Saturday, 24 February 2024

 

 

खास खबरें एस बी एस पब्लिक स्कूल में हुआ पैनासॉनिक “हरित उमंग- जॉय ऑफ़ ग्रीन” का सफल आयोजन PEC त्रिदिवसीय वर्कशॉप का सफलतापूर्वक समापन किया PEC स्टूडेंट निशिता ने स्वरचित रचना से जीता IGNUS 24 फेस्ट में दूसरा स्थान IIT रोपड़ के टेक्निकल फेस्ट में PEC छात्रों ने अपने नाम किये कई ईनाम 'PEC में दोबारा आना एक यादगारी अनुभव है' : कपिलेश्वर सिंह बीजेपी हम पर इंडिया गठबंधन छोड़ने का दबाव बना रही है, वे जल्द अरविंद केजरीवाल को गिरफ्तार करने की योजना बना रहें : आप पंजाब द्वारा दुबई में ‘गल्फ-फूड 2024’ के दौरान फूड प्रोसेसिंग की उपलब्धियाँ और संभावनाओं का प्रदर्शन, निवेश के लिए न्योता कैबिनेट मंत्री ब्रम शंकर जिंपा ने 27 फार्मासिस्टों व 28 को क्लीनिक असिस्टेंटों को सौंपे नियुक्ति पत्र 1900 रुपए मानदेय बढ़ाने के लिए कंप्यूटर अध्यापकों ने मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू का आभार व्यक्त किया ब्रिटिश उच्चायोग और हिमाचल प्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन के प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू से भेंट की 'क़ैद - नो वे आउट' - प्यार, दुर्व्यवहार और उस से बाहर निकलने की एक मनोरंजक कहानी चितकारा यूनिवर्सिटी में "चितकारा लिट फेस्ट 2024"' विद्युत जामवाल की ''क्रैक- जीतेगा तो जियेगा' एक्शन फिल्मों की सूची में सबसे ऊपर मुख्यमंत्री के नेतृत्व में पंजाब मंत्रिमंडल द्वारा एक मार्च से 15 मार्च तक बजट सत्र बुलाने की मंजूरी पंजाब में स्वास्थ्य सेवाओं में आया क्रांतिकारी बदलावः ब्रम शंकर जिंपा डाइट मनी में पांच गुणा बढ़ोतरी पर मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू का आभार व्यक्त किया PEC के विद्यार्थियों ने IGNUS 2024 में दिखाए अपने जौहर मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने ‘हिमाचल प्रदेश लैंड कोड’ के नवीन संस्करण का अनावरण किया पीईसी चंडीगढ़ के गणित विभाग ने हालिया प्रगति पर दो दिवसीय कार्यशाला आयोजित की गई ऑनलाइन जॉब फ्रॉड रैकेट: पंजाब पुलिस की साईबर क्राइम डिवीजऩ ने असम से चार साईबर धोखेबाज़ों को किया गिरफ़्तार एलपीयू, आईआईटी और अन्य विश्वविद्यालयों को पछाड़ते हुए भारत में अग्रणी पेटेंट फाइलर के रूप में उभरा

 

छोटे मामलों पर समय बर्बाद करने और बेकार जांच के लिए सीबीआई की होती रही है कड़ी आलोचना

Central Bureau of Investigation, CBI, New Delhi, CBI News, CBI Drain Inspector
Listen to this article

Web Admin

Web Admin

5 Dariya News

नई दिल्ली , 09 Apr 2023

केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की नालियां खंगालने वाली एजेंसी की छवि के कारण उसकी आलोचना की जाती रही है। एजेंसी ज्यादातर 'छोटी मछलियों' को पकड़ने पर ध्यान देती है जबकि बड़े भ्रष्टाचार के मामलों की जांच प्रवर्तन निदेशालय करता है, जो धन शोधन निवारण अधिनियम से लैस है।

सीबीआई को कभी देश की प्रमुख भ्रष्टाचार-रोधी एजेंसी माना जाता था, अब इसे प्रवर्तन निदेशालय के एक कमजोर चचेरे भाई के रूप में जाना जाता है। जैसे-जैसे मामले आगे बढ़ते हैं, सीबीआई की जांच में गुणवत्ता की कमी पाई जाती है। हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट में उसके द्वारा प्रस्तुत साक्ष्य अक्सर कमजोर होते हैं।

आलोचकों का तर्क है कि हाई-प्रोफाइल भ्रष्टाचार के मामलों से प्रभावी ढंग से निपटने में असमर्थता के कारण सीबीआई की प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचा है। एजेंसी पर बहुत अधिक राजनीतिक होने का आरोप लगता रहा है। स्वायत्तता की कथित कमी के कारण इसका नेतृत्व संवीक्षा के दायरे में आ गया है।

इसके विपरीत, हाई-प्रोफाइल मामलों, विशेष रूप से मनी लॉन्ड्रिंग से संबंधित मामलों को निपटाने में इसकी सफलता के लिए प्रवर्तन निदेशालय की प्रशंसा हुई है। एजेंसी वित्तीय गड़बड़ी के लिए दोषी पाए गए व्यक्तियों और कंपनियों के खिलाफ मजबूत सजा और भारी जुर्माना लगाने के फैसले अपने पक्ष में हासिल करने में सफल रही है।

सीबीआई की प्रतिष्ठा में गिरावट भारत के लिए चिंता का विषय है, क्योंकि देश में भ्रष्टाचार एक प्रमुख मुद्दा बना हुआ है। एक मजबूत और स्वायत्त भ्रष्टाचार विरोधी एजेंसी के बिना, भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई लड़खड़ा सकती है, जिससे देश की अर्थव्यवस्था तथा प्रतिष्ठा को और अधिक नुकसान हो सकता है।

केंद्रीय सतर्कता आयोग (सीवीसी) की अगस्त 2022 में जारी रिपोर्ट में कहा गया है कि 31 दिसंबर 2021 तक सीबीआई द्वारा जांच किए गए भ्रष्टाचार के 6,697 मामले विभिन्न अदालतों में लंबित थे, जिनमें से 275 मामले तो 20 साल से ज्यादा पुराने हैं।अन्य 1,939 मामले भी 10 साल से अधिक पुराने हैं। 

कुल 2,273 मामले पांच से 10 साल पुराने हैं जबकि 811 मामले तीन से पांच साल पुराने हैं। शेष 1,399 मामले तीन साल से कम समय से लंबित थे।सीवीसी की वार्षिक रिपोर्ट में कहा गया है, आयोग सीबीआई के साथ मासिक बैठकों के दौरान विभिन्न अदालतों में लंबी अवधि से लंबित मामलों की बड़ी संख्या पर ध्यान देता है।

रिपोर्ट में बताया गया है कि उच्च न्यायालयों और उच्चतम न्यायालय में कुल 10,974 अपीलें और पुनरीक्षण याचिकाएं लंबित थीं। कुल 9,935 अपीलों में से 9,698 उच्च न्यायालयों में और 237 उच्चतम न्यायालय में थीं। उच्च न्यायालयों में 1,039 पुनरीक्षण याचिकाएं लंबित हैं।

हालांकि, पिछले सप्ताह गुरुवार को कार्मिक, लोक शिकायत और पेंशन राज्य मंत्री जितेंद्र सिंह ने लोकसभा में एक लिखित जवाब में कहा कि सीबीआई की सजा दर 2022 में 74.59 प्रतिशत हो गई है जो 2018 में 68 प्रतिशत थी।सीबीआई की सजा दर 2018 में 68 प्रतिशत, 2019 में 69.19 प्रतिशत, 2020 में 69.83 प्रतिशत, 2021 में 67.56 प्रतिशत और 2022 में 74.59 प्रतिशत थी।

मंत्री ने कहा कि सजा की दर में सुधार के लिए सीबीआई ने जांच के लिए वैधानिक मदद लेने और सर्वोत्तम संभव साक्ष्य जुटा कर अदालत में पेश करने की रणनीति अपनाई है।लोकसभा में 3 अप्रैल को एक सवाल के जवाब में सिंह ने कहा था कि सीबीआई ने 2018 से अब तक 166 सिविल सेवा अधिकारियों के खिलाफ 110 मामले दर्ज किए हैं।

 

Tags: Central Bureau of Investigation , CBI , New Delhi , CBI News , CBI Drain Inspector

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD