Saturday, 15 June 2024

 

 

खास खबरें ब्रम शंकर जिम्पा ने राजस्व विभाग में व्यापक स्तर पर सुधार करने के लिए उच्च अधिकारियों को सख़्त निर्देश जारी किए आप सांसद मलविंदर कंग ने शेर सिंह घुबाया के बयान की निंदा की, कहा - जनता को धमकी देना अमर्यादित और अलोकतांत्रिक मोदी 3 में केंद्रीय मंत्री मनसुख मंडाविया से मिले सुखविंदर सिंह बिंद्रा शिमला, चंबा, सिरमौर, मंडी और कुल्लू में स्थापित होंगी एनडीआरएफ की छोटी टुकड़ियां पंजाब विधान सभा के स्पीकर कुलतार सिंह संधवां ने अमृतसर हेरिटेज स्ट्रीट के नवीनीकरण की ज़रूरत पर ज़ोर दिया आने वाली पीढ़ीयों के लिए वातावरण की रक्षा करना हमारा अहम फर्ज - लाल चंद कटारूचक्क चुनाव आयोग द्वारा हरियाणा के संबंध में जारी वोटरों के आंकड़ों एवं मतगणना में ई.वी.एम. से प्राप्त वोटों में अंतर महाराजा अग्रसेन हिसार हवाई अड्डे से प्रदेश की राजधानी चंडीगढ़ समेत 5 प्रदेशों के लिए अगस्त से शुरू होगी उड़ान : नायब सिंह पुलिस महानिदेशक ने सीसीटीएनएस तथा आईसीजेएस प्रणाली को लेकर स्टेट एंपावर्ड कमेटी के सदस्यों के साथ की समीक्षा बैठक अब करनाल में डोमेस्टिक एयरपोर्ट बनाने की परियोजना पर काम करेगी सरकार - डॉ. कमल गुप्ता शहरों में कृषि भूमि की खरीद -फरोख्त में एन.डी.सी. की आवश्यकता नहीं -सुभाष सुधा असीम गोयल ने जिला कष्ट निवारण समिति की बैठक में सुनी आमजन की समस्याएं डीजीपी पंजाब गौरव यादव द्वारा फील्ड अधिकारियों को राज्य से ड्रग्स और गैंगस्टर संस्कृति को खत्म करने का निर्देश मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने बल्क ड्रग पार्क के स्थापना कार्य की प्रगति की समीक्षा की कुलतार सिंह संधवां ने महान कोष को संशोधन कर पुन: प्रकाशित करने संबंधी अलग-अलग सिख संस्थाओं के प्रतिनिधियों के साथ किया विचार-विमर्श मैं चुनौतीपूर्ण रोल्स अपनाने के लिए तैयार हूँ: ज़रीन खान विश्व बैंक की टीम ने बागवानी मंत्री जगत सिंह नेगी से भेंट की पैरिस ओलम्पिक्स में हिस्सा लेने जाने वाले प्रत्येक पंजाबी खिलाड़ी को मिलेंगे 15 लाख रुपए : मीत हेयर यूटी प्रशासक द्वारा शहरवासियों को मुफ्त पानी देने के प्रस्ताव को खारिज करना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण: डॉ. एसएस आहलूवालिया मनसुख मांडविया ने युवा कार्यक्रम एवं खेल मंत्रालय का पदभार संभाला रक्षा निखिल खडसे ने युवा कार्यक्रम एवं खेल राज्यमंत्री का कार्यभार संभाला

 

पड़ोसी पहले नीति लापरवाही के कारण बेपटरी हुई : आनंद शर्मा

Listen to this article

Web Admin

Web Admin

5 Dariya News

नई दिल्ली , 19 Jul 2020

पूर्व केंद्रीय मंत्री आनंद शर्मा ने विदेश मंत्री एस. जयशंकर पर निशाना साधते हुए कहा है कि बयानबाजी और ट्वीट्स से जमीनी हकीकत नहीं बदलते। विदेश नीति मेंगहराई होनी चाहिए। रणनीतिक साझेदारों के साथ संबंध गंभीरता की मांग करती है और इसे इवेंट मैनेजमेंट से संभाला नहीं जा सकता। आनंद शर्मा ने एक बयान में कहा, "एक दिशाहीन विदेश नीति का विदेश मंत्री डॉ. एस. जयशंकर द्वारा बचाव किया जाना अच्छा लगा। पड़ोसी प्रथम भारत की विदेश नीति की प्राथमिकता हुआ करती थी, लेकिन दुख है कि लापरवाही भरे रवैये के कारण यह पटरी से उतर गई।"कांग्रेस नेता ने कहा कि सरकार अपना पीठ थपथपा सकती है, लेकिन इतिहास आपको परिणामों के आधार पर परखेगा।कांग्रेस की तरफ से यह हमला विदेश मंत्री द्वारा विदेश नीति के प्रमुख मुद्दों पर राहुल गांधी की बातों का खंडन किए जाने के बाद आया है। राहुल ने शुक्रवार को एक वीडियो में विदेशी नीति पर सवाल उठाए थे।राहुल गांधी को जवाब देते हुए जयशंकर ने कहा था, "राहुल गांधी ने विदेश नीति पर सवाल उठाए हैं। यहां कुछ जवाब हैं। हमारी प्रमुख साझेदारी और मजबूत हुई है और अंतर्राष्ट्रीय कद बढ़ा है। 

अमेरिका, रूस, यूरोप, जापान के साथ लगातार शिखर बैठकें और अनौपचारिक बैठकें हो रही हैं। भारत चीन के साथ अधिक समान शर्तो और राजनीतिक रूप आदान-प्रदान कर रहा है। विश्लेषकों से पूछ लीजिए।"लेकिन आनंद शर्मा ने यह जानना चाहा कि भारत के संबंध पड़ोसियों के साथ क्यों गिरावट पर हैं। उन्होंने कहा, "भारत और नेपाल के बीच संबंध ऐतिहासिक रूप से विश्वास, मित्रता और आपसी सम्मान पर टिका रहा है। मौजूदा तकरार और तनाव एक राष्ट्रीय चिंता की बात है। विदेश मंत्री के पास नकारने का विकल्प नहीं है, बल्कि विफलताओं के लिए उन्हें जवाब देना चाहिए।"शर्मा ने मुंबई आतंकी हमले का जिक्र करने के लिए भी जयशंकर पर हमला बोला और कहा कि यह बिल्कुल गलत है।उन्होंने कहा, "भारत के राजदूत और वरिष्ठ राजनयिक के रूप में वह भारत के रुख को रख रहे थे, राजनीतिक लाभ के लिए वह आलोचना कर रहे है। भारत का जवाब जोरदार था और अंतर्राष्ट्रीय समर्थन् से पाकिस्तान बेनकाब और अलग-थलग हो गया था।"शर्मा ने कहा कि पक्षपातपूर्ण प्रोपागंडा के लिए बालाकोट, उरी और भारतीय सेना के हरेक बहादुरी भरी कार्रवाइयों का इस्तेमाल क्यों? उनपर हरेक भारतीय को गर्व है।शर्मा ने कहा, "क्या मुझे याद दिलाना होगा कि भारतीय सेना, वायुसेना और नौसेना मई 2014 के पहले से हैं और उनकी बहादुरी व जांबाजी को दुनिया भर में सम्मान मिला है। सेना राष्ट्र की होती है और तिरंगे के अधीन लड़ती है।"कांग्रेस नेता ने कहा कि रक्षा बलों का राजनीतिकरण मत कीजिए। "राष्ट्रहित में सलाह दे रहा हूं। हमारे रक्षा बलों का राजनीतिकरण मत कीजिए।"

 

Tags: Anand Sharma

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD