Monday, 04 March 2024

 

 

खास खबरें कैबिनेट मंत्री ब्रम शंकर जिंपा ने गांव बजवाड़ा व किला बरुन में सीवरेज सिस्टम प्रोजेक्ट की करवाई शुरुआत स्थानीय निकाय विभाग और संसदीय मामलों के कैबिनेट मंत्री बलकार सिंह द्वारा धर्मकोट के नये बस स्टैंड का उद्घाटन भगवंत सिंह मान और अरविन्द केजरीवाल द्वारा पंजाब में 165 और आम आदमी क्लीनिक लोगों को समर्पित मुख्यमंत्री की नौजवानों से अपील : पंजाब के सामाजिक-आर्थिक विकास में सक्रिय हिस्सेदार बनने के लिए नये विचारों और खोजों का प्रयोग करें हिमाचल प्रदेश मंत्रिमंडल के निर्णय प्रधानमंत्री ने पश्चिम बंगाल के नादिया जिले के कृष्णानगर में 15,000 करोड़ रुपये की विविध विकास परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास किया अमित शाह ने नेशनल अर्बन कोऑपरेटिव फाइनेंस एंड डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन लिमिटेड (NUCFDC) का उद्घाटन किया कैबिनेट मंत्री ब्रम शंकर जिंपा ने गांव बजवाड़ा व किला बरुन में सीवरेज सिस्टम प्रोजेक्ट की करवाई शुरुआत आईवीवाई ग्रुप ने ओबेसिटी हेल्पलाइन नंबर लॉन्च किया क्रिकेटर दिलीप वेंगसरकर ने किया "जिगरबाज खेल महासंग्राम" का पोस्टर लॉन्च आर्टिकल 370 ने कई लोगों को प्रेरित किया : यामी गौतम मेरे लिए किरदार से प्यार करना ज़रूरी है- राशि खन्ना त्रिदेव और पंच परमेश्वर सम्मेलन में बोले नेता प्रतिपक्ष जयराम ठाकुर ब्रम शंकर जिम्पा द्वारा होशियारपुर और साथ लगते कंडी क्षेत्रों के गाँवों को नहरी पानी प्रोजैक्ट मुहैया करवाने की हिदायत मुख्यमंत्री के नेतृत्व में पंजाब विधानसभा में दिवंगत आत्माओं को श्रद्धांजलि भेंट पंजाब केंद्रीय विश्वविद्यालय में 'नए युग के विश्वविद्यालयों का विचार' विषय पर स्थापना दिवस व्याख्यान का आयोजन हिमाचल प्रदेश राज्य वित्त आयोग के अध्यक्ष नंद लाल ने की मुख्यमंत्री से भेंट भवन एवं अन्य सन्निर्माण कामगार कल्याण बोर्ड के माध्यम से कल्याणकारी योजनाओं पर व्यय किए जाएंगे 143.16 करोड़ रुपयेः मुख्यमंत्री विधानसभा में कांग्रेस का रवैया बेहद दुर्भाग्यपूर्ण : हरसुखिंदर सिंह बब्बी बादल बादल परिवार सरकारी सुविधाओं का आदतन लाभार्थी : मलविंदर सिंह कंग समाज के साधन संपन्न और हाशीए पर धकेले वर्गों के बीच वाला फ़र्क मिटाने के लिए पंजाब सरकार पूरी तरह वचनबद्ध : राज्यपाल

 

पुस्तक में केवल मात्र शब्द ही नहीं होते , बल्कि लेखक के जीवंत का अनुभव होता है : डॉ. एसपी सिंह

Listen to this article

Web Admin

Web Admin

5 Dariya News

लुधियाना , 03 Dec 2018

लुधियाना के गुजरांवाला गुरु नानक खालसा कॉलेज के पंजाबी स्नातकोत्तर विभाग ने सोमवार को यहां एक समारोह आयोजित किया, जिसमें कॉलेज प्रिंसिपल डॉ. अरविंदर सिंह की लिखित पुस्तक 'जदों स्मृतियां जागदियां ने’ का विमोचन किया गया। इस समारोह में पदम विभूषण डॉ. एसएस जोहल मुख्य मेहमान थे। वह सुप्रसिद्ध शिक्षाविद्द, बठिंडा स्थित सेंट्रल यूनिवर्सिटी के चांसलर और पटियाला स्थित पंजाबी यूनिवर्सिटी के पूर्व वाइस चांसलर हैं। इस मौके पर डॉ. एसएस जोहल ने पुस्तक के बारे में अपनी हार्दिक भावनाएं और टिप्पणियां साझा कीं। उन्होंने कहा कि आज दुनिया ऐसे लोगों की है, जो प्रौद्यौगिकी अथवा तकनीकी उपकरणों के साथ व्यस्त हैं, जिनको ये उपभोग कर रही हैं। उनके लिए यह पुस्तक एक स्मरण है कि वे अभी भी जीवित हैं, विस्तार और उद्घाटित होने के लिए उनकी  चेतना अभी यहीं है, ताकि उसका इस्तेमाल मानवता की सेवा के लिए किया जा सके। इस पुस्तक पर चर्चा के लिए गुरु नानक देव यूनिवर्सिटी, अमृतसर के पंजाबी स्टडीज स्कूल के पूर्व प्रमुख प्रो. हरभजन सिंह भाटिया और जाने-माने पंजाबी लेखक व पंजाबी साहित्य अकादमी, लुधियाना के पूर्व अध्यक्ष प्रो. गुरभजन सिंह गिल इस अवसर पर मौजूद थे। कॉलेज के पंजाबी विभाग के प्रमुख प्रो. सबरजीत सिंह के द्वारा मुख्य मेहमान, अतिथियों और प्राध्यापकों का गर्मजोशी से स्वागत करने के साथ समारोह का आगाज हुआ। गुजरांवाला खालसा एजूकेशनल सोसाइटी के ऑनरेरी महासचिव और जीएनडीयू, अमृतसर के पूर्व वाइस चांसलर डॉ. एसपी सिंह ने पुस्तक के बारे में अपने अमूल्य विचार साझा कर प्रिंसिपल के प्रसायों की सराहना की। उन्होंन कहा कि पुस्तक में केवल मात्र शब्द नहीं हैं, बल्कि लेखक के जीवंत अनुभव हैं, जो पाठकों के साथ खूबसूरती से बांटे गए हैं। 

उन्होंने आगे कहा कि यह पुस्तक वर्णित चरित्रों का न सिर्फ आलोचनात्मक विश्लेषण करती है, बल्कि भावी विस्तार और चर्चा के लिए जगह रखकर मनुष्यों को सही मार्ग भी दिखाती है।उन्होंने पुस्तक का स्वागत किया, जो एक ऐसे लेखक की कलम से सामने आई है, जिसने कठिन अभ्यास के जरिये चेतना प्राप्त की। पंजाबी साहित्य समीक्षा की दुनिया में जाने-माने चेहरे प्रो. हरभजन सिंह भाटिया ने कहा कि पुस्तक के अध्याय कभी निरर्थक नहीं साबित होंगे, क्योंकि ये अपने साथ पाठ के संबंध में कई अर्थ और विभिन्न व्याख्याएं लिए हुए हैं, जिनके निशान सामयिक और लौकिक सीमाओं से परे हैं। यही कारण है कि यह कृति एक तरफ तो एक विशुद्ध संरचनात्मक निर्भरता दर्शाती है, तो दूसरी तरफ यह किसी भी तरह की संरचनात्मक निर्भरता से मुक्त भी करती है। यह इस पुस्तक की साहित्यिक विशेषता है। प्रो. गुरभजन सिंह गिल बोले कि ये स्मृतियां न तो शिक्षाप्रद और न ही पूरी तरह स्वप्रतिनिधित्व हैं। यह पुस्तक समाज में व्याप्त सांस्कृतिक भौतिकवाद से लेकर मानव के मन और अंतस्चेतना की यात्रा को दर्शाने का एक प्रयास है। गुरु नानक देव यूनिवर्सिटी, अमृतसर के पूर्व प्रो-वाइस चांसलर प्रो. पृथ्वीपाल सिंह कपूर ने यह कहते हुए लेखक के सृजन की सराहना की कि यह पुस्तक हमें न केवल प्रेरित करती है, बल्कि जीवन में नैतिक और सही रास्ता अपनाने के लिए प्रोत्साहित भी करती है। उन्होंने आगे कहा कि लेखक को शैक्षिक और आध्यात्मिक दृष्टिकोण से जीवन देखने का आशीर्वाद मिला हुआ है। 

सरे (कनाडा) में पंजाब भवन के संस्थापक सुखी बाथ ने लेखक-प्रिंसिपल डॉ. अरविंदर सिंह की सराहना करते हुए उन्हें शुभकामनाएं दीं कि यह पुस्तक युवा पीढ़ी को उसकी जीवन यात्रा में सही रास्ता अपनाने में मार्गदर्शन करेगी। लेखक ने इस पुस्तक में जीवन के कड़वे-मीठे अनुभव साझ किए हैं। इस पुस्तक के लेखक डॉ. अरविंदर सिंह ने कहा कि यह पुस्तक न केवल मानव जीवन के कड़वे-मीठे अनुभव साझा करती है, बल्कि मनुष्यों की दिशाहीन चेतना को एक उत्प्रेरणा भी प्रदान करती है। वह एक आदमी बन गया, जिसकी आंखें हैं लेकिन दृष्टि नहीं। उन्होंने यह भी कहा, "मैं आमतौर पर इस पर विचार करता हूं कि जीवन एक स्कूल और थिएटर भी है। यह हमें जीवन के अमूल्य पाठ सिखाता है और जीवन नाम के रंगमंच पर विभिन्न भूमिकाएं निभाने का एक अवसर भी प्रदान करता है। यह पुस्तक मेरे व्यक्तिगत अनुभवों व सुझावों और सुप्रसिद्ध बुद्धिजीवियों, शुभचिंतकों सलाहकारों और समर्थकों के परामर्शों की देन है, जिन्होंने मुझे जीवन के रूढ़िवादी ढांचे को त्यागने के लिए प्रेरित किया। किताब, 'जदों स्मृतियां जागदियां ने' में यह सब हैं। गुजरांवाला खालसा एजूकेशनल कौंसिल के सदस्यों सरदार भगवंत सिंह, डॉ. गजिंदर सिंह, सरदार कुलजीत सिंह और सरदार हरदीप सिंह ने भी अन्य के साथ इस समारोह में अपनी उपस्थिति दर्ज कराई। डॉ. भूपिंदर सिंह ने सबका आभार जताया। प्रो. सरबजीत सिह ने स्टेज संचालन किया। डॉ. गुरप्रीत सिंह, प्रो. शरणजीत कौर और प्रो. हरप्रीत सिंह दुआ भी इस मौके पर मौजूद थे।

 

Tags: Book

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD