Tuesday, 05 March 2024

 

 

खास खबरें PEC में जुलाई 2024 से शुरू होंगे 3 नए प्रोग्राम, सीनेट में पास हुए कई अहम प्रस्ताव समय पर मुकम्मल किए जाएं जल जीवन मिशन के अंर्तगत किए गए कार्यः कोमल मित्तल राज्यपाल शिव प्रताप शुक्ल ने पर्वतीय पारिस्थितिकी तंत्र के अनुसंधान पर दिया बल मुख्यमंत्री ने नेरवा में 73.43 करोड़ रुपये की विकास परियोजनाओं के लोकार्पण एवं शिलान्यास किए विकास कार्यों के लिए आवंटित धनराशि को शीघ्र करें खर्च: डी सी हेमराज बैरवा मुख्यमंत्री भगवंत सिंह मान द्वारा बजट 2024-25 की सराहना; राज्य के व्यापक विकास के लिए ’रंगला पंजाब’ बनाने की दिशा की तरफ अहम कदम बताया जैविक खेती को बढ़ावा देने के लिये स. हरचंद सिंह बरसट ने किसान बाजार के किसानों से की मुलाकात मीत हेयर ने विकासमुखी और लोक पक्षीय बजट के लिए मुख्य मंत्री और वित्त मंत्री की प्रशंसा की भाजपा पंजाब महिला मोर्चा ने पटियाला में नारी शक्ति वंदन यात्रा निकाली मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने 1962 मोबाइल पशु चिकित्सा सेवा का शुभारम्भ किया मान सरकार किसानों के कल्याण के लिए वचनबद्ध, बजट में सिंचाई प्रणाली की मज़बूती के लिए 2107 करोड़ रुपए रखे: चेतन सिंह जौड़ामाजरा सी जी सी झांजेड़ी कैंपस में हैकथॉन 2024 का आयोजन किया गया सिनेमा में 19 साल की कड़ी मेहनत ने दिलाई तमन्ना भाटिया को ग्लोबल पहचान 2024 में दक्षिणी सिनेमाई क्रांति में पहली बार चमकेंगे यह 7 बॉलीवुड सितारे ‘होशियारपुर नेचर फेस्ट-2024’: कुलविंदर बिल्ला के गीतों पर झूमे होशियारपुर वासी मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने एशियन रिवर राफ्टिंग चैम्पियनशिप का शुभारंभ किया एस. एस. एफ. ने पहले महीने 389 सैकण्ड के रिकार्ड समय में 1053 सडक़ हादसों में प्रदान की प्राथमिक सहायता; 574 गंभीर ज़ख्मियों को पहुँचाया अस्पताल सरकार ने पूरी की पांचवीं चुनावी गारंटी राज्यपाल के भाषण से भाग जाने पर विरोधी पक्ष पर जम कर बरसे मुख्यमंत्री भगवंत सिंह मान कैबिनेट मंत्री जिंपा ने ‘मुख्य मंत्री तीर्थ यात्रा स्कीम’ के अंतर्गत होशियारपुर से बस को दिखाई हरी झंडी भाजपा का किसान विरोधी चेहरा एक बार फिर उजागर, किसान के हत्यारे के पिता अजय मिश्रा को फिर से दिया टिकट: आप

 

जीएसटी चिकनकारी उद्योग के लिए मौत का फरमान?

Listen to this article

Web Admin

Web Admin

5 Dariya News

लखनऊ , 10 Jul 2017

पांच लाख से ज्यादा लोगों को रोजगार देने वाली विश्व विख्यात लखनऊ का चिकनकारी उद्योग देशभर में लागू हो चुकी अप्रत्यक्ष कर प्रणाली वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) को लेकर असमंजस की हालत में है। उद्योग से जुड़े अनेक लोगों का मानना है कि पहले से ही संकट से जूझ रहे इस कारोबार का जीएसटी आ जाने के बाद डूबना तय है।मुगलकाल में शाहजहां की पत्नी नूरजहां की बदौलत 15वीं शताब्दी में चिकनकारी व कला ने फारस से भारत में प्रवेश किया। मुगलकाल में दिल्ली चिकनकारी का मुख्य केंद्र था तथा आखिरी मुगल शासक बहादुर शाह जफर ने इसे काफी प्रोत्साहित किया और लाखों लोगों को रोजगार मिला। लेकिन देश से मुगलों की सत्ता खत्म होने के साथ ही चिकनकारी उद्योग दिल्ली से लखनऊ चला गया।लेकिन अब असली सवाल यह है कि जीएसटी चिकनकारी उद्योग पर क्या प्रभाव डालेगा?

उद्योग से जुड़े लोगों का कहना है कि चिकनकारी उद्योग में महंगे उत्पादों का कारोबार जीएसटी के चलते बुरी तरह प्रभावित होगा, जबकि छोटे कारोबारियों का दिमाग काम नहीं कर रहा कि वे जीएसटी से कैसे बचें, क्योंकि वे पहले से ही बढ़ी हुई लागत और बेहद कम आय से जूझ रहे हैं।2003 में भी वित्तमंत्री रहे जसवंत सिंह ने चिकनकारी उद्योग पर कर लगाने का प्रस्ताव रखा था, लेकिन तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने इसे ठुकरा दिया था। वाजपेयी ने तब कहा था कि चिकनकारी अवध की धरती की समृद्ध विरासत एवं संस्कृति का प्रतीक है और इसे कर प्रणाली से बाहर रखा जाना चाहिए।लेकिन आज 14 साल बाद मौजूदा केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली की सोच इससे बिल्कुल अलग है और उन्होंने चिकनकारी उद्योग को जीएसटी में शामिल कर दिया है। जीएसटी के तहत 1,000 रुपये से कम राशि की किसी भी बिक्री पर पांच फीसदी का कर लगेगा, जबकि 1,000 रुपये से अधिक की किसी भी बिक्री पर 12 फीसदी का कर निर्धारित किया गया है।

कारोबारी और शिल्पकार जीएसटी के इस झटके से उबर नहीं पा रहे और जीएसटी के खिलाफ अपना विरोध प्रदर्शित करने के लिए बांह में पट्टी बांधकर दुकानें खोल रहे हैं।चिकनकारी उद्योग में 10,000 से अधिक कारोबारी संलिप्त हैं, जिनमें से अधिकतर लखनऊ के पुराने चौक इलाके में स्थित हैं। चिकनकारी को आगे बढ़ाने में 550,000 से अधिक कुशल एवं अकुशल कामगार लगे हुए हैं।चौक के छोटे कारोबारियों में से एक सलीम कहते हैं, "अब हम क्या करें।" सलीम ने आईएएनएस से कहा कि अगर आने वाले समय में ऐसा ही होने वाला है, तो हमें अपनी दुकानें बंद करनी पड़ेंगी।सलीम कहते हैं, "पहले से ही लागत काफी पड़ रही थी और अब जीएसटी से तो पूरा संतुलन ही बिगड़ जाएगा।"चिकनकारी के बड़े कारोबारियों में से एक और केंद्र में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के धुर समर्थक रहे महत्व टंडन अब भाजपा के भक्त नहीं रह गए हैं।महत्व ने नई कर प्रणाली की निंदा करते हुए कहा कि पहले से ही संघर्ष कर रहे चिकनकारी उद्योग के लिए जीएसटी बेहद बुरी खबर है।

70 से अधिक गांवों में चिकनकारी का काम करने वाले 160,000 परिवार चाहते हैं कि चिकनकारी उद्योग से जीएसटी हटा लिया जाए। उल्लेखनीय है कि इनमें से 80 फीसदी कामगार महिलाएं हैं।चिकनकारी का काम करने वाली मुन्नी कहती हैं कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री राजनाथ सिंह से अनुरोध करेंगी कि 'इस मौत के फरमान पर फिर से विचार करें।'चिकन उद्योग संघ के एक वरिष्ठ अधिकारी सुरेश चाबलानी ने जीएसटी के कारण चिकनकारी उद्योग को पेश आने वाली कई व्यावहारिक दिक्कतों का उल्लेख किया।उन्होंने बताया, "इस उद्योग में कपड़ा खरीदने से लेकर काटने, छापने, कढ़ाई करने, माड़ी देने और पैक करने तक बड़ी संख्या में अनपढ़ कामगार शामिल हैं..मोदी सरकार उनसे बही-खाता बनाने और बिक्री के आंकड़े रखने की उम्मीद कैसे कर सकती है? यह सरासर बकवास है।"जितेंद्र रस्तोगी का परिवार 50 वर्षो से चिकनकारी के काम से संबद्ध है और वह भी जीएसटी को लेकर उतने ही सशंकित हैं। चिकनकारी उद्योग से अगर जीएसटी नहीं हटाया गया तो चिकन को इतिहास ही समझें। वह कहते हैं पहले से चीन में मशीन निर्मित चिकन लखनऊ के चिकन के लिए चुनौती बना हुआ है।जितेंद्र कहते हैं, "यह सरकार की हस्तनिर्मित चिकन को खत्म करने की सुनियोजित रणनीति है।"

 

Tags: KHAS KHABAR , GST

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD