Thursday, 22 February 2024

 

 

खास खबरें संदेशखाली की घटना भाजपा की सोची समझी साजिश - आप प्रवक्ता नील गर्ग बंगाल में सरदार आईपीएस अधिकारी को खलिस्तानी बोले जाने की घटना की आम आदमी पार्टी ने की सख्त निंदा, कहा - भाजपा ने सिख धर्म का अपमान किया है बेला फार्मेसी कॉलेज में मां बोली दिवस मनाया गया कांगड़ा जिला में 03 मार्च को पिलाई जाएगी पोलियो की खुराक: डी सी डा हेमराज बैरवा राज्यपाल शिव प्रताप शुक्ल को विश्वभर में श्री राम पर जारी स्मारक डाक टिकट की पुस्तिका भेंट की प्रतिष्ठित पीईसी के पूर्व छात्र डॉ. रूप लाल महाजन ने पीईसी का दौरा किया विख्यात फिल्म निर्माता एवं निर्देशक विवेक अग्निहोत्री बने मानव मन्दिर के ब्रांड एम्बेसेडर 10,000 रुपये रिश्वत लेते हुए ए.एस.आई को विजीलैंस ने किया काबू नगर निगम कर्मचारियों के नाम पर 30,000 रुपए की रिश्वत लेने वाला विजीलैंस ब्यूरो द्वारा काबू प्रधानमंत्री ने जम्मू-कश्मीर में 32,000 करोड़ रुपये से अधिक की कई विकास परियोजनाओं का उद्घाटन किया, राष्ट्र को समर्पित किया और आधारशिला भी रखी पंजाब में नहरी पानी के बुनियादी ढांचे नहरों और खालों को मज़बूत किया जायेगा : चेतन सिंह जौड़ामाजरा चंडीगढ़ मेयर चुनाव में आखिरकार संविधान और लोकतंत्र की हुई जीत- अरविंद केजरीवाल चंडीगढ़ मेयर चुनाव : सुप्रीम कोर्ट का फैसला लोकतंत्र की जीत - आप राजभवन में अरूणाचल प्रदेश और मिज़ोरम का स्थापना दिवस आयोजित पर्यटन व संस्कृति विभाग की ओर से 1 से 5 मार्च तक होगा ‘होशियारपुर नेचर फेस्ट’: कोमल मित्तल चेतन सिंह जौड़ामाजरा द्वारा तलवंडी भाई और ज़ीरा में संशोधित पानी को सिंचाई के लिए बरतने के प्रोजेक्टों का उद्घाटन 3000 रुपए की रिश्वत लेता सीनियर कॉन्स्टेबल विजीलैंस ब्यूरो द्वारा काबू राज्यपाल ने दिव्यांगजनों के समावेशी विकास में चेतना संस्था के प्रयासों को सराहा मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने लोक निर्माण विभाग के 15 टिप्परों को रवाना किया सीजीसी लांडरां के सीबीएसए ने वित्तीय सम्मेलन की पृष्ठभूमि पर प्रतियोगिता का आयोजन किया शहर वासियों को पीने वाला साफ पानी मुहैया करवाने में नहीं छोड़ी जा रही है कोई कमी: ब्रम शंकर जिंपा

 

बीएसएफ ने ममता बनर्जी के लगाए आरोपों का किया खंडन

Mamata Banerjee , All India Trinamool Congress , Kolkata , Chief Minister of West Bengal , West Bengal
Listen to this article

Web Admin

Web Admin

5 Dariya News

कोलकाता , 27 Jun 2023

सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) ने सोमवार को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी द्वारा बीएसएफ पर लगाए गए मनमानी के आरोपों पर खंडन जारी किया है। ममता ने राज्य में पंचायत चुनाव के लिए सामवार को अपने अभियान की शुरुआत कूचबिहार जिले से की। 

अपने बयान में ममता ने बीएसएफ को निशाने पर लिया था। सीमावर्ती जिले में एक सभा को संबोधित करते हुए उन्होंने न केवल बीएसएफ पर ग्रामीणों को गोली मारने का आरोप लगाया, बल्कि यह भी चेतावनी दी कि सीमा सुरक्षा बल के कर्मी सीमावर्ती आबादी को डराने-धमकाने की कोशिश करेंगे, और उन्हें ग्रामीण चुनावों में उनकी पार्टी को वोट देने से रोकेंगे।

बीएसएफ ने बयान का खंडन करते हुए कहा कि कूचबिहार में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री द्वारा लगाए गए आरोप पूरी तरह से निराधार और सच्चाई से परे हैं। बीएसएफ एक पेशेवर बल है जिसे देश भर में अंतर्राष्ट्रीय सीमा की सुरक्षा की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

बीएसएफ ने कभी भी किसी भी कारण से सीमावर्ती आबादी या किसी मतदाता को नहीं डराया है। अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर रहने वाले भारतीय नागरिकों को सुरक्षा की भावना प्रदान करने और सीमा पार अपराधों, भारतीय क्षेत्र में अनधिकृत प्रवेश या निकास को रोकने के लिए बीएसएफ को भारत-बांग्लादेश सीमा पर तैनात किया गया है।

बीएसएफ के गुवाहाटी फ्रंटियर द्वारा कहा गया है कि अंतरराष्ट्रीय सीमा पर तस्करी और अन्य अवैध गतिविधियों को रोकने के लिए भी बीएसएफ जिम्मेदार है।कूच बिहार के साथ भारत बांग्लादेश सीमा संघीय बल के गुवाहाटी फ्रंटियर के अधिकार क्षेत्र में आती है।

सीमा पर रहने वाले किसी भी व्यक्ति को डराने-धमकाने की कोई शिकायत अब तक बीएसएफ या किसी सहयोगी एजेंसी को नहीं मिली है। बीएसएफ सीमा और अन्य क्षेत्रों में शांतिपूर्ण चुनावी प्रक्रिया के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध है।

बीएसएफ के जवानों को चुनाव ड्यूटी के लिए भी तैनात किया जाता है, जिसे वे स्थानीय प्रशासन की देखरेख में करते हैं। बीएसएफ ने कहा कि पश्चिम बंगाल में सीमावर्ती आबादी का एक वर्ग मानव तस्करी और नशीली दवाओं की तस्करी जैसे सीमा पार अपराधों में शामिल है।

बता दें कि राज्य में विपक्षी दलों  विशेषकर भाजपा ने सीमावर्ती क्षेत्रों में घुसपैठ कर ली है, जिससे सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस को कुछ असुविधा हो रही है। इसमें कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि जब भी ममता या उनकी पार्टी के अन्य शीर्ष नेता सीमावर्ती जिलों में राजनीतिक बैठकों को संबोधित करते हैं तो बीएसएफ निशाने पर आ जाती है।

बीएसएफ के अधिकार क्षेत्र को 15 किमी से बढ़ाकर 50 किमी करने का केंद्र का फैसला भी ममता को पसंद नहीं आया और उन्होंने इसके खिलाफ पश्चिम बंगाल विधानसभा में एक प्रस्ताव पारित किया। हालांकि, गृह मंत्रालय और बीएसएफ का मानना है कि यह आवश्यक है।

इसके अलावा, अधिकार क्षेत्र का विस्तार बीएसएफ को किसी व्यक्ति पर मुकदमा चलाने या गिरफ्तार करने की अनुमति नहीं देता है। बीएसएफ केवल जांच कर सकता है और फिर आवश्यक कानूनी कार्रवाई के लिए विवरण स्थानीय पुलिस को सौंप सकता है।

 

Tags: Mamata Banerjee , All India Trinamool Congress , Kolkata , Chief Minister of West Bengal , West Bengal

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD