Thursday, 23 May 2024

 

 

खास खबरें प्रवासियों के खिलाफ है कांग्रेस : संजय टंडन अग्निपथ योजना पर कांग्रेस का दोहरा मापदंड : संजय टंडन शहर के बीचों-बीच बाजारों में चले गुरजीत सिंह औजला प्रधानमंत्री मोदी की फतेह रैली का गवाह बने पटियाला के एक लाख से अधिक लोग पंजाब में बिजली को लेकर हाहाकार : विजय इंदर सिंगला आम आदमी पार्टी के प्रदेश सचिव संजीव राही सहित सुपर्णा शर्मा व कई नेता भाजपा में शामिल पंजाब में लगातार मजबूत हो रही आप, शिरोमणि अकाली दल और कांग्रेस को बड़ा झटका! कई बड़े नेता आप में शामिल भगवंत मान जी, महिलाओं को एक हजार रुपये महीना कब मिलेगा? : गुरजीत सिंह औजला प्रधानमंत्री को लोगों को उनकी पार्टी के लिए मतदान के लिए डराने के बजाय यह बताना चाहिए कि वे देश को आगे कैसे लेकर जाएंगी : सुखबीर सिंह बादल लुधियाना पूर्वी में चुनाव अभियान के दौरान राजा वड़िंग ने बदलाव की वकालत की 'जुमलेबाजों' और उनकी 'जुमलेबाजी' से सावधान रहें : अमरिन्दर सिंह राजा वड़िंग श्री आनंदपुर साहिब की आवाज संसद में उठाऊंगा: डा. सुभाष शर्मा श्री आनंदपुर साहिब के बहुमुखी विकास के लिए डॉ. सुभाष शर्मा ने जारी किया संकल्प पत्र इंडोनेशियाई प्रतिनिधि सभा और अंतर-संसदीय संघ द्वारा 10वें विश्व जल मंच पर संसदीय बैठक का आयोजन किया गया जीनगर समाज के लिए कलस्टर बनाकर रोजगार को देंगे बढ़ावा:एन.के.शर्मा मैं आज जो कुछ भी हूं वह सभी बरनाला निवासियों के सहयोग और समर्थन के कारण हूं: मीत हेयर आने वाले समय में हमारा देश अन्नदाता से ऊर्जा दाता,ईंधन दाता बनेगा-गडकरी राइटरस अकसर नजरअंदाज हो जाते हैं - अभिनय देओ भगवान बुद्ध की शिक्षाएं आज और भी अधिक प्रासंगिक: राज्यपाल शिव प्रताप शुक्ल कमीशनिंग प्रक्रिया के बाद स्ट्रांग रूम में रखी जाएंगी ईवीएम-वीवीपैट: डी.सी. हेमराज बैरवा पीओके हमारा है और वहां तिरंगा फहराना हैःजतिंदर पाल मल्होत्रा

 

भक्ति से ही प्रभु परमात्मा के साथ गहरा नाता बन सकता है - निरंकारी सतगुरु माता सुदीक्षा जी महाराज

Nirankari, Satguru Mata Sudiksha ji Maharaj, Sant Nirankari charitable Foundation, Sant Nirankari Mission
Listen to this article

Web Admin

Web Admin

5 Dariya News

पंचकूला , 06 Jan 2023

भक्ति से ही प्रभु परमात्मा के साथ  गहरा नाता  बन जाता है।यह उदगार निरंकारी सतगुरु माता सुदीक्षा जी महाराज ने स्थानीय निरंकारी सत्संग भवन खानकोट अमृतसर में हुए विशाल सन्त  समागम के दौरान  हजारों की गिनती में पहुंचे श्रद्धालुओं को आशीर्वाद देते हुए कहे।उन्होंने कहा कि भक्त केवल भक्ति ही मांगते हैं। 

भक्त भक्ति कोई शारीरिक सुख या भौतिक सुखों को बढ़ाने की मांग के लिए नहीं करते  हैं। भक्त  सारे संसार के लिए सुख मांगते हैं। वे यह भी मांग करते हैं कि हर एक को इस निरंकार प्रभु परमात्मा की जानकारी  प्राप्त हो, जिससे सबका जीवन  स्थिर, लालसा रहित और प्रीत प्यार वाला बन सके। 

उन्होंने "हाथ काम की ओर, और दिल निरंकार से जोड़ने" की बात को  विस्तृत करते हुए कहा कि हमें रोजमर्रा की जिंदगी में हर कार्य को करते हुए निरंकार को समर्पित करने के भाव  को अपनाना है। उन्होंने कहा कि भक्त चेतन रहते हुए भक्ति करें क्योंकि वे गृहस्थ, परिवार, समाज में संसार में रहकर अपने फर्ज निभाते हैं। 

परमात्मा को जानने के लिए अंधविश्वास की कोई जगह नहीं होती, इसलिए भक्त इसकी हर रचना को शुभ मानते हैं जिसके चलते वे ब्रह्मज्ञान को जीते जी अपनाते हैं और भ्रमों से मुक्त हो जाते हैं। सतगुरु माता सुदीक्षा जी महाराज ने आगे फरमाया कि ब्रहमज्ञान इंसान को जीते जी भ्रमों से मुक्त करता है। 

उन्होंने कहा कि हमारे मन का नाता जब इस परमात्मा से इकमिक हो जाता है तो भक्ति दृढ़ हो जाती है। तत्पश्चात भक्ति किसी  लालसा के लिए नहीं की जाती। उन्होंने आगे फरमाया कि सत्संग में आकर ही हमारे मन के भाव सकारात्मक हो जाते हैं। इस वर्ष 75 वे निरंकारी संत समागम के मुख्य विषय "इंसानियत और रूहानियत संग संग" में नियत समान भाव को प्रकट करता है। 

जिसका भाव है कि मन का नाता जब इस प्रभु परमात्मा से  जुड़ जाता है तो हमारे इंसानी जीवन के सभी भाव सकारात्मक बन जाते हैं।उन्होंने आगे फरमाया की सेवा सिमरन सत्संग के तीनों पहलुओं से मन निरंकार  से जुड़ा रहता है। सेवा का भाव आए तो सेवा की जा सकती है। सत्संग के साथ सन्तमति को अपनाया  जा सकता है। निंदा, नफरत को छोड़कर सत्संग से अच्छे गुण प्राप्त होते हैं।

उन्होंने आगे कहा कि ब्रहमज्ञान प्राप्त करने  के उपरांत बेशक जीवन में कोई  भी दुख आए, परंतु उस दुख के प्रति एहसास बदल जाता है कि परमात्माजो  भी कर रहा है बिल्कुल अच्छे के लिए ही कर रहा है। इसी बात को आगे बढ़ाते हुए उन्होंने कहा कि बेशक हम किसी महल में रहते हो या झोपड़ी में कैसी भी परिस्थिति हो प्रत्येक परिस्थिति में शुक्राने का भाव बना रहता है। 

कोई शिकवा शिकायत के भाव नहीं रहते, जिसके  कारण हमारा जीवन संसार के लिए वरदान बन जाता है। सतगुरु माता जी के प्रवचनों से पूर्व निरंकारी राजपिता रमित  जी ने फरमाया कि जिस प्रकार से युगो युगो से सभी संतो भक्तों ने समझाया कि इंसान द्वारा बनाई नफरत की दीवारें सिर्फ ब्रहमज्ञान के द्वारा ही मिट सकती है।

भौतिक दीवारों को  तो सांसारिक वस्तुओं के साथ तोड़ा जा सकता है,परंतु अज्ञानता एवं नफरत की दीवारें ब्रहमज्ञान की रौशनी के द्वारा ही मिटाई जा सकती हैं। इस अवसर पर एच एस चावला जी, मेंबर इंचार्ज ब्रांचे तथा राकेश सेठी जी, जोनल  इंचार्ज अमृतसर ने अपनी  साध संगत की और से सतगुरु माता सुदीक्षा जी महाराज एवं निरंकारी राजपिता रमित जी का अमृतसर में पहुंचने पर आभार प्रकट किया। 

उन्होंने स्थानीय पुलिस प्रशासन, सिविल प्रशासन, राजनीतिक सामाजिक तथा धार्मिक संस्थाओं के भरपूर सहयोग के लिए सभी का धन्यवाद किया।

 

Tags: Nirankari , Satguru Mata Sudiksha ji Maharaj , Sant Nirankari charitable Foundation , Sant Nirankari Mission

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD