Monday, 15 April 2024

 

 

खास खबरें विजीलैंस ब्यूरो ने 5000 रुपये रिश्वत लेते हुए एएसआई को किया गिरफ्तार परस राम धीमान और समर्थकों ने मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह से की मुलाकात पद्म भूषण इंजीनियर जसपाल भट्टी सांस्कृतिक संध्या कल, 16 अप्रैल, 2024 को पीईसी में आयोजित की जाएगी सुखविंदर सिंह बिंद्रा ने कॉस्मेटोलॉजी कॉलेज आईआईएमसीबी का उद्घाटन किया जे-फॉर्म कटने के 72 घंटे के अंदर किसानों की पेमेंट सुनिश्चित की जाए : मुख्य सचिव टीवीएसएन प्रसाद आप ने 'संविधान बचाओ, तानाशाही हटाओ' के रूप में मनाया बाबा साहेब डॉ. भीमराव अंबेडकर जी का जन्मदिन मोदी-भाजपा की तानाशाही खत्म करने के लिए जनता तैयार दोआबा में आम आदमी पार्टी हुई और मजबूत, क़द्दावर दलित नेता और पूर्व विधायक पवन कुमार टीनू आप में शामिल गुरु रविदास विश्व महा पीठ इकाई ने फतेहगढ़ साहिब में भारत रत्न बाबा साहब डॉ. बीआर अंबेडकर जी की 133वीं जयंती के अवसर पर मुफ्त नेत्र जांच और एक्यूप्रेशर, फिजियोथेरेपी शिविर का किया आयोजन भाजपा एससी मोर्चा ने बाबा साहब की जयंती पर लगाया रक्तदान शिविर युवा शक्ति ने ही बनाया भाजपा को सबसे मजबूत और दुनिया का सबसे बड़ा राजनीतिक दल- संजय टंडन चंडीगढ़ की जनता की अपेक्षा के अनुरूप बनाया जाएगा भाजपा का संकल्प पत्र - शक्ति प्रकाश देवशाली अंबेडकर नवयुवक दल द्वारा संविधान निर्माता डा. बी.आर अंबेडकर के 133वें जन्मदिवस पर विशाल शोभा यात्रा का आयोजन हर वोट होता है कीमती, कभी-कभार मामूली अंतर से भी हो जाती है जीत: अनुराग अग्रवाल मोदी सरकार में वंचितों की सेवा सर्वोपरि : डॉ राजीव बिंदल पंजाब इंजीनियरिंग कॉलेज चंडीगढ़ ने डॉ. भीमराव अम्बेडकर को श्रद्धांजलि दी राज्यपाल शिव प्रताप शुक्ल ने डॉ. भीमराव अम्बेडकर को श्रद्धांजलि दी एसएचएम शिपकेयर ने ओएनजीसी के लिए भारत का पहला फास्ट क्रू बोट वेसल-सी स्टैलियन-I लॉन्च किया देश को एकता के सूत्र में पिरोने में बाबा साहिब की विशेष भूमिका: डिप्टी कमिश्नर कोमल मित्तल चुनाव के पर्व पर बैसाखी पर सादकी चौकी पर लगी रौनक बाबा साहब की जयंती पर राष्ट्र भर में कार्यक्रम आयोजित कर रही है भाजपा-भाजपा प्रदेशाध्यक्ष जितेंद्र पाल मल्होत्रा

 

भारत में बाल दासता कम हुई, बाल यौन उत्पीड़न के मामले बढ़े : कैलाश सत्यार्थी

Listen to this article

Web Admin

Web Admin

5 Dariya News

नई दिल्ली , 21 May 2017

नोबेल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी का कहना है कि भारत में बाल श्रमिकों की संख्या में उल्लेखनीय कमी आई है, लेकिन बच्चों के साथ यौन हिंसा के मामले बढ़े हैं। सत्यार्थी ने बाल मजदूरी और बाल यौन उत्पीड़न के खिलाफ न केवल देश बल्कि दुनियाभर में अभियान चलाया है। साल 2014 में उन्हें मिले नोबेल के शांति पुरस्कार से उन्हें अपने इस अभियान में काफी मदद मिली।63 वर्षीय सत्यार्थी ने आईएएनएस को संवाददाताओं से मुलाकात में कहा कि समस्याओं को हल करने की जिम्मेदारी सिर्फ सरकार के भरोसे नहीं छोड़ी जा सकती। युवाओं को भी सोशल मीडिया के माध्यम से बंधुआ बाल श्रमिकों की तकलीफों के बारे में जागरूकता फैलानी चाहिए।सत्यार्थी ने कहा कि भारत में बाल मजदूरों की संख्या 2001 में 1.25 करोड़ के मुकाबले 2011 में घटकर एक करोड़ हो गई और अब 42 लाख हो गई है।उन्होंने कहा, "मैं इस आंकड़े के सही होने की पुष्टि नहीं कर सकता, लेकिन मैं कह सकता हूं कि स्थिति सुधरी है।"सत्यार्थी स्वयंसेवी संस्था बचपन बचाओ आंदोलन (बीबीए) का नेतृत्व करते हैं। उन्होंने इस बात का जिक्र किया कि भारत और विदेशों में बच्चों के साथ दुष्कर्म और यौन उत्पीड़न के मामलें बहुत तेजी से बढ़े हैं।सत्यार्थी कहा, "बच्चों के खिलाफ हिंसा के मामले भी बढ़ रहे हैं, जो बहुत खतरनाक है।

"उन्होंने इसके लिए पोर्नोग्राफी (अश्लील वीडियो व साहित्य) को जिम्मेदार ठहराया।सत्यार्थी का कहना है कि दुनियाभर में कुल पूर्णकालिक बाल श्रमिकों की संख्या 16 करोड़ के आसपास होगी।सत्यार्थी के अनुसार, "इनमें से लगभग आधे बाल मजदूरी के सबसे खराब स्वरूप का शिकार हैं, वे बहुत खतरनाक स्थिति में हैं। इनमें से लगभग 50 लाख बंधुआ हैं, जिनहें किसी किस्म की आजादी नहीं मिली हुई है। उनका व्यापार किया जाता है।"सत्यार्थी ने आईएएनएस से इस बातचीत से कुछ घंटे पहले अपने सहकर्मियों के साथ पुरानी दिल्ली की एक संकरी गली में स्थित एक वर्कशाप पर छापा मारकर नौ बच्चों को मुक्त कराया, जो अगले क्रिसमस सीजन के लिए निर्यात किए जाने वाले सजावटी सामान बना रहे थे। इस अवैध कारखाने का मालिक वहां से फरार हो गया, लेकिन पुलिस ने इसके परिसर को सील कर दिया।सत्यार्थी ने दुनियाभर में फैली बाल मजदूरी और वयस्कों में बेरोजगारी के बीच के सीधे संबंध को रेखांकित किया। 

उन्होंने कहा कि जहां एक ओर करीब 16 करोड़ बच्चे काम कर रहे हैं, वहीं दूसरी ओर 21 करोड़ वयस्क बेरोजगार हैं। इनमें से अधिकतर बेरोजगार बाल मजदूरों के माता-पिता हैं, जो अजीब विडंबना है।उन्होंने कहा कि बच्चों के खिलाफ हिंसा परंपरागत ढंग से नहीं रोकी जा सकती क्योंकि स्थिति अब बदल गई है।सत्यार्थी ने पूछा, "भारत करुणा व दया के वैश्वीकरण का नेतृत्वकर्ता क्यों नहीं बन सकता? परंपरागत तरीकों से बच्चों की सुरक्षा नहीं हो सकती।"उन्होंने कहा कि पहले यह धारणा थी कि सरकारी मदद के बिना मानवीय और विकास संबंधी मुद्दों को हल नहीं किया जा सकता..लेकिन, इसमें बदलाव आया है, स्थिति अब बदल गई है। सत्यार्थी ने कहा, कारपोरेट की भूमिका अब कई गुना बढ़ गई है और ऐसा ही मामला नागरिक समाज के साथ है। सत्यार्थी के अनुसार, "अब वे विकास और मानवाधिकार दोनों मामलों में रचनात्मक और महत्वपूर्ण सहयोगी के रूप में उभरे हैं।"

 

Tags: Kailash Satyarthi

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD