भारतीय सेना को मिले 20 एडवांस रेस्क्यू सिस्टम, बचाएंगे बर्फीले पहाड़ों में हिमस्खलन से जवानों की जान
Wednesday, 24 April 2024

 

 

खास खबरें पंजाब पुलिस ने जम्मू-कश्मीर में संभावित टारगेट किलिंग को टाला; पाक-आधारित दहशतगर्द मॉड्यूल का एक सदस्य किया काबू जालंधर में बीजेपी को बड़ा झटका! युवा नेता रॉबिन सांपला हुए आम आदमी पार्टी में शामिल आम आदमी पार्टी ने अरविंद केजरीवाल के स्वास्थ्य जांच के लिए एम्स के डॉक्टरों का पैनल बनाने के आदेश के लिए कोर्ट का किया धन्यवाद हरियाणा में लोकसभा चुनाव के लिए 29 अप्रैल को की जाएगी अधिसूचना जारी-अनुराग अग्रवाल वोटर इन क्यू एप से पता चलेगी मतदान केन्द्र पर लाइन की जानकारी - अनुराग अग्रवाल जिला प्रशासन का अनूठा प्रयास- युवा मतदाताओं को यूथ इलेक्शन अंबेसडर बना कर चुनाव प्रक्रिया की दी गई विशेष ट्रेनिंग सेफ स्कूल वाहन पालिसी के अंतर्गत 8 स्कूलों की बसों की हुई चैकिंग सीजीसी लांडरां ने आईपीआर सेल की स्थापना की प्रभु श्रीराम व माता कौशल्या का मंदिर निर्माण मेरे जीवन का अहम फैसला:एन.के.शर्मा भाजपा के अच्छे दिन बना सपना, अब कांग्रेस लाएगी खुशहाली के दिन - गुरजीत औजला डिश टीवी द्वारा 'डिशटीवी स्मार्ट प्लस ' सर्विसेज' के साथ मनोरंजन इंडस्ट्री में आई क्रांति प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने देश के लिए जो किया है वो किसी ने नहीं किया होगा - अनिल विज एचपीएनएलयू, शिमला ने पृथ्वी दिवस 2024 के अवसर पर "प्लास्टिक रीसाइक्लिंग और ग्रीन शेड्स का अनावरण" विषय पर इंट्रा-यूनिवर्सिटी वाद-विवाद प्रतियोगिता का आयोजन किया भाजपा प्रत्याशी संजय टंडन पर मनीष तिवारी की टिप्पणी,भाजपा प्रदेशाध्यक्ष ने दिया जवाब भाजपा महामंत्री तरुण चुग से बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत ने की शिष्टाचार भेंट पंजाब की विरासत की झलक दर्शाता आदर्श पोलिंग बूथ बना आकर्षण का केंद्र मतदाता जागरूकता के लिए घर-घर तक पहुंचेगा थीम सॉंग राज्यपाल शिव प्रताप शुक्ल ने परवाणु में जल जनित रोगों की रोकथाम एवं नियंत्रण संबंधी उपायों की समीक्षा की एलपीयू के इंजीनियरिंग के विद्यार्थियों को इसरो समर्थित राष्ट्रीय प्रतियोगिता में टॉप स्पेस इन्नोवेटरज़ के रूप में चुना भारी मतों के अंतर से जीतेंगे एन.के.शर्मा:जोनी कोहली मानव को एकत्व के सूत्र में बांधता - मानव एकता दिवस

 

भारतीय सेना को मिले 20 एडवांस रेस्क्यू सिस्टम, बचाएंगे बर्फीले पहाड़ों में हिमस्खलन से जवानों की जान

स्वीडन से सेना को मिले 20 एडवांस रेस्क्यू सिस्टम, इनमें से हर एक सिस्टम एक वक्त में 50 सैनिकों का पता लगा सकता है.

Indian Army, Indian Army News, Advance Rescue System, Advance Rescue System Army, Advance Rescue System Army News, Advance Rescue System Army News In Hindi
Listen to this article

5 Dariya News

नई दिल्ली , 22 Jul 2022

भारतीय सेना के लिए अब बर्फीले पहाड़ों में होने वाले हिमस्खलन में अब अपनी जान नहीं गवाने पड़ेगी। भारतीय सेना ने विदेश से 20 अत्याधुनिक एवलॉन्च रेस्क्यू सिस्टम खरीदे हैं, जो बर्फ के नीचे दबे सैनिकों का जल्दी से पता लगाने में सक्षम हैं. 

ये पहली बार है जब देश को इस तरह के एडवांस सिस्टम मिले हैं.मीडिया रिपोर्ट के अनुसार रक्षा मंत्री ने बताया कि इन उपकरणों को सेना की उत्तरी कमान के अलग-अलग सेक्टर स्टोर में भेजा जाएगा. सेना ने ये हिमस्खलन बचाव प्रणालियां स्वीडन की कंपनी से खरीदी हैं. भारत ने इस तरह के उपकरणों को मगवाने का आर्डर दो साल पहले दिया था जो अब जाकर भारत के हाथ लगे हैं. 

ALSO READ हिमाकत करने से बाज नहीं आ रहा है चीन,नेपाल से लगी सीमा पर बसाया अपना गांव,भारत ने किया आगाह

भारतीय सेना के बचाव के लिए ये एक बहुत ही बेहतरीन कदम है. सूत्रों ने बताया कि सेना अभी तक हिमस्खलन में सैनिकों को ढूंढने के लिए बेसिक डिटेक्टर और जमीन के अंदर खोज करने वाले रडार से ही कम चला रही थी. पिछले कुछ वर्षों में सियाचिन ग्लेशियर, कश्मीर और पूर्वोत्तर के बेहद ऊंचाई वाले इलाकों में हुए हिमस्खलन में बड़ी संख्या में सैनिकों के शहीद होने के बाद अत्याधुनिक रेस्क्यू सिस्टम की जरूरत महसूस की थी.

बर्फ में दबे सैनिकों को ऐसे बचाएगा

स्वीडन से मंगवाए जाने वाले इन उपकरणों में 150 ट्रांसपोंडर लगे हैं कंपनी की बेवसाइट के मुताबिक, रेस्क्यू सिस्टम में लगे डिटेक्टर रडार सिग्नल छोड़ते हैं, जो रिफलेक्टर से टकराकर वापस संकेत देते हैं. हर सैनिक पर 3 रिफलेक्टर लगाने होते हैं. रेस्क्यू सिस्टम में लगे रडार इन्हीं रिफलेक्टरों से सैनिक का पता लगाते हैं.

इस तरह के हर एक सिस्टम से एक वक्त में 50 सैनिकों का पता लगाया जा सकता है. सूत्रों ने बताया कि जब कोई व्यक्ति बर्फ में दब जाता है, तो शुरुआती 25 मिनट जान बचाने के लिए सबसे महत्वपूर्ण होते हैं. अक्सर बर्फ में पता नहीं चलता कि व्यक्ति किस जगह पर दबा है. ऐसे में ये नया सिस्टम काफी काम आएगा. 

इसमें लगे रिफ्लेक्टर काफी हल्के होते हैं. इसमें डायोड और एंटीना के साथ-साथ 150 ट्रांसपोंडर लगे हुए हैं. इसे इस्तेमाल करने के लिए बिजली की भी आवश्यकता नहीं है. डिटेक्टर जैसे-जैसे रिफ्लेक्टर के पास पहुंचता है वैसे ही रडार सिस्टम मजबूत हो जाता है इस तरह इस उपकरण से बर्फ़ में दबे व्यक्ति की सही जानकारी मिल जाएगी। 

भूस्खलन जैसी आपदाओं में भी है कामयाब 

रक्षा सूत्रों के मुताबिक इन उपकरणों का उपयोग भूस्खलन जैसी आपदाओं में भी किया जा सकता है. ऐसे यदि कहीं इमारत ढह जाने पर मलबे में फंसे पीड़ितों की जान बचाने के लिए भी किया जा सकता है. इस तरह के कार्यों के लिए सेना अलग से और बचाव सिस्टम खरीद सकती है.

 

Tags: Indian Army , Indian Army News , Advance Rescue System , Advance Rescue System Army , Advance Rescue System Army News , Advance Rescue System Army News In Hindi

 

 

related news

 

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD