Monday, 27 May 2024

 

 

खास खबरें प्रधानमंत्री से सिख धार्मिक संस्थानों को आर.एस.एस के कब्जे से आजाद कराने की अपील की : सुखबीर सिंह बादल प्रधानमंत्री जीरकपुर में स्थापित करवाएंगे अंतर्ऱाष्ट्रीय वित्तीय केंद्र - परनीत कौर भाजपा ने राम मंदिर के लिए 30 साल तक संघर्ष किया, मोदी ने श्री राम लला को तंबू से बाहर निकाला: पुष्कर धामी मुख्यमंत्री सुक्खू जी बताए कि कहां मिले और कहां गये 55 लाख रुपए : जयराम ठाकुर राजा वड़िंग ने पार्टी के गद्दारों की निंदा की; मतदाताओं से विकास को चुनने की अपील की रैली ने दूर किए विरोधियों के भ्रम:एन.के.शर्मा भाजपा के पूर्व मेयर और डिप्टी मेयर हुए एकित्रत,कांग्रेस प्रत्याशी मनीष तिवारी को दी चुनौती केंद्र में सरकार बनते ही, रद्द करेंगे अग्निवीर योजना : प्रियंका गांधी शहर के अंदरूनी इलाकों में जयइंद्र कौर ने किया डोर टू डोर चुनाव प्रचार पीएम मोदी कभी भी महंगाई, गरीबी, बेरोजगारी और भुखमरी जैसे मुद्दों पर बात नहीं करते, काम के बजाय वह लोगों से मंगलसूत्र और भैंस के नाम पर वोट मांग रहे हैं - केजरीवाल कपास (नरमा) बेल्ट के किसानों को नहरी पानी मिल रहा है, हम यहां खाद्य प्रसंस्करण कंपनियां भी लाने की योजना बना रहे हैं, मेरे पास इस क्षेत्र के लिए कई बड़ी विकास योजनाएं हैं : सीएम भगवंत मान शहीद हमारी पूंजी हैं, शहीदों के सपनों का समाज बनाने के लिए लगातार पर्यतनशील: मीत हेयर प्रधानमंत्री जीरकपुर में स्थापित करवाएंगे अंतर्ऱाष्ट्रीय वित्तीय केंद्र - परनीत कौर सुखविंदर सिंह बिंद्रा ने भारत के गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की सीजीसी लांडरां ने प्लेसमेंट डे मनाया भदौड़ विधानसभा क्षेत्र को नज़रअंदाज़ करने वाले दलों को सबक सिखाने का समय : मीत हेयर मुख्य निर्वाचन अधिकारी पंजाब सिबिन सी द्वारा वोटरों को ‘इस बार 70 पार’ की प्राप्ति के लिए 1 जून को पूरे जोश के साथ चुनाव बूथों पर जाने की अपील मुख्य सचिव प्रबोध सक्सेना ने डोडरा क्वार में चुनाव तैयारियों की समीक्षा की पंजाब पुलिस ने बीएसएफ के साथ सांझे आपरेशन के दौरान सात नशा तस्करों को 5.47 किलोग्राम हेरोइन, 1.07 लाख रुपए की ड्रग मनी सहित किया काबू पंजाब में कृषि, उद्योग और व्यापार की तरक्की पर पीयूष गोयल एवं तरुण चुग के बीच हुए व्यापक चर्चा लुधियाना में राजा वड़िंग के समर्थन में उमड़ी भारी भीड़; मोदी की आर्थिक नीतियों की आलोचना की

 

आईएएनएस-सीवोटर स्नैप पोल : नूपुर शर्मा की गिरफ्तारी को लेकर भारतीयों की राय जुदा-जुदा, हिंसा व धमकियां जारी

Khas Khabar, Nupur Sharma, Prophet Mohammed, Nupur Sharma hate remarks, Nupur Sharma Controversy, Bharatiya Janata Party, BJP, Nupur Sharma Case
Listen to this article

Web Admin

Web Admin

5 Dariya News

नई दिल्ली , 07 Jul 2022

पूर्व भाजपा प्रवक्ता नूपुर शर्मा की पैगंबर मुहम्मद के बारे में कथित अपमानजनक टिप्पणी से पैदा हुआ विवाद के बाद कट्टरपंथी इस्लामवादियों से भाजपा नेता और उनके समर्थकों को हिंसा और मौत की धमकियों का दौर जारी है। ताजा मामला है सलमान चिश्ती, अजमेर दरगाह खादिम की ओर से निलंबित भाजपा प्रवक्ता को जारी की गई धमकी का। 

वीडियो संदेश में, चिश्ती नूपुर शर्मा का सिर काटने वाले को अपना घर उपहार के रूप में देने का वादा करता है। सलमान चिश्ती की ओर से यह धमकी कन्हैया लाल और उमेश प्रहलादराव कोल्हे की उदयपुर और अमरावती में नृशंस हत्याओं के बाद आई है। विपक्षी नेता और कई इस्लामिक संगठन नूपुर शर्मा की भड़काऊ टिप्पणी के लिए गिरफ्तारी की मांग कर रहे हैं। 

आईएएनएस-सीवोटर इंडिया ट्रैकर ने लोगों की राय जानने के लिए आईएएनएस की ओर से एक राष्ट्रव्यापी सर्वेक्षण किया कि क्या नूपुर शर्मा की गिरफ्तारी से भाजपा नेता और उनके समर्थकों को कट्टरपंथी मुसलमानों से मिल रही हिंसा और धमकियों पर रोक लगेगी। सर्वेक्षण के दौरान, उत्तरदाता इस मुद्दे पर अपने विचारों में गहराई से विभाजित दिखे। 

सर्वेक्षण के आंकड़ों के मुताबिक, जहां 49 फीसदी उत्तरदाताओं का मानना है कि भाजपा नेता की गिरफ्तारी से हिंसा और धमकियां खत्म हो जाएंगी, वहीं 51 फीसदी इस भावना से असहमत हैं। जाहिर है, इस मुद्दे पर एनडीए और विपक्षी मतदाताओं के विचारों में राजनीतिक ध्रुवीकरण स्पष्ट था। सर्वे के दौरान जहां 62 फीसदी विपक्षी समर्थकों ने कहा कि नूपुर शर्मा को जेल में डालने से हिंसा और धमकियां खत्म हो जाएंगी, वहीं एनडीए के 65 फीसदी मतदाताओं ने कहा कि नूपुर शर्मा की गिरफ्तारी से कोई फर्क नहीं पड़ेगा। 

सर्वे के दौरान इस मुद्दे पर विभिन्न सामाजिक समूहों के विचार बंटे हुए थे। सर्वेक्षण के आंकड़ों के अनुसार, जबकि अधिकांश उच्च जाति हिंदुओं (यूसीएच) - 75 प्रतिशत और अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) - 60 प्रतिशत ने कहा कि नूपुर शर्मा को हिरासत में लेने से हिंसा और धमकियां समाप्त नहीं होंगी, अधिकांश मुस्लिम - 81 फीसदी ने पूरी तरह से अलग विचार व्यक्त किए। 

वहीं, इस मुद्दे पर अनुसूचित जाति (एससी) और अनुसूचित जनजाति (एसटी) की राय बंटी हुई थी। सर्वेक्षण के दौरान, जहां 52 प्रतिशत एससी उत्तरदाताओं ने कहा कि नूपुर शर्मा की गिरफ्तारी से हिंसा और धमकी बंद हो जाएगी, वहीं 52 प्रतिशत एसटी उत्तरदाताओं ने अपनी भावना साझा नहीं की। विशेष रूप से, सर्वेक्षण के दौरान, अधिकांश भारतीयों - 81 प्रतिशत ने कहा कि धर्म के नाम पर धमकी देने वालों को सलाखों के पीछे डाल दिया जाना चाहिए। 

दिलचस्प बात यह है कि इस मुद्दे पर एनडीए के मतदाताओं और विपक्षी समर्थकों के विचारों में एकमत थी। सर्वे के आंकड़ों के मुताबिक, एनडीए के 80 फीसदी वोटर और 82 फीसदी विपक्षी समर्थकों का मानना है कि धर्म के नाम पर धमकियां देने वालों को गिरफ्तार किया जाना चाहिए। इसी तरह, विभिन्न सामाजिक समूहों के अधिकांश उत्तरदाताओं ने धर्म के नाम पर धमकी देने वालों की गिरफ्तारी की मांग की। 

सर्वेक्षण के दौरान 80 फीसदी यूसीएच, 81 फीसदी ओबीसी, 83 फीसदी मुस्लिम, 79 फीसदी एससी और 79 फीसदी एसटी उत्तरदाताओं ने जोर देकर कहा कि आतंक और हिंसा फैलाने के लिए धर्म का इस्तेमाल करने वालों को गिरफ्तार किया जाना चाहिए।

 

Tags: Khas Khabar , Nupur Sharma , Prophet Mohammed , Nupur Sharma hate remarks , Nupur Sharma Controversy , Bharatiya Janata Party , BJP , Nupur Sharma Case

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD