Wednesday, 28 February 2024

 

 

खास खबरें सदन में बजट पर चर्चा के दौरान अभय सिंह चौटाला ने बीजेपी और जेजेपी को घेरा दंगल से एटली की जवान तक : सान्या मल्होत्रा की सफल यात्रा डिप्टी कमिश्नर कोमल मित्तल व एस.एस.पी ने 14 स्वीप वोटर जागरुकता वैनों को हरी झंडी दिखा किया रवाना आम आदमी क्लीनिक खुलने से लोगों को घरों के नजदीक मिली बेहतरीन स्वास्थ्य सुविधाः ब्रम शंकर जिंपा मिशन रोजग़ार: दो सालों में मुख्यमंत्री भगवंत सिंह मान ने पंजाब के नौजवानों को सरकारी नौकरियाँ देकर 40,000 से अधिक परिवारों का जीवन किया रौशन सिविल अस्पताल बठिंडा का मेडिकल अफ़सर और सफ़ाई सेवक दूसरी किश्त के तौर पर 5,000 रुपए रिश्वत लेते हुए विजीलैंस ब्यूरो द्वारा काबू तीरअदाजी के एशिया कप में प्रणीत कौर और सिमरनजीत कौर ने पांच पदक जीते रेलवे उन्नयन से हिमाचल में रेलवे बुनियादी ढांचे को नई गति मिलेगी : शिव प्रताप शुक्ल डिप्टी कमिश्नर ने रैड क्रास के कार्यकारिणी सदस्यों के साथ बैठक कर लिया सोसायटी के कामकाज का जायजा PEC ने नेशनल साइंस डे मनाया आम आदमी क्लीनिक के माध्यम से लोगों के घरों के नजदीक दी जा रही है निःशुल्क बुनियादी स्वास्थ्य सेवाएं : करमजीत कौर इंडियन नेशनल लोकदल के अध्यक्ष नफे सिंह राठी की हत्या के मामले की जांच सीबीआई से करवाई जाएगी : गृह मंत्री अनिल विज मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने 15.43 करोड़ रुपये लागत के जवाहर लाल नेहरू ललित कला राजकीय महाविद्यालय भवन का लोकार्पण किया संत निरंकारी चैरिटेबल फाउंडेशन के ‘प्रोजेक्ट अमृत’ का सफल आयोजन पंजाब मंडी बोर्ड में श्री गुरु रविदास जी का जन्मदिवस मनाया PEC छात्रों के बैंड् 'मुक्तलिफ़' ने IIT जोधपुर में मचाई धूम कान्स और टाइम्स स्क्वायर के बाद, सोनिया कोहली की फिल्म 'क़ैद- नो वे आउट' ने मचाई पंजाब में धूम जल आपूर्ति एवं स्वच्छता मंत्री ब्रह्म शंकर जिम्पा ने विभाग के प्रमुख प्रोजेक्टों का लिया जायज़ा मिशन समरथ के नतीजे उत्साहजनक: हरजोत सिंह बैंस अमृतसर इम्प्रूवमेंट ट्रस्ट के जेई और क्लर्क को विजिलेंस ब्यूरो ने 50 हजार रुपये रिश्वत लेते पकड़ा PEC के छात्रों ने IIT जोधपुर में नृत्य का किया बेहतरीन प्रदर्शन

 

विषम परिस्थितियों में भी जीवित रहता है एक दिलचस्प हरा शैवाल

Khas Khabar
Listen to this article

Web Admin

Web Admin

5 Dariya News

नई दिल्ली , 14 Nov 2023

पांडिचेरी विश्वविद्यालय के पृथ्वी विज्ञान विभाग के संकाय ने राजस्थान की हाइपरसैलिन क्षारीय झील सांभर में पाए जाने वाले पी. सेलिनरम नामक एक जीव की विषम परिस्थितियों में भी जीवित रहने की क्षमता के पीछे छिपे रहस्य के बारे में दिलचस्पी पैदा की है। हालांकि यह शैवाल पूरी दुनिया में खारे और क्षारीय झीलों में व्यापक रूप से पाया जाता है, लेकिन इसे पहली बार भारत में केवल सांभर झील में ही देखा गया था।

पी. सेलिनरम के लचीलेपन के रहस्य की गहराई में जाते हुए उन्होंने अपनी टीम के साथ ऐसी अत्यधिक विषम परिस्थितियों में अनुकूलनता के आणविक तंत्र की जांच की। उन्होंने उच्च प्रवाह क्षमता लेबल-मुक्त परिमाणीकरण आधारित मात्रात्मक प्रोटिओमिक्स विधि के माध्यम से इसकी प्रोटीन प्रचुरता में आये परिवर्तनों का अध्ययन करके यह पता लगाया है।

उनकी टीम ने एक्सट्रोफिलिक शैवाल पी. सेलिनरम के प्रोटीओम में पहला अभियान प्रदान किया, जिससे क्षारीय झीलों में अत्यंत विषम परिस्थितियों में प्रकाश संश्लेषित अनुकूलन और प्रसार के लिए इसके अनुरूप नियामक तंत्र का पता लगा है, जो इस अज्ञात जीव में मौजूद लचीलेपन के आधार को उजागर करता है। यह विशिष्ट जीव स्पष्ट रूप से उच्च लवणता-क्षारीयता के लिए एक महत्वपूर्ण प्रतिक्रिया के रूप में चैपरोन प्रोटीन के साथ-साथ प्रकाश संश्लेषण और एटीपी संश्लेषण को बढ़ाता है।

बहुत खारे-क्षारीय स्थिति में पी. सेलिनरम द्वारा दर्शाई गई प्रकाश संश्लेषक गतिविधि बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि अधिकांश प्रकाश संश्लेषक जीवों में यह गतिविधि प्रकाश संश्लेषण हाइपरऑस्मोटिक परिस्थितियों के तहत दबी हुई है।यह खोज फ्रंटियर्स इन माइक्रोबायोलॉजी (सेक्शन एक्सट्रीम माइक्रोबायोलॉजी) में प्रकाशित हुई, जो पी. सेलिनरम को जैव प्रौद्योगिकी अनुप्रयोगों के लिए एक आशाजनक उम्मीदवार और प्रकाश संश्लेषित अनुकूलन के आणविक तंत्र को समझने के लिए एक मॉडल जीव के रूप में प्रस्तुत करती है।

इस टीम ने बाइकार्बोनेट-आधारित एकीकृत कार्बन कैप्चर और बायोमास उत्पादन के लिए इस माइक्रोएल्गा की कुछ दिलचस्प विशेषताओं का भी उपयोग किया है।इस इंस्पायर फैकल्टी फेलो द्वारा किया गया शोध टिकाऊ और संसाधन-कुशल जैव प्रौद्योगिकी प्रक्रियाओं के आगे होने वाले विकास में सहायता प्रदान कर सकता है। 

केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय के मुताबिक एक युवा शोधकर्ता ने इस रहस्य का पता लगाया है कि पिकोसिस्टिस सेलिनरम नामक सबसे छोटा हरा शैवाल किस प्रकार अत्यधिक खारा-क्षारीय, सबसे कठिन परिस्थितियों में भी जीवित रहता है। यह माइक्रोएल्गल बायोप्रोडक्ट्स और पौधों में नमक के प्रति सहनशीलता बढ़ाने जैसे जैव प्रौद्योगिकी अनुप्रयोगों के कारण एक आशाजनक भविष्य का मार्ग प्रशस्त कर सकता है।

वैश्विक कार्बन साइकिल में इसके महत्व के कारण यह कार्बोनेट भू-वैज्ञानिकों, जीवविज्ञानियों और जलवायु विज्ञानियों के लिए बहुत रुचिकर हैं। अकार्बनिक कार्बन को जैविक रूप से कार्बनिक कार्बन में परिवर्तित करने की प्रक्रिया को कार्बन निर्धारण के रूप में जाना जाता है। इसे हमारे ग्रह पर व्यापक रूप से जैव-भू-रासायनिक परिवर्तन के रूप में मान्यता प्राप्त है। विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी) की इंस्पायर फैकल्टी फेलो डॉ. ज्योति सिंह इस एक्सट्रोफाइल्स के बारे में बहुत भावुक हैं।

उन्होंने कार्बोनेट चट्टानों और क्षारीय झीलों जैसे कार्बोनेट प्रभुत्व वाले वातावरण में भी पनपने वाले प्रकाश संश्लेषक साइनोबैक्टीरिया और माइक्रोएल्गे पर विशेष ध्यान देते हुए माइक्रोबियल जीवन की खोज की है। इन सूक्ष्मजीवों के पास अविश्वसनीय रूप से बहुमुखी, जैव-भू-रसायन, सूक्ष्मजीव विविधता, जीवन के विकास, खगोल जीव विज्ञान, पर्यावरणीय स्थिरता, जैव प्रौद्योगिकी से संबंधित महत्वपूर्ण प्रश्नों को हल करने की कुंजी हैं।

 

Tags: Khas Khabar

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD