Saturday, 24 February 2024

 

 

खास खबरें सफाई कर्मचारियों के हितों को ध्यान में रखते हुए मिलें बेहतर सुविधाएं : अंजना पंवार विकास कार्य़ो की गति में लाई जाए तेजीः सोम प्रकाश एस बी एस पब्लिक स्कूल में हुआ पैनासॉनिक “हरित उमंग- जॉय ऑफ़ ग्रीन” का सफल आयोजन PEC त्रिदिवसीय वर्कशॉप का सफलतापूर्वक समापन किया PEC स्टूडेंट निशिता ने स्वरचित रचना से जीता IGNUS 24 फेस्ट में दूसरा स्थान IIT रोपड़ के टेक्निकल फेस्ट में PEC छात्रों ने अपने नाम किये कई ईनाम 'PEC में दोबारा आना एक यादगारी अनुभव है' : कपिलेश्वर सिंह बीजेपी हम पर इंडिया गठबंधन छोड़ने का दबाव बना रही है, वे जल्द अरविंद केजरीवाल को गिरफ्तार करने की योजना बना रहें : आप पंजाब द्वारा दुबई में ‘गल्फ-फूड 2024’ के दौरान फूड प्रोसेसिंग की उपलब्धियाँ और संभावनाओं का प्रदर्शन, निवेश के लिए न्योता कैबिनेट मंत्री ब्रम शंकर जिंपा ने 27 फार्मासिस्टों व 28 को क्लीनिक असिस्टेंटों को सौंपे नियुक्ति पत्र 1900 रुपए मानदेय बढ़ाने के लिए कंप्यूटर अध्यापकों ने मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू का आभार व्यक्त किया ब्रिटिश उच्चायोग और हिमाचल प्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन के प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू से भेंट की 'क़ैद - नो वे आउट' - प्यार, दुर्व्यवहार और उस से बाहर निकलने की एक मनोरंजक कहानी चितकारा यूनिवर्सिटी में "चितकारा लिट फेस्ट 2024"' विद्युत जामवाल की ''क्रैक- जीतेगा तो जियेगा' एक्शन फिल्मों की सूची में सबसे ऊपर मुख्यमंत्री के नेतृत्व में पंजाब मंत्रिमंडल द्वारा एक मार्च से 15 मार्च तक बजट सत्र बुलाने की मंजूरी पंजाब में स्वास्थ्य सेवाओं में आया क्रांतिकारी बदलावः ब्रम शंकर जिंपा डाइट मनी में पांच गुणा बढ़ोतरी पर मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू का आभार व्यक्त किया PEC के विद्यार्थियों ने IGNUS 2024 में दिखाए अपने जौहर मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने ‘हिमाचल प्रदेश लैंड कोड’ के नवीन संस्करण का अनावरण किया पीईसी चंडीगढ़ के गणित विभाग ने हालिया प्रगति पर दो दिवसीय कार्यशाला आयोजित की गई

 

75वें आजादी का अमृत महोत्सव के अवसर पर 'कला कुंभ'-9 दिवसीय चित्रकला कार्यशाला चितकारा विश्वविद्यालय में संपन्न

पंजाब के राज्यपाल श्री बनवारीलाल पुरोहित ने 250 कलाकारों द्वारा किए गए कार्यों की सराहना की जिन्होंने भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के गुमनाम नायकों के योगदान को दर्शाती 450 मीटर स्क्रॉल पेंटिंग बनाई।

Chitkara University, Banur, Rajpura, Banwari Lal Purohit, Banwarilal Purohit, Governor of Punjab, Punjab Governor, Punjab Raj Bhavan
Listen to this article

Web Admin

Web Admin

5 Dariya News

राजपुरा , 02 Jan 2022

पंजाब के राज्यपाल बनवारी लाल पुरोहित ने मुख्य अतिथि के रूप में आज चितकारा विश्वविद्यालय का दौरा किया और 250 कलाकारों द्वारा तैयार की गई विशाल और शानदार स्क्रॉल पेंटिंग का अवलोकन किया, जिसमें विभिन्न राज्यों के गुमनाम नायकों के जीवन,रेखाचित्र और योगदान को दर्शाया गया है।कार्यशाला-'' कला कुंभ' का आयोजन संस्कृति मंत्रालय, रक्षा मंत्रालय और एनजीएमए (नेशनल गैलरी ऑफ मॉडर्न आर्ट) नई दिल्ली द्वारा संयुक्त रूप से किया गया।श्री पुरोहित ने सभी कलाकारों से बात की और उनकी कला के काम के बारे में जिज्ञासा प्रकट की जो कि 450 मीटर लंबाई और 3 मीटर ऊंचाई की है। इसमें लद्दाख, कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, तेलंगाना सहित विभिन्न राज्यों के स्वतंत्रता सेनानियों की कहानियां हैं।  कर्नाटक, केरल, महाराष्ट्र, हरियाणा, पंजाब, दिल्ली, गुजरात और राजस्थान के महानायकों की गाथाएं भी दर्शाई गईं हैं।इन राज्यों की कला, संस्कृति, साहित्य, जीवन शैली और लोकप्रिय स्थानों को भी चित्रों के माध्यम से दर्शाया गया है जिसे 26 जनवरी को राजपथ पर प्रदर्शित किया जाएगा और इसका उद्घाटन प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी करेंगे।श्री बनवारीलाल पुरोहित ने कहा कि कलाकारों ने अपने गुरुओं के कुशल मार्गदर्शन में बहुत अच्छा काम किया है और उन स्वतंत्रता सेनानियों और शहीदों के बारे में चित्र बनाएं हैं जो अधिक लोगों को ज्ञात नहीं हैं लेकिन स्वतंत्रता संग्राम में उनका योगदान बहुत बड़ा था।उन्होंने कहा कि आजादी के परवानो का भारत अभी हम सबकों मिल कर बनाना है और भारत को विश्व गुरु बनाने का संकल्प पूरा करना है।

उन्होंने कहा कि इस विशाल पेंटिंग का दर्शकों पर लंबे समय तक प्रभाव रहेगा और सभी नागरिकों को हमारे देशभक्तों की जीवनी के  बारे में अनोखे और कलात्मक तरीके से पता चलेगा।9 दिवसीय कार्यशाला-कला कुंभ के समापन दिवस पर श्रोताओं को संबोधित करते हुए पंजाब के राज्यपाल ने  सभी आयोजकों को उनकी पहल के लिए सराहना की और बधाई भी दी और कहा कि यह भारत की विविधता में एकता का एक उदाहरण है जहां हजारों वर्षों से कला के कई रूप प्रचलित हैं और यहां 'गुरु शिष्य परम्परा' में सीखने और ज्ञान को अगली पीढ़ी तक पहुँचाने की एक महान शैली है।  श्री पुरोहित ने एनसीसी कैडेटों की भी सराहना की जो इस स्क्रॉल पेंटिंग कार्यशाला का हिस्सा थे और कहा कि राष्ट्र के लिए प्रेम और गौरव सबसे महत्वपूर्ण है और हमें अपने देश के इतिहास को जानना चाहिए कि अंग्रेजों के साथ लंबी लड़ाई के बाद हमने स्वतंत्रता कैसे प्राप्त की। राज्यपाल ने छात्रों को डॉ. अब्दुल कलाम को अपना आदर्श बनाने के लिये प्रेरित किया!इस अवसर पर चितकारा यूनिवर्सिटी के चांसलर डॉ अशोक चितकारा, प्रो चांसलर डॉ मधु चितकारा भी मौजूद थे.एनजीएमए के महानिदेशक श्री अद्वैत गरनायक ने कला कुंभ की अवधारणा और परिणाम प्रस्तुत किया और कहा कि 250 कलाकारों द्वारा किया गया अभूतपूर्व काम है जिन्होंने दिन-रात काम किया और 9 दिनों तक इस कार्यशाला में भाग लेकर वे न केवल एक-दूसरे के करीब आए हैं और उन्हें सीखने का अनुभव भी मिला है।

उन्होंने विभिन्न क्षेत्रों के स्वतंत्रता सेनानियों की ताकत को एक कैनवास में दिखाने के मूल विचार से जुड़े रह कर विचारों का आदान-प्रदान किया और पेंटिंग की अपनी शैली का प्रदर्शन किया। उन्होंने कहा कि प्रधान मंत्री  श्री नरेंद्र मोदी द्वारा उद्घाटन के बाद 26 जनवरी को स्क्रॉल पेंटिंग व्यापक दर्शकों के लिए खुली रहेगी और आने वाली पीढ़ियों को प्रेरित करेगी। चितकारा विश्वविद्यालय की कुलपति डॉ अर्चना मंत्री ने कहा कि  कला कुंभ ने उत्तर भारत  क्षेत्र के लोगों को इतने बड़े पैमाने पर की जा रही विशाल कला को देखने का एक बड़ा अवसर दिया है  जहां चित्रकारों ने अपनी रचनात्मक स्वतंत्रता व्यक्त की और कला की विशिष्ट शैलियों का प्रतिनिधित्व  भी किया जो कि  विशेष रूप से समकालीन और पारंपरिक रूप से जुड़े हैं।उन्होंने कहा कि फड़, भील, मंदाना, कांगड़ा, वोरली, थंगा,पीछवई, कलमकारी सबसे अधिक आकर्षित पारंपरिक रूप थे जबकि ब्रश, स्ट्रोक और रंगों के उपयोग के माध्यम से समकालीन पेंटिंग के जरिए राज्यों को दिखाया है कि कलाकार किस जगह  से संबंधित हैं।चितकारा विश्वविद्यालय के प्रो चांसलर डॉ मधु चितकारा ने धन्यवाद प्रस्ताव देते हुए कहा कि स्क्रॉल पेंटिंग की एक विशेषता यह है कि नंद लाल बोस और उनके शिष्यों द्वारा हमारे संविधान में तैयार किए गए चित्रों को भी सभी कैनवास के शीर्ष पर चित्रित किया गया है जो  एक सूत्र में पिरोती है  और निरंतरता तथा हमारे देश की गणतंत्र प्रकृति को  दर्शाती है जो दुनिया में सबसे बड़ी है और जिस पर पूरा देश गर्व करता है।लोक कलाकारों की मनमोहक प्रस्तुति के साथ 'कला कुंभ' का समापन हुआ।

 

Tags: Chitkara University , Banur , Rajpura , Banwari Lal Purohit , Banwarilal Purohit , Governor of Punjab , Punjab Governor , Punjab Raj Bhavan

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD