Friday, 01 March 2024

 

 

खास खबरें 8 हजार रुपए रिश्वत लेता ए.एस.आई. विजीलैंस ब्यूरो ने किया गिरफ्तार हिमाचल प्रदेश मंत्रिमण्डल के निर्णय कांग्रेस की सरकार खो चुकी है बहुमत, अपने कर्मों से हुई है उसकी यह स्थिति : जयराम ठाकुर सरूप रानी महिला महाविधालय मे करवाया जिला स्तरीय पड़ोस युवा संसद कार्यक्रम का आयोजन खेल से होता है बच्चों का मानसिक एवं शारीरिक विकास : हरचंद सिंह बरसट संजीव अरोड़ा ने हरचंद सिंह बरसट, डॉ. गोसल और अन्य के साथ मातृभाषा पंजाबी पर प्रकाश डालते हुए महत्वपूर्ण कार्य किये शुरू डिप्टी स्पीकर जय कृष्ण सिंह रौढ़ी ने 11.79 करोड़ रुपए की लागत से माहिलपुर में पानी व सीवरेज के प्रोजैक्ट की करवाई शुरुआत ‘आप दी सरकार आप दे दुआर’- कैबिनेट मंत्री ब्रम शंकर जिंपा ने गांव शेरगढ़ में लगे कैंप का लिया जायजा अतिरिक्त मुख्य चुनाव अधिकारी पंजाब ने लोक सभा चुनाव 2024 की तैयारियों का लिया जायजा अकाली और कांग्रेसी सरकारों ने सोची-समझी साजिश के अंतर्गत पंजाब की सरकारी संस्थाएं तबाह की : भगवंत सिंह मान बादल परिवार ने अपने निजी लाभों के लिए पंजाब के लोगों के करोड़ों रुपए लूटे : भगवंत सिंह मान स्वास्थ्य सेवा में क्रांतिकारी बदलाव लाई है आम आदमी क्लीनिकः ब्रम शंकर जिंपा एलपीयू ने खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स की ओवरऑल फर्स्ट रनर अप ट्रॉफी जीती फ़र्ज़ी विजीलैंस अधिकारी बन कर किसान के साथ धोखाधड़ी करने के मामले में भगौड़ा मुलजिम पिन्दर सोढी विजीलैंस ब्यूरो द्वारा गिरफ़्तार पंजाब पुलिस द्वारा अंतरराष्ट्रीय नार्काे समगलिंग और अंतर-राज्यीय हथियारों की तस्करी के कारटेल का पर्दाफाश; 5 किलो हेरोइन, 4 हथियारों सहित तीन काबू शहर के पुलिस अधिकारियों के लिए साइबर सुरक्षा पाठ्यक्रम का सफल समापन हमें वास्तविक जीवन में उभरती प्रौद्योगिकियों की चुनौतियों को देखना चाहिए : डॉ. शांतनु भट्टाचार्य मुख्यमंत्री द्वारा पंजाब इंस्टीट्यूट ऑफ लिवर एंड बिलियरी साइंसेज का उद्घाटन पंजाब सरकार पहले पड़ाव में 260 खेल नर्सरियाँ खोलेगी: मीत हेयर चेतन कृष्णा मल्होत्रा द्वारा शिव शंकर भोले महाकाल भजन हुआ शिवरात्रि के अवसर पर टी सीरीज पर रिलीज़ लोगों को बेहतरीन स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान कर रहे हैं आम आदमी क्लीनिक: ब्रम शंकर जिम्पा

 

रोहड़जगीर के किसानों ने धान की खड़ी फसल में गेहूं की बिजाई की

ना पराली जलाई और ना ही ट्रैक्टर से गेहूं की बिजाई, फिर भी 23 से 24 क्विंटल प्रति एकड़ गेहूं की उपज

Listen to this article

Web Admin

Web Admin

5 Dariya News

पटियाला , 05 Nov 2018

धान की फसल लेने के बाद खेतों में बची पराली को आग लगाने से होने वाले प्रदूषण के बीच पटियाला-पिहोवा रोड़ पर स्थित गांव रोहड़जगीर के किसानों ने धान की खड़ी फसल में ही गेहूं की बिजाई कर पंजाब के किसानों के परंपरागत ज्ञान को एक बार फिर साबित कर दिखाया है कि आखिर क्यों पंजाब के किसान को अन्नदाता कहा जाता है।गांव रोहड़ जगीर के किसान गोगी सिंह, जगमीत सिंह और जोनी रोहड़ जगीर बताते हैं कि उन्होंने बीते कई सालों ना तो धान की पराली जलाई और ना ही खतों में ट्रैक्टर से गेहूं की बिजाई की है फिर भी 23 से 24 क्विंटल प्रति एकड़ गेहूं की उपज प्राप्त की है। वे बताते हैं कि खेतों में खड़ी धान की फसल में अंतिम पानी लगाने से ठीक पहले और धान की फसल की कटाई से 15 से 20 दिन पहले गेहूं के बीज का छिट्टा दे दिया जाता है। इसके लिए 250 रूपये प्रति एकड़ पर गांव की ही लेबर मिल जाती है। इस विधी से ट्रैक्टर व उसके डीजल पर आने वाला खर्च बिलकुल समाप्त हो जाता है। हालांकि गेहूं का बीच तुलनात्मक रूप से कुछ ज्यादा लगता है। गोगी सिंह बताते हैं कि एक एकड़ में लगभग 55 किलो गेहूं का छिट्टा दिया जाता है, इसमें से लगभग 45 किलो बीज काम कर जाता है। ऐसे में खर्च में खासी कमी आ जाती है और पर्यावरण भी साफ सुथरा रहता है।

गोगी सिंह कहते हैं कि तीन चार दिन में गेहूं के पौधे निकल आते हैं और 10 से 15 दिनों बाद फसल की कटाई के दौरान चलने वाले ट्रैक्टर आदि उपकरणों के चलने से पहले ही गेहूं के पौधे जड़ पकड़ लेते हैं और टायरों से दबने के बाद गेहूं का पौधा दूसरे महीने में यूरिया, डीएपी खाद व दिसंबर में पानी लगने के बाद खेत पूरी तरह से लहलहाने लग जाता है, हालांकि पहले महीने गेहूं के बीज के ना जमने के चलते खेत कुछ खाली भी दिखाई देता हैै, पर कुछ ही दिनों में यथावत दुरुस्त हो जाता है। रोहड़ जगीर व आसपास के गांवों में धान की 1121 किस्म और बासमती किस्मों सीएसआर आदि में गेहूं के बीज 2967 किस्म का परंपरागत तरीके से छिट्टा पिछले 8-10 सालों से दिया जा रहा है और आग मुक्त कृषि की जा रही है। इस प्रकार से की गई बिजाई के लिए कंबाईन का इस्तेमाल नहीं करते और लेबर हाथ से ही फसल की कटाई करते है और पराली को पशुओं के चारे के रूप में प्रयोग किया जाता है, जिससे गांव में रोजगार भी बढ़ा है, हालांकि सही तरीके से कंबाईन के इस्तेमाल पर भी गेहंू के चार से पांच इंच के पौधे को कोई नुकसान नहीं होता।दिलचस्प है कि गोगी सिंह ने अपने अनुभव को फेसबुक व यूटयूब पर वीडियो बना कर भी डाला है। इस संबंध में वे कहते हैं कि पहली बार में कई प्रकार के प्रश्न उठाए गए और फर्जी होने के आरोप भी लगे लेकिन अब नाम, पता, नंबर सहित दी गई जानकारी के बाद राज्य के अन्य जिलों में कई किसानों ने आधे से एक एकड़ में तजुर्बा करने की बात कही जा रही है।  

 

Tags: Agriculture , Khas Khabar

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD