रक्षाबंधन की शुरुआत कैसे हुई?भारत में हर त्योहार को उसके अपने महत्व के साथ मनाया जाता है इसलिए आज हम इस विषय में रक्षाबंधन 2022 के त्योहार के इतिहास के बारे में बताने वाले है. हिन्दू सभ्यता में इस दिन हर बहन अपने भाई की कलाई में" /> रक्षा बंधन की शुरुआत कैसे हुई,जानिए रक्षाबंधन से जुड़ी कुछ धार्मिक कहानियों के बारे में -
Saturday, 02 March 2024

 

 

खास खबरें सीजीसी के बायोटेक्नोलॉजी डिपार्टमेंट ने एफडीपी का आयोजन किया एलपीयू ने खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स की ओवरऑल फर्स्ट रनर अप ट्रॉफी जीती PEC के फैकल्टी मेंबर को बॉम्बे आर्ट सोसाइटी द्वारा किया गया सम्मानित डा. बी. आर. अम्बेडकर स्टेट इंस्टीट्यूट आफ मैडीकल सायंसज़ मोहाली को जल्द मिलेगा 6 बैडों वाला आई. सी. यू. मुख्यमंत्री ने कसौली विधानसभा क्षेत्र में 88.78 करोड़ रुपये की 13 विकास परियोजनाओं के लोकार्पण एवं शिलान्यास किए सांसद संजीव अरोड़ा ने डीसी के साथ लुधियाना के विकास कार्यों पर की चर्चा राज्यपाल का भाषण रोकने का यत्न करके कांग्रेस ने पवित्र सदन का अपमान किया : हरपाल सिंह चीमा 8 हजार रुपए रिश्वत लेता ए.एस.आई. विजीलैंस ब्यूरो ने किया गिरफ्तार हिमाचल प्रदेश मंत्रिमण्डल के निर्णय कांग्रेस की सरकार खो चुकी है बहुमत, अपने कर्मों से हुई है उसकी यह स्थिति : जयराम ठाकुर सरूप रानी महिला महाविधालय मे करवाया जिला स्तरीय पड़ोस युवा संसद कार्यक्रम का आयोजन खेल से होता है बच्चों का मानसिक एवं शारीरिक विकास : हरचंद सिंह बरसट संजीव अरोड़ा ने हरचंद सिंह बरसट, डॉ. गोसल और अन्य के साथ मातृभाषा पंजाबी पर प्रकाश डालते हुए महत्वपूर्ण कार्य किये शुरू डिप्टी स्पीकर जय कृष्ण सिंह रौढ़ी ने 11.79 करोड़ रुपए की लागत से माहिलपुर में पानी व सीवरेज के प्रोजैक्ट की करवाई शुरुआत ‘आप दी सरकार आप दे दुआर’- कैबिनेट मंत्री ब्रम शंकर जिंपा ने गांव शेरगढ़ में लगे कैंप का लिया जायजा अतिरिक्त मुख्य चुनाव अधिकारी पंजाब ने लोक सभा चुनाव 2024 की तैयारियों का लिया जायजा अकाली और कांग्रेसी सरकारों ने सोची-समझी साजिश के अंतर्गत पंजाब की सरकारी संस्थाएं तबाह की : भगवंत सिंह मान बादल परिवार ने अपने निजी लाभों के लिए पंजाब के लोगों के करोड़ों रुपए लूटे : भगवंत सिंह मान स्वास्थ्य सेवा में क्रांतिकारी बदलाव लाई है आम आदमी क्लीनिकः ब्रम शंकर जिंपा एलपीयू ने खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स की ओवरऑल फर्स्ट रनर अप ट्रॉफी जीती फ़र्ज़ी विजीलैंस अधिकारी बन कर किसान के साथ धोखाधड़ी करने के मामले में भगौड़ा मुलजिम पिन्दर सोढी विजीलैंस ब्यूरो द्वारा गिरफ़्तार

 

रक्षा बंधन की शुरुआत कैसे हुई,जानिए रक्षाबंधन से जुड़ी कुछ धार्मिक कहानियों के बारे में -

भारत में रक्षाबंधन सब लोग मनाते है लेकिन क्या आपको पता है इसकी शुरुआत कब, कहाँ, कैसे और किसके द्वारा हुई? जानिए आज इस आर्टिकल में -

Why Raksha Bandhan Is Celebrated, Why Rakhi Is Celebrated, Raksha Bandhan Celebration, Raksha Bandhan Importance, Importance Of Raksha Bandhan, Raksha Bandhan 2022 Date
Listen to this article

5 Dariya News

01 Aug 2022

रक्षाबंधन की शुरुआत कैसे हुई?

भारत में हर त्योहार को उसके अपने महत्व के साथ मनाया जाता है इसलिए आज हम इस विषय में रक्षाबंधन 2022 के त्योहार के इतिहास के बारे में बताने वाले है. हिन्दू सभ्यता में इस दिन हर बहन अपने भाई की कलाई में राखी बांधती है लेकिन क्या आपको पता है ये परंपरा कैसे और किसने शुरु की? 

रक्षाबंधन की शुरुआत की बात करें तो शास्त्रों की  मान्यताओं और कथाओं के अनुसार रक्षाबंधन से जुड़ी कई अनोखी कहानियां है, जिससे रक्षाबंधन की शुरुआत होने की बात कही जाती है. 

हालाँकि अभी रक्षाबंधन कि शुरुआत कब और कैसे हुयी इस बात की कोई पुख्ता जानकारी नहीं है। रक्षा बंधन का जिक्र हमारे पुराणों में किया गया है। पुरातन समय में ऋषिगण श्रवण मास में अपने आश्रम में रहकर अध्ययन और यज्ञ किया करते थे। यज्ञ की समाप्ति श्रावण मास की पूर्णिमा को कि जाती थी। इसी दिन यजमान और शिष्य एक-दूसरे को रक्षा सूत्र बांधते थे। यही रस्म आगे चल कर रक्षा बंधन में बदल गयी। रक्षा सूत्र को राखी कह कर पुकारा जाने लगा जिसकी वजह से इसका नाम रक्षा बंधन पड़ गया।

इसके अलावा रक्षाबंधन सम्बंधित कुछ पौराणिक कथाएं जुडी हुईं है. इन कथाओं का वर्णन नीचे किया जा रहा है।

Also read भाई बहन का प्यार है राखी, जिससे जुड़े हैं दिल के तार, जानिए 2022 में कब है रक्षाबंधन का त्योहार

रक्षाबंधन मनाने की कहानियां  

राजा बलि और माँ लक्ष्मी :

भगवत पुराण और विष्णु पुराण के आधार पर यह माना जाता है कि भगवान विष्णु के वामन अवतार में जब राजा बलि के दान से खुश होकर विष्णु ने राजबली से वरदान मांगने को कहा, तब राजा बलि ने भगवान विष्णु को अपने साथ पाताल लोक में साथ रहने को कहा. 

भगवन विष्णु बलि के संग पाताल लोक रहने चले गए इससे लक्ष्मी देवी दुःखी और परेशान हो गई और रूप बदल कर राजा बलि के पास जा पहुंची.जब लक्ष्मी माता ने राजा बलि को राखी बाँधी  तब राजा बलि ने अपनी बहन को उपहार मांगे को कहा .

तब माता लक्ष्मी ने उपहार में अपने पति भगवान विष्णु को माँगा और पाताल लोक छोड़ कर अपने साथ जाने की बात कही.राजा बलि वचनबद्ध थे इसलिए बहन की इच्छा पूरी की और भगवान विष्णु को लक्ष्मी के साथ जाने दिया.वह समय सावन पूर्णिमा का था तब से राखी बांधकर रक्षा बंधन मनाया जाता है – ये रक्षाबंधन की शुरुआत की पहली मान्यता थी.

कृष्ण और द्रौपदी से सम्बंधित कहानी 

द्रोपदी और कृष्णा के बीच बहुत प्रेम था. दोनों सखा थे और द्रोपदी कृष्ण से विवाह करना चाहती थी.लेकिन भगवान कृष्ण को महाभारत और गीता का ज्ञान था. वे जानते थे कि द्रोपदी का विवाह पांडव से संभव था.जब द्रोपदी से कृष्ण के विवाह की चर्चा शुरू हुई, तब कृष्ण ने द्रोपदी का विवाह अर्जुन से करने का जिक्र कर दिया और नियति के अनुसार द्रोपदी का विवाह अर्जुन से तय हो गया.

एक दिन द्रोपदी पांडव परिवार और आपसी कटुता से दुखी होकर शांत बैठकर रो रही थी.तब कृष्ण सखा होने के नाते द्रोपदी के पास आकर उसको दुखी देख दुःख का कारण पूछा.द्रोपदी ने अपने भविष्य की उदासीनता और उनके बीच  में अपनी सुरक्षा के प्रति  चिंता व्यक्त की.कृष्ण ने उसकी सुरक्षा की जिम्मेदारी अपने सर पर ली और वचनबद्ध हो गए. 

द्रोपदी ने कृष्ण को उसके वचनबद्धता को याद रखने के लिए अपने रेशमी कपडे से एक हिस्सा फाड़कर कृष्ण की कलाई में बांध दिया. ताकि आजीवन उनको अपना दिया रक्षा वचन हमेशा याद रहे.तब से रक्षाबंधन की शुरुआत की बात कही जाती है.

Also read Amazon Rakhi Sale 2022:इस रक्षाबंधन पर खरीदें बेस्ट गिफ्ट हैंपर पूरे 75% डिस्काउंट ऑफर के साथ

ये तो सिर्फ दो कहनियाँ इसके अलावा भी इस शुभ दिन को मनाने के पीछे कई धारणाएं हैं.उम्मीद है आपको ये आर्टिकल पसंद आया होगा।

 

Tags: Why Raksha Bandhan Is Celebrated , Why Rakhi Is Celebrated , Raksha Bandhan Celebration , Raksha Bandhan Importance , Importance Of Raksha Bandhan , Raksha Bandhan 2022 Date

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD