਗੇਗਾ। ਉਹਨਾਂ ਦੱਸਿਆ ਕਿ ਇਸੇ ਤਰੀਕੇ ਰਾਜੀਵ ਗਾਂਧੀ ਨੇ ਰਾਜੀਵ-ਲੌਂਗੋਵਾਲ ਸਮਝੌਤੇ ਮੁਤਾਬਕ 26 ਜਨਵਰੀ 1986 ਨੂੰ ਚੰਡੀਗੜ੍ਹ ਪੰਜਾਬ ਨੂੰ ਦੇਣ ਤੋਂ ਨਾਂਹ ਕਰ ਦਿੱਤੀ ਸੀ।ਆਪ ਵੱਲੋਂ ਹਾਲ ਹੀ ਵਿਚ ਦਿੱਤੇ ਧੋਖੇ ਦੀ ਗੱਲ ਕਰਦਿਆਂ ਸਰਦਾਰ ਬਾਦਲ ਨੇ ਕਿਹਾ ਕਿ ਮੁੱਖ ਮੰਤਰੀ ਨੇ ਆਪਣੇ ਆਕਾ ਅਰਵਿੰਦ ਕੇਜਰੀਵਾਲ ਦੇ ਹੁਕਮਾਂ ਮੁਤਾਬਕ ਚੰਡੀਗੜ੍ਹ ’ਤੇ ਪੰਜਾਬ ਦਾ ਦਾਅਵਾ ਬਹੁਤ ਕਮਜ਼ੋਰ ਕੀਤਾ ਹੈ।

ਉਹਨਾਂ ਕਿਹਾ ਕਿ ਭਗਵੰਤ ਮਾਨ ਨੇ ਕਦੇ ਵੀ ਯੂ ਟੀ ਵਿਚ ਹਰਿਆਣਾ ਲਈ ਵੱਖਰੀ ਵਿਧਾਨ ਸਭਾ ਬਣਾਉਣ ਦੀ ਤਜਵੀਜ਼ ਵਿਰੁੱਧ ਕਦੇ ਵੀ ਰੋਸ ਜ਼ਾਹਰ ਨਹੀਂ ਕੀਤਾ ਤੇ ਨਾ ਹੀ ਚੰਡੀਗੜ੍ਹ ਵਿਚ ਸਰਕਾਰੀ ਨੌਕਰੀਆਂ ਵਿਚ ਪੰਜਾਬ ਦਾ ਹਿੱਸਾ ਲਾਗੂ ਨਾ ਕਰਨ ਦਾ ਵਿਰੋਧ ਕੀਤਾ ਤੇ ਨਾ ਹੀ ਪੰਜਾਬੀ ਨੂੰ ਸਰਕਾਰੀ ਭਾਸ਼ਾ ਦਾ ਦਰਜਾ ਦੁਆਉਣ ਦੀ ਮੰਗ ਕੀਤੀ ਤੇ ਉਲਟਾ ਚੰਡੀਗੜ੍ਹ ’ਤੇ ਪੰਜਾਬ ਦਾ ਦਾਅਵਾ ਆਪ ਸਰਕਾਰ ਨੇ ਕਮਜ਼ੋਰ ਕੀਤਾ।

ਸਰਦਾਰ ਬਾਦਲ ਨੇ ਪੰਜਾਬੀਆਂ ਨੂੰ ਅਪੀਲ ਕੀਤੀ ਕਿ ਕਾਂਗਰਸ ਤੇ ਆਪ ਦੋਵਾਂ ਨੂੰ ਕਰਾਰਾ ਸਬਕ ਸਿਖਾਇਆ ਜਾਵੇ। ਉਹਨਾਂ ਕਿਹਾ ਕਿ ਪੰਜਾਬ ਦੇ ਅਧਿਕਾਰ ਸਿਰਫ ਇਕ ਖੇਤਰੀ ਪਾਰਟੀ ਦੇ ਹੱਥਾਂ ਵਿਚ ਹੀ ਸੁਰੱਖਿਅਤ ਹਨ। ਉਹਨਾਂ ਜ਼ੋਰ ਦੇ ਕੇ ਕਿਹਾ ਕਿ ਅਕਾਲੀ ਦਲ ਚੰਡੀਗੜ੍ਹ ਪੰਜਾਬ ਨੂੰ ਲੈ ਕੇ ਦੇਣ ਵਾਸਤੇ ਵਚਨਬੱਧ ਹੈ। ਉਹਨਾਂ ਕਿਹਾ ਕਿ ਇਸ ਟੀਚੇ ਦੀ ਪ੍ਰਾਪਤੀ ਵਾਸਤੇ ਜੇਕਰ ਸੰਘਰਸ਼ ਦੀ ਲੋੜ ਪਈ ਤਾਂ ਅਸੀਂ ਉਹ ਵੀ ਵਿੱਢਾਂਗੇ।

Cong- AAP manifesto for UT has unmasked anti-Punjab face of both parties :  Sukhbir Singh Badal

Says Punjab’s interests could be safe only in the hands of a regional party

Chandigarh

Shiromani Akali Dal (SAD) president Sukhbir Singh Badal today said the Congress – Aam Aadmi Party (AAP) joint manifesto for the union territory had unmasked the anti-Punjab face of both parties as they had surrendered Punjab’s right over Chandigarh by demanding State rights for the UT.

Terming this as the greatest recorded betrayal ever by both parties, the SAD president said “the Nyay Patra released by Congress –AAP joint candidate Manish Tiwari has made it clear that the India alliance stands for making Chandigarh a separate State like Delhi”.

Terming this move as conclusive proof that national parties could never protect the interests of Punjab, Mr Sukhbir Badal said “both these parties have diluted Punjab’s rights over Chandigarh. This stand is also in consonance with the anti-Punjab stand taken consistently by the Nehru-Gandhi family as well as AAP Convener Arvind Kejriwal and Punjab chief minister Bhagwant Mann”.

He detailed how Indira Gandhi had denied Punjab its capital city by putting off this move for five years with the plea that Haryana needed this time to make its own capital. He also disclosed how Rajiv Gandhi had gone back on his word to hand over Chandigarh to Punjab on January 26, 1986 as agreed in the Rajiv-Longowal accord.

Speaking about the recent betrayals of AAP, Mr Badal said chief minister Bhagwant Mann had done his utmost to dilute Punjab’s claim over Chandigarh as per the orders of his boss – Kejriwal. “Be it not protesting against creation of a separate Vidhan Sabha for Haryana in the UT to defend Punjab’s quota in government jobs or the need to retain Punjabi as the official language, the AAP government has weakened Punjab’s rights over Chandigarh”.

Urging Punjabis to teach a befitting lesson to both the Congress and AAP, Mr Badal said Punjab’s rights could be safe only in the hands of a regional party. He also asserted that the SAD was committed to fight for the transfer of Chandigarh to Punjab. “We will launch a struggle if needed to achieve this goal”, he added.

 

Tags: Sukhbir Singh Badal , Shiromani Akali Dal , SAD , Akali Dal , Lok Sabha Elections 2024 , General Elections 2024 , Lok Sabha Election , Lok Sabha 2024

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD