Wednesday, 19 June 2024

 

 

खास खबरें मुख्य मंत्री भगवंत सिंह मान ने पुलिस अधिकारियों को दिया आदेश; नशा तस्करों की गिरफ़्तारी के एक हफ्ते में जायदाद ज़ब्त करने के आदेश जतिंदर पाल मल्होत्रा के नेतृत्व में भाजपा पार्षदों और नेताओं के एक प्रतिनिधिमंडल ने राजीव वर्मा से मुलाकात की 33 एकड़ जमीन लीज पर देने पर मेयर ने लगाई रोक सरकार की तनाशाही के कारण निर्दलीय विधायकों को देना पड़ा है इस्तीफ़ा : जयराम ठाकुर गुजरात के जेल में बंद गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई की वीडियो सामने आने पर आम आदमी पार्टी ने भाजपा और सुनील जाखड़ को घेरा भाजपा पंजाब में मंडी व्यवस्था को खत्म करने की साजिश कर रही है, इसलिए आरडीएफ के लंबित 7,000 करोड़ जारी नहीं कर रही: आप कहां गई सुक्खू सरकार की स्टार्टअप योजना, आठ महीनों में कितने लोगों को मिला लाभ : जयराम ठाकुर सरकारी दफ़्तरों में यदि लोग परेशान हुए तो डिप्टी कमिश्नर जवाबदेह होंगे - मुख्यमंत्री भगवंत सिंह मान रोटरी इंटरनेशनल डिस्ट्रिक्ट 3080 ने जिला अधिकारियों के प्रशिक्षण संगोष्ठी - Illumination 2024-2025 का सफलतापूर्वक समापन किया ट्राइडेंट स्टैलियंस लगातार चौथी जीत के साथ शीर्ष पर विजय इंदर सिंगला ने खरड़ हलके के सभी मतदाताओं और समर्थकों का धन्यवाद किया संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मुलाकात की अमित शाह ने आज नई दिल्ली में मणिपुर की सुरक्षा स्थिति की समीक्षा के लिए उच्चस्तरीय बैठक की अध्यक्षता की जम्मू-कश्मीर में महत्वपूर्ण सड़क परियोजनाओं को स्वीकृति प्रदान की गई : डॉ. जितेंद्र सिंह हरियाणा में तीसरी बार भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनेगी : नायब सिंह लोगों की समस्याओं का समाधान करवाना है मुख्य उद्देश्य : महिपाल ढांडा आजादी की पहली लड़ाई पर आधारित शहीद स्मारक के निर्माण कार्य में लाए तेजी - पूर्व गृह मंत्री अनिल विज हरियाणा में स्थापित होगी 800 मेगावाट की अल्ट्रा सुपर क्रिटिकल थर्मल पावर यूनिट : मुख्यमंत्री नायब सिंह मुख्यमंत्री ने तीर्थ यात्रा योजना के अंतर्गत रामलला के दर्शन के लिए बस को हरी झंडी दिखाकर किया रवाना सी जी सी झंजेड़ी कैंपस में विद्यार्थियों को सड़की नियमों के पालन के लिए जागरूक करने के लिए लिए साप्ताहिक वर्कशाप का समापन लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी की महिला सॉफ्टबॉल टीम ने एआईयू सॉफ्टबॉल महिला टूर्नामेंट में जीत हासिल की

 

आजम के बहाने मुस्लिमों पर दांव खेलने में लगी मायावती!

Mayawati, Lucknow, Uttar Pradesh, BSP, Bahujan Samaj Party
Listen to this article

Web Admin

Web Admin

5 Dariya News

लखनऊ , 13 May 2022

बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती ने एक बार फिर आजम खान के बहाने मुस्लिम वोटों को अपनी ओर लुभाने का दांव चलना शुरू कर दिया है। सपा के वरिष्ठ नेता जेल में बंद आजम खान का पक्ष लेकर उन्होंने मिशन 2024 को साधने का प्रयास किया है। वह दलित और मुस्लिम एका बनाने की कोशिश में लगी हैं। दरअसल, विधानसभा चुनाव में मुस्लिमों को 89 टिकट देने के बावजूद भी उनको सफलता नहीं मिली। इसी कारण उन्होंने तुरंत बाद ही मुस्लिमों को लेकर ट्वीट और बयानबाजी शुरू कर दी है। उनको लगता है कि अगर 2024 में दलित की तरह मुस्लिम भी उनके पाले में आ जाएं तो वह अच्छा प्रदर्शन करने में कामयाब हो सकती हैं। इन दिनों आजम खान सपा से नाराज चल रहे हैं। आजम के समर्थकों ने खुले मंच से सपा का विरोध किया है। हलांकि अभी तक आजम के परिवार से नाराजगी की कोई बात निकल कर सामने नहीं आयी है। लेकिन आजम का सपा के विधायक से न मिलना इस ओर इशारा करता है। ऐसे में बसपा मुखिया कोई भी दांव खाली नहीं छोड़ना चाहती है। 

बसपा के एक बड़े नेता ने बताया कि अपने खोए जनाधार को पाने के लिए दलित और मुस्लिम को एक करना बहुत जरूरी है। इन दिनों बसपा में कोई बड़ा नेता बचा नहीं है। आजम खान मुस्लिमों के बड़े नेताओं में शुमार हैं। उनके साथ अन्याय भी हो रहा है। सपा को जिस तरह उनका साथ देना चाहिए। वह नहीं दे रही हैं। क्योंकि वह अपने परिवार के झगड़े निपटाने में लगे है। बसपा में नसीमुद्दीन चेहरा होते थे। लेकिन इन दिनों वह कांग्रेस में हैं। मुनकाद अली को प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया था। लेकिन वह कुछ कर नहीं सके। आजम पुराने नेता हैं उनके साथ मुस्लिमों के अलावा सहानुभूति का भी वोट है। इसलिए ट्वीट के जरिए मायावती ने उनका पक्ष लेकर बड़ा संदेश देने का प्रयास किया है। मायावती ने ट्वीट में कहा कि "यूपी सरकार अपने विरोधियों पर लगातार द्वेषपूर्ण व आतंकित कार्यवाही करती है। वरिष्ठ नेता आजम खान करीब सवा दो साल से जेल में बंद हैं। यह लोगों की नजरों में न्याय का गला घोटना नहीं तो क्या है।"मायावती ने मुस्लिमों को अपने पाले में लाने के लिए यह कोई पहला संदेश नहीं दिया है। वह विधानसभा में हार के बाद उन्हें आगाह किया। इसके बाद से उनके प्रति सहानुभूति भी दिखाने में वह पीछे नहीं हट रही हैं। क्योंकि 2007 की सरकार बनाने में दलितों की तरह मुस्लिमों ने भी खुलकर साथ दिया था। 

इसीलिए बसपा इस फिराक में है कि किसी तरीके से सपा में गए मुस्लिम समुदाय के वोटरों का बड़ा हिस्सा उनके साथ जुड़ जाए, तो उनका खेल ठीक हो जाएगा। करीब तीन दशकों से यूपी की राजनीति पर नजर रखने वाले वरिष्ठ राजनीतिक विश्लेषक रतनमणि लाल कहते हैं कि आजम खान और बसपा मुखिया के बीच कभी सहज रिश्ते नहीं रहे। अपनी-अपनी सरकारों में दोनों एक दूसरे पर कटाक्ष करने में पीछे नहीं रहे हैं। माया जानती हैं कि आजम सपा के संस्थापक सदस्यों में एक हैं। उनके बसपा में आने के चांस कम है। दोंनों के बीच में कोई संवाद नहीं रहा है। पिछले कुछ सालों से मायावती ने जिस प्रकार से अपने परंपरागत वोट खोया है, चाहे दलितों का हो या मुस्लिमों का। इस कारण अपने वोट बैंक को बचाने में लग गयी हैं। मुस्लिमों को चेहरे के प्रति सहानुभूति दिखा रही है। इसलिए आजम के सहारे संदेश देने का प्रयास कर रही हैं। वह इस समुदाय के प्रति संवेदना दिखा रही हैं। आजम सपा से अलग होते हैं तो वह अपनी राजनीतिक संभावना तलाश सकती है। वह चाहती है कि सपा किसी न किसी तरह कमजोर हों जिसका फायदा वह ले सकें।

 

Tags: Mayawati , Lucknow , Uttar Pradesh , BSP , Bahujan Samaj Party

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD