Wednesday, 19 June 2024

 

 

खास खबरें डिप्टी कमिश्नर कोमल मित्तल द्वारा तहसीलों एवं सब रजिस्ट्रार कार्यालयों का औचक निरीक्षण मुख्यमंत्री भगवंत सिंह मान ने शहीद नायक सुरिन्दर सिंह के परिवार को वित्तीय सहायता के तौर पर एक करोड़ रुपए का चैक सौंपा पंजाब पुलिस ने एस. बी. एस. नगर में नशों विरुद्ध साइकिल रैली निकाली तलाशी अभियान - तीसरा दिन : पंजाब पुलिस द्वारा राज्य भर में वाहनों की चैकिंग सलाहकार श्री. राजीव वर्मा ने बाढ़ और जलभराव को रोकने के लिए मानसून तैयारियों की समीक्षा की प्रधानमंत्री ने आज वाराणसी से पीएम-किसान के तहत लगभग 20,000 करोड़ रुपये की 17वीं किस्त जारी की प्रधानमंत्री ने वाराणसी, उत्तर प्रदेश में किसान सम्मान सम्मेलन को संबोधित किया सीडीएस जनरल अनिल चौहान ने साइबरस्पेस संचालन के लिए ‘ज्‍वाइंट डॉक्ट्रिन’ जारी किया जॉर्ज कुरियन ने आज कोच्चि में सिफनेट का दौरा किया और विभिन्न गतिविधियों की समीक्षा की पीएम किसान योजना मोदी के दृढ़ विश्वास, प्रतिबद्धता की निरंतरता का प्रतीक है : डॉ. जितेंद्र सिंह जयंत चौधरी ने डीजीटी के संचालन की व्यापक समीक्षा की प्रतापराव जाधव ने अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के इस वर्ष के विषय 'स्वयं और समाज के लिए योग' पर बल दिया प्रधानमंत्री ने उत्तर प्रदेश के वाराणसी में दशाश्वमेध घाट पर गंगा पूजन किया उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ ने सूचना को विनियमित करने की आवश्यकता पर जोर दिया भूपति राजू श्रीनिवास वर्मा ने भारी उद्योग मंत्रालय में राज्य मंत्री का पदभार ग्रहण किया हिमाचल प्रदेश मंत्रिमण्डल के निर्णय पर्यावरण को बचाने के लिए अधिक से अधिक पेड़ लगाने की जरूरत : ब्रम शंकर जिम्पा मुख्य मंत्री भगवंत सिंह मान ने पुलिस अधिकारियों को दिया आदेश; नशा तस्करों की गिरफ़्तारी के एक हफ्ते में जायदाद ज़ब्त करने के आदेश जतिंदर पाल मल्होत्रा के नेतृत्व में भाजपा पार्षदों और नेताओं के एक प्रतिनिधिमंडल ने राजीव वर्मा से मुलाकात की 33 एकड़ जमीन लीज पर देने पर मेयर ने लगाई रोक सरकार की तनाशाही के कारण निर्दलीय विधायकों को देना पड़ा है इस्तीफ़ा : जयराम ठाकुर

 

Talaq-e-Hasan in hindi: क्या है 'तलाक-ए-हसन जिस पर सुप्रीम कोर्ट में बैन की मांग उठी?

Talaq-e-Hasan: तलाक ए हसन में शादीशुदा मर्द तीन महीने में तीन बार एक निश्चित अवधि तक तलाक बोलकर अपनी शादी तोड़ सकता है.यह तलाक भी तीन तलाक की तरह एकतरफा है

Talaq e Hasan in hindi, क्या है तलाक ए हसन, सुप्रीम कोर्ट, Supreme Court, Talaq e Hasan, What Is Talaq e Hasan, Muslim Talaq, What Is Muslim Talaq e Hasan, Talaq e Hasan Details
Listen to this article

5 Dariya News

16 Aug 2022

सुप्रीम कोर्ट तलाक-ए-हसन को लेकर एक याचिका पर टिपण्णी कर रहा है. इस पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि पहली नजर में तलाक-ए-हसन अनुचित नहीं है. तलाक का अधिकार महिलाओं के पास भी उतना ही है जितना पुरषों के पास है. इस मामले पर कोर्ट अगली सुनवाई 29 अगस्त को करेगा। 

आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट में पेश की गई इस याचिका में याचिकाकर्ता का आरोप है कि 19 अप्रैल को उसके पति ने पहला तलाक भेजा, जिसके बाद अगले दो महीने लगातार उसे दूसरी और तीसरी बार तलाक दिया गया. ऐसे में याचिकाकर्ता का कहना है कि यह पूरी तरह से महिलाओं के साथ भेदभाव है, क्योंकि सिर्फ पुरुष ही ऐसा कर सकते हैं. 

Also read हिजाब विवाद : 5 छात्राओं ने कर्नाटक के कॉलेज से मांगा ट्रांसफर सर्टिफिकेट

सुप्रीम कोर्ट में जस्टिस एसके कॉल और एमएम सुंदर्श की बेंच ने मुस्लिम महिला की ओर से दाखिल इस याचिका पर सुनवाई की है. याचिकाकर्ता महिला ने तलाक-ए-हसन के जरिए तलाक की संवैधानिकता को चुनौती देते हुए इसे महिलाओं के खिलाफ भेदभावपूर्ण बताया.  

यहां जानिए आखिर क्या है तलाक-ए-हसन ? 

मुस्लिम लॉ बोर्ड में तलाक-ए-हसन को शादी तोड़ने का एक तरीका बताया गया है. तलाक-ए-हसन में कोई भी मुस्लिम मर्द अपनी पत्नी को तीन महीनों में तीन बार तलाक बोल के अपनी शादी के बंधन को तोड़ सकते हैं. उदाहरण के तौर पर मान लीजिए कोई भी मुस्लिम मर्द अपनी पत्नी को मार्च में तलाक बोलता है  तो तभी उनका तलाक नहीं माना जाएगा. फिर वो दूसरा तलाक अप्रैल में बोलता है जिसके बाद भी दोनों के साथ रहने की गुंजाइश बची रहेगी इस बीच भी अगर दोनों के बीच सब कुछ ठीक नहीं होता है तो तीसरे यानी मई महीने में एक बार फिर आखिरी बार तलाक देगा. 

तलाक-ए-हसन के अनुसार, यह आखिरी तलाक होगा जिसके बाद दोनों के बीच शादी खत्म मानी जाएगी. हालांकि, इन तीन महीनों में अगर दोनों के बीच सब ठीक हो जाता है तो उन्हें फिर से निकाह की जरूरत नहीं होगी. लेकिन एक बार दोनों का तलाक हो गया तो फिर शादी टूटी हुई मानी जाएगी. 

Also read: HC का Pawan Khera को आदेश: Smriti Irani की बेटी पर जो भी ट्वीट किया है... उसे तुरंत डिलीट करो

महिलाओं के लिए तलाक का खुला विकल्प है 

खुला तलाक पर औरत का पूरा हक है. खुला तलाक के जरिए महिलाएं पति से तलाक मांग सकती हैं.  अगर किसी महिला को लग रहा है कि वह अपने पति के साथ नहीं रहना चाहती है तो वह पहले उससे बात कर सकती है.  अगर पुरुष तलाक के लिए राजी नहीं है तो महिला दारूल कदा कमिटी के सामने जाकर अपनी परेशानी को रख सकती है. जिसके बाद पक्षों की सुनवाई की प्रक्रिया के बाद कोर्ट महिला को तलाक की  इजाजत दे सकते हैं.

तलाक-ए-अहसन में तीन महीने के अंदर तलाक दिया जाता है. हालांकि, इसमें तीन बार तलाक बोलना जरूरी नहीं होता. एक बार ही तलाक कहने के बाद पति और पत्नी एक ही छत के नीचे तीन महीनों तक रह सकते हैं. अगर दोनों की इस दौरान सहमति बन जाती है तो तलाक नहीं होता है.

 

Tags: Talaq e Hasan in hindi , क्या है तलाक ए हसन , सुप्रीम कोर्ट , Supreme Court , Talaq e Hasan , What Is Talaq e Hasan , Muslim Talaq , What Is Muslim Talaq e Hasan , Talaq e Hasan Details

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD