Monday, 26 February 2024

 

 

खास खबरें कान्स और टाइम्स स्क्वायर के बाद, सोनिया कोहली की फिल्म 'क़ैद- नो वे आउट' ने मचाई पंजाब में धूम जल आपूर्ति एवं स्वच्छता मंत्री ब्रह्म शंकर जिम्पा ने विभाग के प्रमुख प्रोजेक्टों का लिया जायज़ा मिशन समरथ के नतीजे उत्साहजनक: हरजोत सिंह बैंस अमृतसर इम्प्रूवमेंट ट्रस्ट के जेई और क्लर्क को विजिलेंस ब्यूरो ने 50 हजार रुपये रिश्वत लेते पकड़ा PEC के छात्रों ने IIT जोधपुर में नृत्य का किया बेहतरीन प्रदर्शन इंडस पब्लिक स्कूल में सालाना खेल दिवस का आयोजन किसानों के साथ मजबूती के साथ खड़ी है कांग्रेस: सांसद मनीष तिवारी पठानकोट को विशेष औद्योगिक और व्यापारिक पैकेज देने की संभावना तलाशेंगे : भगवंत सिंह मान व्यापारियों की समस्याओं का मौके पर ही समाधान करने का अवसर बनी सरकार-व्यापार मिलनी पठानकोट में उद्योग और पर्यटन को उत्साहित करने के लिए पंजाब सरकार की प्रशंसा की पंजाब साईबर क्राइम डिवीजऩ ने साईबर वित्तीय धोखाधड़ी को रोकने के लिए बैंकों को पुलिस के साथ तालमेल करने के लिए नोडल अफ़सर नियुक्त करने के लिए कहा संत निरंकारी चैरिटेबल फाउंडेशन के ‘प्रोजेक्ट अमृत’ का सफल आयोजन मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने लाहौल शरद उत्सव का शुभारम्भ किया 2.42 लाख महिलाओं को प्रतिमाह 1500 रुपये मिलेगी पेंशन : सुखविंदर सिंह सुक्खू उर्वशी रौतेला ने बनाया विश्व रिकॉर्ड स्वास्थ्य सुविधाओं के विस्तार के लिए पंजाब सरकार नहीं छोड़ रही कोई कमी : ब्रम शंकर जिम्पा गांव खटकड़ कलां में अयोजित कबड्डी कप में शामिल हुए सांसद मनीष तिवारी सरकारी स्कूल शिक्षा में उत्कृष्टता के उच्च मानक कर रहे स्थापित : रोहित ठाकुर सरकारी स्कूलों के विद्यार्थी हर क्षेत्र में अव्वल बुटेल ने किए 3 करोड़ की विकास परियोजनाओं के शिलान्यास-उद्घाटन एलपीयू के11वें दीक्षांत समारोह में ऑस्ट्रेलियाई के पूर्व प्रधान मंत्री टोनी एबॉट मुख्य अतिथि रहे नरेंद्र मोदी ने संगरूर में पीजीआईएमईआर के 300 बिस्तरों वाले सैटेलाइट सेंटर को राष्ट्र को समर्पित किया

 

अधिकांश भारतीयों का मानना है कि भाजपा ने सकारात्मक इरादों के साथ मुर्मू का नाम लिया- सर्वे

Election Special, India, New Delhi, Former Jharkhand Governor, Draupadi Murmu, BJP, Presidential Elections
Listen to this article

Web Admin

Web Admin

5 Dariya News

नई दिल्ली , 23 Jun 2022

झारखंड की पूर्व राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू को आगामी राष्ट्रपति चुनाव के लिए एनडीए की उम्मीदवार घोषित किया गया है। ओडिशा के आदिवासी नेता द्रौपदी मुर्मू को देश के सत्तारूढ़ गठबंधन के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के रूप में मैदान में उतारने का निर्णय भाजपा की संसदीय बोर्ड की बैठक में लिया गया। 

भाजपा ने द्रौपदी मुर्मू के नाम की घोषणा उनके बाद की, जब राजनीतिक दलों के एक समूह ने तृणमूल कांग्रेस के नेता और अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार में पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा को आगामी राष्ट्रपति चुनावों के लिए अपना आम उम्मीदवार घोषित किया। 

मयूरभंज जिले की रहने वाली मुर्मू ने 1997 में रायरंगपुर नगर निकाय के पार्षद और उपाध्यक्ष के रूप में अपने राजनीतिक जीवन की शुरूआत की थी। मुर्मू मयूरभंज के रायरंगुर निर्वाचन क्षेत्र से दो बार भाजपा विधायक चुनी गईं। 

2015 में उन्हें झारखंड की पहली महिला राज्यपाल नियुक्त किया गया था। सीवोटर इंडियाट्रैकर ने भाजपा के फैसले के बारे में जनता की राय जानने के लिए राष्ट्रपति चुनाव के लिए एनडीए के उम्मीदवार के रूप में मुर्मू के नाम की घोषणा के एक दिन बाद आईएएनएस के लिए एक राष्ट्रव्यापी सर्वे किया। 

सर्वे के दौरान, उत्तरदाताओं के एक बड़े अनुपात- 56 प्रतिशत ने कहा कि यह सत्ताधारी दल द्वारा हाशिए पर रहने वाले समुदाय के उत्थान के लिए एक इन्हें चुना गया है, जिससे मुर्मू संबंधित हैं, वहीं सर्वे में भाग लेने वालों में से 44 प्रतिशत का मानना है कि यह केवल राजनीतिक संदेश है। 

सर्वे के दौरान एनडीए के अधिकांश मतदाताओं- 66 प्रतिशत ने कहा कि भाजपा ने मुर्मू को एनडीए के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के रूप में सकारात्मक इरादों के साथ नामित किया है, इस मुद्दे पर विपक्षी समर्थकों के विचार विभाजित थे। 

सर्वे के आंकड़ों के अनुसार, 50 प्रतिशत विपक्षी मतदाताओं ने कहा कि यह वंचित आदिवासी समुदाय के लिए भाजपा का कदम है। अन्य 50 प्रतिशत उत्तरदाताओं ने कहा कि यह निर्णय केवल राजनीतिक संदेश है। सर्वे के दौरान, अधिकांश सामाजिक समूहों के उत्तरदाताओं ने कहा कि भाजपा ने वास्तविक मकसद से एनडीए के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के रूप में घोषित किया है, अधिकांश मुसलमानों ने भावना को साझा नहीं किया। 

सर्वे के आंकड़ों के मुताबिक, 60 फीसदी सवर्ण हिंदू (यूसीएच), 61 फीसदी अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी), 73 फीसदी अनुसूचित जनजाति (एसटी) और 55 फीसदी अनुसूचित जाति (एससी) के मतदाता मुर्मू को राष्ट्रपति चुनाव के लिए उतारने के भाजपा के फैसले को हाशिए के आदिवासी समुदाय के लिए वास्तविक संकेत मानते हैं। 

वहीं, सर्वे के आंकड़ों से पता चला है कि 60 फीसदी मुसलमानों का मानना है कि मुर्मू के नाम की घोषणा सत्ताधारी गठबंधन ने सिर्फ राजनीतिक संदेश देने के लिए की है।

 

Tags: Election Special , India , New Delhi , Former Jharkhand Governor , Draupadi Murmu , BJP , Presidential Elections

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD