Friday, 19 April 2024

 

 

खास खबरें सरफेस सीडर के साथ गेहूं की खेती को अपनाए किसान: कोमल मित्तल PEC के पूर्व छात्र, स्वामी इंटरनेशनल, यूएसए के संस्थापक और अध्यक्ष, श्री. राम कुमार मित्तल ने कैंपस दौरे के दौरान छात्रों को किया प्रेरित मुख्य निर्वाचन अधिकारी सिबिन सी द्वारा फेसबुक लाइव के ज़रिये पंजाब के वोटरों के साथ बातचीत महलों में रहने वाले गरीबों का दुख नहीं समझ सकते: एन.के.शर्मा एनएसएस पीईसी ने पीजीआईएमईआर के सहयोग से रक्तदान शिविर का आयोजन किया गर्मी की एडवाइजरी को लेकर सिविल सर्जन ने ली मीटिंग अभिनेता सिद्धार्थ मल्होत्रा बने सैवसोल ल्यूब्रिकेंट्स के ब्रांड एंबेसडर सिंगर जावेद अली ने स्पीड इंडिया एंटरटेनमेंट का गीत किया रिकॉर्ड अनूठी पहलः पंजाब के मुख्य निर्वाचन अधिकारी सिबिन सी 19 अप्रैल को फेसबुक पर होंगे लाइव आदर्श आचार संहिता की पालना को लेकर सोशल मीडिया की रहेगी विशेष निगरानी- मुख्य निर्वाचन अधिकारी अनुराग अग्रवाल चुनाव में एक दिन देश के नाम कर चुनाव का पर्व, देश का गर्व बढ़ाए- अनुराग अग्रवाल प्रदेश की 618 सरकारी व निजी इमारतों की लिफ्टों पर चिपकाए गए जागरूकता स्टीकर - मुख्य निर्वाचन अधिकारी अनुराग अग्रवाल सेफ स्कूल वाहन पालिसी- तय शर्ते पूरी न करने वाली 7 स्कूल बसों का हुआ चालान चंडीगढ़ में पंजाबी को नंबर वन भाषा बना कर दिखाएंगे-संजय टंडन 4500 रुपए रिश्वत लेता सहायक सब इंस्पेक्टर विजीलैंस ब्यूरो द्वारा काबू एलपीयू के वार्षिक 'वन इंडिया-2024' कल्चरल फेस्टिवल में दिखा भारतीय संस्कृति का शानदार प्रदर्शन पंचकूला के डी.सी. पद से हटाए जाने बावजूद सुशील सारवान जिले में ही तैनात रवनीत बिट्टू के विपरीत, कांग्रेस ने हमेशा बेअंत सिंह जी की विरासत का सम्मान किया है: अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग कुंवर विजय प्रताप के भाषण को गंभीरता से लिया जाना चाहिए और जांच होनी चाहिए: बाजवा दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने दिल्ली फतेह दिवस समारोह के लिए निहंग सिंह प्रमुख बाबा बलबीर सिंह को सौंपा निमंत्रण पत्र इंसानी साहस और सच का तानाबाना हैं पुरबाशा घोष की बुक 'एनाटोमी ऑफ़ ए हाफ ट्रुथ'

 

धान की पराली को न जलाने के चेतना अभियान का दिखा असर, किसान विभिन्न तरीकों से कर रहे हैं पराली प्रबंधन

पराली ना जलाने के होते हैं अनेकों फायदे

Listen to this article

Web Admin

Web Admin

5 Dariya News

श्री मुक्तसर साहिब , 12 Nov 2018

जिला प्रशासन व कृषि विभाग द्वारा धान की पराली न जलाने के लिए कृषकों को प्रेरित करने के लिए आरंभ की किए अभियान से प्रभावित होकर बहुत से किसान इस अभियान से जुड़ रहे हैं। ये वातावरण के रक्षक किसान विभिन्न तकनीकों द्वारा पराली को बिना जलाए गेहूं की बिजाई कर रहे हैं। ऐसा ही एक किसान है रविंद्र सिंह जो के चक दुहे वाला में 8 एकड़ में अपनी जमीन के अतिरिक्त 20 एकड़ जमीन ठेके पर लेकर खेती करता है। उसने 7 एकड़ में पराली खेत में बिखेर कर उसके ऊपर हैप्पी सीडर से गेहूं की बिजाई करवाने के लिए हैप्पी सीडर की बुकिंग करवा ली है। जबकि शेष 20 एकड़ में उसने गांठें बनवाई हैं। उसने पिछले साल भी पराली नहीं जलाई थी। वह कहता है कि पराली जलाने से होने वाला धूंआ जहां मनुष्य के लिए घातक बीमारियों का कारण बनता है वहीं इससे भूमि की उर्वरा शक्ति भी कम होती है। उसने हैप्पी सीडर से बिजाई का पहले साल प्रयोग करना है। उसका मानना है कि इस तरह के पराली को भूमि में मिलाने से जमीन की उपजाऊ शक्ति बढ़ेगी। गांव विर्कखेड़ा के किरणदीप सिंह ने शेष खेत में से तो पराली की गांठे बनवाई है पर 2 एकड़ में उसने प्रयोग के तौर पर मलचर चला कर प्लाओ हल से पराली को जमीन में दबा दिया है। 

उसका कहना है कि इस तकनीक से उसका प्रति एकड़ 7 लीटर डीजल ज्यादा खर्च हुआ है पर जो पराली खेत में दबाई गई है बाद में यह खाद में तब्दील होकर इस खर्चे से कहीं ज्यादा लाभ का कारण बनेगी। उसने कहा कि पराली को खेत में दबाने से भूमि में जैविक मादा व अन्य पोषक तत्व बढ़ते हैं और जमीन उपजाऊ होती है और ऐसा करने से पर्यावरण पर भी कोई बुरा प्रभाव नहीं होता है। गांव सेखू के जस्सी बराड ने 15 एकड़ में लगाए परमल धान की पराली को पहले तविओं से जोत दिया उसके बाद दो बार रोटावेटर से खेत में मिला दिया। वह कहते हैं कि अगेते लगाए धान के लिए यह बढिय़ा तकनीक है क्योंकि पराली मिट्टी में जल्दी नष्ट हो जाती है और बढय़िा खाद में तब्दील हो जाती है। दूसरी तरफ जिला कृषि अधिकारी बलजिंदर सिंह बराड़ ने कहा कि पराली को जलाने से सबसे पहले खतरा हमारे गांवों में रहने वाले लोगों के स्वास्थ्य को होता है। उन्होंने कहा कि इसका खतरनाक धूंआ बच्चों, बुजुर्गों, गर्भवती स्त्रियों के लिए बहुत घातक है। पराली जलाने से जमीन के पोषक तत्व नष्ट हो जाते हैं और जमीन बंजर होने लगती है। उन्होंने किसानों को आग्रह किया कि वे पराली को आग ना लगाएं बल्कि इससे खेत में बिखेर कर हैप्पी सीडर से गेहूं की बिजाई कर दें। 

 

Tags: Agriculture , Khas Khabar

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD