Tuesday, 21 May 2024

 

 

खास खबरें रवनीत सिंह बिट्टू के बेबुनियाद आरोपों पर वड़िंग ने किया पलटवार पंजाब में बेहतर कानून व्यवस्था बहाल करना पहली प्राथमिकता : विजय इंदर सिंगला पंजाब में लगातार मजबूत हो रही आम आदमी पार्टी, विपक्षी पार्टियों के कई बड़े नेता आप में हुए शामिल महिलाओँ के सम्मान से कोई समझौता नहीं करती भाजपा : जय इंद्र कौर आम आदमी पार्टी ढाई सालों में एक भी वायदे को नहीं कर सकी पूरा : परनीत कौर यूटी के लिए कांग्रेस-आप के घोषणा पत्र ने दोनों पार्टियों के पंजाब विरोधी चेहरे को बेनकाब कर दिया: सुखबीर सिंह बादल शिरोमणी अकाली दल की अगली सरकार नदियों के किनारे की जमीन पर खेती करने वाले सभी बार्डर वाले किसानों को जमीन का अधिकार देगी: सरदार सुखबीर सिंह बादल किसानों को धान उगाने के लिए नहीं जलाना पड़ेगा डीजल: मीत हेयर कांग्रेस सरकार आने पर पुरानी पेंशन स्कीम होगी बहाल : गुरजीत सिंह औजला राजा वड़िंग को गिल और आत्म नगर में मिला जोरदार समर्थन; कांग्रेस की उपलब्धियों को गिनाया पत्रकारों, युवाओं और महिलाओं के लिए कांग्रेस का बड़ा वादा : सप्पल की भारत के लिए साहसी योजना मैं प्रभु श्रीराम की जन्मभूमि से आया हूं,चंडीगढ़ को जय श्रीराम मजीठा में कांग्रेस को मिला जबरदस्त प्यार पंजाब में कानून व्यवस्था जीरो,योगी से ट्रेनिंग लें भगवंत मान : डा. सुभाष शर्मा नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में ही भारत विकसित हो सकता है:अरविंद खन्ना सी-विजिल ऐप पर प्राप्त 27 शिकायतों का सौ मिनट के भीतर निपटारा: डी.सी कांगड़ा हेमराज बैरवा अमृतसर से छीने एम्स को लाया जाएगा वापिस एलपीयू के फैशन स्टूडेंट ने गुड़गांव में लाइफस्टाइल वीक में अपना कलेक्शन प्रदर्शित किया जनता की ताकत को चुनौती दे रहे जय रामः सीएम सुखविन्दर सिंह सुक्खू राज्यपाल शिव प्रताप शुक्ल ने नशा मुक्त भारत अभियान का किया शुभारम्भ चंडीगढ़ नगर निगम चुनाव लड़े रवि सिंह अपनी टीम समेत आप में हुए शामिल

 

केंद्रीय मंत्री अश्विनी वैष्णव ने नीति आयोग का 'राज्यों के लिए नीति' प्लेटफॉर्म शुरू किया

यह मंच सहकारी संघवाद को सशक्त करने और डेटा-संचालित शासन को सशक्त बनाने में सहायक बनेगा

Ashwini Vaishnaw, BJP, Bharatiya Janata Party, NITI Aayog, Prof. Ramesh Chand, Dr V. K. Saraswat, Dr. Arvind Virmani, B.V.R. Subrahmanyam
Listen to this article

Web Admin

Web Admin

5 Dariya News

नई दिल्ली , 07 Mar 2024

केंद्रीय संचार, रेलवे और इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री श्री अश्विनी वैष्णव ने आज 'राज्यों के लिए नीति (नीति-एनआईटीआई फॉर स्टेट्स) प्लेटफॉर्म शुरू किया, जो एक व्यापक डिजिटल पहल है और राज्यों तथा केंद्र शासित प्रदेशों (यूटी) को राष्ट्रीय विकास लक्ष्यों की प्राप्ति में सशक्त बनाने के लिए डिज़ाइन की गई है। श्री वैष्णव ने प्रो. रमेश चंद, डॉ. वी.के. सारस्वत, और डॉ. अरविंद विरमानी, सुब्रमण्यम, सीईओ, नीति आयोग एवं नीति आयोग के सदस्यों और श्री बी.वी.आर. की उपस्थिति में नीति आयोग में 'राज्यों के लिए नीति - विकसित भारत रणनीति कक्ष' का भी उद्घाटन किया। इस कार्यक्रम में भारत सरकार के मंत्रालयों और विभागों के वरिष्ठ अधिकारी, राज्य सरकारों के वरिष्ठ अधिकारी, एबीपी फेलो, विकास भागीदार और मीडिया उपस्थित थे।

इसके अतिरिक्त, श्री वैष्णव ने रंग भवन, आकाशवाणी, नई दिल्ली में 'राज्यों के लिए नीति' प्रदर्शनी का उद्घाटन किया। विभिन्न सरकारी संगठनों के सहयोग का परिणाम इस प्रदर्शनी  ने आगंतुकों को इसकी कुछ प्रमुख विशेषताओं जैसे आसान पहुंच के लिए मोबाइल एकीकरण, विशेषज्ञ हेल्पडेस्क, अंतर्निहित कृत्रिम बुद्धिमत्ता (एआई) और ‘भाषिनी’  द्वारा बहुभाषी समर्थन से परिचित कराया। उद्योग संवर्धन और आतंरिक व्यापार विभाग (डीपीआईआईटी )के सहयोग से पीएम गतिशक्ति भास्कराचार्य नेशनल इंस्टिट्यूट फॉर स्पेस एप्लीकेशन्स एंड जिओ-इन्फार्मेटिक्स  (बीआईएसएजी-एन) टीम को क्षेत्र-आधारित योजना के लिए भू-स्थानिक उपकरण प्रदान करने के लिए भी एकीकृत किया गया था।

राज्यों के लिए एनआईटीआई  मूल्यवान संसाधनों का एक केंद्रीकृत भंडार प्रदान करता है, जिसमें सर्वोत्तम प्रथाओं, नीति दस्तावेज़, डेटासेट और नीति  आयोग  के वे प्रकाशन शामिल हैं, जो विभिन्न क्षेत्रों और लिंग एवं  जलवायु परिवर्तन जैसे परस्पर सम्पर्क वाले (क्रॉस-कटिंग) विषयों तक फैले हुए हैं। इसका उपयोगकर्ता-अनुकूल इंटरफ़ेस समावेशिता सुनिश्चित करता है और विभिन्न क्षेत्रों के अधिकारियों को मंच के व्यापक ज्ञान आधार का प्रभावी ढंग से उपयोग करने के लिए सशक्त भी बनाता है।

अपने संबोधन में श्री अश्विनी वैष्णव ने कहा कि “भविष्य के विकास के लिए भारत का दृष्टिकोण चार महत्वपूर्ण स्तंभों - (i) भौतिक, डिजिटल और सामाजिक बुनियादी ढांचा, (ii) समावेशी विकास, (iii) विनिर्माण और (iv) कानूनों और प्रक्रियाओं के सरलीकरण पर ध्यान, पर आधारित है। उन्होंने आगे कहा कि "राज्यों के लिए नीति मंच की शुरुआत से सहकारी संघवाद को सुदृढ़   करने और डेटा-संचालित शासन को सशक्त बनाने में सहायता मिलेगी।"

नीति आयोग के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) सुब्रमण्यम श्री बी.वी.आर. ने इस बात पर प्रकाश डाला कि राज्यों के लिए नीति का ज्ञान मंच विभिन्न क्षेत्रों से डेटा को अंतरसंचालनीय और संगत तरीके से एक ही स्थान पर लाया है। यह इसे प्रशासकों के लिए बहुत प्रभावशाली और उपयोगी बनाता है

'राज्यों के लिए नीति' मंच की मुख्य विशेषताएं:

व्यापक ज्ञान आधार: 7,500 क्यूरेटेड सर्वोत्तम प्रथाएँ, 5,000 नीति दस्तावेज़, 900+ डेटासेट, 1,400 डेटा प्रोफ़ाइल और 350 नीति आयोग प्रकाशन।

बहुभाषी पहुंच: निकट भविष्य में यह मंच 22 प्रमुख भारतीय भाषाओं और 7 विदेशी भाषाओं में उपलब्ध होगा, जो विविध उपयोगकर्ता समूहों के लिए समावेशिता सुनिश्चित करेगा।

क्षमता निर्माण पहल: संबंधित संस्थानों के सहयोग से विभिन्न स्तरों (ब्लॉक, जिला और राज्य) पर अधिकारियों के लिए तैयार डिजिटल प्रशिक्षण मॉड्यूल।

विशेषज्ञ सहायता डेस्क: अग्रणी संस्थानों के साथ साझेदारी के माध्यम से विशेष मार्गदर्शन राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को विशिष्ट चुनौतियों का समाधान करने की अनुमति देती  है।

डेटा एकीकरण: व्यापक और कार्रवाई योग्य अंतर्दृष्टि के लिए राष्ट्रीय डेटा और एनालिटिक्स प्लेटफ़ॉर्म (एनडीएपी) से डेटा का लाभ उठाता है और  डेटा-संचालित निर्णय लेने को बढ़ावा देता है।

राज्यों के लिए नीति मंच का अपेक्षित प्रभाव:

अधिकारियों को ठोस जानकारी, कार्रवाई योग्य अंतर्दृष्टि और उपयोगकर्ता के अनुकूल डिजिटल उपकरणों से लैस करके शासन के डिजिटल परिवर्तन में तेजी लाएगा।

सफल पहलों को दोहराने और स्थानीय चुनौतियों का प्रभावी ढंग से समाधान करने के लिए जिला एवं प्रखंड (ब्लॉक) स्तर पर अग्रिम पंक्ति के पदाधिकारियों को सशक्त बनाएगा।

राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के बीच ज्ञान साझा करने एवं विनिमयी शिक्षा (क्रॉस-लर्निंग) के माध्यम से सहकारी संघवाद को बढ़ावा देना और सुशासन प्रथाओं को सशक्त बनाएगा।

'राज्यों के लिए नीति' मंच एक ऐसी आधारशिला पहल है जो राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को विकसित भारत की सामूहिक दृष्टि में महत्वपूर्ण योगदान देने के लिए सशक्त बनाती है। यह मंच देश भर में सहयोगी शासन को बढ़ावा देने और सुशासन प्रथाओं को बढ़ावा देने के लिए नीति आयोग की प्रतिबद्धता को भी रेखांकित करता है।अधिक जानकारी और अपडेट के लिए, कृपया आधिकारिक 'राज्यों के लिए नीति  (नीति -एनआईटीआई फॉर स्टेट्स) ' प्लेटफॉर्म https://www.niti.gov.in/ पर जाएं।

Union Minister Ashwini Vaishnaw launches NITI Aayog’s – ‘NITI for States’ Platform

‘Viksit Bharat Strategy Room’ at NITI Aayog inaugurated


New Delhi

Ashwini Vaishnaw, Union Minister of Communications, Railways, and Electronics & Information Technology, today launched the 'NITI for States' platform, a comprehensive digital initiative designed to empower states and union territories (UTs) in their pursuit of national development goals. 

Shri  Vaishnaw, also inaugurated the ‘NITI For States - Viksit Bharat Strategy Room’ at NITI Aayog in the presence of Prof. Ramesh Chand, Dr V. K. Saraswat, & Dr. Arvind Virmani, Members of NITI Aayog and Shri B.V.R. Subrahmanyam, CEO, NITI Aayog. 

Senior officials from ministries and departments of the Government of India, senior officials from State Governments, ABP fellows, development partners and media were present at the event.Additionally, Shri Vaishnaw inaugurated the ‘NITI for States’ Exhibition at Rang Bhawan, Akashvani, New Delhi. 

This Exhibition, that was a result of collaboration of various government organisations, took visitors through some of its salient features such as mobile integration for easy accessibility, Expert Helpdesk, built-in AI and Multilingual Support by Bhashini. PM Gatishakti BISAG-N team, with the support of DPIIT, was also integrated to provide for the geospatial tool for Area-Based Planning.

NITI for States offers a centralised repository of valuable resources, including best practices, policy documents, datasets, and NITI Aayog publications, spanning various sectors and cross-cutting themes like gender and climate change. Its user-friendly interface ensures inclusivity and empower officials across diverse regions to effectively utilise the platform's extensive knowledge base.

In his address, Shri Ashwini Vaishnaw said, “India’s vision for future growth is based on four important pillars, (i) Physical, Digital and Social Infrastructure, (ii) Inclusive Development, (iii) Manufacturing, and (iv) Focus on Simplification of laws and processes.”He further added, “the launch of NITI for States platform will help strengthening cooperative federalism and empower data-driven governance.”

Shri B.V.R. Subrahmanyam, CEO, NITI Aayog, highlighted that the knowledge platform of NITI for States has brought data from across various fields at one location in an interoperable and compatible manner. This makes it very impactful and useful for the administrators

Key Features of the ‘NITI for States’ platform:

Extensive Knowledge Base: 7,500 curated best practices, 5,000 policy documents, 900+ datasets, 1,400 data profiles, and 350 NITI Aayog publications.

Multilingual Accessibility: In the near future the platform will be available in 22 major Indian languages and 7 foreign languages, ensuring inclusivity for diverse user groups.

Capacity Building Initiatives: Tailored digital training modules for officials at various levels (block, district, and state) in collaboration with relevant institutions.

Expert Help Desk: Specialised guidance through partnerships with leading institutions allows states and UTs to address specific challenges.

Data Integration: Leverages data from the National Data & Analytics Platform (NDAP) for comprehensive and actionable insights, fostering data-driven decision-making.

Expected Impact of the NITI fir States Platform:

Accelerate digital transformation of governance by equipping officials with robust knowledge, actionable insights, and user-friendly digital tools.

Empower frontline functionaries at the district and block levels to replicate successful initiatives and address local challenges effectively.

Foster cooperative federalism and strengthen good governance practices through knowledge sharing and cross-learning among states and UTs.

The 'NITI for States' platform is a cornerstone initiative empowering states and UTs to contribute significantly to the collective vision of a developed India. This platform underscores NITI Aayog's commitment to fostering collaborative governance and promoting good governance practices across the nation.

For more information and updates, please visit the official 'NITI FOR STATES' platform at https://www.niti.gov.in/.

 

Tags: Ashwini Vaishnaw , BJP , Bharatiya Janata Party , NITI Aayog , Prof. Ramesh Chand , Dr V. K. Saraswat , Dr. Arvind Virmani , B.V.R. Subrahmanyam

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD