Monday, 04 March 2024

 

 

खास खबरें राज्यपाल के भाषण से भाग जाने पर विरोधी पक्ष पर जम कर बरसे मुख्यमंत्री भगवंत सिंह मान कैबिनेट मंत्री जिंपा ने ‘मुख्य मंत्री तीर्थ यात्रा स्कीम’ के अंतर्गत होशियारपुर से बस को दिखाई हरी झंडी भाजपा का किसान विरोधी चेहरा एक बार फिर उजागर, किसान के हत्यारे के पिता अजय मिश्रा को फिर से दिया टिकट: आप सांसद मनीष तिवारी ने की पार्टी कार्यकर्ताओं से बैठक सीजीसी लांडरां में रेणुकारमा वूमेन एचीवर अवार्ड का हुआ आयोजन पीईसी में ड्रोन अनुप्रयोगों पर 6 दिवसीय कार्यशाला का उद्घाटन चेयरमैन हरचंद सिंह बरसट ने गांव मेहमदपुर में नई फल एवं सब्जी मंडी स्थापित की पर्यटन की दृष्टि से होशियारपुर में असीमित संभावनाएं: कोमल मित्तल भाजपा महिला मोर्चा अध्यक्ष जय इंदर कौर ने भारत सरकार की महिला समर्पित योजनाओं के प्रचार-प्रसार के लिए पटियाला में नारी शक्ति वंदन मैराथन का आयोजन किया एलपीयू के विद्यार्थी सकारात्मक और खुशहाल जीवन जीने के लिए हुए प्रेरित प्रीत बाठ, किरण शेरगिल, सब्बी सूरी स्टारर फिल्म 'मजनू' का ट्रेलर जारी भाजपा ने देश को सिर्फ धोखा दिया: सांसद मनीष तिवारी शिमला के त्रिदेव और पंच परमेश्वर सम्मेलन में बोल नेता प्रतिपक्ष डॉ. बलजीत कौर ने शुभकरन सिंह के परिवार के साथ दुख किया सांझा पोलियो जैसी ना-मुराद बीमारी को ख़त्म करना सभी की प्राथमिक जिम्मेदारी: ब्रम शंकर जिम्पा पंजाब के विवेकशील वित्तीय प्रबंधन स्वरूप जी. एस. टी में 16 प्रतिशत और आबकारी राजस्व में 12 प्रतिशत की बढ़ोतरी : हरपाल सिंह चीमा पंजाब केंद्रीय विश्वविद्यालय में आयोजित स्प्रिंट कार्यक्रम के दौरान पांच स्टार्टअप उद्यमियों को 23 लाख की फंडिंग प्रदान की गई स्वास्थ्य मंत्री ने किया पोलियो टीकाकरण अभियान का शुभारम्भ नर्सिंग एसोसिएशन और पुका पंजाब में नर्सिंग काउंसिल अध्यक्ष का स्वागत किया भगवंत मान और अरविन्द केजरीवाल ने पंजाब के 13 स्कूल ऑफ एमिनेंस लोगों को किये समर्पित ’आप’ को लोक सभा की सभी 13 सीटें देकर पंजाब और पंजाबियों के अपमान का बदला लो : अरविन्द केजरीवाल

 

Kargil का हीरो: दायां पैर नहीं, शरीर में आज भी बम के 40 छर्रे मौजूद, बोले- यही छर्रे मेरी पहचान

Kargil Vijay Diwas के मौके पर जांबाज Major D.P. Singh की कहानी.. जिन्होंने सबकुछ खो दिया लेकिन हौसला आज भी जिंदा है

Kargil Vijay Diwas, Vijay Diwas Kargil, Kargil War, Major DP Singh, Who Is Major DP Singh, Kargil Vijay Diwas Heroes, Kargil Vijay Diwas Hero
Listen to this article

5 Dariya News

नई दिल्ली , 26 Jul 2022

आज पूरे देश में कारगिल विजय दिवस धूमधाम से मनाया जा रहा है। इस मौके पर आज हम आपके सामने ऐसे हीरो की कहानी लेकर आए हैं जिन्होंने देश के लिए अपना सबकुछ दाव पर लगा दिया। बात हो रही है कारगिल युद्ध में हुई जबर्दस्त गोलाबारी झेल चुके रिटायर्ड मेजर देवेन्दर पाल सिंह (Major D.P. Singh) की। भले ही डीपी सिंह इस हादसे में अपना दायां पैर खो चुके हों लेकिन इससे उनके हौसले में कोई कमी नहीं आई।

उन्हें आर्टिफिशियल लेग ब्लेड लगाई गई। इसके बाद वे भारत के अलग-अलग जगहों में होने वाली रेस प्रतियोगिताओं में भाग लेकर लोगों को प्रेरित करने लगे। हालांकि आर्टिफिशियल लेग ब्लेड से दौड़ना आसान नहीं होता। कारगिल युद्ध के दौरान भयंकर बमबारी हो रही थी। एक बम मेजर के बिलकुल पास में फट गया। बम के धमाके के बाद मेजर डीपी सिंह को मरा हुआ घोषित कर लिया गया था। समझना भी निश्चित था क्योंकि धमाका ही इतना बड़ा था कि सब कुछ तितर-बितर हो गया था।  

Also read:- अनुच्छेद 370 हटने के बाद जम्मू-कश्मीर में परिवारवाद की राजनीती का हुआ अंत : तरुण चुग

उसके साथी ने समझा कि उनकी मौत हो गई है। उन्हें हॉस्पिटल ले जाया गया। डॉक्टर ने चेकअप किया तो उनकी धड़कन चल रही थी। गोले के ज्यातातर छर्रे तो उनकी शरीर से निकाले गए लेकिन 40 छर्रे आज भी उनके शरीर में मौजूद हैं।  हादसे में दायां पैर खोने के बाद मेजर डीपी सिंह काफी उदास हो गए। हादसे के बाद कई लोगों ने कहा कि पैर खोने के बाद भला अब वे क्या कर पाएंगे। 

Also read:- पत्रकार ने पूछा- 'हर घर तिरंगा' अभियान कैसा है? फारूक अब्दुल्ला बोले- उसको अपने घर में रखना

उस वक्त उन्होंने सोचा कि कुछ ऐसा किया जाए जिससे लोगों को पता चले कि शारीरिक रूप से अक्षम या हादसे में अपने अंग गंवा देने वाले भी बहुत कुछ कर सकते हैं। यही वजह है कि वे जगह-जगह होने वाली मैराथन रेस में भाग लेते हैं। इसके लिए हिम्मत और स्टैमिना दोनों चाहिए होता है। रही छर्रों की बात यदि वे शरीर से छर्रो को निकलवाते हैं तो उन्हें ऑपरेशन कराकर अपने शरीर को 40 जगहों से कटवाना पड़ेगा। इसलिए वे इसके लिए कभी तैयार नहीं हुए। वे अपने शरीर का ऐसा ही रखना चाहते हैं। 

Also read:-भारतीय सैनिकों के लिए हाइब्रिड आतंकवाद बना चुनौती,पाक ने बनाया सोशल मीडिया को भी हथियार

मेजर सिंह ने एक बार कहा था कि जब भी वो मरेंगे और उन्हें जलाया जाएगा तो अंत में शरीर से गोली और छर्रे टन की आवाज करके नीचे गिरेंगे। मेरे लिए यहीं गौरव की बात है। आपको बता दें कि आज मेजर डीपी सिंह ऐसे ही लोगों के लिए एक संस्था चला रहे हैं .. ‘दि चैलेन्जिंग वन्स’ और किसी वजह से पैर गंवा देने वाले लोगों को कृत्रिम अंगों के जरिए धावक बनने की प्रेरणा दे रहे हैं। वह जीवन की कठिन से कठिन परिस्थिति से जूझने को तैयार हैं और उसे चुनौती के रूप में लेते हैं।

 

Tags: Kargil Vijay Diwas , Vijay Diwas Kargil , Kargil War , Major DP Singh , Who Is Major DP Singh , Kargil Vijay Diwas Heroes , Kargil Vijay Diwas Hero

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD