Saturday, 24 February 2024

 

 

खास खबरें मुख्यमंत्री भगवंत सिंह द्वारा मुकेरियाँ से अपनी किस्म की पहली सरकार-व्यापार मिलनी की शुरुआत बांस उत्पादकों के लिए प्रदेश सरकार बनाएगी सोसायटी बीजेपी और कांग्रेस के नेता सिर्फ मेवात के लोगों के वोट लेने आते हैं, लेकिन विकास खुद का करते हैं : अभय सिंह चौटाला मुख्यमंत्री भगवंत सिंह मान द्वारा श्री गुरु रविदास जी का 650वां प्रकाश उत्सव व्यापक स्तर पर मनाने का ऐलान सफाई कर्मचारियों के हितों को ध्यान में रखते हुए मिलें बेहतर सुविधाएं : अंजना पंवार विकास कार्य़ो की गति में लाई जाए तेजीः सोम प्रकाश एस बी एस पब्लिक स्कूल में हुआ पैनासॉनिक “हरित उमंग- जॉय ऑफ़ ग्रीन” का सफल आयोजन PEC त्रिदिवसीय वर्कशॉप का सफलतापूर्वक समापन किया PEC स्टूडेंट निशिता ने स्वरचित रचना से जीता IGNUS 24 फेस्ट में दूसरा स्थान IIT रोपड़ के टेक्निकल फेस्ट में PEC छात्रों ने अपने नाम किये कई ईनाम 'PEC में दोबारा आना एक यादगारी अनुभव है' : कपिलेश्वर सिंह बीजेपी हम पर इंडिया गठबंधन छोड़ने का दबाव बना रही है, वे जल्द अरविंद केजरीवाल को गिरफ्तार करने की योजना बना रहें : आप पंजाब द्वारा दुबई में ‘गल्फ-फूड 2024’ के दौरान फूड प्रोसेसिंग की उपलब्धियाँ और संभावनाओं का प्रदर्शन, निवेश के लिए न्योता कैबिनेट मंत्री ब्रम शंकर जिंपा ने 27 फार्मासिस्टों व 28 को क्लीनिक असिस्टेंटों को सौंपे नियुक्ति पत्र 1900 रुपए मानदेय बढ़ाने के लिए कंप्यूटर अध्यापकों ने मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू का आभार व्यक्त किया ब्रिटिश उच्चायोग और हिमाचल प्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन के प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू से भेंट की 'क़ैद - नो वे आउट' - प्यार, दुर्व्यवहार और उस से बाहर निकलने की एक मनोरंजक कहानी चितकारा यूनिवर्सिटी में "चितकारा लिट फेस्ट 2024"' विद्युत जामवाल की ''क्रैक- जीतेगा तो जियेगा' एक्शन फिल्मों की सूची में सबसे ऊपर मुख्यमंत्री के नेतृत्व में पंजाब मंत्रिमंडल द्वारा एक मार्च से 15 मार्च तक बजट सत्र बुलाने की मंजूरी पंजाब में स्वास्थ्य सेवाओं में आया क्रांतिकारी बदलावः ब्रम शंकर जिंपा

 

सबरीमाला संकट के लिए संघ जिम्मेदार : पिनरई विजयन

पिनरई विजयन
पिनरई विजयन
Listen to this article

Web Admin

Web Admin

5 Dariya News

तिरुवनंतपुरम , 23 Oct 2018

केरल के मुख्यमंत्री पिनरई विजयन ने मंगलवार को सबरीमाला मंदिर को संघर्ष क्षेत्र में तब्दील करने के लिए 'संघ परिवार' और उसके सहयोगियों को जिम्मेदार ठहराया और नवंबर में शुरू होने वाले श्रद्धालुओं के अगले लंबे सत्र में सर्वोच्च न्यायालय के आदेश को लागू करवाने की प्रतिबद्धता जताई। उन्होंने मंदिर के तांत्री और पंडालम शाही परिवार की ओर से भगवान अयप्पा मंदिर पर अधिकार जताने के लिए निशाना साधा। सर्वोच्च न्यायालय के आदेश के बाद जब मंदिर 17 अक्टूबर को मासिक पूजा के लिए खुला, मुख्यमंत्री देश से बाहर थे। अदालत के आदेश के बावजूद किसी भी महिला को मंदिर में प्रवेश की अनुमति नहीं दिए जाने के बाद विजयन ने इस संबंध में अपनी चुप्पी तोड़ी है। शीर्ष अदालत ने 28 सितंबर को अपने ऐतिहासिक फैसले में 10 से 50 वर्ष की उम्र समूह की महिलाओं को मंदिर में प्रवेश करने की अनुमति दी थी। इस आदेश के बाद भी इन उम्र की महिलाओं को पांच दिवसीय संक्षिप्त सत्र के दौरान मंदिर में प्रवेश करने नहीं दिया गया।

विजयन ने कहा, "मंदिर खुलने के पहले ही, संघ परिवार ने अपनी योजना बना ली थी। सरकार ने किसी भी श्रद्धालुओं को नही रोका। इसके बदले, सरकार ने सभी सहायता मुहैया करवाई, क्योंकि यह हमारा संवैधानिक दायित्व है कि शीर्ष अदालत के फैसले का पालन हो।" उन्होंने कहा कि सबरीमाला एक धार्मिक संस्था है और शांति को बनाए रखने की जरूरत थी, लेकिन संघ परिवार के लोगों ने इसे होने नहीं दिया। मुख्यमंत्री ने कहा, "उनका एजेंडा सबरीमाला को संघर्ष क्षेत्र में तब्दील करने का था और हम यह सुनिश्चित करेंगे कि आगामी उत्सव के समय (17 नवंबर से शुरू हो रहा दो महीना लंबा सत्र) सरकार शीर्ष अदालत के आदेश का अनुपालन कराने के लिए सबकुछ करे।"उन्होंने कहा कि वह सुनिश्चित करेंगे कि उस समयावधि में किसी भी श्रद्धालु को एक खास समय से ज्यादा देर वहां नहीं रहने दिया जाए। विजयन ने कहा कि श्रद्धालुओं को संभालने के लिए तिरुपति मॉडल की प्रणाली लागू की जाएगी।

उन्होंने तांत्री (मुख्य पुजारी) पर भी निशाना साधा, जिसने पुलिस द्वारा महिलाओं को मंदिर में पूजा करवाने की कोशिश के बावजूद, मंदिर को बंद करने की धमकी दी थी। विजयन ने कहा, "तांत्री की ओर से यह गैर जरूरी बयान था, क्योंकि मंदिर को खोलने व बंद करने का अधिकार त्रावणकोर देवासम बोर्ड (टीडीबी) का है।" पंडालम शाही परिवार की ओर से मंदिर पर दावा जताने पर उन्होंने कहा, "सबरीमाला मंदिर टीडीबी की संपत्ति है और किसी का भी इसपर कोई अधिकार नहीं है। 1949 अनुबंध में स्पष्ट तौर पर लिखा हुआ है कि शाही परिवार के समक्ष गंभीर वित्तीय संकट उत्पन्न होने की वजह से सबरीमाला मंदिर का मालिकाना हक टीडीबी को दिया जाता है।"

 

Tags: Pinarayi Vijayan

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD