Sunday, 14 April 2024

 

 

खास खबरें राज्यपाल शिव प्रताप शुक्ल ने प्रदेश की प्रगति में योगदान देने वाले हाई फ्लायर्स को सम्मानित किया मलायका और नारीफर्स्ट की एकता ने डॉ. रूपिंदर और ईशा को प्रदान की ज्वेल ऑफ इंडिया ट्रॉफी ज़ी पंजाबी सितारे केपी सिंह और ईशा कलोआ टाइम्स फूड एंड नाइटलाइफ़ अवार्ड्स 2024 में अतिथि के रूप में शामिल हुए एलपीयू ने क्यूएस वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग-2024 में शीर्ष स्थान हासिल किये इंडस पब्लिक स्कूल में वैसाखी पर लगी रौनकें, छात्रों ने पेश किए रंगारंग प्रोग्राम किड्जी बेला ने बैसाखी का त्योहार पारंपरिक हर्षोल्लास के साथ मनाया इलेक्ट्रिक व्हीकल होंगे सस्ते, पॉवरफुल और अधिक सुरक्षित PEC स्टूडेंट्स ने सास उद्योग का जश्न मनाते हुए, भारत सास यात्रा में लिया हिस्सा डोल्से गब्बाना ड्रेस और रोलेक्स घड़ी में नजर आईं उर्वशी रौतेला ने लोगों का दिल जीता केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले की मौजूदगी में फ़िल्म "गौरैया लाइव" का शानदार प्रीमियर एआई की दुनिया मे आयी एक क्रांति! रोबॉटिक मशीन चंद मिनटों में खाना बनाकर कर देगा आपको हैरान असम में आप उम्मीदवारों के लिए मुख्यमंत्री भगवंत मान ने जनसभा करते की अपील ,1 नंबर वाला झाड़ू का बटन दबा कर असम में लाएं बदलाव बोली टप्पों के साथ मलोया में महिलाओं के जत्थे ने किया भाजपा प्रत्याशी संजय टंडन का प्रचार प्रसार बढ़ रहा है भाजपा परिवार- यह देखकर खुशी हो रही है कि पूरे पटियाला जिले से सैकड़ों लोग रोजाना हमारे साथ जुड़ रहे हैं: परनीत कौर सीजीसी लांडरां में हर्षोल्लास के साथ मनाई गई बैसाखी विजीलैंस ब्यूरो ने बीडीपीओ को 30 हजार रुपये रिश्वत लेते हुए किया गिरफ्तार पारंपरिक मेलों की तरह लोकतंत्र के पर्व में भी जरूर लें हिस्सा: डी.सी. हेमराज बैरवा किसानों के लिए किसी ने गारंटी दी और उस गारंटी को पूरा किया वो चौधरी देवीलाल ने किया: अभय सिंह चौटाला भाजपा को अरविंद केजरीवाल से डर लगता है, वे राष्ट्रपति शासन के जरिए दिल्ली में पिछले दरवाजे से प्रवेश चाहते हैं: आप हरियाणा के राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय ने दिल्ली में श्री लाल कृष्ण आडवाणी से की मुलाकात पात्र व्यक्ति 26 अप्रैल तक बनवा सकते हैं वोट : जिला निर्वाचन अधिकारी राहुल हुड्डा

 

टीबी-मुक्त भारत के लिए ज़रूरी है लेटेंट टीबी पर अंकुश लगाना

Listen to this article

5 Dariya News

02 Aug 2019

हर नया टीबी रोगी, पूर्व में लेटेंट टीबी से संक्रमित हुआ होता है। और हर नया लेटेंट टीबी से संक्रमित रोगी इस बात की पुष्टि करता है कि संक्रमण नियंत्रण निष्फल था जिसके कारणवश एक टीबी रोगी से टीबी बैक्टीरिया एक असंक्रमित व्यक्ति तक फैला।लेटेंट टीबी, यानि कि, व्यक्ति में टीबी बैकटीरिया तो है पर रोग नहीं उत्पन्न कर रहा है। इन लेटेंट टीबी से संक्रमित लोगों में से कुछ को टीबी रोग होने का ख़तरा रहता है। जिन लोगों को लेटेंट टीबी के साथ-साथ एचआईवी, मधुमेह, तम्बाकू धूम्रपान का नशा, या अन्य ख़तरा बढ़ाने वाले कारण भी होते हैं, उन लोगों में लेटेंट टीबी के टीबी रोग में परिवर्तित होने का ख़तरा बढ़ जाता है।दुनिया की एक-चौथाई आबादी को लेटेंट टीबी है। पिछले 60 साल से अधिक समय से लेटेंट टीबी के सफ़ल उपचार हमें ज्ञात है पर यह सभी संक्रमित लोगों को मुहैया नहीं करवाया गया है।यह कथन अनेक बार दोहराया जाता रहा है कि टीबी से बचाव मुमकिन है और टीबी की पक्की जाँच और पक्का इलाज भी नि:शुल्क उपलब्ध है। पर यह वैज्ञानिक सत्य वास्तविकता से बहुत परे है क्योंकि विश्व स्वास्थ्य संगठन की नवीनतम वैश्विक टीबी रिपोर्ट के अनुसार एक साल में 1 करोड़ से अधिक नए लोग टीबी रोग से संक्रमित हुए और 16 लाख से अधिक लोग टीबी से मृत हुए (इन 16 लाख मृत्यु में से 3 लाख मृत्यु एचआईवी पोज़िटिव लोगों की थी)।ज़ाहिर बात है कि वैज्ञानिक तौर पर यह जानते हुए भी कि टीबी संक्रमण कैसे रोकें, हम महामारी को फैलने से नहीं रोक पा रहे हैं। यह जानते हुए भी कि टीबी की पक्की जाँच और पक्का इलाज कैसे हो, 16 लाख लोग एक साल में टीबी से कैसे मृत हो गए? जब 193 देश, सतत विकास लक्ष्य को पारित कर, 2030 तक टीबी उन्मूलन का वादा कर चुके हैं, यह अत्यंत चिंताजनक है कि एक साल में 1 करोड़ से अधिक लोग नए टीबी रोगी बने और 16 लाख लोग टीबी से मृत हुए। 

आशा परिवार की स्वास्थ्य कार्यकर्ता और सीएनएस की निदेशिका शोभा शुक्ला ने कहा कि "यदि टीबी उन्मूलन का सपना साकार करना है तो संक्रमण नियंत्रण सशक्त करके यह पक्का करना होगा कि टीबी रोगी से संक्रमण किसी को न फैले (नया लेटेंट टीबी दर शून्य हो), हर लेटेंट टीबी से संक्रमित व्यक्ति को प्रभावकारी इलाज मिले, हर टीबी रोगी तक पक्की जाँच, पक्का इलाज पहुँचे और हर रोगी को यथासंभव सहायता मिले जिससे कि वह इलाज सफलतापूर्वक पूरा कर सके।"स्टॉप टीबी पार्टनरशिप के सह-निदेशक डॉ सुवानंद साहू ने बताया कि 2018 की संयुक्त राष्ट्र महासभा में टीबी पर संयुक्त राष्ट्र का एक विशेष सत्र आयोजित हुआ था जिसमें सरकारों ने राजनीतिक घोषणापत्र पारित किया। इस घोषणापत्र में सरकारों ने वादा किया है कि 2022 तक 3 करोड़ लोगों को, टीबी रोग से बचाव के लिए दवाएँ मुहैया करवायी जाएँगी (यानि कि 3 करोड़ लोगों को लेटेंट टीबी के इलाज के लिए दवा मिलेगी जिससे कि रोग होने का ख़तरा न रहे)।मेक्सिको में आयोजित 10वें अंतरराष्ट्रीय एचआईवी विज्ञान अधिवेशन के तहत, टीबी एचआईवी वैश्विक बैठक सम्पन्न हुई जिसका केंद्रीय विषय रहा: लेटेंट टीबी। इस बैठक के सैकड़ों प्रतिभागियों ने ‘कॉल टू एक्शन’ (करवायी हेतु आह्वान) जारी किया। इस करवायी हेतु आह्वान का मुख्य मक़सद है कि 2022 तक सरकारें 60 लाख एचआईवी के साथ जीवित लोगों को लेटेंट टीबी का इलाज मुहैया करवाएँ।दुनिया की सरकारें पिछले साल आयोजित संयुक्त राष्ट्र महासभा में टीबी पर विशेष सत्र में यह वादा कर चुकी हैं कि 3 करोड़ लोगों को 2022 तक लेटेंट टीबी का इलाज मिलेगा। इन 3 करोड़ लोगों में 60 लाख एचआईवी के साथ जीवित लोग हैं, 40 लाख बच्चे हैं और 2 करोड़ टीबी रोगी के निकटतम लोग हैं जो उसके संपर्क में रहे हैं।एचआईवी के साथ जीवित लोग आज सामान्य जीवनयापन कर सकते हैं यदि उन्हें एंटीरेट्रोवाइरल दवा मिले एवं उनका वाइरल लोड नगण्य रहे। एचआईवी कार्यक्रमों की यह कामयाबी पलट रही है क्योंकि एचआईवी पोज़िटिव लोगों में टीबी सबसे बड़ा अवसरवादी संक्रमण है और मृत्यु का कारण भी! जब टीबी से बचाव मुमकिन है और पक्की जाँच और पक्का इलाज भी नि:शुल्क उपलब्ध है तो फिर कैसे 3 लाख एचआईवी पोज़िटिव लोग टीबी के कारण एक साल में मृत हुए?स्टॉप टीबी पार्टनरशिप के डॉ सुवानंद साहू ने कहा कि एचआईवी के साथ जीवित लोग, एड्स कार्यक्रम के स्वास्थ्य केंद्र पर एंटीरेट्रोवायरल दवा लेने नियमित आते हैं इसीलिए यह अधिक कारगर रहेगा यदि इन्हीं केन्द्रों से उन्हें टीबी से बचने की (लेटेन्ट टीबी के इलाज के लिए) समोचित दवा भी मिले.

 

Tags: Health , Khas Khabar

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD