Sunday, 14 April 2024

 

 

खास खबरें राज्यपाल शिव प्रताप शुक्ल ने प्रदेश की प्रगति में योगदान देने वाले हाई फ्लायर्स को सम्मानित किया मलायका और नारीफर्स्ट की एकता ने डॉ. रूपिंदर और ईशा को प्रदान की ज्वेल ऑफ इंडिया ट्रॉफी ज़ी पंजाबी सितारे केपी सिंह और ईशा कलोआ टाइम्स फूड एंड नाइटलाइफ़ अवार्ड्स 2024 में अतिथि के रूप में शामिल हुए एलपीयू ने क्यूएस वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग-2024 में शीर्ष स्थान हासिल किये इंडस पब्लिक स्कूल में वैसाखी पर लगी रौनकें, छात्रों ने पेश किए रंगारंग प्रोग्राम किड्जी बेला ने बैसाखी का त्योहार पारंपरिक हर्षोल्लास के साथ मनाया इलेक्ट्रिक व्हीकल होंगे सस्ते, पॉवरफुल और अधिक सुरक्षित PEC स्टूडेंट्स ने सास उद्योग का जश्न मनाते हुए, भारत सास यात्रा में लिया हिस्सा डोल्से गब्बाना ड्रेस और रोलेक्स घड़ी में नजर आईं उर्वशी रौतेला ने लोगों का दिल जीता केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले की मौजूदगी में फ़िल्म "गौरैया लाइव" का शानदार प्रीमियर एआई की दुनिया मे आयी एक क्रांति! रोबॉटिक मशीन चंद मिनटों में खाना बनाकर कर देगा आपको हैरान असम में आप उम्मीदवारों के लिए मुख्यमंत्री भगवंत मान ने जनसभा करते की अपील ,1 नंबर वाला झाड़ू का बटन दबा कर असम में लाएं बदलाव बोली टप्पों के साथ मलोया में महिलाओं के जत्थे ने किया भाजपा प्रत्याशी संजय टंडन का प्रचार प्रसार बढ़ रहा है भाजपा परिवार- यह देखकर खुशी हो रही है कि पूरे पटियाला जिले से सैकड़ों लोग रोजाना हमारे साथ जुड़ रहे हैं: परनीत कौर सीजीसी लांडरां में हर्षोल्लास के साथ मनाई गई बैसाखी विजीलैंस ब्यूरो ने बीडीपीओ को 30 हजार रुपये रिश्वत लेते हुए किया गिरफ्तार पारंपरिक मेलों की तरह लोकतंत्र के पर्व में भी जरूर लें हिस्सा: डी.सी. हेमराज बैरवा किसानों के लिए किसी ने गारंटी दी और उस गारंटी को पूरा किया वो चौधरी देवीलाल ने किया: अभय सिंह चौटाला भाजपा को अरविंद केजरीवाल से डर लगता है, वे राष्ट्रपति शासन के जरिए दिल्ली में पिछले दरवाजे से प्रवेश चाहते हैं: आप हरियाणा के राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय ने दिल्ली में श्री लाल कृष्ण आडवाणी से की मुलाकात पात्र व्यक्ति 26 अप्रैल तक बनवा सकते हैं वोट : जिला निर्वाचन अधिकारी राहुल हुड्डा

 

हाथियों के लिए काल साबित हो रहे बिजली के बाड़

Khas Khabar, Tamil Nadu, Chennai, Elephant, Elephants, Elephants Death
Listen to this article

Web Admin

Web Admin

5 Dariya News

चेन्नई , 19 Mar 2023

तमिलनाडु के धर्मपुरी जिले के काली कोट्टा गौंडर गांव में 7 मार्च की तड़के तीन मादा हाथियों की करंट से मौत हो गई। हाथियों मृत शरीर के पास उनके नौ माह के बच्चे देखे गए। वन विभाग की जांच में सामने आया कि एक किसान द्वारा अपनी फसलों को जंगली सूअरों और हाथियों के हमले से बचाने के लिए लगाए गए अवैध बिजली के बाड़ के संपर्क में आने से हाथियों की मौत हो गई।

पुलिस ने आरोपी किसान मुरुगन (48) को गिरफ्तार कर न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। तमिलनाडु के वन विभाग ने तुरंत घोषणा की कि जिन किसानों ने अवैध बिजली के बाड़ लगाए हैं, जिससे हाथियों और जंगली जानवरों की मौत हुई है, उन पर गुंडा अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया जाएगा। 

ये बिजली के बाड़ अवैध रूप से लगाए गए हैं। इन पर उच्च वोल्टेज की बिजली प्रवाहित की जा रही है। इनके संपर्क में आने से जानवरों की मौत हो जाती है। एक अन्य मुद्दा तमिलनाडु जनरेशन एंड डिस्ट्रीब्यूशन कॉरपोरेशन (टैंगेडको) की वन भूमि से सटे क्षेत्रों से गुजरने वाली विद्युत लाइनों की निगरानी करने और जांचने में विफलता है कि बाड़ के लिए अवैध कनेक्शन लिए गए हैं या नहीं। 

धर्मपुरी जिले में तीन मादा हाथियों की करंट लगने की दुखद घटना के बाद, टैंगेडको के अधिकारियों ने वन लाइनों के साथ-साथ गुजरने वाली विद्युत लाइनों की निगरानी और ट्रैकिंग शुरू कर दी है। मानव-पशु संघर्ष, विशेष रूप से हाथियों के साथ संघर्ष, नीलगिरी, धर्मपुरी और कृष्णागिरी जैसे जिलों में बढ़ रहे हैं, जहां किसान जंगली हाथियों द्वारा हमलों की शिकायत कर रहे हैं और एक सप्ताह में औसतन कम से कम एक किसान की मौत हो रही है।

तमिलनाडु पुलिस के साथ राज्य के वन विभाग ने किसानों और स्थानीय लोगों को सुबह-शाम वन क्षेत्रों में नहीं जाने के लिए जागरूक कर रहे हैं। धर्मपुरी के वैज्ञानिक और वन्यजीव शोधकर्ता आर. अनंतकृष्णन ने आईएएनएस से बात करते हुए कहा, हाथी घटते जल संसाधनों के कारण भोजन और पानी की तलाश में मानव बस्तियों में आते हैं। 

साथ ही, गुड़ सहित चावल, कटहल और अन्य खाद्य पदार्थ खाना भी उनको पसंद है। उन्होंने कहा, लोगों को वन सीमा के करीब रहने में सतर्क रहना होगा और हाथी बार-बार भोजन की तलाश में आएंगे। वन विभाग को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि वन भूमि में जल संसाधन कम न हों और कटहल और अन्य फलों की खेती करने का प्रयास करें, ताकि हाथियों को उनके आवासों में सीमित रखा जा सके।

उन्होंने यह भी कहा कि वन भूमि के अतिक्रमण का व हाथियों के रास्ते में बसना, हाथियों के मानव बस्तियों में घुसने और उनके साथ संघर्ष के दो मुख्य कारण हैं। हाथियों के मानव बस्तियों तक पहुंचने का मुख्य कारण उनका सिकुड़ता आवास रहा है। 

इसके कारण उनका मानवों के साथ सीधा संघर्ष हो रहा है। एक और दुखद बात यह है कि चलती ट्रेनों की चपेट में आने से हाथियों की जान चली जाती है। कांजीकोड-मदुक्कराई रेलवे ट्रैक में, दो रेलवे ट्रैक लाइनें, ए और बी वन भूमि से गुजरती हैं। 

2016 में चलती ट्रेन की चपेट में आने से सात हाथियों की मौत हो गई थी। हाथियों को ट्रेनों की चपेट में आने से रोकने के लिए लोको पायलटों को चेतावनी देने को साइन बोर्ड, ट्रैक के किनारों पर वनस्पतियों की सफाई, गति प्रतिबंध (दिन के समय 65 किमी प्रति घंटे और रात के समय में 45 किमी प्रति घंटा), ऊंचे तटबंधों पर हाथी रैंप, हाथियों को भगाने के लिए रोशनी आदि कदम उठाए गए हैं।

दक्षिण रेलवे के पलक्कड़ डिवीजन के अधिकारी, जो कांजीकोड-मदुक्कराई ट्रैक का प्रबंधन कर रहे हैं, ने भी कहा कि रेलवे और वन विभाग के अधिकारियों का व्हाट्सएप ग्रुप भी ट्रेनों की चपेट में हाथियों को आने से रोकने का एक प्रयास है।

मानव-हाथी संघर्ष बढ़ने को रोकने के लिए तमिलनाडु वन विभाग द्वारा प्रयास किए जा रहे हैं। इसके लिए वन सीमाओं के करीब रहने वाले लोगों के बीच नियमित जागरूकता पैदा की जाती है। इसके अलावा भी अन्य कई सख्त कदम उठाए जा रहे हैं।

 

Tags: Khas Khabar , Tamil Nadu , Chennai , Elephant , Elephants , Elephants Death

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD