Friday, 19 April 2024

 

 

खास खबरें अनूठी पहलः पंजाब के मुख्य निर्वाचन अधिकारी सिबिन सी 19 अप्रैल को फेसबुक पर होंगे लाइव आदर्श आचार संहिता की पालना को लेकर सोशल मीडिया की रहेगी विशेष निगरानी- मुख्य निर्वाचन अधिकारी अनुराग अग्रवाल चुनाव में एक दिन देश के नाम कर चुनाव का पर्व, देश का गर्व बढ़ाए- अनुराग अग्रवाल प्रदेश की 618 सरकारी व निजी इमारतों की लिफ्टों पर चिपकाए गए जागरूकता स्टीकर - मुख्य निर्वाचन अधिकारी अनुराग अग्रवाल सेफ स्कूल वाहन पालिसी- तय शर्ते पूरी न करने वाली 7 स्कूल बसों का हुआ चालान चंडीगढ़ में पंजाबी को नंबर वन भाषा बना कर दिखाएंगे-संजय टंडन 4500 रुपए रिश्वत लेता सहायक सब इंस्पेक्टर विजीलैंस ब्यूरो द्वारा काबू एलपीयू के वार्षिक 'वन इंडिया-2024' कल्चरल फेस्टिवल में दिखा भारतीय संस्कृति का शानदार प्रदर्शन पंचकूला के डी.सी. पद से हटाए जाने बावजूद सुशील सारवान जिले में ही तैनात रवनीत बिट्टू के विपरीत, कांग्रेस ने हमेशा बेअंत सिंह जी की विरासत का सम्मान किया है: अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग कुंवर विजय प्रताप के भाषण को गंभीरता से लिया जाना चाहिए और जांच होनी चाहिए: बाजवा दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने दिल्ली फतेह दिवस समारोह के लिए निहंग सिंह प्रमुख बाबा बलबीर सिंह को सौंपा निमंत्रण पत्र इंसानी साहस और सच का तानाबाना हैं पुरबाशा घोष की बुक 'एनाटोमी ऑफ़ ए हाफ ट्रुथ' इनेलो ने 28 वर्षीय मजहबी सिख बाल्मिकी समुदाय से युवा सरदार गुरप्रीत सिंह को बनाया अंबाला लोकसभा से उम्मीदवार मुख्यमंत्री भगवंत मान ने मिशन 13-0' नाम के एक कार्यक्रम में पंजाब के अपने 13 लोकसभा उम्मीदवारों का परिचय दिया भगवंत मान ने पंजाब की जनता से आप के सभी 13 लोकसभा उम्मीदवारों का करवाया परिचय कांग्रेस व भाजपा प्रत्याशियों का नहीं कोई किरदार : एन.के.शर्मा 15,000 रुपए रिश्वत लेता ए. एस. आई. विजीलैंस ब्यूरो द्वारा रंगे हाथों काबू पंजाब कांग्रेस ने संगरूर से चुनाव अभियान की शुरुआत की सितारों से भरी एक शाम:सतिंदर सरताज, नीरू बाजवा, देबी मखसुसपुरी, बंटी बैंस और अन्य सितारों के साथ हुआ फिल्म 'शायर' का प्रीमियर! गुजरात के भरुच में भगवंत मान की 'जन आशीर्वाद यात्रा' में उमड़ा जनसैलाब, कहा-भरूच में आप की सुनामी है

 

भविष्य के युद्धों के लिए पहले 'देखने' और 'हमला' करने की क्षमता की जरूरत : वायुसेना प्रमुख

Military, Indian Air Force,  Air Chief Marshal,  V.R. Chaudhari, Chief of Air Staff
Listen to this article

Web Admin

Web Admin

5 Dariya News

नई दिल्ली , 18 Apr 2023

आईएएफ प्रमुख वीआर चौधरी ने मंगलवार को कहा कि भविष्य के युद्धों में 'पहले देखने' की क्षमता, उसके बाद 'पहले वार करने' और फिर 'सबसे दूर तक वार करने' की क्षमता की जरूरत होगी। एयर चीफ मार्शल चौधरी ने भारतीय वायु सेना के पहले और एकमात्र मार्शल अर्जन सिंह की याद में द सेंटर फॉर एयर पावर स्टडीज (सीएपीएस) द्वारा आयोजित एयरोस्पेस पावर: पिवोट टू फ्यूचर बैटलस्पेस ऑपरेशंस पर सेमिनार में कहा, फाइटर जेट्स, यूएवी, सेंसर, लंबी दूरी की मिसाइल और मानव-मानव रहित प्लेटफार्मों की टीमिंग भविष्य के युद्धों में वायु शक्ति के परिणाम को परिभाषित करेगी।

भारतीय वायुसेना के अनुसार, संगोष्ठी का उद्देश्य एयरोस्पेस शक्ति की बदलती प्रकृति और भविष्य के युद्धक्षेत्र संचालन में इसकी भूमिका का पता लगाना था। जैसे-जैसे तकनीकी प्रगति युद्ध के परि²श्य को नया रूप दे रही है, सैन्य उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए एयरोस्पेस डोमेन तेजी से महत्वपूर्ण हो गया है।

आईएएफ ने कहा कि- संगोष्ठी ने अतीत में 'वायु शक्ति संचालन की खासियत' की जांच की और भविष्य के युद्धक्षेत्र संचालन में अविभाज्य इकाई के रूप में बहु-डोमेन संचालन की आवश्यकता को रेखांकित किया। जैसे-जैसे दुनिया तेजी से जटिल और अस्थिर होती जा रही है, सैन्य अभियानों के लिए अधिक एकीकृत और बहु-आयामी ²ष्टिकोण की आवश्यकता होती है जो एयरोस्पेस क्षमताओं के पूर्ण स्पेक्ट्रम का लाभ उठाता है। 

एयरोस्पेस शक्ति भविष्य के संघर्षों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी, खुफिया, निगरानी, टोही, कमांड और नियंत्रण और स्ट्राइक क्षमताओं में महत्वपूर्ण लाभ प्रदान करेगी।सत्रों ने उभरती प्रौद्योगिकियों, रणनीतियों, और इन क्षमताओं को व्यापक सैन्य अभियानों में एकीकृत करने से जुड़ी चुनौतियों और अवसरों सहित एयरोस्पेस शक्ति की विकसित प्रकृति पर चर्चा की। 

'एयरोस्पेस डोमेन में प्रमुख रुझान और प्रौद्योगिकियां' और एयरोस्पेस पावर के लिए इन प्रवृत्तियों के उनके प्रभाव की भी जांच की गई, साथ ही साथ अंतरिक्ष और साइबर डोमेन का बढ़ता महत्व, मानव रहित हवाई वाहनों का उदय, और एयरोस्पेस संचालन में कृत्रिम बुद्धिमत्ता, मशीन लनिर्ंग, क्वांटम कंप्यूटिंग और हाइपरसोनिक का बढ़ता उपयोग।

सत्र में एयरोस्पेस शक्ति को भविष्य के युद्धक्षेत्र संचालन में सफलतापूर्वक एकीकृत करने पर भी विचार-विमर्श किया गया, जिसके लिए उभरते खतरे के माहौल की व्यापक समझ, नवाचार और तकनीकी उन्नति के प्रति प्रतिबद्धता और नई परिचालन अवधारणाओं और सिद्धांत के विकास की आवश्यकता होगी। 

यह सम्मेलन भारतीय वायु सेना के दिवंगत मार्शल अर्जन सिंह को श्रद्धांजलि है, जो युद्ध में भारतीय वायु सेना का नेतृत्व करने वाले पहले प्रमुख थे, वायु सेना प्रमुख होने के नाते उन्होंने 1965 में आधुनिक युग के पहले संघर्ष में कार्रवाई देखी। जब उन्हें भारतीय वायु सेना का नेतृत्व करने की जिम्मेदारी सौंपी गई थी, तब वह मुश्किल से 44 वर्ष के थे, जिसे उन्होंने तड़क-भड़क और जोश के साथ निभाया।

सीएपीएस ने वायु शक्ति के वर्तमान और भावी पीढ़ी के समर्थकों को प्रेरित करने के लिए उनके सम्मान में वार्षिक स्मारक व्याख्यान शुरू करने का निर्णय लिया।

 

Tags: Military , Indian Air Force , Air Chief Marshal , V.R. Chaudhari , Chief of Air Staff

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD