Saturday, 02 March 2024

 

 

खास खबरें सीजीसी के बायोटेक्नोलॉजी डिपार्टमेंट ने एफडीपी का आयोजन किया एलपीयू ने खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स की ओवरऑल फर्स्ट रनर अप ट्रॉफी जीती PEC के फैकल्टी मेंबर को बॉम्बे आर्ट सोसाइटी द्वारा किया गया सम्मानित डा. बी. आर. अम्बेडकर स्टेट इंस्टीट्यूट आफ मैडीकल सायंसज़ मोहाली को जल्द मिलेगा 6 बैडों वाला आई. सी. यू. मुख्यमंत्री ने कसौली विधानसभा क्षेत्र में 88.78 करोड़ रुपये की 13 विकास परियोजनाओं के लोकार्पण एवं शिलान्यास किए सांसद संजीव अरोड़ा ने डीसी के साथ लुधियाना के विकास कार्यों पर की चर्चा राज्यपाल का भाषण रोकने का यत्न करके कांग्रेस ने पवित्र सदन का अपमान किया : हरपाल सिंह चीमा 8 हजार रुपए रिश्वत लेता ए.एस.आई. विजीलैंस ब्यूरो ने किया गिरफ्तार हिमाचल प्रदेश मंत्रिमण्डल के निर्णय कांग्रेस की सरकार खो चुकी है बहुमत, अपने कर्मों से हुई है उसकी यह स्थिति : जयराम ठाकुर सरूप रानी महिला महाविधालय मे करवाया जिला स्तरीय पड़ोस युवा संसद कार्यक्रम का आयोजन खेल से होता है बच्चों का मानसिक एवं शारीरिक विकास : हरचंद सिंह बरसट संजीव अरोड़ा ने हरचंद सिंह बरसट, डॉ. गोसल और अन्य के साथ मातृभाषा पंजाबी पर प्रकाश डालते हुए महत्वपूर्ण कार्य किये शुरू डिप्टी स्पीकर जय कृष्ण सिंह रौढ़ी ने 11.79 करोड़ रुपए की लागत से माहिलपुर में पानी व सीवरेज के प्रोजैक्ट की करवाई शुरुआत ‘आप दी सरकार आप दे दुआर’- कैबिनेट मंत्री ब्रम शंकर जिंपा ने गांव शेरगढ़ में लगे कैंप का लिया जायजा अतिरिक्त मुख्य चुनाव अधिकारी पंजाब ने लोक सभा चुनाव 2024 की तैयारियों का लिया जायजा अकाली और कांग्रेसी सरकारों ने सोची-समझी साजिश के अंतर्गत पंजाब की सरकारी संस्थाएं तबाह की : भगवंत सिंह मान बादल परिवार ने अपने निजी लाभों के लिए पंजाब के लोगों के करोड़ों रुपए लूटे : भगवंत सिंह मान स्वास्थ्य सेवा में क्रांतिकारी बदलाव लाई है आम आदमी क्लीनिकः ब्रम शंकर जिंपा एलपीयू ने खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स की ओवरऑल फर्स्ट रनर अप ट्रॉफी जीती फ़र्ज़ी विजीलैंस अधिकारी बन कर किसान के साथ धोखाधड़ी करने के मामले में भगौड़ा मुलजिम पिन्दर सोढी विजीलैंस ब्यूरो द्वारा गिरफ़्तार

 

निरंकारी सत्गुरु का नववर्ष पर मानवता को दिव्य संदेश

Nirankari, Satguru Mata Sudiksha ji Maharaj, Sant Nirankari charitable Foundation, Sant Nirankari Mission
Listen to this article

Web Admin

Web Admin

5 Dariya News

नई दिल्ली , 02 Jan 2023

‘‘ब्रह्मज्ञान की प्राप्ति से जीवन में वास्तविक भक्ति का आरम्भ होता है और उसके ठहराव से हमारा जीवन भक्तिमय एंव आनंदित बन जाता है।   ‘‘उक्त् उद्गार निरंकारी सत्गुरु माता सुदीक्षा जी महाराज द्वारा दिल्ली में आयोजित ‘नववर्ष’ के विशेष सत्संग समारोह में उपस्थित सभी श्रद्धालुओं को सम्बोधित करते हुए व्यक्त किए गये। 

इस कार्यक्रम का लाभ लेने हेतु चण्डीगढ, मोहाली, पंचकुला तथा दिल्ली एंव एन. सी. आर. सहित अन्य स्थानों से भी हजारों की संख्या में भक्तगण उपस्थित हुए और सभी ने वर्ष के प्रथम दिन सत्गुरु के साकारमयी दिव्य दर्शनों एंव पावन प्रवचनों से स्वयं को आनन्दित एंव कृतार्थ किया। यह जानकारी चण्डीगढ के संयोजक ने दी।

सत्गुरु माता जी ने ब्रह्मज्ञान का महत्व बताते हुए फरमाया कि ब्रह्मज्ञान का अर्थ हर पल में इसकी रोशनी में रहना है और यह अवस्था हमारे जीवन में तभी आती है जब इसका ठहराव निरंतर बना रह,े तभी वास्तविक रूप में मुक्ति संभव है। इसके विपरीत यदि हम माया के प्रभाव में ही रहते है तब निश्चित रूप से आनंद की अवस्था और मुक्ति प्राप्त करना संभव नहीं। 

जीवन की सार्थकता तो इसी में है कि हम माया के प्रभाव से स्वयं को बचाते हुए अपने जीवन के उद्देश्य को समझे कि यह परमात्मा क्या है और हम उसे जानने हेतु प्रयासरत रहे। इस संसार में निरंकार एंव माया दोनांे का ही प्रभाव निरंतर बना रहता है। अतः हमें स्वयं को निरंकार से जोड़कर भक्ति करनी है। 

अपने जीवन में सेवा, सुमिरण, सत्संग को केवल एक क्रिया रूप में नहीं, एक चैक लिस्ट के रूप में नहीं कि केवल अपनी उपस्थिति को जाहिर करना है अपितु निरंकार से वास्तविक रूप में जुड़कर अपना कल्याण करना है। 

सत्गुरु माता जी ने उदाहरण सहित समझाया कि जिस प्रकार एक विद्यालय में सभी छात्र शिक्षा ग्रहण करने आते है और जिन छात्रों को ज्ञान समझ नहीं आता उनके संदेह निवारण हेतु वहां पर अध्यापक उपस्थित होते है जो उनकी शंकाओं का निवारण कर उन्हें सही मार्गदर्शन देते है जिसके उपरांत उन शिक्षाओं से अपने जीवन को सफल बना लेते है। 

वही दूसरी ओर कुछ छात्र संकोच अथवा किसी अन्य कारण से उन शंकाओं को अपने मनों में बिठा लेते है और फिर वहीं शंका नकारात्मक भावों में परिवर्तित हो जाती है, जिसके प्रभाव में आकर उन शंकाओं का वह निवारण नहीं करते और परिणामस्वरूप वह जीवन में कभी सफल नहीं बन पाते। 

सत्गुरु का भाव केवल यही कि ब्रह्मज्ञान लेने मात्र से जीवन में सफलता संभव नहीं अपितु उसे समझकर, जीवन में उसके ठहराव से ही कल्याण संभव है। अन्यथा हमारा जीवन ज्ञान की रोशनी में भी अंधकारमयी बना रहता है और अपना अमोलक जन्म हम भ्रम भुलेखो में ही व्यतीत कर देते है।

 मुक्ति मार्ग का उल्लेख करते हुए सत्गुरु ने फरमाया कि मुक्ति केवल उन्हीं संतों को प्राप्त होती है जिन्होंने वास्तविक रूप में ब्रह्मज्ञान की दिव्यता को समझा और उसे अपने जीवन में अपनाया। जीवन की महत्ता और मूल्यता तभी होती है जब वह वास्तविक रूप से जी जाये दिखावे के लिए नहीं। वास्तविक भक्ति तो वह है जिसमें हम सभी हर पल, हर क्षण में इस निरंकार प्रभू से जुड़े रहे।

अंत में सत्गुरु ने सबके लिए यही अरदास करी कि हम सभी अपने उत्तम व्यवहार एंव भक्तिमय जीवन से समस्त संसार को प्रभावित करते हुए सुखद एंव आनंदमयी जीवन जीये। सभी संतों का जीवन निरंकार का आधार लेते हुए शुभ एंव आनन्दित रूप में व्यतीत हो।

 

Tags: Nirankari , Satguru Mata Sudiksha ji Maharaj , Sant Nirankari charitable Foundation , Sant Nirankari Mission

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD