Tuesday, 05 March 2024

 

 

खास खबरें सी जी सी झांजेड़ी कैंपस में हैकथॉन 2024 का आयोजन किया गया सिनेमा में 19 साल की कड़ी मेहनत ने दिलाई तमन्ना भाटिया को ग्लोबल पहचान 2024 में दक्षिणी सिनेमाई क्रांति में पहली बार चमकेंगे यह 7 बॉलीवुड सितारे ‘होशियारपुर नेचर फेस्ट-2024’: कुलविंदर बिल्ला के गीतों पर झूमे होशियारपुर वासी मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने एशियन रिवर राफ्टिंग चैम्पियनशिप का शुभारंभ किया एस. एस. एफ. ने पहले महीने 389 सैकण्ड के रिकार्ड समय में 1053 सडक़ हादसों में प्रदान की प्राथमिक सहायता; 574 गंभीर ज़ख्मियों को पहुँचाया अस्पताल सरकार ने पूरी की पांचवीं चुनावी गारंटी राज्यपाल के भाषण से भाग जाने पर विरोधी पक्ष पर जम कर बरसे मुख्यमंत्री भगवंत सिंह मान कैबिनेट मंत्री जिंपा ने ‘मुख्य मंत्री तीर्थ यात्रा स्कीम’ के अंतर्गत होशियारपुर से बस को दिखाई हरी झंडी भाजपा का किसान विरोधी चेहरा एक बार फिर उजागर, किसान के हत्यारे के पिता अजय मिश्रा को फिर से दिया टिकट: आप सांसद मनीष तिवारी ने की पार्टी कार्यकर्ताओं से बैठक सीजीसी लांडरां में रेणुकारमा वूमेन एचीवर अवार्ड का हुआ आयोजन पीईसी में ड्रोन अनुप्रयोगों पर 6 दिवसीय कार्यशाला का उद्घाटन चेयरमैन हरचंद सिंह बरसट ने गांव मेहमदपुर में नई फल एवं सब्जी मंडी स्थापित की पर्यटन की दृष्टि से होशियारपुर में असीमित संभावनाएं: कोमल मित्तल भाजपा महिला मोर्चा अध्यक्ष जय इंदर कौर ने भारत सरकार की महिला समर्पित योजनाओं के प्रचार-प्रसार के लिए पटियाला में नारी शक्ति वंदन मैराथन का आयोजन किया एलपीयू के विद्यार्थी सकारात्मक और खुशहाल जीवन जीने के लिए हुए प्रेरित प्रीत बाठ, किरण शेरगिल, सब्बी सूरी स्टारर फिल्म 'मजनू' का ट्रेलर जारी भाजपा ने देश को सिर्फ धोखा दिया: सांसद मनीष तिवारी शिमला के त्रिदेव और पंच परमेश्वर सम्मेलन में बोल नेता प्रतिपक्ष डॉ. बलजीत कौर ने शुभकरन सिंह के परिवार के साथ दुख किया सांझा

 

मोदी के 'नोटबंदी के खाके' को मैंने शब्द दिए : लेखक रवि सुब्रमण्यम

Listen to this article

Web Admin

Web Admin

5 Dariya News

नई दिल्ली , 25 Nov 2018

साल 2016 में जब नोटबंदी के बाद एटीएम के बाहर लोगों की बड़ी-बड़ी कतारें लगी थीं, उसी समय प्रकाशक अनंत पद्मनाभन ने लेखक रवि सुब्रमण्यम को फोन कर उनसे पूछा, "तुम वही सोच रहे हो, जो मैं सोच रहा हूं?" इस पर सुब्रमण्यम ने मुस्कुराकर कहा "नोटबंदी ही ना। इस तरह 'डोंट टेल द गवर्नर' का प्रकाशन हुआ और अब यही उपन्यास बेस्टसेलर चार्ट में लगातार ऊपर चढ़ रहा है। लेकिन सुब्रमण्यम इसे संयोग से अधिक बहुत कुछ मानते हैं, क्योंकि वह उस समय 'इन द नेम ऑफ गॉड' नामक किताब लिख रहे थे, जो तिरुवनंतपुरम में अनंत पद्मनाभ स्वामी मंदिर पर आधारित थी। उस समय उन्हें हार्पर कॉलिंस प्रकाशक से फोन आ रहे थे, जिनके प्रकाशन की ओर से हूबहू इसी नाम से प्रकाशन हो रहा था। उन्होंने कहा कि जहां तक मुझे लगता है, यह दैविक हस्तक्षेप था और मुझे पता था कि इस उपन्यास को लिखा जाना है।आईआईएम-बेंगलुरू के पूर्व छात्र सुब्रमण्यम ने आईएएनएस को बताया, "उस समय आरबीआई गवर्नर द्वारा नोटबंदी की सराहना नहीं किए जाने को लेकर काफी हो हल्ला मचा हुआ था। इस विचार ने मुझे आरबीआई गवर्नर को उपन्यास का नायक बनाए जाने पर विवश किया और उसके बाद एक के बाद एक चीजें होती चली गईं। आरबीआई गवर्नर और नोटबंदी के बाद प्रधानमंत्री के भाषण पर भी मेरा ध्यान गया, जहां उन्होंने आतंकवाद और जाली मुद्रा के बारे में बात की थी। उन्होंने कालेधन और मनी लॉड्रिग के बारे में बात की थी। 

उन्होंने कहा, "आभूषण कारोबार के जरिए मनी लॉड्रिंग को लेकर बवाल मचा था और उसके बाद अचानक इस थ्रिलर में बहुत कुछ जुड़ गया। इस तरह यह बन गया। कई सारे प्लॉट से कहानी को रफ्तार मिलती चली गई, बेहतरीन थ्रिलर के साथ एक के बाद एक कहानी में प्लॉट से यह रोचक है और इस तरह 'डॉन्ट टेल द गवर्नर' तैयार हुई।"सुब्रमण्यम ने कहा कि उन्होंने वास्तविक घटनाक्रमों को खास तवज्जो दी है। वह कहते हैं, "और हां, आरबीआई-सरकार के बीच का विवाद ही इसका विषय है, जो पूरी किताब में जारी रहता है। यह सिर्फ संयोग है कि दोनों ने वास्तविक जीवन में भी क्लैश पर विचार किया, जिस समय किताब जारी हुई। मेरा विश्वास कीजिए, मेरी इसमें कोई भूमिका नहीं है।"लेकिन ऐसा पहली बार नहीं है कि इस किताब की सामग्री की वास्तविक जीवन के घटनाक्रमों में समानता है। उदाहरण के लिए 'इन द नेम ऑफ गॉड' में एक किरदार का नाम नीरव चोकसी है, जो धोखाधड़ी करता है। उन्होंने कहा, "कुछ लोग असहज हो गए क्योंकि यह किताब पीएनबी घोटाले में नीरव मोदी और मेहुल चोकसी के अपराधी होने से लगभग छह महीने पहले लॉन्च हुई थी। मुझे लगता है कि ऐसा इसलिए हुआ, क्योंकि एक लेखक के रूप में आप आमतौर पर सीमाओं से परे हटकर सोचते हैं। लोगों को संदेह से देखना आपकी प्रकृति बन जाती है। मुझे लगता है कि अपराधी दिन प्रतिदिन रचनात्मक होते जा रहे हैं और लेखक रचनात्मक इंसान हैं।

"सुब्रमण्यम ने जोर देकर कहा कि उनका उपन्यास 'फिक्शन' है। उन्होंने पाठकों से इसका कुछ और मायने लगाने के बजाय इसका लुत्फ उठाने को कहा है। वह कहते हैं कि कोई भी घटनाक्रम जो हैरान कर देने वाला है और जो लोगों की नजर में रहता है, वह मुद्दा थ्रिलर के लिए बेहतरीन है और नोटबंदी ऐसा ही एक मुद्दा है। वह पूछते हैं, "जब आठ नवंबर 2016 को नोटबंदी हुई थी तो किसी ने इसकी कल्पना नहीं की थी। वह किसी थ्रिलर कहानी में रोमांचक मोड़ की तरह था, जिसने सभी को चौंका दिया। यह ट्विस्ट किताब लिखे जाने के बाद भी उनके साथ लंबे समय तक रहा। नोटबंदी की गूंज को दो साल बीतने के बाद भी सुनी जा सकती है।"उन्होंने कहा कि नोटबंदी के ईदगिर्द थ्रिलर कहानी लिखना ही एकमात्र चुनौती है। उन्होंने कहा, "इसलिए आपकी कहानी का ट्विस्ट नोटबंदी के आसपास होना चाहिए था न कि सिर्फ नोटबंदी। यही एक ट्विस्ट था, जिसे मोदी ने लिखा। मैं सक्रिय रूप से इस तरह के ट्विस्ट को वित्तीय सेवा इंडस्ट्री में ढूंढता हूं। फिर चाहे वह बिटकॉयन की दुनिया हो या क्रेडिट कार्ड के जरिए नक्सलियों को धन मुहैया कराने की बात हो।"किताब 'डॉन्ट टेल द गवर्नर' 299 रुपये में ऑनलाइन और किताब की दुकानों पर उपलब्ध है।

 

Tags: Book , Demonetisation

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD