Sunday, 21 July 2024

 

 

खास खबरें हरियाणा में कचरे के निस्तारण की दिशा में अहम कदम, राज्य में स्थापित होंगे वेस्ट-टू-चारकोल के दो प्लांट मुख्यमंत्री नायब सिंह सैनी ने हिसार में महाराजा दक्ष प्रजापति जयंती राज्य स्तरीय समारोह में लगाई घोषणाओं की झड़ी राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय से पैरा क्रिकेटर आमिर हुसैन लोन ने राजभवन में की मुलाकात मुख्यमंत्री नायब सिंह ने हिसार से मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा योजना के तहत बस को हरी झंडी दिखाकर किया रवाना मुख्यमंत्री सुख-आश्रय कोष में 1.5 करोड़ रुपये का अंशदान कैबिनेट मंत्री ब्रम शंकर जिंपा ने जनता दरबार में सुनी लोगों की शिकायतें हर घर तक पीने वाला स्वच्छ पानी मुहैया करवाना सरकार की मुख्य प्राथमिकता : ब्रम शंकर जिंपा होशियारपुर वासियों की हर समस्या का समयबद्ध तरीके से किया जा रहा है समाधान : ब्रम शंकर जिंपा मनजिंदर सिंह सिरसा के नेतृत्व में एक उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल ने हरियाणा के मुख्यमंत्री नायब सिंह सैनी का सन्मान श्री गुरु साहिबान द्वारा सद्भाव और भाईचारे के दिखाए मार्ग पर चलना ही गुरुओं के प्रति हमारी सच्ची श्रद्धा का प्रतीक : नायब सिंह सैनी अग्निवीरों के कल्याण के लिए हरियाणा सरकार द्वारा चलाई योजना पर प्रधानमंत्री ने दिखाई विशेष रूचि मुख्यमंत्री नायब सिंह सैनी ने फिर किसान हितैषी होने का दिया परिचय नवनिर्वाचित विधायक हरदीप सिंह बावा ने मुख्यमंत्री सुखविंद्र सिंह सुक्खू से की भेंट सरकार की जन हितैषी नीतियों का आम जनता तक पहुंचाया जाए लाभः ब्रम शंकर जिंपा परिवहन निगम में 357 कंडक्टरों को जल्द मिलेगी नियुक्ति: मुकेश अग्निहोत्री मुख्यमंत्री सुखविंद्र सिंह सुक्खू ने अम्रुत योजना में पहाड़ी राज्यों के लिए मापदंडों में ढील देने का आग्रह किया केंद्र के फंड होने के बावजूद प्रोजेक्ट को पूरा नहीं करवा रहे मुख्यमंत्री मान एलपीयू एनसीसी कैडेट नवनीत सिंह ने यू.के. में वायईपी 2024 प्रोग्राम में भारत का प्रतिनिधित्व किया PEC में 'एक पेड़ मां के नाम' अभियान के तहत वन महोत्सव 2024 धूम-धाम से मनाया गया माता चिंतपूर्णी मेले को सुचारु बनाने में लंगर कमेटियां व सामाजिक संगठन करे जिला प्रशासन को सहयोग : ब्रम शंकर जिंपा सार्वजनिक शिकायत निवारण कैंप के दौरान विधायक कर्मबीर सिंह घुम्मण व ए.डी.सी ने सुनी लोगों की शिकायतें

 

महिला सशक्तिकरण केवल राष्ट्र का लक्ष्य नहीं बल्कि वैश्विक एजेंडा भी है : एम वेंकैया नायडू

Listen to this article

5 Dariya News

नई दिल्ली , 16 Jul 2018

उपराष्‍ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने कहा है कि समग्र, समान और सतत् विकास के उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए महिलाओं का सशक्तिकरण जरूरी है। श्री नायडू आज यहां महिला सशक्तिकरण : उद्यमिता, नवाचार और सतत विकास को प्रोत्साहन विषय पर आयोजित अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि महिला सशक्तिकरण केवल राष्ट्र का लक्ष्य नहीं है बल्कि वैश्विक एजेंडा भी है। सम्मेलन का आयोजन नीति आयोग और श्रीराम कॉलेज ऑफ कॉमर्स की ओर से किया गया था। इस अवसर पर पुद्दुचेरी की उपराज्यपाल डॉ. किरण बेदी दिल्ली विश्वविद्यालय के उप-कुलपति प्रोफेसर योगेश त्यागी और नीति आयोग के मुख्य कार्यकारी अधिकारी श्री अमिताभ कांत सहित कई गणमान्य लोग उपस्थित थे।उपराष्ट्रपति ने कहा कि इसमें कोई संदेह नहीं है कि सही अवसर और अनुकूल माहौल मिलने पर महिलाओं ने जीवन के विभिन्न क्षेत्रों में महत्वपूर्ण सफलताएं हासिल की हैं। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक और सार्वजनिक जीवन में महिलाओं की सक्रिय भागीदारी के लिए उन्हें बिना किसी बाधा के अनुकूल अवसर उपलब्ध कराए जाने चाहिए ताकि समाज के फायदे के लिए उनकी क्षमता का बेहतर इस्‍तेमाल हो सके। श्री नायडू ने कहा कि राष्‍ट्रीय नीतियों के जरिए महिलाओं को सशक्‍त बनाने और लैंगिग समानता की दिशा में हुयी महत्‍वपूर्ण प्रगति के बावजूद उन्‍हें कयी तरह के भेदभाव और शोषण का सामना करना पड़ता है जिसकी वजह से सामाजिक,आर्थिक और राजनीतिक क्षेत्र में उनके लिए जगह सीमित रह जाती है। 

उन्होंने कहा कि सिनेमा जैसे जनसंपर्क के बड़े माध्यम को महिला सशक्तिकरण के लिए अहम भूमिका निभानी चाहिए। श्री नायडू ने कहा कि संपत्ति के मामले में भी महिलाओं को बराबरी का अधिकार मिलना चाहिए।उपराष्ट्रपति ने कहा कि शिक्षा और रोजगार के क्षेत्र में समान अवसर नहीं मिलने, श्रम बाजार में असमानता, बढ़ती यौन हिंसा के मामलों तथा घरेलू कार्यों का बोझ महिलाओं के विकास के रास्ते में बड़ी बाधाएं हैं। लैंगिक असमानता को महिला सशक्तिकरण और और उनके मुख्य धारा से जुड़ने की सबसे बड़ी रुकावट बताते हुए श्री नायडू ने कहा कि समय आ गया है कि लोगों को इस बारे में अपनी सोच बदलनी चाहिए और समाज में महिलाओं की भूमिका के बारे में सकारात्मक दृष्टिकोण अपनाना चाहिए।उपराष्ट्रपति ने कहा की निर्णय प्रक्रिया में महिलाओं की सक्रिय भागीदारी से शिक्षा, स्वास्थ्य, पोषण, रोजगार और सामाजिक सुरक्षा पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। उन्होंने कहा कि महिला सशक्तिकरण का न केवल महिलाओं के निजी जीवन पर बल्कि उनके परिवार और समाज पर भी बहुआयामी असर पड़ता है।बालिकाओं की शिक्षा पर जोर देते हुए उपराष्ट्रपति ने कहा कि महिलाओं के शिक्षित होने से नवजात और शिशु मृत्यु दर में कमी होने के साथ ही पूरे परिवार के स्वास्थ्य पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। उत्पादन वाली गतिविधियो में यदि महिलाओं को पुरुषों के समान अवसर मिले तो कृषि उपज में वृद्धि होगी और कुपोषित लोगों की संख्या घटेगी।

 

Tags: Venkaiah Naidu , NITI Aayog

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD