Saturday, 20 April 2024

 

 

खास खबरें पलवल जिले के 118 वर्ष के धर्मवीर हैं प्रदेश में सबसे बुजुर्ग मतदाता मानव को एकत्व के सूत्र में बांधता - मानव एकता दिवस श्री फ़तेहगढ़ साहिब में बोले मुख्यमंत्री भगवंत मान: रात कितनी भी लंबी हो सच का सूरज चढ़ता ही चढ़ता है, 2022 में जनता ने चढ़ाया था सच का सूरज भारी बारिश और तूफान के बावजूद भगवंत मान ने श्री फतेहगढ़ साहिब में जनसभा को किया संबोधित जुम्मे की नमाज पर मुस्लिम भाईचारे को बधाई देने पहुंचे गुरजीत सिंह औजला आवश्यक सेवाओं में तैनात व्यक्तियों को प्राप्त होगी डाक मतपत्र सुविधा: मुख्य निर्वाचन अधिकारी मनीष गर्ग शहर के 40 खेल संगठनों के प्रतिनिधियों ने की घोषणा,भाजपा प्रत्याशी संजय टंडन को दिया समर्थन भाजपा ने कांग्रेस प्रत्याशी मनीष तिवारी को 12 जून 1975 के ऐतिहासिक तथ्य याद दिलाई रयात बाहरा यूनिवर्सिटी में 'फंडिंग के लिए अनुसंधान परियोजना लिखने' पर वर्कशॉप सफेद कुर्ती में इहाना ढिल्लों का चुंबकीय अवतार सरफेस सीडर के साथ गेहूं की खेती को अपनाए किसान: कोमल मित्तल PEC के पूर्व छात्र, स्वामी इंटरनेशनल, यूएसए के संस्थापक और अध्यक्ष, श्री. राम कुमार मित्तल ने कैंपस दौरे के दौरान छात्रों को किया प्रेरित मुख्य निर्वाचन अधिकारी सिबिन सी द्वारा फेसबुक लाइव के ज़रिये पंजाब के वोटरों के साथ बातचीत महलों में रहने वाले गरीबों का दुख नहीं समझ सकते: एन.के.शर्मा एनएसएस पीईसी ने पीजीआईएमईआर के सहयोग से रक्तदान शिविर का आयोजन किया गर्मी की एडवाइजरी को लेकर सिविल सर्जन ने ली मीटिंग अभिनेता सिद्धार्थ मल्होत्रा बने सैवसोल ल्यूब्रिकेंट्स के ब्रांड एंबेसडर सिंगर जावेद अली ने स्पीड इंडिया एंटरटेनमेंट का गीत किया रिकॉर्ड अनूठी पहलः पंजाब के मुख्य निर्वाचन अधिकारी सिबिन सी 19 अप्रैल को फेसबुक पर होंगे लाइव आदर्श आचार संहिता की पालना को लेकर सोशल मीडिया की रहेगी विशेष निगरानी- मुख्य निर्वाचन अधिकारी अनुराग अग्रवाल चुनाव में एक दिन देश के नाम कर चुनाव का पर्व, देश का गर्व बढ़ाए- अनुराग अग्रवाल

 

म्यूजिय़म ऑफ ट्रीज़-चंडीगढ़ में वातावरण समर्थकीय एक नया मीलपत्थर

Listen to this article

Web Admin

Web Admin

5 Dariya News

चंडीगढ़ , 30 Nov 2020

श्री गुरु नानक देव जी के 551वें प्रकाश पर्व के मौके पर पंजाब के राज्यपाल और चंडीगढ़ के प्रशासक श्री वी.पी. सिंह बदनौर ने चंडीगढ़ में म्युजिय़म ऑफ ट्रीज़-सिख धर्म से सम्बन्धित पवित्र वृक्षों की संरक्षण करने वाले विलक्षण प्रोजैक्ट का उद्घाटन किया। इन पवित्र वृक्षों के नाम पर कई सिख गुरुद्वारों के नाम रखे गए हैं।कोविड-19 के मद्देनजऱ प्रोजैक्ट का उद्घाटन ऑनलाइन किया गया। इस ऑनलाइन उद्घाटन में पूर्व संसद मैंबर और अल्पसंख्यक आयोग के चेयरमैन सरदार त्रिलोचन सिंह और पी.एच.डी.सी.सी.आई के प्रधान श्री करन गिलहोत्रा ने शिरकत की।श्री गुरु नानक देव जी के 551वें प्रकाश पर्व के मौके पर गुरूपर्व की बधाई देते हुए राज्यपाल ने कहा कि यह श्री गुरु नानक देव जी को याद करने का सबसे बढिय़ा दिन और उपयुक्त विधि है, जिनकी वाणी कुदरत, वातावरण, वृक्षों, पौधों और जीवों के जीवन के हवालों से भरपूर है।राज्यपाल ने चेतावनी देते हुए कहा कि मौसम में तबदीली मानवता के लिए एक तत्काल संकट है और इस चुनौती से निपटने के लिए लोगों की राय जुटाने हेतु म्युजिय़म ऑफ ट्रीज़ जैसी पहलकदमियों के साथ लोगों को आगे आना चाहिए।उन्होंने 12 पवित्र वृक्षों का क्लोन तैयार करने के लिए 10 सालों से धैर्य और तनदेही के साथ काम करने के लिए डीएस जसपाल की सराहना की और आशा अभिव्यक्त की कि बाकी वृक्षों का काम भी जल्द ही पूरा कर लिया जाएगा।पूर्व संसद मैंबर और भारत के अल्पसंख्यक आयोग के चेयरमैन ने सिख धर्म के पवित्र वृक्षों का संरक्षण में सहयोग देने के लिए राज्यपाल का धन्यवाद किया।

उन्होंने कहा कि गुरू नानक देव जी विश्व के सबसे अधिक यात्रा करने वाले धार्मिक प्रचारक थे। गुरू जी ने वृक्षों की छाँव के नीचे खुले में आम लोगों के साथ बातचीत की, जिस कारण बहुत से पवित्र वृक्ष गुरू साहिब के साथ जुड़े हुए हैं। उन्होंने पवित्र वृक्षों की संरक्षण वाले इस प्रोजैक्ट को समर्थन देने के लिए भारत सरकार की सराहना की, क्योंकि बहुत से गुरुद्वारों में पवित्र पेड़ काटे गए हैं या गलत देखभाल के कारण होंद गवा चुके हैं।म्यूजिय़म ऑफ ट्रीज़ के सृजनहार और क्युरेटर डीएस जसपाल ने राज्यपाल का इस प्रोजैक्ट को सहयोग देने के लिए धन्यवाद किया। इस सम्बन्धी उन्होंने कहा कि न सिफऱ् सिखों के लिए बल्कि सभी कुदरत प्रेमियों के लिए आकर्षण का केंद्र साबित होगा।जसपाल ने बताया कि बहुत से पवित्र वृक्ष वनस्पती महत्व भी रखते हैं। उदाहरण के तौर पर सुल्तानपुर लोधी में गुरुद्वारा बेर साहिब में बेरी का वृक्ष विलक्षण है, क्योंकि इसके बहुत कम काँटे हैं। इसी तरह गुरूद्वारा पिपली साहिब में पीपल के पेड़ के पत्तों का एक अनोखा पीला रंग है।जसपाल ने यह भी बताया कि वृक्षों को लहसून, मिर्चों और हींग को पानी में मिलाकर पूरी तरह घरेलू जैविक स्प्रे के द्वारा बीमारियों से सुरक्षित रखा जाता है, इसी कारण वृक्ष सेहतमंद हैं और बढिय़ा फल देते हैं।दस सालों के दौरान अजायब घर संबंधी पवित्र वृक्षों की जेनेटिक तौर पर सही प्रतिक्रितियों को बनाने में सफल रहा है, जिसमें दरबार साहिब की दुखभंजनी बेरी, सुल्तानपुर लोधी के गुरुद्वारा बेर साहिब में बेर का पेड़, गुरुद्वारा बेबे-की-बेर, सियालकोट, पाकिस्तान में बेर का वृक्ष, अमृतसर के गुरुद्वारा पिपली साहिब का पीपल का वृक्ष शामिल हैं।वृक्षों के अजायब घर में भारत की सबसे आधुनिक मिस्ट चैंबर की सुविधा है और एक ग्लास हाऊस कंजऱवेटरी की व्यवस्था है, जिसमें ऊँचाई और बढ़ाने वाली फूलने वाली दुर्लभ किस्मों को सुरक्षित रखने के लिए सोलह एयर कंडीशनर मौजूद हैं।

 

Tags: VP Singh Badnore

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD