सरकार का बड़ा फैसला: J&K पुलिस पदकों से हटाई शेख अब्दुल्ला की तस्वीर, अब अशोक स्तंभ लगेगा

Thursday, 22 February 2024

 

 

खास खबरें PEC के विद्यार्थियों ने IGNUS 2024 में दिखाए अपने जौहर मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने ‘हिमाचल प्रदेश लैंड कोड’ के नवीन संस्करण का अनावरण किया पीईसी चंडीगढ़ के गणित विभाग ने हालिया प्रगति पर दो दिवसीय कार्यशाला आयोजित की गई ऑनलाइन जॉब फ्रॉड रैकेट: पंजाब पुलिस की साईबर क्राइम डिवीजऩ ने असम से चार साईबर धोखेबाज़ों को किया गिरफ़्तार एलपीयू, आईआईटी और अन्य विश्वविद्यालयों को पछाड़ते हुए भारत में अग्रणी पेटेंट फाइलर के रूप में उभरा मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने ‘अध्यापकों के अंतर्राष्ट्रीय भ्रमण’ कार्यक्रम का शुभारंभ किया शुभकरन के कातिलों को मिसाली सज़ा दिलाई जायेगी - मुख्यमंत्री का ऐलान पारदर्शिता ही ‘घर- घर मुफ़्त राशन’ योजना की मुख्य विशेषता: लाल चंद कटारूचक्क सनी लियोन की स्प्लिट्सविला फाइव के होस्ट के रूप में वापसी सालो बाद, एलिगेंट सिमी गरेवाल ज़ोया के लिए आयी एक खूबसूरत रील में नजर सफाई कर्मचारियों के हितों पर ध्यान देकर मनोहर सरकार ने दिखा दिया है कि भाजपा ही अनुसूचित जाति की सच्ची हितैषी है : सत्य प्रकाश जरवाता जिला में विभिन्न जगहों पर आईटीएमएस स्थापित करना जरूरी: डी सी हेमराज बैरवा स्ट्रोक भारत में नई महामारी के रूप में उभर रहा है: डॉ. यानिश भनोट 35 करोड़ रुपये की लागत से 66 केवी से 220 केवी बनेगा अजनाला बिजली घर : हरभजन सिंह ईटीओ पंजाब इंजीनियरिंग कॉलेज ने भारतीय विद्युत क्षेत्र पर तीन दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया अब बेरिएट्रिक सर्जरी के बिना स्वैलेबल पिल से घटेगा वजन संदेशखाली की घटना भाजपा की सोची समझी साजिश - आप प्रवक्ता नील गर्ग बंगाल में सरदार आईपीएस अधिकारी को खलिस्तानी बोले जाने की घटना की आम आदमी पार्टी ने की सख्त निंदा, कहा - भाजपा ने सिख धर्म का अपमान किया है बेला फार्मेसी कॉलेज में मां बोली दिवस मनाया गया कांगड़ा जिला में 03 मार्च को पिलाई जाएगी पोलियो की खुराक: डी सी डा हेमराज बैरवा राज्यपाल शिव प्रताप शुक्ल को विश्वभर में श्री राम पर जारी स्मारक डाक टिकट की पुस्तिका भेंट की

 

सरकार का बड़ा फैसला: J&K पुलिस पदकों से हटाई शेख अब्दुल्ला की तस्वीर, अब अशोक स्तंभ लगेगा

Sheikh Abdullah, Former Chief minister of J&K, Jammu & Kashmir, Sheikh Mohammad Abdullah, Ashok, Ashok Pillar, Pillar Of Ashok
Listen to this article

Web Admin

Web Admin

5 Dariya News

जम्मू , 24 May 2022

जम्मू कश्मीर पुलिस पदकों को लेकर सरकार ने सोमवार को बड़ा ऐलान किया।  सरकार ने वीरता और सेवा के लिए दिए जाने वाले इन पदकों पर से शेख अब्दुल्ला की तस्वीर को हटाने का फैसला किया है। अब इस पर राष्ट्रीय प्रतीक चिह्न अशोक स्तंभ लगाया जाएगा। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि शेख अब्दुल्ला नेशनल कॉन्फ्रेंस के संस्थापक और जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री थे। सरकार के इस फैसले के बाद ट्विटर पर बवाल खड़ा हो गया है। यूजर्स सरकार के इस फैसले का विरोध कर रहे हैं और शेख अब्दुल्ला को शेर ए कश्मीर कहकर याद कर रहे हैं।पदकों पर अशोक स्तंभ के चिह्न लगाने के बाबत गृह विभाग से आदेश जारी किये गए। इससे पहले सरकार ने शेर ए कश्मीर पुलिस पदक का नाम बदलकर जम्मू कश्मीर पुलिस पदक कर दिया था। 

सरकार के इस फैसले को राजनीति से भी जोड़ कर देखा जा रहा है। शेर-ए-कश्मीर शेख अब्दुल्ला को कहा जाता था। उनके समर्थक उन्हें इसी नाम से बुलाते थे। शेर-ए-कश्मीर के नाम पर राज्य भर में कई अस्पताल, स्टेडियम, सड़कें और कई अन्य इमारते हैं। शेख अब्दुल्ला, जम्मू कश्मीर के पूर्व सीएम उमर अब्दुल्ला के दादा और फारूक अब्दुल्ला के पिता थे। वे राज्य के पहले सीएम भी थे। जब फारूक अब्दुल्ला मुख्यमंत्री बने, तो उन्होंने अपने पिता की याद में पुलिसकर्मियों को दिए जाने वाले पदकों पर उनकी तस्वीर लगा दी थी। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि शेख अब्दुल्ला का जन्म 5 दिसंबर 1905 को हुआ था और उनका निधन 8 सितंबर 1982 को हुआ था।

शेख अब्दुल्ला तब कश्मीर के सबसे बड़े नेता थे, जब देश का बंटवारा हो रहा था। तब शेख अब्दुल्ला जिन्ना के लाख चाहने के बाद भी उनके साथ नहीं गए। ना ही वह कश्मीर के पाकिस्तान में विलय के पक्ष में थे। वह उन चुनिंदा नेताओं में थे, जो कश्मीर को भारत से मिलाने पर यकीन रखते थे। हालांकि बाद में कश्मीर साजिश के आरोप में उन्हें 11 साल जेल की सलाखों के पीछे बिताने पड़े। जब शेख अब्दुल्ला का जन्म हुआ उस समय आम कश्मीरी गरीबी से जूझ रहे थे। वहीं शेख अब्दुल्ला का परिवार व्यापार से जुड़ा था इसलिए उन्हें पढ़ने-लिखने का मौका मिला। उन्होंने लाहौर और अलीगढ़ में पढ़ाई की। अलीगढ़ से साल 1930 में विज्ञान में मास्टर्स की डिग्री हासिल करने के बाद वे श्रीनगर वापस लौट आए। शेख अब्दुल्ला ने पढ़ी-लिखी अवाम को इकट्ठा करना शुरू किया। उनके अंदर राजनीतिक और सामाजिक चेतना जगाने की बात की। उनकी कोशिशों के चलते 1932 में मुस्लिम कांफ्रेंस नाम का एक संगठन बना।

 

Tags: Sheikh Abdullah , Former Chief minister of J&K , Jammu & Kashmir , Sheikh Mohammad Abdullah , Ashok , Ashok Pillar , Pillar Of Ashok

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD