Sunday, 26 May 2024

 

 

खास खबरें भाजपा वाले नकली गोरक्षक, हम कर रहे गोसंरक्षण : ठाकुर सुखविंदर सिंह सुक्खू बॉलीवुड एक्ट्रेस महिमा चौधरी ने सोहाना हॉस्पिटल का दौरा कर कैंसर मरीजों से मुलाकात की कांग्रेस संयुक्त सचिव रविंदर सिंह त्यागी हुए भाजपा में शामिल अब संजय टंडन का समर्थन करने दिव्यांग भी आये आगे तिवारी का चुनाव प्रचार भ्रामक और अराजकता का प्रतीक : रविंद्र पठानिया मुख्यमंत्री भगवंत मान ने खडूर साहिब से आप उम्मीदवार लालजीत भुल्लर के लिए किया प्रचार गोल्डन टेंपल को बनाया जायेगा ग्लोबल सेंटर : राहुल गांधी पंजाब में क्राइम आउट ऑफ कंट्रोल, चिंता का विषय: विजय इंदर सिंगला विजय इंदर सिंगला ने जारी किया घोषणापत्र, क्षेत्र के लिए किये कई वादे अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग ने लुधियाना में चुनाव अभियान तेज किया, मुख्य मुद्दों की अनदेखी करने पर प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री की आलोचना की भाजपा द्वारा बिट्टू को खारिज करने पर, वड़िंग को अपने ‘मित्र’ बिट्टू के लिए बुरा लगा सीएम भगवंत मान ने राजासांसी, अजनाला और मजीठा में कुलदीप धालीवाल के लिए किया प्रचार, अमृतसर के लोगों ने भारी वोटों से आप को जीत दिलाने का किया वादा "Omjee's सिने वर्ल्ड और सरताज फिल्म्स ने नई फिल्म 'अपना अरस्तू' का फर्स्ट लुक पोस्टर किया साझा।" नई खेल नीति के आ रहे हैं अच्छे नतीजे, पेरिस ओलिंपिक में चमकेंगे पंजाबी खिलाड़ी: मीत हेयर पंजाब के कई लोकसभा क्षेत्रों में आम आदमी पार्टी को मिली मजबूती, विपक्षी पार्टियों के आधा दर्जन से ज्यादा बड़े नेता आप में शामिल आप-कांग्रेस और भाजपा जाति और साम्प्रदायिक आधार पर लोगों का ध्रुवीकरण कर रहे: सुखबीर सिंह बादल सांसद संजीव अरोड़ा ने डॉ. सुरजीत पातर के घर जाकर पीड़ित परिवार के साथ संवेदना व्यक्त की जिला वासियों के घरों की रसोई तक पहुंचा वोटर जागरूकता अभियान अनुमति मिले, तो 24 घंटे में महिलाओं को डालेंगे 1500 रुपएः सीएम सुखविंदर सिंह सुक्खू आप की 300 यूनिट मुफ्त वाली बिजली गुल, बिजली कटों से कराह रहे लोगः परनीत कौर बारादरी गार्डन में जयइंद्र कौर ने लोगों से मांगे भाजपा के लिए वोट

 

बिहार : गया में 'मांझी' ही पार लगाएंगे चुनावी मझधार

Listen to this article

Web Admin

Web Admin

5 Dariya News

गया , 01 Apr 2019

बिहार के गया (सुरक्षित) लोकसभा सीट पर पिछले कई चुनावों में राजनीतिक दलों की मझधार में फंसी नाव को 'मांझी' ही किनारे लगाते रहे हैं। इस लोकसभा चुनाव में भी सभी प्रमुख राजनीतिक दल 'मांझी' के सहारे ही भंवर में फंसी नाव को मझधार से निकालने में जुटे हुए हैं।भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नीत राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) ने इस चुनाव में निवर्तमान सांसद हरि मांझी का टिकट काटकर राजग में शामिल जनता दल (युनाइटेड) के विजय कुमार मांझी को 'मांझी' बनाकर गया के चुनावी मझधार में उतरा है, जबकि विपक्षी दल के महागठबंधन ने हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा के प्रमुख और पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी को चुनावी भंवर में उतारा है। यूं तो गया संसदीय क्षेत्र में कुल 13 प्रत्याशी चुनावी मझधार में फंसे हैं, लेकिन मतदाता किस नेता की नैया पार कराएंगे, यह स्पष्ट नजर नहीं आ रहा है। हां, मतदाताओं के बातचीत से यह जरूर नजर आता है कि गया में कोई 'मांझी' ही अपने नाव को सकुशल चुनावी भंवर से निकाल पाएगा। यहां मुख्य मुकाबला राजग और महागठबंधन के बीच ही माना जा रहा है। 'ज्ञान स्थली' और 'मोक्ष भूमि' माने जाने वाले गया में वैसे तो कई समस्याएं हैं, लेकिन देश और विदेश के पर्यटकों से भरे रहने वाले इस क्षेत्र की पहचान बिहार में ही नहीं, बल्कि देश के प्रमुख पर्यटनस्थलों में की जाती है। गया सुरक्षित संसदीय क्षेत्र बिहार के सबसे अधिक दलित जनसंख्या वाला क्षेत्र है। इस संसदीय क्षेत्र में शेरघाटी, बाराचट्टी, बोधगया, गया टाउन, बेलागंज तथा वजीरगंज विधानसभा क्षेत्र शामिल हैं। ऐतिहासिक और धार्मिक स्थानों से परिपूर्ण गया संसदीय क्षेत्र में वर्ष 2009 और 2014 में हुए चुनाव में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के उम्मीदवार हरि मांझी यहां से सांसद चुने गए थे। वर्ष 2014 में हुए लोकसभा चुनाव में हरि मांझी को 3,26,230 वोट (मत) मिले थे, वहीं दूसरे नंबर पर रहे रामजी मांझी को 2,10,726 वोट मिले थे। तीसरे नंबर पर जीतन राम मांझी रहे जो जद (यू) के टिकट पर चुनावी मैदान में थे। 

जीतन राम मांझी को 1,31,828 वोट से ही संतोष करना पड़ा था। गया का बोधगया आज दुनियाभर के बौद्धों का सबसे पवित्र स्थन है। गया सीट पर विजय प्राप्त करने के लिए सभी दलों के उम्मीदवार एड़ी-चोटी का प्रयास कर रहे हैं, यही कारण है कि सभी राजनीतिक दलों के स्टार प्रचारक गया की धरती पर आ रहे हैं। राजग के स्टार प्रचारक और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी बिहार में अपने चुनावी अभियान की शुरुआत करने के लिए मंगलवार को यहां पहुंचेंगे। स्थानीय नेता और प्रत्याशी मतदाताओं को रिझाने के प्रयास में लगे हुए हैं, लेकिन मतदाताओं की चुप्पी सभी उम्म्ीदवारों के लिए परेशानी का सबब बने हुए हैं। गया के वरिष्ठ पत्रकार बिमलेंदु कहते हैं कि वर्ष 1996 से इस क्षेत्र में छह बार लोकसभा चुनाव हुए हैं, जिसमें चार बार भाजपा के उम्मीदवार जीते हैं। भाजपा की परंपरागत सीट माने जाने वाली इस सीट के जद (यू) के खाते में चले जाने से भाजपा के कई कार्यकर्ता नाराज जरूर हैं, मगर पार्टी के फैसले को लेकर सभी जद (यू) के उम्मीदवार को विजयी बनाने की बात कर रहे हैं।उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र में मुख्य समस्या किसानों के लिए सिंचाई और नक्सलवाद रही है। उन्होंने बताया, "गया लोकसभा में मांझी समाज की संख्या ढाई लाख है जबकि अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति की कुल जनसंख्या पांच लाख है। इसके अलावा अन्य जातियों के भी मत महत्वपूर्ण हैं।" उन्होंने कहा कि दोनों गठबंधन में मुकाबला कांटे का है। कोई जीते और कोई हारे परंतु अंतर काफी कम होगा। बाराचट्टी के रहने वाले युवा मतदाता अनुभव मांझी कहते हैं, "चुनाव के दौरान तो सभी नेता वोट मांगने आते हैं, लेकिन यह चुनाव देश की सुरक्षा और प्रधानमंत्री पद के लिए है। ऐसे में जाति नहीं, प्रधानमंत्री उम्मीदवार को देखने की जरूरत है।" शेरघाटी के एक बुजुर्ग शिवलाल पासवान विकास को लेकर नाराज हैं। उन्होंने गांवों की हालत बताते हुए कहा कि क्या यही विकास है? बिहार में लोकसभा चुनाव के सभी सात चरणों में मतदान होना है। गया में पहले चरण में 11 अप्रैल को वोट डाले जाएंगे। 

 

Tags: Election Special , Election 2019

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD