Friday, 24 May 2024

 

 

खास खबरें मुख्यमंत्री भगवंत मान ने जालंधर से आप उम्मीदवार पवन कुमार टीनू के लिए किया प्रचार प्रवासियों के खिलाफ है कांग्रेस : संजय टंडन अग्निपथ योजना पर कांग्रेस का दोहरा मापदंड : संजय टंडन शहर के बीचों-बीच बाजारों में चले गुरजीत सिंह औजला प्रधानमंत्री मोदी की फतेह रैली का गवाह बने पटियाला के एक लाख से अधिक लोग पंजाब में बिजली को लेकर हाहाकार : विजय इंदर सिंगला आम आदमी पार्टी के प्रदेश सचिव संजीव राही सहित सुपर्णा शर्मा व कई नेता भाजपा में शामिल पंजाब में लगातार मजबूत हो रही आप, शिरोमणि अकाली दल और कांग्रेस को बड़ा झटका! कई बड़े नेता आप में शामिल भगवंत मान जी, महिलाओं को एक हजार रुपये महीना कब मिलेगा? : गुरजीत सिंह औजला प्रधानमंत्री को लोगों को उनकी पार्टी के लिए मतदान के लिए डराने के बजाय यह बताना चाहिए कि वे देश को आगे कैसे लेकर जाएंगी : सुखबीर सिंह बादल लुधियाना पूर्वी में चुनाव अभियान के दौरान राजा वड़िंग ने बदलाव की वकालत की 'जुमलेबाजों' और उनकी 'जुमलेबाजी' से सावधान रहें : अमरिन्दर सिंह राजा वड़िंग श्री आनंदपुर साहिब की आवाज संसद में उठाऊंगा: डा. सुभाष शर्मा श्री आनंदपुर साहिब के बहुमुखी विकास के लिए डॉ. सुभाष शर्मा ने जारी किया संकल्प पत्र इंडोनेशियाई प्रतिनिधि सभा और अंतर-संसदीय संघ द्वारा 10वें विश्व जल मंच पर संसदीय बैठक का आयोजन किया गया जीनगर समाज के लिए कलस्टर बनाकर रोजगार को देंगे बढ़ावा:एन.के.शर्मा मैं आज जो कुछ भी हूं वह सभी बरनाला निवासियों के सहयोग और समर्थन के कारण हूं: मीत हेयर आने वाले समय में हमारा देश अन्नदाता से ऊर्जा दाता,ईंधन दाता बनेगा-गडकरी राइटरस अकसर नजरअंदाज हो जाते हैं - अभिनय देओ भगवान बुद्ध की शिक्षाएं आज और भी अधिक प्रासंगिक: राज्यपाल शिव प्रताप शुक्ल कमीशनिंग प्रक्रिया के बाद स्ट्रांग रूम में रखी जाएंगी ईवीएम-वीवीपैट: डी.सी. हेमराज बैरवा

 

पराली को आग ना लगाने वाले बीर दलविन्दर सिंह को मिला राष्ट्रीय सम्मान

पिछले छह सालों से पराली को खेतों में ही बाह कर सफलता के साथ खेती कर रहा गाँव कल्लर माजरी का किसान बीर दलविन्दर सिंह

Listen to this article

Web Admin

Web Admin

5 Dariya News

पटियाला//नई दिल्‍ली , 11 Sep 2019

नई दिल्‍ली में भारतीय खेती खोज परिषद और निर्देशालय, खेती और किसान भलाई की तरफ से फसलों के अवशेष का उचित प्रयोग के विषय पर किसानों की राष्ट्रीय कान्फ्रेंस करवाई गई, जिस में पंजाब, हरियाणा, उतर प्रदेश और दिल्ली के किसानों ने हिस्सा लिया और इस मौके धान की पराली का उचित प्रयोग करने वाले पंजाब के 10 किसानों को सम्मानित किया गया, जिनमें से पटियाला जिले के गाँव कल्लर माजरी का पढ़ा लिखा नौजवान व प्रगतिशील किसान बीर दलविन्दर सिंह भी शामिल है। कांफ्रेंस दौरान बीर दलविन्दर सिंह ने बताया कि वह पिछले छह सालों से प्राकृतिक स्रोत संरक्षण तकनीकों और आधुनिक खेती मशीनरी के साथ खेती कर रहा है और इसके, उसे बड़े सार्थक नतीजे देखने को मिले हैं।एम.टैक कंप्यूटर विज्ञान की डिग्री प्राप्त करने उपरांत साफवेयर इंजीनियर के तौर पर तीन साल नौकरी करने के बाद आधुनिक तकनीकों के साथ खेती करने वाले बीर दलविन्दर सिंह ने बताया कि उसने अपने खेतों में पिछले छह सालों से आग नहीं लगाई जिससे फसलों के लिए लाभदायक मित्र कीड़ों ने जमीन की उपजाऊ शक्ति में वृद्धि की है और पहले की अपेक्षा खेतों में यूरिया खाद का प्रयोग भी कम होने लगा है। उन्होंने बताया कि जहाँ पराली खेत में ही बाहने से यूरिया खाद के प्रयोग में कमी आई है वहीं ही जमीन की पानी जज्ब करने की क्षमता में भी वृद्धि हुई है जो जमीन की उपजाऊ शक्ति के लिए लाभदायक है। स. बीर दलविन्दर ने बताया कि अन्य लाभा के अलावा सबसे बड़ा फायदा वातावरण को प्रदूषित होने से बचाने का है। उन्होंने कहा कि वे इस बात से संतुष्ट हैं कि वह वातावरण को प्रदूषित करने वाली तकनीकों के बिना सफलतापूर्वक खेती कर रहा हैं और वह इससे बेहद सूकून महसूस करते हैं।

40 सालों के किसान बीर दलविन्दर सिंह ने बताया कि पंजाब सरकार की तरफ से किसानों को धान की पराली को आग लगाने से होते नुकसान बारे सुचेत भी किया जा रहा है वहीं हैप्पी सीडर पर सब्सिडी भी मुहैया करवाई जा रही है और जो किसान यंत्र खरीदना नहीं चाहते हो कस्टम हायरिंग सैंटरों के माध्यम से मशीनरी को किराये पर भी ले सकते हैं। उन्होंने बताया कि उनकी तरफ से अपनाए खेती तौर तरीकों की वजह से पंजाब कृषि यूनिवर्सिटी की तरफ से भी उन्हें नयी तकनीकें अपनाने के लिए प्रेरित किया जाता है और खेती माहिर भी समय -समय पर उनके खेतों का दौरा करते रहते हैं। उन्होंने बताया कि खेती यंत्र बनाने वाली कंपनियाँ भी नये बनाए उत्पादों को उपयोग के लिए उन्हें देती हैं, जिससे नये यंत्रों में किसी प्रकारकी कोई कोर कसर  को खेतों में जांचा जा सके।बीर दलविन्दर सिंह ने बताया कि हैप्पी सीडर की मदद से धान के बाद गेहूँ की बिजाई में भी आसानी होती है। आम तौर पर किसान खेत को 7-8 बार वाह कर तैयार करता है जबकि हैप्पी सीडर के प्रयोग से एक बार में ही गेहूँ की बिजाई हो जाती है। हैप्पी सीडर से बिजाई करके जहाँ वातावरण साफ -सुथरा रहता है वहीं ही खेत में पराली मिलाने से जमीन की जैविक स्थिति में भी सुधार आता है और लेबर और ऊर्जा जैसे साधनों की बचत होती है और घासफूस नाशकों का प्रयोग घटता है। इस तरह गेहूँ की बिजाई का खर्चा भी घटता है और झाड़ पर भी कोई प्रभाव नहीं पड़ता।बीर दलविन्दर सिंह ने किसानों को धान की पराली को आग लगाने की बजाय खेतों में बाहने  की अपील करते कहा कि जहाँ इससे वातावरण प्रदूषित होने से बचेगा वहीं हमारे खेतों की उपजाऊ शक्ति में वृद्धि होगा और हम अपनी, आने वाली पीढ़ीयों को साफ -सुथरा वातावरण और उपजाऊ जमीन देकर जाएंगे।

 

 

Tags: Khas Khabar , Agriculture

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD