Thursday, 20 June 2024

 

 

खास खबरें मुख्यमंत्री ने इंदिरा गांधी प्यारी बहना सुख सम्मान निधि योजना के तहत ऊना जिला की 7,280 महिलाओं को 3.27 करोड़ रुपए जारी किए चेतन सिंह जौड़ामाजरा द्वारा शाहपुर कंडी डैम का निरीक्षण 120 करोड़ की लागत से होगा तुंग ढाब नाले का जीर्णोद्धार - कुलदीप सिंह धालीवाल प्रदेशभर के श्रमिकों को मुख्यमंत्री ने दी बड़ी सौगात, 18 योजनाओं के तहत 1 लाख से अधिक निर्माण श्रमिकों को वितरित की लगभग 80 करोड़ रुपये की राशि मुख्यमंत्री नायब सिंह ने जींद से मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा योजना के तहत बस को हरी झंडी दिखाकर किया रवाना मुख्यमंत्री ने चौ. रणबीर सिंह विश्वविद्यालय परिसर में किया 19.20 करोड़ रुपए की लागत से बने इंटरनेशनल गेस्ट हाऊस का उद्घाटन ब्रम शंकर जिम्पा ने नहरी पानी योजनाओं को समय पर पूरा करने के सख़्त निर्देश किए जारी ख़ुराक, सिविल स्पलाई एंव खपतकार मामले मंत्री लाल चंद कटारूचक्क ने रबी मंडीकरण सीजन को निर्विघ्न और सफ़लापूर्वक पूरा करवाने के विभाग की प्रशंसा की अजनाला के गांवों में जायजा लेने पहुंचे गुरजीत सिंह औजला ग्रीष्मोत्सव की आखिरी सांस्कृतिक संध्या में मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने बतौर मुख्यतिथि की शिरकत 18,000 रुपए रिश्वत मांगने वाला सहायक सब इंस्पेक्टर विजीलैंस ब्यूरो ने किया काबू नीट में घोटाले के खिलाफ आप ने चंडीगढ़ में किया प्रदर्शन एलपीयू के 1100 से अधिक छात्रों को ₹10 लाख से ₹64 लाख तक का पैकेज मिला; शीर्ष छात्रों का औसत ₹12.3 लाख रहा बिकने के बाद भाजपा के गुलाम हुए तीनों निर्दलीय पूर्व विधायक : मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू सुखविंदर सिंह बिंद्रा ने केंद्रीय राज्य वित मंत्री पंकज चौधरी से की मुलाकात पीजीआईएमएस रोहतक में शुरू होगा स्टेट ट्रांसप्लांट सेंटर : नायब सिंह पीएम मोदी ने किसानों को किया सशक्त : नायब सिंह मुख्य मंत्री भगवंत सिंह मान ने घग्गर नदी के साथ इलाकों में चल रहे बाढ़ रोकथाम कार्यों का लिया जायज़ा शहर वासियों की समस्याओं का प्राथमिकता से हो समाधान : ब्रम शंकर किपा अब गीला व सूखा कचरा सीधे शहर से बाहर जायेगा : ब्रम शंकर जिम्पा डिप्टी कमिश्नर कोमल मित्तल द्वारा तहसीलों एवं सब रजिस्ट्रार कार्यालयों का औचक निरीक्षण

 

प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी की अम्बाला शहर रैली से पहला ही चुनाव लड़ रही बंतो कटारिया के हौसले बुलंद

भाजपा प्रत्याशी के लिए मोदी द्वारा स्वयं प्रचार जीत की गारंटी के समान -एडवोकेट हेमंत

Hemant Kumar, Advocate Hemant Kumar, Punjab & Haryana High Court Chandigarh, Chandigarh
Listen to this article

Web Admin

Web Admin

5 Dariya News

चंडीगढ़ , 17 May 2024

शनिवार 18 मई को अम्बाला  शहर के पुलिस लाइन मैदान में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की निर्धारित  चुनावी‌ जनसभा से अंबाला ( अनुसूचित जाति - एससी आरक्षित‌) लोकसभा सीट से अपने  जीवन का पहला ही चुनाव लड़ रही भाजपा प्रत्याशी  बंतो देवी कटारिया‌ के हौसले बुलंद‌  हैं. इसी  सप्ताह के आरम्भ में ही  मोदी द्वारा अम्बाला लोकसभा हलके में चुनावी  रैली करने का कार्यक्रम फाइनल हुआ जोकि बंतो के लिए एक प्रकार से  वरदान साबित हुआ है.

शहर निवासी  हाई कोर्ट  एडवोकेट और राजनीतिक विश्लेषक  हेमंत कुमार ने बताया कि अब इसे संयोग कहा जाए या फिर एक  सोची समझी रणनीति कि 18वीं लोकसभा आम चुनाव के लिए 18 मई  को अम्बाला शहर में मोदी की चुनावी रैली के दिन ही   बंतो कटारिया के पति दिवंगत रतन लाल‌ कटारिया की पहली बरसी भी है. गत वर्ष 18 मई 2023 को पीजीआई, चंडीगढ़ में कटारिया, जो तब अम्बाला से भाजपा सांसद थे, का निधन हो गया था जिस कारण गत एक वर्ष से  अम्बाला लोकसभा सीट रिक्त है चूंकि इस सीट पर भारतीय  चुनाव आयोग द्वारा किन्ही कारणों से  उपचुनाव नहीं कराया गया.

 सनद रहे कि रतन लाल कटारिया  कुल तीन बार वर्ष 1999, 2014 और 2019 लोकसभा आम चुनाव में अंबाला‌ संसदीय सीट से भाजपा के टिकट पर लोकसभा  सांसद निर्वाचित हुए थे  हालांकि‌ वर्ष 2004 और 2009 लोकसभा आम  चुनाव में उनकी पराजय‌ हुई थी.  इस प्रकार कटारिया के नाम अंबाला‌ सीट‌ से लगातार  5 लोकसभा चुनाव‌ लड़ने का रिकॉर्ड है और आज अगर‌ वह जीवित होते और उन्हें छठी बार अंबाला‌‌ से  भाजपा का टिकट मिलता, तो उनके पास जीत‌ की हैट्रिक‌ लगाने का अवसर‌  होता जो रिकॉर्ड आज‌ तक कांग्रेस के राम प्रकाश के ही नाम है जो  वर्ष 1984, 1989 और 1991 में अंबाला‌‌ से लगातार 3 लोकसभा चुनाव जीत‌ कर सांसद बने‌ थे हालांकि उन्होंने अम्बाला सीट से पहला चुनाव वर्ष‌ 1971 में रिकॉर्ड 69 प्रतिशत वोट हासिल कर जीता था जिसकी उनके बाद आज तक‌ इस सीट से कोई बराबरी‌ नहीं कर  पाया है.

हेमंत का मानना है कि इसमें कोई दोराय नहीं कि दस  वर्ष  पूर्व मई, 2014 में जब से नरेंद्र मोदी देश के प्रधानमंत्री बने, तब से  भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में सर्वत्र मोदी का ही वर्चस्व और जलवा‌ चल रहा है और पार्टी टिकट पर चुनाव लड़ रहे हर‌ प्रत्याशी की  दिल से यही  तमन्ना  होती है कि किसी तरह   मोदी स्वयं उनके चुनावी क्षेत्र में   जनसभा या रोड- शो‌ आदि कर प्रचार‌ करें जिससे उनकी जीत‌ सुनिश्चित हो  सके चूँकि इसे एक प्रकार से भाजपा उम्मीदवार द्वारा उनकी जीत की गारंटी ही माना जाता है. उन्होंने बताया कि ऐसा कहना अतिश्योक्ति नहीं होगी कि पहले निर्वाचित एम.पी.(सांसद) ही पी.एम. (प्रधानमन्त्री) को चुनते थे परन्तु मोदी युग में पी.एम. ही एम.पी. को जितवाते हैं. 

बहरहाल, हेमंत ने आगे बताया कि पांच  वर्ष पूर्व मई, 2019 में  17वीं लोकसभा के आम चुनाव में जब   रतन लाल कटारिया, जो तब   लगातार दूसरी बार और कुल तीसरी बार अम्बाला से भाजपा के टिकट पर लोकसभा सांसद निर्वाचित हुए थे तब उन्हें नरेन्द्र   मोदी सरकार की दूसरी सरकार में  जल शक्ति मंत्रालय और सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय में बतौर  राज्य मंत्री बनाया गया था. हालांकि दो वर्ष बाद जुलाई, 2021 में जब मोदी सरकार-2 का पहला मंत्रिमंडल विस्तार और उसमें फेरबदल किया गया तो  कटारिया को  केंद्रीय राज्य मंत्री के   पद से त्यागपत्र देना पड़ा था. 

बहरहाल, हेमंत ने बताया कि अम्बाला लोकसभा सीट से भाजपा की प्रत्याशी और दिवंगत रतन लाल कटारिया की धर्मपत्नी  इसी माह 5 मई को 60 वर्ष आयु की हुईं  बंतो देवी कटारिया, जो लॉ ग्रेजुएट अर्थत एडवोकेट भी हैं  को वर्ष 2018 में भारत सरकार द्वारा   गेल (गैस अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया लिमिटेड ) के बोर्ड ऑफ़ डायरेक्टर्स में  बतौर गैर-सरकारी  स्वतंत्र  डायरेक्टर के रूप में मनोनीत किया गया था और उसके बाद गत वर्ष उन्हें हरियाणा सरकार द्वारा पंचकूला स्थित  माता मनसा देवी पूजास्थल बोर्ड में  गैर-सरकारी सदस्य के तौर पर भी मनोनीत किया गया था. 

बंतो के  पुत्र 39 वर्षीय चंद्रकांत कटारिया दिसंबर, 2019 में हरियाणा सिविल सेवा (एचसीएस ) में चयनित होकर   राज्य सरकार  में क्लास वन प्रशासनिक  अधिकारी हैं. वर्तमान में वह  हरियाणा के सामाजिक न्याय एवं अधिकारिक विभाग में बतौर ज्वाइंट डायरेक्टर तैनात है. हेमंत  ने बताया कि जहाँ तक अम्बाला लोक सीट  से केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल किये सांसदों का प्रश्न है, तो वैसे तो सबसे पहली बार आज से 28 वर्ष पूर्व मई, 1996 में अम्बाला से चौथी बार सांसद बने भाजपा के सूरज भान को केंद्र में तत्कालीन अटल बिहारी वाजपेयी की पहली सरकार में केंद्रीय कृषि मंत्री अर्थात कैबिनेट रैंक का मंत्री बनाया गया था परन्तु यह सरकार 13 दिन में ही गिर गयी.

हालांकि भान बाद में एच.डी. देवगौड़ा सरकार बनने के  बाद लोक सभा के उपाध्यक्ष निर्वाचित हो गए थे. इसके बाद  फरवरी, 1998 में  हुए लोकसभा आम चुनाव  में सूरज भान बसपा के अमन कुमार नागरा से हार गए थे  और इस कारण यह वाजपेयी की अगली 13  महीने की सरकार में मंत्री नहीं बन पाए. फिर 1999 लोक सभा चुनावो में उन्होने चुनाव नहीं लड़ा और अम्बाला से रतन लाल कटारिया पहली बार चुनाव जीते. 

वहीं दूसरी ओर  कांग्रेस की कुमारी सैलजा   जो अम्बाला सीट से लगातार दो लोकसभा चुनाव- वर्ष 2004 और 2009 में   जीत कर सांसद बनी, उन्हें डॉ. मनमोहन सिंह की पहली यू.पी.ए.-1   सरकार में वर्ष 2004 -2009 तक केंद्रीय राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) और   मई 2009  में यू.पी.ए. -2 सरकार  में  कैबिनेट रैंक का मंत्री बना दिया था जिस पद पर  वह मई, 2014 तक रहीं. 

 

Tags: Hemant Kumar , Advocate Hemant Kumar , Punjab & Haryana High Court Chandigarh , Chandigarh

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD