Monday, 27 May 2024

 

 

खास खबरें भारत आगे बढ़ रहा है और पंजाब पीछे जा रहा है: सुभाष शर्मा केंद्र के सहयोग से घग्गर की समस्या का जल्द होगा स्थाई समाधानः परनीत कौर हम आपके बच्चों के उज्ज्वल भविष्य के लिए लड़ रहे हैं : भगवंत मान जब तक केजरीवाल ज़िंदा है किसी में हिम्मत नहीं की आपका आरक्षण ख़त्म कर सके : अरविंद केजरीवाल क्यों आज मुद्दों पर बात नहीं कर रही बीजेपी : सुप्रिया श्रीनाटे कांग्रेस सरकार आने पर पुरानी पेंशन होगी बहाल : गुरजीत सिंह औजला मोदी भ्रष्टाचार के केंद्र बिंदु, संविधान खत्म करने का ना देखें सपना : राहुल गांधी पीएम मोदी ने 22 लोगों के 16 लाख करोड़ का कर्ज माफ किया : राहुल गांधी वोट के अधिकार को ख़रीदना चाहती है भाजपा : ठाकुर सुखविंदर सिंह सुक्खू भाजपा वाले नकली गोरक्षक, हम कर रहे गोसंरक्षण : ठाकुर सुखविंदर सिंह सुक्खू बॉलीवुड एक्ट्रेस महिमा चौधरी ने सोहाना हॉस्पिटल का दौरा कर कैंसर मरीजों से मुलाकात की कांग्रेस संयुक्त सचिव रविंदर सिंह त्यागी हुए भाजपा में शामिल अब संजय टंडन का समर्थन करने दिव्यांग भी आये आगे तिवारी का चुनाव प्रचार भ्रामक और अराजकता का प्रतीक : रविंद्र पठानिया मुख्यमंत्री भगवंत मान ने खडूर साहिब से आप उम्मीदवार लालजीत भुल्लर के लिए किया प्रचार गोल्डन टेंपल को बनाया जायेगा ग्लोबल सेंटर : राहुल गांधी पंजाब में क्राइम आउट ऑफ कंट्रोल, चिंता का विषय: विजय इंदर सिंगला विजय इंदर सिंगला ने जारी किया घोषणापत्र, क्षेत्र के लिए किये कई वादे अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग ने लुधियाना में चुनाव अभियान तेज किया, मुख्य मुद्दों की अनदेखी करने पर प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री की आलोचना की भाजपा द्वारा बिट्टू को खारिज करने पर, वड़िंग को अपने ‘मित्र’ बिट्टू के लिए बुरा लगा सीएम भगवंत मान ने राजासांसी, अजनाला और मजीठा में कुलदीप धालीवाल के लिए किया प्रचार, अमृतसर के लोगों ने भारी वोटों से आप को जीत दिलाने का किया वादा

 

किसी देश का इस्तेमाल अन्य के खिलाफ आतंकवाद के लिए न हो : भारत, कनाडा

Listen to this article

Web Admin

Web Admin

5 Dariya News

नई दिल्ली , 23 Feb 2018

भारत और कनाडा ने शुक्रवार को हर तरह के आतंकवाद व हिंसक चरमपंथ का मुकाबला करने पर सहमति जताई और इसके साथ ही इस बात पर भी सहमति जताई कि किसी भी देश को किसी अन्य देश के खिलाफ ऐसी गतिविधियों की इजाजत नहीं दी जानी चाहिए। यह सहमति कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो की एक हफ्ते की भारत यात्रा के दौरान बनी, जो शुरू से ही खालिस्तानी अलगाववादियों के प्रति कनाडा के कथित नर्म रुख को लेकर विवादों में रही है।आतंकवाद से मुकाबले के सिलसिले में दोनों देशों ने सहयोग के एक खाके पर दस्तखत किए, जिसमें सिख चरमपंथी समूह बब्बर खालसा इंटरनेशनल और इंटरनेशनल सिख यूथ फेडरेशन के साथ-साथ अल कायदा, इस्लामिक स्टेट, हक्कानी नेटवर्क, लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मुहम्मद के नाम हैं और जिसमें इन सभी के पैदा किए खतरों से मिलकर निपटने की बात कही गई है।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो से अलग से मुलाकात हुई और प्रतिनिधिमंडल स्तर पर भी बातचीत हुई। इसके बाद ट्रूडो के साथ मोदी मीडिया से मुखातिब हुए और कहा कि राजनीतिक और विभाजनकारी गतिविधियों के लिए धर्म के इस्तेमाल की इजाजत नहीं दी जा सकती। उन्होंने कहा कि आतंकवाद और चरमपंथ हमारे लोकतांत्रिक व बहुलवादी समाजों के लिए खतरा हैं। हम दोनों देशों के लिए यह बहुत जरूरी है कि हम ऐसी ताकतों से मिलकर लड़ें। मोदी ने कहा कि जो लोग दोनों देशों की संप्रभुता, एकता व अखंडता को चुनौती देंगे, उन्हें बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।ट्रूडो ने अलगाववाद और आतंकवाद का सीधे उल्लेख नहीं किया। उन्होंने कहा कि हम लोकतांत्रिक परंपराओं और बहुलतावाद का सम्मान करते हैं। उन्होंने कहा कि हम दोनों नेताओं ने दोनों देशों के लोगों के बीच के रिश्तों को मजबूत करने के तरीकों पर बात की।

मुलाकात और बातचीत के बाद जारी संयुक्त वक्तव्य में भी इसी बात को कहा गया है कि दोनों देश हर तरह के आतंकवाद व हिंसक चरमपंथ का मुकाबला मिलकर करेंगे और इसमें यह भी कहा गया है कि किसी भी देश को किसी अन्य देश के खिलाफ आतंकवाद व हिंसक चरमपंथ को करने देने की इजाजत नहीं दी जानी चाहिए। इसमें सीमापार आतंकवाद का मुद्दा भी रखा गया है और कहा गया है कि आतंकवाद को प्रायोजित करने वाले देशों को जवाबदेह बनाया जाना चाहिए।मोदी ने कहा कि शुक्रवार की वार्ता के दौरान दोनों देशों ने आर्थिक संबंधों को और मजबूत बनाने पर भी बात की।बातचीत के बाद दोनों पक्षों ने आईसीटी और इलेक्ट्रॉनिक्स के क्षेत्र में सहयोग के मसौदे पर दस्तखत किए। साथ ही खेल, बौद्धिक संपदा अधिकार, उच्च शिक्षा, विज्ञान, प्रौद्योगिकी और नवाचार के क्षेत्र में सहयोग के लिए समझौता ज्ञापनों (एमओयू) पर दस्तखत किए गए।इसे दोहराते हुए कि कनाडा में 120,000 भारतीय विद्यार्थी पढ़ाई कर रहे हैं, मोदी ने कहा कि उच्च शिक्षा के क्षेत्र में एमओयू के नवीकरण से दोनों देशों के छात्रों व शिक्षकों को लाभ होगा।कनाडा को ऊर्जा महाशक्ति बताते हुए मोदी ने कहा कि वह भारत की बढ़ती ऊर्जा जरूरतों को पूरा करने में मददगार हो सकता है। मोदी ने बताया कि दोनों देशों ने सीमापार आतंकवाद, अफगास्तिान की स्थिति, हिंद-प्रशांत क्षेत्र की स्थिति और मालदीव में लोकतांत्रिक संस्थानों की आजादी पर बात की। इससे पहले मोदी ने शुक्रवार को राष्ट्रपति भवन में एक औपचारिक समारोह में जस्टिन टड्रो का गले लगाकर स्वागत किया। 

मोदी द्वारा टड्रो का गर्मजोशी से स्वागत करने के बाद उन अटकलों पर विराम लग गया, जिनमें कहा जा रहा था कि सरकार का रवैया कनाडाई प्रधानमंत्री के प्रति उदासीन है। टड्रो अपनी पत्नी सोफी और बच्चों जेवियर, एला-ग्रेस और हाड्रियन के साथ जैसे ही कार से राष्ट्रपति भवन के प्रांगण में उतरे, मोदी ने उनसे (टड्रो) हाथ मिलाया और फिर गले लगा लिया।कनाडाई प्रधानमंत्री के 17 फरवरी को भारत आने के बाद से चुप्पी साधे मोदी ने अपनी चुप्पी तोड़ते हुए गुरुवार को कहा था कि उन्हें शुक्रवार को होने वाली द्विपक्षीय बैठक का इंतजार है। मोदी ने ट्वीट कर कहा था, "मैं दोनों देशों के संबंधों के प्रति उनकी (टड्रो) गहरी प्रतिबद्धता की सराहना करता हूं।"मोदी ने गुरुवार को ट्रूडो की बेटी एला-ग्रेस की मजाकिया ढंग से कान ऐंठते हुए तस्वीर ट्वीट की थी। इस तस्वीर में टड्रो मुस्कुराते हुए दिख रहे हैं। यह तस्वीर मोदी के 2015 में कनाडा दौरे की है। मोदी ने ट्वीट कर कहा, "मैं खासकर उनके बच्चों जेवियर, एला-ग्रेस और हाड्रियन से मिलने के लिए उत्सुक हूं।" कनाडाई प्रधानमंत्री भारत की सप्ताह भर की यात्रा के दौरान आगरा, अहमदाबाद, मुंबई और अमृतसर का दौरा कर चुके हैं। हाल के दिनों में दोनों देशों के बीच रिश्तों में खटास देखने को मिली है, क्योंकि कनाडा में स्वतंत्र खालिस्तान की मांग करने वाले अलगाववादियों के प्रति कथित रूप से नर्म रुख देखने को मिला है।वहीं, स्थिति गुरुवार को तब और विवादास्पद हो गई जब कनाडा उच्चायोग ने ट्रूडो के सम्मान में होने वाले रात्रि भोज में खालिस्तानी अलगाववादी जसपाल अटवाल को निमंत्रण दिया था।हालांकि, बाद में उच्चायोग ने इसे रद्द कर दिया। भारतीय विदेश मंत्रालय का कहना है कि वह इस बात की जांच कर रहा है कि कनाडाई पासपोर्ट धारक अटवाल को वीजा कैसे जारी किया गया।टड्रो ने बाद में कहा कि इस मामले को बेहद गंभीरता से लिया जा रहा है। अटवाल को निमंत्रण नहीं दिया जाना चाहिए था। 

 

Tags: Narendra Modi , Justin Trudeau

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD