Friday, 12 July 2024

 

 

खास खबरें मंत्रिमंडलीय उप-समिति ने हिमाचल प्रदेश होमस्टे नियम-2024 के प्रारूप की समीक्षा की खेलों को प्रोत्साहित कर पंजाब सरकार ने प्रदेश के नौजवानों को दी है नई दिशाः ब्रम शंकर जिंपा सीएसई, पीईसी द्वारा आयोजित एआई पर एक सप्ताह का एसटीसी उच्च स्तर पर समाप्त हुआ मुख्यमंत्री सुखविंद्र सिंह सुक्खू ने डीडीयू के समीप भू-स्खलन प्रभावित क्षेत्र का निरीक्षण किया नवनिर्मित हो रहा चहुं मार्गी हाईवे फाजिल्का की प्रगति को देगा नई गति स्वतंत्रता दिवस-2024 समारोह की व्यवस्थाओं की समीक्षा के लिए बैठक आयोजित पंजाब विश्वविद्यालय के आउटसोर्स कर्मियों ने की संजय टंडन से मुलाकात एलपीयू के छात्रों को एलपीयू में डिग्री शुरू करने और यूएसए, कनाडा में खत्म करने का मौका मिलता है हरचंद सिंह बरसट ने किसान भवन में झेलम हॉल का किया उद्घाटन स्वास्थ्य एवं मेडिकल एजुकेशन से जुड़े मुद्दों पर चर्चा: सांसद अरोड़ा ने स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण कैबिनेट मंत्री जेपी नड्डा से की मुलाकात मुख्यमंत्री सुखविंद्र सिंह सुक्खू ने अत्याधुनिक मत्स्य पालन प्रशिक्षण केन्द्र दियोली और भंजाल में 5 मेगावाट सौर ऊर्जा परियोजना की आधारशिला रखी खाद्य प्रसंस्करण क्षेत्र में हिमाचल सर्वश्रेष्ठ राज्य पुरस्कार से सम्मानित : हर्षवर्धन चौहान स्वास्थ्य मंत्री डॉ. (कर्नल) धनी राम शांडिल ने चिकित्सा मशीनरी और उपकरण खरीद प्रक्रिया में तेजी लाने के निर्देश दिए राजेश धर्माणी ने नवोन्मेषी प्रयासों के साथ प्रतिस्पर्धात्मक कार्य प्रणाली अपनाने पर बल दिया भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण द्वारा आधार पर कार्यशाला आयोजित विक्रमादित्य सिंह ने क्षतिग्रस्त एनएच की शीघ्र मुरम्मत के निर्देश दिए भारत में होंगे हृदय रोग के सबसे ज्यादा मामले : डॉ. पंकज गोयल चेक प्रतिनिधिमंडल और यूटी चंडीगढ़ के बीच उच्च स्तरीय बैठक में वास्तुकला सहयोग और सिस्टर-सिटी समझौते पर चर्चा की गई इंडियन ऑयल पंजाब सब जूनियर बैडमिंटन रैंकिंग टूर्नामेंट संपन्न आज से आप किराएदार नहीं अपनी सम्पत्तियों के बने मालिक : नायब सिंह कांग्रेस के पास बताने को कुछ नहीं, हमारे पास अनगिनत उपलब्धियां: सीएम नायब सिंह सैनी

 

कोविड मरीजों के ब्लड प्लाज्मा दे सकता है गंभीरता का संकेत : शोध

Omicron Variant, Delta Plus Covid variant, Delta Covid-19 variant, Coronavirus, Health, Research, Study, Researchers, COVID 19, Novel Coronavirus, Fight Against Corona, Covaxin, Covishield, Oxygen, SARS-CoV-2, Sputnik V, Oxygen Plants, Pfizer, Astra Zeneca, Oxygen Concentrator, Remdesivir, Liquid Medical Oxygen, Oximeter
Listen to this article

Web Admin

Web Admin

5 Dariya News

न्यूयॉर्क , 12 Apr 2023

कोविड-19 रोगियों के रक्त में विशिष्ट प्रोटीन यह अनुमान लगाने में मदद कर सकते हैं कि सांस लेने के लिए किसे वेंटिलेटर पर रखने की जरूरत हो सकती है और किन लोगों के मरने की सबसे अधिक आशंका रहती है। एक शोध में यह बात सामने आई। सेंट लुइस में वाशिंगटन यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ मेडिसिन के शोधकर्ताओं के नेतृत्व में किए गए अध्ययन से पता चला है कि नमूने जल्दी प्राप्त करने से कोविड के बदतर परिणामों से जुड़े प्रोटीन की पहचान करने में मदद मिल सकती है, उपचार में तेजी आ सकती है और वेंटिलेटर या वायरस से होने वाली मौत को रोका जा सकता है।

स्कूल ऑफ न्यूरोजेनोमिक्स एंड इंफॉर्मेटिक्स सेंटर के निदेशक प्रमुख अन्वेषक कार्लोस क्रुचागा ने कहा, हानिकारक प्रोटीन की पहचान करना मददगार हो सकता है, क्योंकि हम न केवल वायरस के वैरिएंट का सामना करते हैं जो कोविड-19 का कारण बनता है, बल्कि भविष्य में नए वायरस भी सामने आते हैं।

क्रुचगा ने कहा, हम कोविड संक्रमण वाले व्यक्ति से रक्त लेने में सक्षम हो सकते हैं, इन प्रमुख प्रोटीनों के स्तर की जांच कर सकते हैं और गंभीर परिणामों के लिए जोखिम का तुरंत निर्धारण कर सकते हैं। फिर हम उस जानकारी का उपयोग उपचार के सर्वोत्तम तरीके को निर्धारित करने के लिए कर सकते हैं।

शोध निष्कर्ष 'जर्नल आईसाइंस' में प्रकाशित हुआ है। टीम ने सेंट लुइस के बार्न्‍स-यहूदी अस्पताल में भर्ती 332 कोविड-19 रोगियों के प्लाज्मा नमूनों का अध्ययन किया और उनकी तुलना उन 150 लोगों के प्लाज्मा नमूनों से की जो सार्स-सीओवी-2 से संक्रमित नहीं थे, वह वायरस जो कोविड-19 का कारण बनता है।

रक्त प्लाज्मा में प्रोटीन का अध्ययन करने के लिए शोधकर्ताओं ने प्रोटीन के ओवरएक्प्रेशन और अंडरएक्प्रेशन की पहचान करने के लिए हाई-थ्रूपुट प्रोटिओमिक्स नामक तकनीक का इस्तेमाल किया, जिसे डिसरेग्यूलेशन के रूप में भी जाना जाता है।वैज्ञानिकों ने यह पता लगाने के लिए अतिरिक्त परीक्षण किया कि कौन से प्रोटीन वास्तव में गंभीर बीमारी का कारण बनते हैं, जो गंभीर बीमारी के परिणामस्वरूप खराब हो गए हैं।

हालांकि अनुसंधान दल ने बड़ी संख्या में ऐसे प्रोटीनों की पहचान की, जिन्हें कोविड-19 के रोगियों में बदल दिया गया था, उन्होंने निर्धारित किया कि 32 प्रोटीनों में से किसी की उपस्थिति जो कोविड संक्रमण के दौरान खराब हो जाती है, ने संकेत दिया कि रोगियों को वेंटिलेटर से सांस लेने में सहायता की जरूरत होगी।

उन्होंने अन्य पांच प्रोटीनों की पहचान की, जो वायरस के परिणामस्वरूप रक्त प्लाज्मा में परिवर्तित पाए जाने पर रोगी के लिए मृत्यु की आशंका का संकेत देते हैं।क्रंचगा ने कहा, जिन प्रोटीनों की हमने पहचान की, उनमें से कई सूजन और शरीर की प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया से संबंधित थे। 

लेकिन इन प्रोटीनों के एक सबसेट ने संभावना जताई कि रोगियों को वेंटिलेशन की जरूरत होगी। इन प्रोटिओमिक्स दृष्टिकोणों का उपयोग करके अब हमारे पास एक ऐसी पद्धति है, जो हमें समस्याओं की भविष्यवाणी करने की अनुमति देती है और यह रोजाना अभ्यास के लिए बहुत महत्वपूर्ण हो सकती है।

अपने निष्कर्षो का और परीक्षण करने के लिए शोधकर्ताओं ने बोस्टन में मैसाचुसेट्स जनरल अस्पताल में 297 कोविड-19 रोगियों और 76 नियंत्रणों से समान प्रोटिओमिक्स डेटा का अध्ययन किया और पाया कि समान प्रोटीन ने वेंटिलेटर की अंतिम जरूरत और रोगियों के दोनों समूहों में मृत्यु की आशंका का संकेत दिया।

 

Tags: Omicron Variant , Delta Plus Covid variant , Delta Covid-19 variant , Coronavirus , Health , Research , Study , Researchers , COVID 19 , Novel Coronavirus , Fight Against Corona , Covaxin , Covishield , Oxygen , SARS-CoV-2 , Sputnik V , Oxygen Plants , Pfizer , Astra Zeneca , Oxygen Concentrator , Remdesivir , Liquid Medical Oxygen , Oximeter

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD