Thursday, 29 February 2024

 

 

खास खबरें शहर के पुलिस अधिकारियों के लिए साइबर सुरक्षा पाठ्यक्रम का सफल समापन हमें वास्तविक जीवन में उभरती प्रौद्योगिकियों की चुनौतियों को देखना चाहिए : डॉ. शांतनु भट्टाचार्य मुख्यमंत्री द्वारा पंजाब इंस्टीट्यूट ऑफ लिवर एंड बिलियरी साइंसेज का उद्घाटन पंजाब सरकार पहले पड़ाव में 260 खेल नर्सरियाँ खोलेगी: मीत हेयर चेतन कृष्णा मल्होत्रा द्वारा शिव शंकर भोले महाकाल भजन हुआ शिवरात्रि के अवसर पर टी सीरीज पर रिलीज़ लोगों को बेहतरीन स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान कर रहे हैं आम आदमी क्लीनिक: ब्रम शंकर जिम्पा बिल का भुगतान करने के बदले 15,000 रुपए की रिश्वत लेता ई.एस.आई. क्लर्क विजीलैंस ब्यूरो द्वारा काबू डिप्टी कमिश्नर कोमल मित्तल ने ‘होशियारपुर नेचर फैस्ट-2024’ की तैयारियों का लिया जायजा हरियाणा में कबूतरबाजी पर लगाम लगाने के लिए हरियाणा टैªवल एजेंटों का पंजीकरण और विनियमन विधेयक, 2024 हुआ पारित - गृह मंत्री अनिल विज हरियाणा सरकार द्वारा भविष्य में जितने भी मैडीकल कालेज बनाए जांएगें उनमें नर्सिग कालेज भी होगा- चिकित्सा शिक्षा एवं अनुसंधान मंत्री अनिल विज होशियारपुर का सर्वांगीण विकास प्राथमिकता : ब्रम शंकर जिम्पा पंजाब के राज्यपाल बनवारी लाल पुरोहित ने सांसद विक्रम साहनी को डॉक्टरेट की मानद उपाधि प्रदान की एलपीयू द्वारा दो दिवसीय भारतीय उद्यमिता कॉन्क्लेव '24 की मेजबानी बेला कॉलेज ऑफ फार्मेसी में राष्ट्रीय विज्ञान दिवस समारोह 6 लाख रुपए की रिश्वत लेने वाला ए.एस.आई विजीलैंस ब्यूरो ने किया गिरफ्तार सदन में भाजपा सरकार जितने बिल लाती है उतने ही घोटाले साथ लेकर आते हैं: अभय सिंह चौटाला भगवंत सिंह मान ने जालंधर वासियों को 283 करोड़ के विकास प्रोजैक्टों का दिया तोहफा लोगों के लिए जवाबदेह और असरदार व्यवस्था कायम करने के लिए पंजाब पुलिस को आधुनिक राह पर लाया गया : भगवंत सिंह मान पल्लेदार राज्य के आर्थिक ढांचे का एक अहम हिस्सा: लाल चंद कटारूचक्क खेलों में पंजाब की खो चुकी शान बहाल करने के लिए राज्य सरकार की कोशिशें रंग लाईं मान सरकार पंजाब की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत और पर्यटन को प्रफुल्लित करने के लिए यत्नशील: चेतन सिंह जौड़ामाजरा

 

राकेश ओमप्रकाश मेहरा ने मुझे धोखा दिया : मनोज मैरता

मनोज मैरता
मनोज मैरता
Listen to this article

Web Admin

Web Admin

5 Dariya News

नई दिल्ली , 28 Nov 2018

लेखक मनोज मैरता का कहना है कि फिल्म 'मेरे प्यारे प्राइम मिनिस्टर' की कहानी उन्होंने लिखी है, लेकिन वह खुद को ठगा हुआ महसूस कर रहे हैं और वो भी इंडस्ट्री के नामचीन फिल्म निर्देशकों में से एक राकेश ओमप्रकाश मेहरा के हाथों। वह कहते हैं कि 'कहानी मेरी होने के बावजूद मुझे मेरे हिस्से के क्रेडिट से महरूम रखा गया।' मनोज बताते हैं, "मैंने इस फिल्म की कहानी 2012 में लिखी थी। कहानी के सिलसिले में 2014 में उनसे मुलाकात हुई और 21 अप्रैल 2015 को राकेश ओमप्रकाश मेहरा ने मुझे फिल्म के राइटर के तौर पर साइन किया। वह उस वक्त फिल्म 'मिर्जिया' की शूटिंग कर रहे थे, इसलिए मेरी कहानी अटकी रही। मोदी के प्रधानमंत्री बनने और उनके स्वच्छता अभियान एवं शौचालयों को लेकर कैंपेन की वजह से हमें कहानी में थोड़े बदलाव करने पड़े।" मनोज ने आईएएनएस के साथ बातचीत में कहा, "राकेश जी ने 21 दिसंबर 2017 को फिल्म के निर्माण की घोषणा की। इस बीच उन्होंने (राकेश) खुद से कहानी में कुछ बदलाव किए, मसलन दिल्ली की झुग्गियों के बजाय मुंबई की झुग्गियों को रखा गया। इस पर जब मैंने उनसे पूछा तो उनका जवाब था कि दिल्ली शूटिंग फ्रेंडली नहीं है। मुंबई की झुग्गियां पर्दे पर अच्छा दिखती हैं।" 

वह कहते हैं, "मुझे थोड़ा शक हुआ, लेकिन उन्होंने पूरा भरोसा दिलाया कि स्क्रिप्ट वही है। उन्होंने मुझे शूटिंग शुरू होने से ठीक एक दिन पहले स्क्रिप्ट दिखाई, जिसके कवर पर लिखा था, 'रिटर्न बाइ राकेश ओमप्रकाश मेहरा'। मेरे एतराज पर उन्होंने कहा कि यह कहानी आपकी ही है, ये तो बस शूटिंग ड्राफ्ट है जो मैं हर फिल्म की शूटिंग के लिए बनाता हूं। मैं अगले दिन शूटिंग पर गया तो वहां कोई जानता ही नहीं था कि फिल्म का राइटर मैं हूं। सब कहते थे कि राकेश जी ने फिल्म की कहानी लिखी है।"बिहार के सहरसा से ताल्लुक रखने वाले मनोज कहते हैं, "इसके बाद आपसी सहमति से स्क्रीन राइटर्स एसोसिएशन में शिकायत दर्ज कराई, जहां एसोसिएशन ने कहा कि फिल्म में सोलो क्रेडिट मेरा रहेगा। स्क्रीनप्ले और डायलॉग में पहला नाम मेरा और दूसरा राकेश जी का रहेगा, लेकिन इसके बाद भी राकेश जी ने एसोसिएशन के आदेश को फॉलो नहीं किया। मैंने उन्हें और फिल्म के प्रोड्यूसर राजीव टंडन को लेटर भी लिखा, लेकिन कोई जवाब नहीं आया।" 

मनोज कहते हैं, "एक दिन मैंने देखा कि राकेश जी ने आईएमबीडी में फिल्म की डिटेलिंग की है। फिल्म के लेखकों में पहला नाम हुसैन दलाल, फिर मेरा यानी मनोज मैरता और फिर राकेश ओमप्रकाश मेहरा का नाम है। मैंने जब हुसैन दलाल के बारे में पूछा तो उन्होंने कहा कि उन्हें डायलॉग टच के लिए हायर किया गया है। उन्होंने डायलॉग पर काम किया है।"वह कहते हैं, "आईएमबीडी में फिल्म के राइटर में पहला नाम हुसैन दलाल, फिर मेरा मनोज मैरता और राकेश का नाम है। मेरा सवाल यही है कि अगर किसी आदमी ने फिल्म में डायलॉग भी लिखे हैं और जो कास्ट में सबसे बाद में जुड़ा है तो उसका नाम क्रेडिट में सबसे पहले कैसा आएगा? इस फिल्म का प्रिंसिपल राइटर तो मैं हूं। इसलिए मैंने उन्हें लीगल नोटिस भेजा। एसडब्लयूए ने मुझे कोर्ट का दरवाजा खटखटाने को कहा।" राकेश ओमप्रकाश के खिलाफ कानूनी कार्रवाई के बारे में पूछने पर मनोज कहते हैं, "मैंने 26 नवंबर को मुंबई हाईकोर्ट में राकेश जी के खिलाफ मुकदमा दायर कर दिया। राकेश जी कहते हैं कि उन्हें इस स्टोरी का आइडिया गांधी जी के स्वच्छता आंदोलन से आया तो मुझे क्यों हायर किया गया? उनके पास कहानी थी तो वे प्रसून जोशी, गुलजार या कमलेश पांडे को हायर कर सकते थे। मुझे क्यों किया?"

वह कहते हैं, "अगर आप फिल्म के ट्रेलर में भी देखें तो राइटर्स में हुसैन दलाल, मनोज मैरता, राकेश ओमप्रकाश मेहरा का नाम लिखा है लेकिन स्क्रीनप्ले राइटर का जिक्र तक नहीं है। इन्होंने बहुत बड़ी चालाकी की। करार के मुताबिक, स्क्रीन राइटर के तौर पर मेरा नाम दिया जाना चाहिए था। क्योंकि फिल्म की अधिकांश स्क्रीनप्ले मैंने ही लिखा है।"फिल्म इंडस्ट्री में कहानियां चुराए जाने के सवाल पर मनोज कहते हैं, "राइटर्स की कहानियां चोरी होने के किस्से सुने और देखे थे लेकिन कभी नहीं सोचा था कि एक दिन हम भी इस तरह की धोखाधड़ी का शिकार होंगे। एक ऐसा निर्देशक जिसने 'रंग दे बसंती' जैसी देशभक्ति से ओत-प्रोत फिल्म बनाई, जिसने फिल्म में भ्रष्टाचार और बुराई से लड़ने की बड़ी-बड़ी बातें की थी, वह इस पर थोड़ा खुद तो अमल करते।" कोर्ट केस के बारे में वह कहते हैं कि ऐसे कई मामले हुए हैं, जिनमें प्रोड्यूसर-डाइरेक्टर्स को झुकना पड़ा है। केस वापस लेना पड़ा है या कोर्ट से बाहर मामला सुलझाना पड़ा है। 

कुणाल कोहली, संजय लीला भंसाली, महेश भट्ट कई उदाहरण हैं। क्रेजी 4 के लिए राम संपत और राकेश रोशन का केस कोई नहीं भूला होगा। मनोज कहते हैं, "मुझसे सब कहते थे कि तुम बहुत बड़े डायरेक्टर से पंगा मोल ले रहे हो। तुम्हारा करियर शुरू होने से पहले ही बर्बाद हो जाएगा। तुम अपने पैर पर कुल्हाड़ी मार रहे हो, लेकिन मुझे इसकी परवाह नहीं है। मैं अपना हक मरते नहीं देख सकता था। अगर अच्छी कहानियां लिखूंगा तो जरूर काम मिलेगा। राजकुमार हिरानी जी का फोन आया था काम के सिलसिले में तो मैं नकारात्मक चीजें नहीं सोचता।" मनोज लेखकों के समक्ष क्रेडिट संबंधी दिक्कतों का जिक्र करते हुए कहते हैं, "कॉपीराइट एक्ट 2012 में खामियां हैं। लोग शुरू से ही क्रेडिट को लेकर जागरूक नहीं है। जिस तरह से हॉलीवुड में क्रेडिट को लेकर बकायदा नियम है, ठीक उसी तरह यहां भी ऐसा ही होना चाहिए। नियमों के हिसाब से चौथे नंबर पर राइटर को क्रेडिट मिलना होता है, लेकिन यहां तो पोस्टर पर भी राइटर का नाम नहीं दिखता। 

राइटर्स को तवज्जो ही नहीं मिलती।" 'दबंग' और 'जय हो' जैसी फिल्मों के को-राइटर रह चुके मनोज का कहना है कि वे शुरू से ही निर्देशक बनना चाहते थे। उनका कहना है कि वे मानते हैं कि मैं अच्छा राइटर हूं तो अच्छा निर्देशक बनने में आसानी होगी। राकेश ओमप्रकाश मेहरा के साथ भविष्य में काम करने के सवाल पर वह कहते हैं कि वह भविष्य में कभी भी राकेश जी के साथ काम नहीं करेंगे, जिसकी सोच इतनी घटिया हो। वह कहते हैं, "जब उन्होंने साल 2008 में 'रंग दे बसंती' देखी तो वह राकेश जी के प्रशंसक हो गए थे और आठ सालों तक उनकी फिल्म के गाने मोहे रंग तक बसंती को अपने फोन की कॉलरट्यून बनाकर रखा था। मुझे नहीं पता था कि वह इतनी छोटी सोच के शख्स होंगे।" इस मुद्दे पर राकेश ओमप्रकाश मेहरा का पक्ष जानने की कोशिश की जा रही है।

 

Tags: Book

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD