Monday, 22 July 2024

 

 

खास खबरें तापसी पन्नू के लिए क्यों खास है अगस्त महीना नगर निकायों में पार्किंग, फुटपाथ तथा शौचालय बनाने पर करें फोक्स: हेमराज बैरवा प्लानिंग के तहत विकास कार्यों के यूसी पोर्टल पर करें अपलोड : हेमराज बैरवा शहीद स्मारक में निरीक्षण को पहुंचे पूर्व मंत्री अनिल विज ने तालियां बजाते हुए स्टैच्यू डिजाइन कर रहे कारीगरों का उत्साह बढ़ाया पार्क हॉस्पिटल में पार्किंसनिज़्म उपचार में नवाचार डीबीएस का इस्तेमाल शुरू हरियाणा में सरकारी स्कूलों के प्रति बढ़ रहा है आमजन का विश्वास : शिक्षा मंत्री सीमा त्रिखा प्रदेश की समृद्धि व खुशहाली के लिए जनता की समस्याएं दूर होनी जरूरी : महिपाल ढांडा केजरीवाल की हरियाणा को पांच गांरटी, सरकार बनी तो मुफ्त और 24 घंटे मिलेगी बिजली हरियाणा में कचरे के निस्तारण की दिशा में अहम कदम, राज्य में स्थापित होंगे वेस्ट-टू-चारकोल के दो प्लांट मुख्यमंत्री नायब सिंह सैनी ने हिसार में महाराजा दक्ष प्रजापति जयंती राज्य स्तरीय समारोह में लगाई घोषणाओं की झड़ी राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय से पैरा क्रिकेटर आमिर हुसैन लोन ने राजभवन में की मुलाकात मुख्यमंत्री नायब सिंह ने हिसार से मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा योजना के तहत बस को हरी झंडी दिखाकर किया रवाना मुख्यमंत्री सुख-आश्रय कोष में 1.5 करोड़ रुपये का अंशदान कैबिनेट मंत्री ब्रम शंकर जिंपा ने जनता दरबार में सुनी लोगों की शिकायतें हर घर तक पीने वाला स्वच्छ पानी मुहैया करवाना सरकार की मुख्य प्राथमिकता : ब्रम शंकर जिंपा होशियारपुर वासियों की हर समस्या का समयबद्ध तरीके से किया जा रहा है समाधान : ब्रम शंकर जिंपा मनजिंदर सिंह सिरसा के नेतृत्व में एक उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल ने हरियाणा के मुख्यमंत्री नायब सिंह सैनी का सन्मान श्री गुरु साहिबान द्वारा सद्भाव और भाईचारे के दिखाए मार्ग पर चलना ही गुरुओं के प्रति हमारी सच्ची श्रद्धा का प्रतीक : नायब सिंह सैनी अग्निवीरों के कल्याण के लिए हरियाणा सरकार द्वारा चलाई योजना पर प्रधानमंत्री ने दिखाई विशेष रूचि मुख्यमंत्री नायब सिंह सैनी ने फिर किसान हितैषी होने का दिया परिचय नवनिर्वाचित विधायक हरदीप सिंह बावा ने मुख्यमंत्री सुखविंद्र सिंह सुक्खू से की भेंट

 

3 साल में 270 हाथियों को करंट, अवैध शिकार, दुर्घटनाओं का होना पड़ा शिकार

Hadsa India, Hadsa, New Delhi, Hadsa New Delhi, Elephant, Elephants, Elephants Death
Listen to this article

5 Dariya News

5 Dariya News

5 Dariya News

नई दिल्ली , 19 Mar 2023

भले ही सरकार ने वन्यजीवों के संरक्षण पर ध्यान केंद्रित किया है, लेकिन मानव-वन्यजीव संघर्ष के चलते मनुष्यों और जानवरों दोनों के जीवन का नुकसान हुआ है। करंट लगने, जहर देने आदि के शिकार होकर बड़ी संख्या में हाथियों की जान जा चुकी है।

पर्यावरण और वन मंत्रालय से मिली जानकारी के अनुसार, 2019-20 और 2021-22 के बीच बिजली के झटके और अन्य कारणों से बड़ी संख्या में हाथी मारे गए। आंकड़ों में कहा गया है कि इसी अवधि के दौरान देश भर में कुल 198 हाथियों को करंट लगने से, 41 को ट्रेनों से, 27 को शिकारियों द्वारा और 8 को जहर देकर मार दिया गया।

दूसरी ओर बड़ी संख्या में मनुष्य भी संघर्ष का शिकार बने और उनकी मृत्यु हुई। हाथियों ने तीन साल में 1,579 इंसानों को मौत के घाट उतारा। 2019-20 में 585, 2020-21 में 461 और 2021-22 में 533 लोगों को मार डाला। जहां तक राज्यों का संबंध है, ओडिशा में सबसे अधिक 322 मौतें दर्ज की गईं, इसके बाद झारखंड में 291, पश्चिम बंगाल में 240, असम में 229, छत्तीसगढ़ में 183 और तमिलनाडु में 152 मौतें हुईं।

जहां तक हाथियों की मौत का सवाल है, बिजली के झटके से हुई 198 हाथियों में से असम में 36, ओडिशा में 30 और तमिलनाडु में 29 मौतें दर्ज की गई। असम (41 में से 15) में भी सबसे ज्यादा हाथियों की मौत ट्रेन से हुई है, इसके बाद ओडिशा (8) और पश्चिम बंगाल (5) का स्थान है। मेघालय (11) में अवैध शिकार से सबसे ज्यादा मौतें हुईं, जबकि जहर से सबसे ज्यादा मौतें असम (7) में हुईं। 

25 जुलाई को संसद में मंत्रालय ने कहा कि मानव-वन्यजीव संघर्षों के आकलन से पता चलता है कि मुख्य कारणों में निवास स्थान का नुकसान, जंगली जानवरों की आबादी में वृद्धि, खेती के लिए जंगली जानवरों को आकर्षित करने वाले बदलते फसल पैटर्न, भोजन और चारे के लिए जंगलों से मानव प्रभुत्व वाले परि²श्य में जंगली जानवरों की आवाजाही, मानव की आवाजाही, वन उपज के अवैध संग्रह के लिए मनुष्यों का जंगलों में जाना, आक्रामक विदेशी प्रजातियों के विकास के कारण निवास स्थान का क्षरण आदि शामिल हैं।

पर्यावरण और वन पर संसद की स्थायी समिति ने अपनी मार्च, 2023 की रिपोर्ट में मानव-पशु संघर्ष पर ध्यान दिया। कमिटी ने कहा कि प्रोजेक्ट टाइगर और प्रोजेक्ट एलिफेंट वन्यजीव संरक्षण से संबंधित मंत्रालय की पहलों के लिए महत्वपूर्ण हैं, न केवल पारिस्थितिक ²ष्टिकोण से बल्कि इसके सामाजिक और आर्थिक मूल्य के लिए भी।

पैनल ने अपनी रिपोर्ट में कहा, मंत्रालय की पहल, या इसकी कमी का सीधा असर न केवल परियोजना पर बल्कि इन संवेदनशील क्षेत्रों में रहने वाली मानव आबादी पर भी पड़ता है। मानव-पशु संघर्षों की बढ़ती रिपोटरें के साथ, यह और भी महत्वपूर्ण हो जाता है कि मंत्रालय इन परियोजनाओं पर अपना ध्यान केंद्रित करे और आवश्यक व्यय को पूरा करने के लिए अधिक धन आवंटित करे। 

इसलिए समिति सिफारिश करती है कि मंत्रालय यह सुनिश्चित करे कि 2022-23 में आवंटित धन का सही उपयोग किया जाए। इसके अलावा, मंत्रालय को इस शीर्ष के अंतर्गत अतिरिक्त आवंटन की मांग करनी चाहिए ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि संरक्षण के लिए पैसों की कमी न हो।

मंत्रालय के अनुसार, मंत्रालय द्वारा राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों को 'वन्यजीव आवासों के विकास', 'प्रोजेक्ट टाइगर' और 'प्रोजेक्ट एलीफेंट' की केंद्र प्रायोजित योजनाओं के तहत वाटर होल के निर्माण और रखरखाव, मिट्टी और नमी संरक्षण उपायों, अवैध शिकार विरोधी शिविरों की स्थापना, वन्यजीव पशु चिकित्सा देखभाल को मजबूत करना, खरपतवारों का उन्मूलन, फायर लाइन का निर्माण और रखरखाव, बाघ सुरक्षा बल और विशेष बाघ संरक्षण बल की तैनाती आदि जैसी गतिविधियों के लिए वित्तीय सहायता प्रदान की जाती है।

हाथियों के संरक्षण में ध्यान केंद्रित करने और तालमेल के लिए और संघर्ष को कम करने के लिए महत्वपूर्ण हाथियों के आवासों को 'एलीफेंट रिजर्व' के रूप में अधिसूचित किया गया है। अधिसूचना मंत्रालय में गठित संचालन समिति के अनुमोदन से की जाती है। प्रमुख हाथी राज्यों में अब तक 32 हाथी रिजर्व स्थापित किए जा चुके हैं।

 

Tags: Hadsa India , Hadsa , New Delhi , Hadsa New Delhi , Elephant , Elephants , Elephants Death

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD