Tuesday, 18 June 2024

 

 

खास खबरें हरियाणा में तीसरी बार भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनेगी : नायब सिंह लोगों की समस्याओं का समाधान करवाना है मुख्य उद्देश्य : महिपाल ढांडा आजादी की पहली लड़ाई पर आधारित शहीद स्मारक के निर्माण कार्य में लाए तेजी - पूर्व गृह मंत्री अनिल विज हरियाणा में स्थापित होगी 800 मेगावाट की अल्ट्रा सुपर क्रिटिकल थर्मल पावर यूनिट : मुख्यमंत्री नायब सिंह मुख्यमंत्री ने तीर्थ यात्रा योजना के अंतर्गत रामलला के दर्शन के लिए बस को हरी झंडी दिखाकर किया रवाना सी जी सी झंजेड़ी कैंपस में विद्यार्थियों को सड़की नियमों के पालन के लिए जागरूक करने के लिए लिए साप्ताहिक वर्कशाप का समापन लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी की महिला सॉफ्टबॉल टीम ने एआईयू सॉफ्टबॉल महिला टूर्नामेंट में जीत हासिल की जालंधर पश्चिम विधानसभा उपचुनाव के लिए आम आदमी पार्टी ने मोहिंदर भगत को बनाया उम्मीदवार डॉ. एस.पी. सिंह ओबरॉय के प्रयासों से फांसी से बचा युवक सुखवीर रिहाई के बाद अपने वतन लौटा औद्योगिक क्षेत्र में सभी मूलभूत सुविधाएं बेहतर की जाए : नायब सिंह पंजाब के राज्यपाल बनवारी लाल पुरोहित गुरुद्वारा पौंटा साहिब में हुए नतमस्तक पिंजौर में 15 जुलाई से शुरू होगी सेब मंडी : नायब सिंह मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने मिल्कफेड की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता की मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने ‘इंदिराज हिमाचल-टूवर्ड्ज़ न्यू फ्रंटियर्ज’ प्रदर्शनी का शुभारम्भ किया मण्डी मध्यस्थता योजना के तहत सभी लंबित देनदारियों के निपटारे के लिए 153 करोड़ रुपये जारी : सुखविंदर सिंह सुक्खू वन-मित्रों की भर्ती की जाएगी : नायब सिंह पंजाब पुलिस द्वारा नशों के विरुद्ध विशेष जागरूकता मुहिम की शुरुआत राज्यपाल शिव प्रताप शुक्ल ने किया चार दिवसीय अंतरराष्ट्रीय शिमला ग्रीष्मोत्सव का शुभारम्भ हिमाचल में हमले के शिकार हुए एनआरआई परिवार से अमृतसर के अस्पताल में मिलने पहुंचे मंत्री कुलदीप धालीवाल ड्रग्स मुद्दे पर सुनील जाखड़ के ट्वीट पर आप की प्रतिक्रिया पंजाब में भाजपा की जीरो सीट के लिए सुनील जाखड़ जिम्मेदार : नील गर्ग

 

पंजाब सरकार द्वारा बनाई सेम रोकथाम योजनाओं से मिलगीं बड़ी सफलता-शरणजीत सिंह ढिल्लों

950 करोड़ रूपये की लागत से एंटी वाटर लोगिंग स्कीमें प्रगति अधीन , 60000 हैक्टेयर सेम प्रभावित रकबा बनेगा सिंचाई योग्य

शरणजीत सिंह ढिल्लों
शरणजीत सिंह ढिल्लों
Listen to this article

Web Admin

Web Admin

5 Dariya News

चंडीगढ , 25 Sep 2016

पंजाब के सिंचाई मंत्री स. शरणजीत सिंह ढिल्लों ने कहा है कि पंजाब सरकार द्वारा राज्य में विभिंन योजनाएं बनाकर किये जा रहे कार्यो से राज्य के दक्षिण पश्चिम क्षेत्र में सेम रोकने में बड़ी सफलता मिलेगी।सिंचाई मंत्री ने बताया कि राज्य के सेम प्रभावित क्षेत्रों की सेम से निजात डालने के लिए 960 करोड़ रूपये की लागत से एंटी वाटर लोगिंग स्कीमें प्रगति अधीन हैं, जिनके सम्पूर्ण होने से 60000 हैक्टेयर सेम प्रभावित रकबे को सिंचाई योग्य बनाया जा सकेगा। उन्होने बताया कि राजस्थान फीडर और सरहिन्द फीडर कैनाल की रीलाईनिंग का कार्य सम्पूर्ण होने से नहरों में से पानी के रिसाव को काफी सीमा तक रोका जा सकेगा। उन्होने बताया कि सरफेस ड्रेनें, सब सरफेस ड्रेनेज सिस्टम, लिफट डे्रनेज सिस्टम  और पक्के खालों के निर्माण भी सेम को रोकने में सहायक होगें।

स. ढिल्लो ने बताया कि इन योजनाओं के सम्पूर्ण होने से जहां संबधित क्षेत्र के लोगों के लिए रोजगार के साधनों में बढोतरी होगी वही समीप क्षेत्रों के लोगों की वित्तीय क्षमता बढेगी, जिससे लोगों की जीवन शैली में सुधार आएगा। उन्होने बताया कि इन प्रोजैक्टों के सम्पूर्ण होने से जमीन की कीमत जो बहुत अधिक घट चुकी थी, उपजाऊ शक्ति बढऩे से जमीनों की कीमतों में भी बढोतरी होगी उन्होने बताया कि इन प्रोजैक्टों के तहत राज्य के 313 नम्बर गांवों को लाभ होगा। इससे जहां लोगों की ओर पशुओं के स्वस्थ में सुधार होगा, वही क्षेत्र में हरे चारे के उपलब्ध होने से दुधारू पशुओं की गुणवत्ता में भी सुधार होगा।सिंचाई मंत्री ने बताया कि 90 वें दौरान भी राज्य के दक्षिणी क्षेत्र में पड़ते जिलों श्री मुक्तसर साहिब, मलोट तथा अबोहर क्षेत्र में पानी का स्तर भूमि के स्तर से 33 फुट नीचे था उन्होने बताया कि राजस्थान फीडर और सरहिन्द फीडर कैनाल और इसके अतिरिक्त अबोहर केनाल एवं बीकानेर केनाल के निर्माण के बाद प्रत्येक वर्ष 0.2 मीटर से 1.0 मीटर तक प्रत्येक वर्ष बढऩा आंरभ हो गया, जिसके परिणाम स्वरूप क्षेत्र का दो लाख हैक्टेयर रकबा सेम से प्रभावित हो गया। 

उन्होने बताया कि राज्य के दक्षिणी पश्चिमी क्षेत्र अधीन आते फिरोजपुर , फरीदकोट , श्री मुक्तसर साहिब, बठिंडा , मानसा तथा संगरूर जिलों के कुछ हिस्से सेम के अतिरिक्त पानी की और पानी के अन्य स्रोतों में खड़े पानी की निकासी एक प्रमुख समस्या है। उन्होने बताया कि इस क्षेत्र का भू जल खारा और काला है जो कृषि के लिए इस्तेमाल करने योग्य नही है। इसके अतिरिक्त गेहूं की खेती से धान की खेती में बदल के रूझान में सेम की समस्या में ओर बढोतरी की है।उन्होने बताया कि सेम की समस्या से फसलों पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ा, जिससे फसलों का उत्पादन बहुत बुरी तरह प्रभावित हुआ उन्होने बताया कि सेम की समस्या से खेती करने वाले किसानों को बहुत अधिक घाटा पड़ा इसके अतिरिक्त सेम के क्षेत्र में बुनियादी ढाचा , पुलों, बिल्डिंगों , अस्पतालों आदि और लोगों के घरों को बहुत बुरी तरह प्रभावित किया।

 

Tags: Sharanjit Singh Dhillon

 

 

related news

 

 

 

Photo Gallery

 

 

Video Gallery

 

 

5 Dariya News RNI Code: PUNMUL/2011/49000
© 2011-2024 | 5 Dariya News | All Rights Reserved
Powered by: CDS PVT LTD