Monday, 26 February 2024

 

 

खास खबरें मुख्यमंत्री द्वारा पंजाब को देश का अग्रणी राज्य बनाने के लिए लोगों को ‘कार्य की राजनीति’ का डटकर समर्थन करने का न्योता 1978 बैच के पूर्व छात्रों ने PEC का किया दौरा प्रो. सिम्मी अग्निहोत्री की श्रद्धांजलि एवं प्रार्थना सभा में शामिल हुए मुख्यमंत्री हिमाचल सरकार हर मोर्चे पर फेल, केंद्र की योजनाओं के सहारे चल रहा प्रदेश : जयराम ठाकुर किशोरी लाल ने किया 4.33 करोड़ रूपये की जल परियोजनाओं का उद्घाटन-शिलान्यास कैबिनेट मंत्री कुलदीप सिंह धालीवाल ने अजनाला हलके में दो संपर्क सड़कों का शिलान्यास किया चितकारा लिट फेस्ट- साहित्य, संस्कृति और विचारों की विजय मुख्यमंत्री भगवंत सिंह द्वारा मुकेरियाँ से अपनी किस्म की पहली सरकार-व्यापार मिलनी की शुरुआत बांस उत्पादकों के लिए प्रदेश सरकार बनाएगी सोसायटी बीजेपी और कांग्रेस के नेता सिर्फ मेवात के लोगों के वोट लेने आते हैं, लेकिन विकास खुद का करते हैं : अभय सिंह चौटाला मुख्यमंत्री भगवंत सिंह मान द्वारा श्री गुरु रविदास जी का 650वां प्रकाश उत्सव व्यापक स्तर पर मनाने का ऐलान सफाई कर्मचारियों के हितों को ध्यान में रखते हुए मिलें बेहतर सुविधाएं : अंजना पंवार विकास कार्य़ो की गति में लाई जाए तेजीः सोम प्रकाश एस बी एस पब्लिक स्कूल में हुआ पैनासॉनिक “हरित उमंग- जॉय ऑफ़ ग्रीन” का सफल आयोजन PEC त्रिदिवसीय वर्कशॉप का सफलतापूर्वक समापन किया PEC स्टूडेंट निशिता ने स्वरचित रचना से जीता IGNUS 24 फेस्ट में दूसरा स्थान IIT रोपड़ के टेक्निकल फेस्ट में PEC छात्रों ने अपने नाम किये कई ईनाम 'PEC में दोबारा आना एक यादगारी अनुभव है' : कपिलेश्वर सिंह बीजेपी हम पर इंडिया गठबंधन छोड़ने का दबाव बना रही है, वे जल्द अरविंद केजरीवाल को गिरफ्तार करने की योजना बना रहें : आप पंजाब द्वारा दुबई में ‘गल्फ-फूड 2024’ के दौरान फूड प्रोसेसिंग की उपलब्धियाँ और संभावनाओं का प्रदर्शन, निवेश के लिए न्योता कैबिनेट मंत्री ब्रम शंकर जिंपा ने 27 फार्मासिस्टों व 28 को क्लीनिक असिस्टेंटों को सौंपे नियुक्ति पत्र

 

जलियांवाला बाग नरसंहार बाद गांधी अंग्रेजों के कट्टर विरोधी हो गए थे : किताब

Listen to this article

5 Dariya News

नई दिल्ली , 08 May 2019

जलियांवाला बाग नरसंहार के बाद पहली बार पंजाब गए महात्मा गांधी को इस नरसंहार ने ब्रिटिश सरकार के वफादार से उसके कट्टर विरोधी में बदल दिया था। जलियांवाला बाग की 100वीं बरसी के मौके प्रकाशित एक किताब में यह दावा किया गया है।ट्रिब्यून के संपादक राजेश रामचंद्रन द्वारा संपादित किताब 'मार्टरडम टू फ्रीडम' में कई अध्याय हैं, जिन्हें विद्वानों, इतिहासकारों और एक पूर्व राजनयिक द्वारा लिखा गया है।एक अध्याय में इतिहासकार रामचंद्र गुहा कहते हैं कि गांधी स्तब्ध रह गए थे कि उनकी सिफारिश करने के बावजूद नरसंहार के मुख्य दोषियों -जनरल डायर और तत्कालीन लेफ्टिनेंट गवर्नर सर माइकल ओडायर को दंडित नहीं किया गया था। उन्होंने मांग की थी कि दोनों अधिकारियों को उनके पदों से हटा दिया जाए।हालांकि वायसराय ने ब्रिगेडियर जनरल डायर की कार्रवाई को गलत नहीं बताया और ओडायर को शानदार चरित्र प्रमाण पत्र दे दिया।गुहा लिखते हैं, "पंजाब सरकार के अहंकारपूर्व रवैये ने गांधी के ब्रिटिश सरकार के प्रति विश्वास पर काफी नकारात्मक प्रभाव डाला।"इसके बाद इसके विरोध में गांधी को नए तरीके से आंदोलन शुरू करना पड़ा और उन्हें विश्वास था कि अहिंसक संघर्ष के दवाब में ब्रिटिश सरकार को झुकाया जा सकता है।गुहा ने तर्क देते हुए कहा, "वर्ष 1919 से पहले, गांधी कभी पंजाब नहीं गए थे। लेकिन वहां जो उन्होंने उस वर्ष देखा और किया, उसने उन्हें बिल्कुल बदल दिया। राजनीतिक पटल पर, इस घटना ने उन्हें ब्रिटिश सरकार के वफादार से धुर विरोधी में बदल दिया।"उनका कहना है कि 'गदर आंदोलन' का केंद्र बन रहे और राजनीतिक रूप से सक्रिय हो रहे प्रांत पंजाब और पूर्व में 1905-07 के दौरान 'स्वदेशी आंदोलन' में इसकी सहभागिता के कारण गांधी इसका दौरा करने के लिए बहुत उत्साहित थे।गांधी आठ अप्रैल, 1919 को मुंबई से दिल्ली के लिए रवाना हुए, जहां से वह पंजाब जाने के बारे में सोच रहे थे। हालांकि उन्हें पुलिस ने रोक लिया और उन्हें वापस अहमदाबाद जाना पड़ा।

 

Tags: Book

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD